रेड लाइट एरिया को बंद करने से इतने प्रतिशत तक कम हो सकते हैं कोरोना के मामले, स्टडी में बात आई सामने

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

देश लॉकडाउन 4.0 की तरफ बढ़ चुका है। पिछले लॉकडाउन के मुकाबले चौथें लॉकडाउन में ढील की बात भी सामने आ चुकी है। यानी चौथें लॉकडाउन में सोशल डिस्टेंसिंग और हाइजीन का ख्याल रखते हुए जिंदगी को फिर से पटरी पर लाने की बात पर जोर दिया जा रहा है। हाल ही में एक स्टडी में ये बात सामने आई है कि भारत में लॉकडाउन 4.0 के बाद 72% कोरोना वायरस के कमी देखी जा सकती है अगर रेड लाइट एरिया को बंद कर दिया जाए। रेड लाइट एरिया में सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन करना पॉसिबल नहीं है। ये स्टडी येल स्कूल ऑफ मेडिसिन और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल में की गई है। स्टडी का टाइटल ‘Modelling the Effect of Continued Closure of Red-Light Areas on COVID-19 Transmission in India’.रखा गया। इस स्टडी में भारत की पांच शहरों मुंबई, नागपुर, दिल्ली, कोलकाता और पूणे को शामिल किया गया।

और पढ़ें :गूगल प्ले स्टोर पर ट्रेंड कर रहा उत्तर प्रदेश का ‘आयुष कवच एप’, दूसरे राज्यों में भी हो रहा लोकप्रिय

रेड लाइट एरिया से कोविड की रोकथाम : डेथ रेट भी होगा कम

येल स्कूल ऑफ मेडिसिन और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल में की गई स्टडी में कुछ मुख्य बिंदु सामने आए है। आपको बताते चले कि कोरोना महामारी खांसी और छींक के दौरान वातावरण में फैले ड्रॉपलेट के कारण फैलती है। स्वस्थ्य व्यक्ति ने अगर कोरोना से सावधानी नहीं बरती है तो वो आसानी से कोरोना वायरस से संक्रमित हो सकता है। स्टडी के दौरान कुछ मुख्य बिंदु सामने आए हैं।

  • रेड लाइट एरिया के पूरी तरह से बंद होने पर 45 दिनों में कोरोना वायरस के 72% केस को कम किया जा सकता है।
  • भारत में कोविड-19 के केस तेजी से बढ़ रहे हैं, ऐसे में इस कदम से 17 दिनों की देरी हो जाएगी जिससे लोगों को अधिक समय मिल जाएगा।
  • इस कदम की सहायता से रेड लाइट एरिया से कोविड की रोकथाम के साथ ही डेथ रेट यानी मृत्युदर में 63 प्रतिशत की कमी हो जाएगी।

रेड लाइट एरिया से कोविड की रोकथाम: लॉकडाउन के बाद बंद रहे रेड लाइट एरिया

रेड लाइट एरिया को कुछ समय तक बंद रखा जाता है तो कोरोना के मामलों में कई प्रतिशत की कमी हो सकती है। यानी कोरोना का जोखिम कम हो सकता है। स्टडी में इस बात पर जोर दिया गया कि कोरोना की वैक्सीन बनने तक रेड लाइट एरिया को बंद रखने से संक्रमण को काफी हद तक कम किया जा सकता है। येल स्कूल ऑफ मेडिसिन की रिचर्स को भारत सरकार के साथ ही राज्य के साथ ही साझा किया गया और सिफारिश की गई कि रेड लाइट एरिया को बंद कर कोविड-19 के चरम में पहुंचने की समय-सीमा को बढ़ाया जा सकता है। स्टडी में ये बात कही गई कि लॉकडाउन के समाप्त हो जाने के बाद 60 दिनों तक रेड लाइट एरिया को बंद रखा जाए। इस कदम से संक्रमण की मृत्युदर को 63% तक कम किया जा सकता है।

और पढ़ें :कोरोना महामारी के समय जानिए इम्यूनिटी पावर से जुड़े मिथ्स और फैक्ट्स

रेड लाइट एरिया संक्रमण के दौरान क्यों है खतरनाक ?

आप सभी को पता होगा कि एड्स की बीमारी से बचने के लिए सेक्स के दौरान सुरक्षा बहुत जरूरी है। ठीक उसी प्रकार कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग बहुत जरूरी है। रेड लाइट एरिया को अगर चालू कर दिया जाता है तो सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन करना मुमकिन नहीं हो पाएगा। अगर रेड लाइट एरिया फिर से चालू कर दिया जाता है तो किसी एक व्यक्ति को कोराना संक्रमण होने पर ये तेजी से फैलेगा और एरिया कोरोना का हॉट स्पॉट बन जाएगा। नेशनल एड्स कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (NACO) की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में लगभग 6,37,500 सेक्स वर्कर हैं और रोजाना करीब पांच लाख से ज्यादा लोग रेड लाइट एरिया में विजिट करते हैं। यानी बड़ी संख्या में संक्रमण का खतरा हो सकता है।

रेड लाइट एरिया से कोविड की रोकथाम: इस कदम से कोविड-19 के चरम में पहुंचने में होगी इतनी देरी

भारत के पांच बड़े शहरों में प्रकाश डालती इस रिपोर्ट में बताया गया है कि इन शहरों में बड़ी संख्या में सेक्स वर्कर हैं। स्टडी के दौरान ये बात कहीं गई है कि अगर रेड लाइट एरिया को कुछ दिन बंद रखा जाए तो मुंबई में कोराना का चरम 12 दिन, दिल्ली में 17 दिन, पुणे में 29 दिन देरी से आएगा। वहीं नागपुर में 30 दिन और कोलकाता में 36 दिन की देरी से कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी होगी। मुंबई में कोविड-19 संक्रमण के मामलों में 21%, पूणे में 27%,नागपुर में 56% दिल्ली में 31% और कोलकाता में 66% की दर से कमी दर्ज की जा सकती है। ये नंबर प्रीवलेंट रिप्रोडक्शन नंबर पर आधारित है। ये विभिन्न स्थानों के साथ बदल भी सकता है।

और पढ़ें :क्या बागवानी करके कोरोना के टेंशन को दूर भगाया जा सकता है? जानें मनोचिकित्सक की राय

लोगों का व्यवहार निंयत्रित करेगा कोरोना के मामलें

येल स्कूल ऑफ मेडिसिन में बायोस्टैटिस्टिक्स के प्रोफेसर, डॉ. जेफरी टाउनसेंड ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि हमारी स्टडी इस बात पर निर्भर करती है कि भारत में लोग लॉकडाउन से बाद कैसा व्यवहार करेंगे। अगर लोग लॉकडाउन के बाद सावधानी रखते हैं तो कोरोना के संक्रमण में कमी आएगी और अगर ऐसा नहीं होता है तो यकीनन कोविड-19 के मामलों में तेजी से वृद्दि हो सकती है। भविष्य में क्या होगा, इस बात का अनुमान स्टडी में लगाया गया है। स्टडी में जो अहम बात है, वो ये है कि रेड लाइट एरिया से कोविड की रोकथाम की जा सकती है। अगर रेड लाइट एरिया को कुछ समय तक बंद रखा जाता है तो इसके पॉजिटिव रिजल्ट सामने आएंगे।

और पढ़ें :क्या कोरोना वायरस के बाद दुनिया एक और नई घातक वायरल बीमारी से लड़ने वाली है?

इस स्टडी को विशेषतौर पर भारत और उसके राज्यों के लिए तैयार किया गया है। भारत के कुछ राज्यों में अधिक संख्या में सेक्स वर्कर हैं। आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, नई दिल्ली, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, गुजरात, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और केरल में कोरोना के अधिक मामलें हैं। इस स्टडी को येल यूनिवर्सीटी के प्रोफेसर जेफरी टाउनसेंड(Department of Ecology and Evolutionary Biology),प्रो. एलिसन गैलवानी(Director, Center for Infectious Disease Modelling & Analysis),डॉ. सुधाकर नूती ( Department of Medicine, Massachusetts General Hospital and Harvard Medical School) ने मिलकर तैयार किया है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य आपके लिए चिंता का विषय बन सकता है। कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य निमोनिया, सांस फूलने जैसे स्थितियों से गुजर सकता है। वर्ल्ड लंग डे पर जानें कोरोना के बाद फेफड़ों की कैसे देखभाल करें, world Lung Day, Coronavirus, COVID-19.

के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ऐसे बढ़ाएं इम्यूनिटी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए कुछ आसान उपाय

कोरोना से ठीक होने के बाद के उपाय के रूप में काढ़ा, आंवला, मुलेठी, हल्दी वाला गर्म दूध, गिलोय का अर्क आदि पीने के साथ ही योग और संतुलित डाइट फॉलो करें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
कोविड 19 की रोकथाम, कोरोना वायरस सितम्बर 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

पीपीआई यानी प्रोटोन पंप प्रोटोन पंप इंहिबिटर, ऐसी दवाएं जो हार्ट बर्न और एसिडिटी के इलाज में उपयोग की जाती है। अमेरिकन स्टडीज में दावा किया गया है कि इनके उपयोग से कोरोना वायरस का रिस्क बढ़ जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड 19 सावधानियां, कोरोना वायरस सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

कोविड-19 के बाद ट्रैवल करना पहले जितना मजेदार नहीं रहेगा क्योंकि एक तो आपको संक्रमण से बचाव की चिंता लगी रहेगी दूसरी तरफ कई नियमों का पालन भी करना होगा।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड-19, कोरोना वायरस सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध,epilepsy and covid-19

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दिवाली में अरोमा कैंडल, aroma candle

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हाथों की सफाई, hand wash

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हार्ट पर कोविड-19 का प्रभाव, heart issues after recovery from coronavirus

कोविड-19 रिकवरी और हार्ट डिजीज का क्या है संबंध, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ सितम्बर 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें