कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए फेस शील्ड क्या जरूरी है, जानिए

Medically reviewed by | By

Update Date मई 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

कोरोना महामारी से बचने के लिए लोग एक नहीं बल्कि कई उपाय कर रहे हैं। खुद को वायरस से बचाने के लिए चेहरे पर मास्क का प्रयोग, ग्लव्स का यूज और सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा जा रहा है। अभी कल ही देश में हवाई यात्रा शुरू हुई है। कोरोना से बचाव के लिए कई लोगों ने फेस शील्ड भी लगा रखा था। फेस शील्ड यानी चेहरे को ढकने के लिए प्लास्टिक कवर। फेस शील्ड हेलमेट के फ्रंट कवर की तरह ही होता है। फेस शील्ड का यूज न केवल आम इंसान कर रहे हैं बल्कि कई हेल्थ केयर पर्सनल भी इस फेस शील्ड यूज करते हैं। कोरोना से बचाव के लिए फेस शील्ड क्या पूरी प्रोटक्शन प्रदान करता है, ये बात आपके मन में जरूर आई होगी। कोविड-19 से लड़ने के लिए क्या फेस शील्ड लोगों को अधिक सुविधाजनक लग रही है या फिर से मास्क का विकल्प है, इन सब बातों के बारे में इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए।

ये भी पढ़ेंः किडनी मरीजों को कोविड-19 से कितना खतरा? जानिए भारत के किडनी विशेषज्ञ डॉक्टरों की राय

कोरोना से बचाव के लिए फेस शील्ड

पिछले कुछ दिनों में मास्क के बिना लोगों को कम ही देखा होगा, लेकिन क्या आपने कुछ लोगों को फेस शील्ड का यूज करते हुए देखा है ? आपने अक्सर फोटो में या फिर टीवी में कुछ लोगों को फेस शील्ड पहने हुए जरूर देखा होगा। कुछ एक्सपर्ट की टीम का कहना है कि कोरोना से बचाव के लिए फेस शील्ड मास्क से बेहतर है। फेस शील्ड मास्क से ज्यादा सुविधाजनक भी है। आयोवा यूनिवर्सिटी के एक्सपर्ट का कहना है कि फेस शील्ड कोरोना के खतरे को कम करती है। वायरस के कम्यूनिटी स्प्रेड को रोकने के लिए ये बेहतर विकल्प है।

वहीं अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन के एक जर्नल की रिपोर्ट में डॉ. एली पेरेंसविच और आयोवा सिटी वीए हेल्थ केयर सिस्टम के एक्सपर्ट ने कहा कि जल्द ही अधिकतर लोग फेस शील्ड का उपयोग करते हुए नजर आ सकते हैं। इस बात से ये तो साफ हो गया है कि फेस शील्ड की उपयोगिता को देखते हुए अब अधिकतर लोगों ने इसका प्रयोग करना शुरू कर दिया है। अयोवा टीम के सदस्यों का मानना है कि फेस शील्ड इस तरह से डिजाइन की गई है कि ये पूरे फेस को कवर करती है वायरस से सुरक्षा प्रदान करता है।

ये भी पढ़ेंः कोरोना महामारी के समय जानिए इम्यूनिटी पावर से जुड़े मिथ्स और फैक्ट्स

फेस शील्ड से प्रोटक्शन : मास्क से ज्यादा सुविधाजनक है फेस शील्ड

कोरोना से बचाव के लिए फेस शील्ड को अधिक उपयोगी इसलिए माना जा रहा है क्योंकि फेस शील्ड मास्क से ज्यादा सुविधाजनक होती है।अयोवा टीम के सदस्यों ने फेस शील्ड के बारे में बताया कि कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिए इसे चिन (ठोड़ी) के नीचे तक कवर करना चाहिए। साथ ही ये कान को भी कवर करता है। शील्ड हेडपीस और फोरहेड के बीच गैप बिल्कुल भी नहीं होना चाहिए। फेस शील्ड चेहरे के ज्यादातर भाग को कवर करता है और इसे पहनने के बाद चेहरे को बार-बार छूने की जरूरत नहीं महसूस होती है। फेस शील्ड को डिस्पोजल मास्क की तरह एक बार यूज करने के बाद फेंकने की जरूरत भी नहीं पड़ती है। हां, फेस शील्ड से प्रोटक्शन चाहिए तो इसे एक बार यूज करने के बाद धोना बहुत जरूरी है, ताकि कोरोना वायरस का खतरा न रहे।

ये भी पढ़ेंः इटली के वैज्ञानिकों ने कोविड-19 वैक्सीन बनाने का किया दावाः जानिए इस खबर की पूरी सच्चाई

फेस शील्ड:  स्टडी में ये बात आई समाने

फेस शील्ड को लेकर अभी डीप स्टडी नहीं कि गई है, लेकिन सिमुलेशन स्टडी में ये बात सामने आई है कि 18 इंच की दूरी पर अगर किसी को खांसी आई है तो फेस शील्ड से 96 प्रतिशत तक सुरक्षा मिलती है। स्टडी को फिर से रिपीट किया गया और छह फीट से कोरोना वायरस के खतरे और फेस शील्ड की सुरक्षा की जांच की गई। तब पाया गया कि फेस शील्ड 92 प्रतिशत तक सुरक्षा प्रदान कर रहा है। संक्रमित व्यक्ति ने अगर फेस शील्ड पहना हुआ है तो क्या सामने वाले को सुरक्षा प्रदान होगी, इस पर अभी तक कोई स्टडी नहीं की गई है। जानकारों का कहना है कि फेस शील्ड सुरक्षा प्रदान करती है लेकिन हम सभी को सोशल डिस्टेंसिंग और हैंड वॉशिंग की आदत को जारी रखना चाहिए।

कोरोना महामारी जिस तरह से भारत में फैल रही है, हम सभी को सावधान रहने की जरूरत है। कोरोना वायरस से अवेयरनेस बहुत जरूरी है। कोरोना से बचने के लिए फेस मास्क बेस्ट है या फिर फेस शील्ड, इस बारे में अभी तक डीप स्टडी नहीं की गई है। बेहतर होगा कि उपलब्धता के आधार पर सुरक्षा पर पूरा ध्यान दें। अगर आपके पास फेस शील्ड नहीं है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। आप मास्क या फिर कपड़े से बने मास्क का प्रयोग कर सकते हैं।

कोविड-19 की ताजा जानकारी
देश: भारत
आंकड़े

820,916

कंफर्म केस

515,386

स्वस्थ हुए

22,123

मौत
मैप

यह भी पढ़ें :क्या कोरोना वायरस के बाद दुनिया एक और नई घातक वायरल बीमारी से लड़ने वाली है?

इन बातों का रखें ध्यान

  • घर से बाहर जाते समय प्रोटक्शन का पूरी तरह से ध्यान रखें। फेस में मास्क लगाना बिल्कुल न भूलें।
  • बाहर आप जिन चीजों को छू रहे हैं, वो संक्रमित हो सकती हैं। ऐसे में गलती से भी मुंह में हाथ न लगाएं।
  • घर आने के बाद मास्क को डस्टबिन में फेंक दें। अगर फेस शील्ड का यूज कर रहे हैं तो उसे साफ जरूर करें।
  • घर में सब्जियां लाएं तो उन्हें भी अच्छे से साफ करें।
  • अगर आपके पास सैनिटाइजर नहीं है तो आप घर में भी सैनिटाइजर बना कर उसका यूज कर सकते हैं।
  • कोरोना के लक्षण दिखने पर लापरवाही बिल्कुल न करें।
  • कोरोना से सावधानी के लिए डॉक्टर की राय जरूर माने। बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी दवा का सेवन न करें।
  • अगर आपके घर में किसी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण दिखें तो उससे दूरी बनाएं और डॉक्टर से इस बारे में सलाह जरूर लें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें 

इटली के वैज्ञानिकों ने कोविड-19 वैक्सीन बनाने का किया दावाः जानिए इस खबर की पूरी सच्चाई

लॉकडाउन में दोस्ती पर क्या पड़ा है असर? कोई रूठा तो कोई आया पास

कोरोना महामारी में कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग (Contact Tracing) कैसे कर रही है काम, जानिए

रमजान: कोविड-19 के खिलाफ वरदान साबित हो सकते हैं ये 7 ईटिंग हैक्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पीएम मोदी स्पीच : देश में अनलॉक 2.0 की हुई शुरुआत, लापरवाही पड़ सकती है भारी

पीएम मोदी स्पीच लाइव टूडे, पीएम मोदी लॉकडाउन स्पीच, क्या लॉकडाउन बढ़ेगा, PM Modi Speech Live Today PM Modi Speech covid-19

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड 19 और शासन खबरें जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या मॉनसून और कोरोना में संबंध है? बारिश में कोविड-19 हो सकता है चरम पर

मॉनसून और कोरोना में क्या संबंध है, मॉनसून और कोरोना से खुद को कैसे रखें सुरक्षित, बारिश में कोरोना से कैसे बचें, Monsoon spread corona easily.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड-19 जून 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या सूर्य ग्रहण से कोविड 19 खत्म हो जाएगा? जानें इस बात में कितनी है सच्चाई

सूर्य ग्रहण और कोविड 19 इन हिंदी, सूर्य ग्रहण और कोविड 19 के बीच क्या संबंध है, सूर्य ग्रहण और कोरोना वायरस से कैसे बचें, सूर्य ग्रहण 2020 का समय क्या है, सोलर इक्लिप्स टाइमिंग, Solar eclipse covid 19 corona virus.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड 19 और शासन खबरें जून 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कोरोना वायरस की दवा : डेक्सामेथासोन (dexamethasone) साबित हुई जान बचाने वाली पहली दवा

कोरोना की दवा के रूप में डेक्सामेथासोन का इस्तेमाल और प्रभावशीलता काफी अच्छे रिजल्ट्स दे रही है। कोरोना संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए तुरंत इस्तेमाल की जा सकती है। corona virus first medicine Dexamethasone in hindi

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
कोरोना वायरस, कोविड 19 उपचार जून 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें