हवाई यात्रा आज से हो चुकी है शुरू, आपके लिए ये बातें जानना है जरूरी

Medically reviewed by | By

Update Date मई 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

देशभर में आज लॉकडाउन को दो महीने हो चुके हैं। भले ही दो महीने बाद कई गतिविधियां शुरू कर दी गई हो, लेकिन कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। महाराष्ट्र में कोविड-19 के मामलों में तेजी से बढ़त हो रही है। लेकिन लोगों की सुविधा को देखते हुए दो महीने बंद डोमेस्टिक एयरलाइन सर्विस को शुरू कर दिया गया है। दो महीने बाद लोग फिर से हवाई यात्रा शुरू कर रहे हैं। कोविड-19 ट्रेवल एडवाइजरी के तहत लोगों को नए नियमों का पालन करना पड़ रहा है। एयरपोर्ट में पहुंचने के समय से लेकर लैंडिंग तक, नई ट्रेवल एडवाइजरी जारी की गई हैं। कोविड-19 ट्रेवल एडवाइजरी का पालन करना सभी लोगों के लिए जरूरी है। ऐसा नहीं है कि लोग केवल यात्रा के वक्त ही नए नियमों का पालन कर रहे हैं। लॉकडाउन 4.0 के दौरान भी कई बदलाव आए हैं। जानिए इन नए बदलाव के बारे में।

ये भी पढ़ेंः कोरोना महामारी के समय जानिए इम्यूनिटी पावर से जुड़े मिथ्स और फैक्ट्स

कोविड-19 ट्रेवल एडवाइजरी

देश में 25 मई को घरेलू उड़ाने शुरू कर दी गई हैं। देश के दो राज्य आंध्र प्रदेश और पश्विम बंगाल को छोड़कर सभी जगह डोमेस्टिक फ्लाइट को शुरू कर दिया गया है। आज दिल्ली से सुबह पहली फ्लाइट पुणे के लिए रवाना हुई। वहीं मुंबई से सुबह पहली फ्लाइट पटना के लिए रवाना हुई। एयरपोर्ट में आए सभी यात्रियों के लिए नए नियम और व्यवस्थाएं की गई हैं, जिनका सभी को पालन करना अनिवार्य है। कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए लोगों को दो मीटर की दूरी बनाए रखने की सलाह दी गई है।

ये भी पढ़ेंः इटली के वैज्ञानिकों ने कोविड-19 वैक्सीन बनाने का किया दावाः जानिए इस खबर की पूरी सच्चाई

कोविड-19 ट्रेवल एडवाइजरी: कोरोना महामारी के दौरान सावधानी

सोशल डिस्टेंसिंग के मद्देनजर आज सुप्रीम कोर्ट ने एक अहम फैसला भी सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि एयर इंडिया अगले 10 दिनों तक उड़ाने पूर्ण रूप से भरेगी, लेकिन इसके बाद मिडिल सीटों की बुकिंग नहीं की जाएगी। सुप्रीम कोर्ट ने इंटरनेशनल फ्लाइट में नए आदेश जारी करने की बात भी कही है। जानिए मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ की ओर से क्या गाइडलाइन जारी की गई हैं।

  • सभी पैसेंजर्स को अपने मोबाइल में आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना जरूरी है।
  • एयरपोर्ट में चेक इन करते समय सभी नियमों का पालन करना जरूरी है। साथ ही लोगों से 2 मीटर की दूरी बनाएं रखें।
    सभी पैसेंजर्स की थर्मल स्क्रीनिंग जरूरी है।
  • एयरपोर्ट में प्रवेश करने से पहले और यात्रा के दौरान सभी पैसेंजर्स को मास्क लगाना जरूरी है। हैंड हाइजीन का ख्याल रखना बहुत जरूरी है। एक्जिट पॉइंट में भी थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी।
  • जांच के दौरान जिन लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण पाए जाएंगे, उन्हें अस्पताल ले जाने की व्यवस्था की जाएगी।
  • जिन लोगों में माइल्ड सिम्पटम्स दिखाई देंगे, उन्हें होम इसोलेशन या कोविड केयर सेंटर में आइसोलेशन में रखा जाएगा।
  • जिन लोगों में कोरोना के लक्षण नहीं दिखाई देंगे, उन्हें भी घर में सात दिनों तक सेल्फ एक्जामिन करना होगा।
  • अगर किसी को कोरोना के लक्षण दिखाई देते हैं तो डिस्ट्रिक सर्विलांस ऑफिस या स्टेट/नेशनल कॉल सेंटर (1075) पर कॉल कर जानकारी दें।
  • हवाई यात्रा के दौरान यात्रा के चार घंटे पहले पहुंचना जरूरी है।
  • बुजुर्ग लोग, गर्भवती महिलाओं और बीमार लोगों को ट्रेवल करने के लिए मना किया है।
कोविड-19 की ताजा जानकारी
देश: भारत
आंकड़े

648,315

कंफर्म केस

394,227

स्वस्थ हुए

18,655

मौत
मैप

ये भी पढ़ेंः किडनी मरीजों को कोविड-19 से कितना खतरा? जानिए भारत के किडनी विशेषज्ञ डॉक्टरों की राय

कोरोना महामारी के दौरान सावधानी : बाहर खाना होगा कितना सेफ ?

जिस तरह से हवाई सेवाएं शुरू कर दी गई हैं, ठीक वैसे ही कुछ समय बाद तक बाहर खाना भी अलाऊ कर दिया जाएगा। लेकिन बात सिर्फ इतनी है कि क्या वाकई अब घर के बाहर खाना सेफ होगा ? साल 2011 में सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल ने एक स्टडी की, जिसमें में बात सामने आई कि रेस्ट्रोरेंट में वर्कस ने केवल 27% गतिविधियों में अपने हाथ धोएं। ऐसा अनुमान हैं कि अब खाना बनाने के दौरान होटल और रेस्ट्रोरेंट में ग्लव्स पहनना अनिर्वाय कर सकते हैं ताकि खाना साफ रहे। साथ ही समय-समय पर हैंडवॉशिंग भी जरूरी कर दिया गया है। लेकिन बात सिर्फ इतनी है कि जो भी नए नियम बनाएं जाएंगे, क्या लोग उनका सही से पालन करेंगे ? एक बात तो तय है कि घर के खाने से साफ खाने की उम्मीद बाहर से न लगाएं तो बेहतर होगा।

पोस्ट पेंडमिक होटल सेफ्टी के लिए टेक्नीक का यूज किया जाएगा ताकि रेस्ट्रोरेंट या होटल के अंदर संक्रमित व्यक्ति न पहुंच सके। रेस्ट्रोरेंट में इंफ्रारेड स्कैनर का यूज किया जाएगा, ताकि गेस्ट और स्टाफ के शरीर का टेम्परेचर मापा जा सके। वहीं यूवी लाइट का यूज एसी प्यूरिफाइंग के रूप में किया जाएगा। सैनिटाइजेशन और हाइजीन के लिए अब सभी लोगों को बहुत ज्यादा ध्यान देने की जरूरत पड़ेगी।

ये भी पढ़ेंः चमगादड़ की सुपर इम्यूनिटीः शरीर में कोरोना वायरस रहने के बाद कैसे जिंदा रहता है चमगादड़?

कोरोना महामारी के दौरान सावधानी:  इन बातों का रखना होगा ध्यान

डब्लूएचओ पहले ही कह चुका है कि कोरोना महामारी हमारे जीवन का हिस्सा बन चुकी है। ऐसे में न सिर्फ यात्रा और बाहर खाने के दौरान, बल्कि आपको हर समय सुरक्षा की आवश्यकता है। हाइजीन और सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल हमेशा रखना पड़ेगा। अगर आपको आने वाले समय में रेस्ट्रोरेंट में सॉल्ट की जगह सैनिटाइजर दिखाई दें तो ये हैरत की बात नहीं होगी। किसी भी तरह की लापरवाही आपको बड़ी समस्या में डाल सकती है। शरीर में आने वाले बदलावों पर ध्यान जरूर दें। घर से बाहर निकलते वक्त मास्क का प्रयोग जरूर करें। एक बात ध्यान रखें कि मास्क का प्रयोग करने के बाद मुंह में हाथ न लगाएं और न ही आंखों को छुएं, क्योंकि आंखों के माध्यम से भी कोरोना का संक्रमण आसानी से फैल सकता है। कोरोना महामारी के कारण दुनिया में तेजी से बदलाव आएं हैं, हम सबको इस बात पर ध्यान देना होगा।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें 

रेड लाइट एरिया को बंद करने से इतने प्रतिशत तक कम हो सकते हैं कोरोना के मामले, स्टडी में बात आई सामने

लॉकडाउन में दोस्ती पर क्या पड़ा है असर? कोई रूठा तो कोई आया पास

कोरोना महामारी में कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग (Contact Tracing) कैसे कर रही है काम, जानिए

रमजान: कोविड-19 के खिलाफ वरदान साबित हो सकते हैं ये 7 ईटिंग हैक्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जानें भारत में कोरोना संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या पर क्या कहती है रिसर्च, सामने आए कुछ तथ्य

भारत में संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या क्या है, संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या क्या कारण है, रिकवरी रेट, डेथ रेट, corona cases increase in india.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड-19 जून 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

डब्लूएचओ की तरफ से हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन की ट्रायल पर ग्रीन सिग्नल, मिल सकती है कोरोना मरीजों को राहत

हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन कोरोना वायरस ट्रायल को मिला WHO से ग्रीन सिग्नल। जानें क्यों रोकी गई थी ट्रायल? hydroxychloroquine coronavirus trials to resume says WHO.

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Nidhi Sinha
कोरोना वायरस, कोविड 19 उपचार जून 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कम समय में कोविड-19 की जांच के लिए जल्द हो सकती है नई टेस्टिंग किट तैयार

काउंसिल ऑफ सइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (CSIR) ने एक टेस्टिंग टेक्नोलॉजी विकसित की है, जो कोरोना के टेस्टिंग के लिए मददगार हो सकती है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha
कोरोना वायरस, कोविड 19 की रोकथाम जून 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

मुंबई में साइक्लोन ने दी दस्तक, कोरोनाकाल में कैसे रखें सेहत का ख्याल?

मुंबई में साइक्लोन इन हिंदी, मुंबई में साइक्लोन लाइव अपडेट, निसर्ग साइक्लोन कहां पहुंचा, mumbai cyclone effects health in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें जून 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें