दूसरे देशों के मुकाबले भारत में कोरोना वायरस इंफेक्शन फैलने की रफ्तार कम कैसे?

Medically reviewed by | By

Update Date जून 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण भारत में लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग को काफी समय से अपनाया जा रहा है। इसके साथ ही, भारत में पिछले एक हफ्ते के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की तादाद तेजी से बढ़ती दिखाई दे रही है, जिससे नागरिकों के मन में इस खतरनाक वायरस को लेकर काफी चिंता और घबराहट है। लेकिन, एक खबर अब भी राहत देने वाली है कि विश्व के अन्य विकसित देश जैसे अमेरिका, चीन, इटली के मुकाबले भारत में कोरोना वायरस इंफेक्शन के फैलने की रफ्तार कम और नियंत्रित है। अब आपके मन में भी सवाल आ रहा होगा कि ऐसा क्यों हो रहा है, तो इस आर्टिकल में जानें इसका जवाब।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से जंग के लिए भारतीय सेना का ‘ऑपरेशन नमस्ते’, तैनात हो सकती है आर्मी

कोरोना वायरस इंफेक्शन (Corona virus infection) की रफ्तार भारत में कम

पिछले दिनों भारत के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की तरफ से प्रेसवार्ता रखी गई। जिसमें जॉइंट हेल्थ सेक्रेटरी ने मीडिया को बताया कि, विश्व के अन्य देशों में रोजाना हजारों नए संक्रमित देश और सैकड़ों मृत लोगों के आंकड़े देखने को मिल रहे हैं। जबकि भारत में पुख्ता मरीजों और मृतकों की संख्या काफी कम रही।

यह भी पढ़ें: अगर जल्दी नहीं रुका कोरोना वायरस, तो ये होगा दुनिया का हाल

कोरोना वायरस इंफेक्शन की रफ्तार यहां कैसे कम है?

भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने देश में रोजाना दर्ज किए जा रहे कोरोना वायरस के मामले और मौतों का अध्ययन करके यह निष्कर्ष निकाला है कि भारत में कोरोना वायरस इंफेक्शन के फैलने की दर (ट्रांसमिशन रेट) विकसित देशों के मुकाबले काफी कम है। क्योंकि, भारत सरकार द्वारा आंकलन किया गया कि देश में 100 संक्रमित मरीजों से एक हजार संक्रमित मरीज का आंकड़ा पहुंचने में 12 दिन लगे। जबकि, इतने ही समय में विकसित देशों में आंकड़ा, 3,500, 5000, 6000 और यहां तक कि 8000 तक पहुंच गया था। इसके अलावा, भारत में किसी भी देश के मुकाबले जनसंख्या काफी ज्यादा है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस के 80 प्रतिशत मरीजों को पता भी नहीं चलता, वो कब संक्रमित हुए और कब ठीक हो गए

आखिर इसके पीछे की वजह क्या है

जॉइंट हेल्थ सेक्रेटरी के मुताबिक, कोरोना वायरस इंफेक्शन की धीमी रफ्तार के पीछे देश और सरकार द्वारा बिना देरी किए कोरोना वायरस रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन जैसे मजबूत और प्रभावशाली तरीकों का अपनाना रहा। इसके अलावा, देश के नागरिकों द्वारा मिल रहे सहयोग को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। लेकिन, हमें रोजाना कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ एक नई शुरुआत करनी होती है और इस संक्रमण को खत्म करने के लिए संकल्प और संयम बनाए रखना होगा। क्योंकि, एक भी नागरिक की लापरवाही पूरे देश के प्रयासों को बेकार कर सकती है। इसलिए जबतक कोरोना वायरस इंफेक्शन पूरी तरह देश से खत्म न हो जाए, हमें सावधानी और एहतियात बरतनी होगी। लव अग्रवाल ने कहा कि, भारत ने सुरक्षा एहतियातन कदम उठाने के लिए किसी अंतरराष्ट्रीय संगठन के पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित करने का इंतजार नहीं किया और डब्ल्यूएचओ के इसे इमरजेंसी घोषित करने से 13 दिन पहले ही हम इसे रोकने का प्रयास करना शुरू कर चुके थे। इस वजह से हम अपेक्षाकृत बेहतर स्थिति में मौजूद हैं। वहीं, दिल्ली की निजामुद्दीन मरकज घटना पर उनका कहना है कि, यह समय गलती ढूंढने का इल्जाम लगाने का नहीं है। बल्कि, महामारी को रोकने के लिए हरसंभव प्रयास करने का है।

यह भी पढ़ें: सोशल डिस्टेंसिंग को नजरअंदाज करने से भुगतना पड़ेगा खतरनाक अंजाम

कोविड-19 की ताजा जानकारी
देश: भारत
आंकड़े

793,802

कंफर्म केस

495,516

स्वस्थ हुए

21,604

मौत
मैप

कोरोना वायरस के भारत में मरीज (How many cases of coronavirus in India?)

भारत के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक 9 अप्रेल तक देश में संक्रमितों की संख्या 5 हजार के पार हो चुकी है। इसमें से 178 लोगों की मौत हो चुकी है और 500 से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं।

कोरोना वायरस इंफेक्शन- डब्ल्यूएचओ के आंकड़े

डब्ल्यूएचओ ने कोरोना वायरस इंफेक्शन पर अपनी दैनिक सिचुएशन रिपोर्ट 71 में कोरोना वायरस से जुड़े आंकड़े पेश किए थे। हालांकि, यह रिपोर्ट पहले रोजाना आती थी, लेकिन संगठन की तरफ से अब एक दिन पहले तक दर्ज किए गए आंकड़ों की जानकारी आती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, 31 मार्च 2020 को सुबह 10 बजे तक दुनियाभर में 7,50,890 संक्रमित मरीज पाए जा चुके थे जो 9 अप्रैल तक 15 लाख तक पहुंच चुके हैं।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

कोरोना वायरस से सावधानी

कोविड-19 के इंफेक्शन से बचने के लिए भारत सरकार ने सभी लोगों के लिए कुछ सलाह दी है। लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ इन एहतियात रूपी सलाह को फॉलो करने से आप कोरोना वायरस के संक्रमण से काफी हद तक बच सकते हैं।

  1. बेवजह कहीं भी न जाएं और न भीड़ लगाएं।
  2. चेहरे को छूने से संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है, इसलिए बेवजह आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें।
  3. छींकने व खांसने के दौरान हमेशा अपने मुंह और नाक को कोहनी को मोड़कर ढकें या फिर टिश्यू पेपर की मदद लें।
  4. अगर आपको खांसी, बुखार या सांस लेने में समस्या हो रही है, तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से मिलें।
  5. हाथों को अच्छे से धोएं
  6. अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर की हर सलाह मानें और पूरी जानकारी प्राप्त करते रहें।
  7. अगर आप मुंह पर मास्क लगा रहे हैं तो उससे पहले अपने हाथों को एल्कोहॉल बेस्ड हैंड रब या फिर साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं।
  8. मास्क से मुंह और नाक को अच्छी तरह ढकें ताकि उसमें किसी भी तरह का गैप न रहे।
  9. मास्क को पीछे से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  10. एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें।
  11. इस्तेमाल के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।
कोविड-19 की ताजा जानकारी
देश: भारत
आंकड़े

793,802

कंफर्म केस

495,516

स्वस्थ हुए

21,604

मौत
मैप

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें :-

कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

कोविड-19 है जानलेवा बीमारी लेकिन मरीज के रहते हैं बचने के चांसेज, खेलें क्विज

ताली, थाली, घंटी, शंख की ध्वनि और कोरोना वायरस का क्या कनेक्शन? जानें वाइब्रेशन के फायदे

कोराना के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ धोना है जरूरी, लेकिन स्किन की करें देखभाल

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या मॉनसून और कोरोना में संबंध है? बारिश में कोविड-19 हो सकता है चरम पर

मॉनसून और कोरोना में क्या संबंध है, मॉनसून और कोरोना से खुद को कैसे रखें सुरक्षित, बारिश में कोरोना से कैसे बचें, Monsoon spread corona easily.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड-19 जून 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या सूर्य ग्रहण से कोविड 19 खत्म हो जाएगा? जानें इस बात में कितनी है सच्चाई

सूर्य ग्रहण और कोविड 19 इन हिंदी, सूर्य ग्रहण और कोविड 19 के बीच क्या संबंध है, सूर्य ग्रहण और कोरोना वायरस से कैसे बचें, सूर्य ग्रहण 2020 का समय क्या है, सोलर इक्लिप्स टाइमिंग, Solar eclipse covid 19 corona virus.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड 19 और शासन खबरें जून 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कोरोना वायरस की दवा : डेक्सामेथासोन (dexamethasone) साबित हुई जान बचाने वाली पहली दवा

कोरोना की दवा के रूप में डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल और प्रभावशीलता काफी अच्छे रिजल्ट्स दे रही है। कोरोना संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए तुरंत इस्तेमाल की जा सकती है। corona virus first medicine Dexamethasone in hindi

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
कोरोना वायरस, कोविड 19 उपचार जून 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है कोरोना का इलाज, सतर्क रहें इस फर्जी प्रिस्क्रिप्शन से

कोरोना वायरस वायरल प्रिस्क्रिप्शन, कोरोना वायरस फेक प्रिस्किप्शन क्या है? इस वायरल पर्चे में कोरोना के इलाज की बता कही गई है। हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा (Hydroxychloroquine), क्रोसीन (Crocin) और सीट्रीजिन (Cetrizine)...corona virus viral priscription in hindi

Written by Shikha Patel
कोरोना वायरस, कोविड 19 सावधानियां जून 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें