फेफड़ों के बाद दिमाग पर अटैक कर रहा कोरोना वायरस, रिसर्च में सामने आईं ये बातें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। देश में संपूर्ण लॉकडाउन होने के बावजूद इसके मामलों में कमी देखने को नहीं मिल रही है। अभी तक इसकी कोई वैक्सीन भी नहीं तैयार हो पाई है। अभी तक हम लोगों को यह मालूम था कि कोविड-19 गले और फेफड़ों पर अटैक करता है लेकिन हाल ही कुछ रिपोर्ट में इसके दिमाग को जकड़ने का दावा किया गया है। दुनियाभर के कई न्यूरोलॉजिस्ट इस खबर की पुष्टि कर रहे हैं। उनका कहना है कि दुनियाभर से ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जिसमें कोविड-19 से संक्रमित पेशेंट में दिमाग से जुड़ी गंभीर बीमारियों को पनपते पाया गया है। कई लोगों में कोरोना वायरस से दिमाग में खून के थक्के बनना, दिमाग में सूजन और बोल ना पाना जैसे लक्षण भी दिखाई दे रहे हैं। जानिए किस तरह से कोरोना वायरस से दिमाग पर असर पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से ब्लड ग्रुप का है कनेक्शन, रिसर्च में हुआ खुलासा

कोरोना वायरस से दिमाग पर असर : दिमाग कैसे हो रहा है प्रभावित?

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, कई न्यूरोलॉजिस्ट का कहना है कि कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों में एक तबका ऐसा भी है, जिनमें संक्रमण से दिमाग पर गंभीर परिणाम देखने को मिल रहे हैं। एक्सपर्ट ने इसे ब्रेन डिसफंक्शन का नाम दिया है। कोविड-19 पेशेंट्स का इलाज कर रहे कुछ डॉक्टर्स ने बताया कि कई लोगों में इसका असर दिमाग पर साफ देखा जा सकता है। बहुत सारे मरीज की क्षमता प्रभावित हुई है। कुछ लोगों के सिर पर सूजन आ गई। तो कुछ लोग बढ़ते सिर दर्द से परेशान हैं। आपको बता दें, इससे पहले एक रिपोर्ट आई थी, जिसमें बताया गया था कि कोरोना पेशेंट्स में गंघ सूंघने और स्वाद को पहचानने की क्षमता खोते पाया गया था। यह दोनों लक्षण भी दिमाग से जुड़े हुए हैं। जिन्हें देखते यह कहना गलत नहीं होगा कि कहीं न कहीं यह लोगों के ब्रेन पर असर डाल रहा है।

यह भी पढ़ें: कोरोना के दौरान डेटिंग पैटर्न में बदलाव, इस तरह पार्टनर तलाश रहे युवा

कोरोना वायरस से दिमाग पर असर : दिमाग हो रहा सुन्न?

इटली की ब्रेसिका यूनिवर्सिटी के हॉस्पिटल से जुड़े डॉ. एलेसेंड्रो पेडोवानी ने बताया कि कोरोना वायरस के पेशेंट्स में पिछले कुछ दिनों से काफी बदलाव देखने को मिल रहे हैं। ऐसा सिर्फ इटली में ही नहीं बल्कि दूसरे देशों के डॉक्टरों को भी देखने को मिल रहा है। मरीजों के दिमाग में खून के थक्के जमना, दिमाग में सूजन आना, दिमाग का सुन्न हो जाना, ब्रेन स्ट्रोक, दिमागी दौरे, बोलने में दिक्कत जैसे कई लक्षण देखने को मिल रहे हैं। लोगों में इन लक्षणों को देखते हुए इटली ने अलग से न्यूरो-कोविड यूनिट शुरू की है।

कोरोना वायरस से दिमाग पर असर : मार्च में सामने आया मामला

कोरोना वायरस से दिमाग को पड़ रहे असर को मार्च में सामने आए एक मामले से समझा जा सकता है। 74 वर्षीय फ्लोरिडा के बोका रैटन को आनन-फानन में इमजरेंसी में भर्ती किया गया। शुरुआत में उनमें खांसी और बुखार की शिकायत थी। प्रारंभिक जांच में एक्स-रे किया गया, जिसमें निमोनिया की बात सामने आई और उन्हें घर वापस भेज दिया गया। अगले दिन बोका को दोबारा बहुत तेज बुखार हुआ जिसके बाद उन्हें वापस हॉस्पिटल ले जाया गया। अब उन्हें सांस लेने में तकलीफ भी शुरू हो चुकी थी। हालत इतनी बिगड़ चुकी थी कि वह डॉक्टर को अपना नाम तक नहीं बता पा रही थी। वह अपने बोलने की क्षमता भी खो चुकी थी। इसके अलावा उनमें दिमाग दौरा पड़ने का खतरा दिखाई दिया। डॉक्टरों को पहले शक हुआ कि उन्हें कोविड-19  हुआ है और बाद में जांच में इसकी पुष्टि भी हुई।

यह भी पढ़ें: क्या कोरोना वायरस और सेक्स लाइफ के बीच कनेक्शन है? अगर जानते हैं इस बारे में तो खेलें क्विज

कोरोना वायरस से दिमाग पर असर :बोलने की क्षमता घटी

कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति में खांसी, बुखार और सांस में तकलीफ लेना आम लक्षण हैं। लेकिन कुछ लोगों की हालत इतनी गंभीर है कि वह अपना नाम तक नहीं बता पा रहे हैं। कुछ लोग तो बोलने की क्षमता ही गंवा बैठे हैं। कई लोगों में दिमाग का दौरा पड़ने की बात सामने आई है। इससे जुड़ा एक मामला मिशगन के ड्रेटायट में सामने आया। यहां एक 50 वर्षीय महिला जो कि एयरलाइन कर्मचारी है उसे कोरोना वायरस था। शुरुआत में इस महिला ने डॉक्टर को सिरदर्द की शिकायत की। बहुत जद्दोजहेद के बाद इस महिला ने डॉक्टर को अपना नाम बताया। कुछ देर के बाद उसने बिल्कुल ही जवाब देना कम कर दिया। डॉक्टर द्वारा महिला के दिमाग की स्क्रीनिंग में मालूम हुआ कि उसके दिमाग में कुछ आसामान्य सूजन है। यहीं नहीं उसके दिमाग के एक हिस्से की कुछ कोशिकाएं नष्ट होकर खत्म हो गई।

दिमाग में आ जाती है सूजन

डॉक्टर ने महिला के दिमाग की स्थिति को बहुत खतरनाक बताया। उन्होंने इस स्थिति को ‘एक्यूट नेक्रोटाइजिंग एनसेफेलोपैथी’ नाम दिया। इस तरह के कॉम्प्लिकेशन इंफ्लूएंजा और दूसरे वायरस के संक्रमण से होता है। हेनरी फोर्ड हेल्थ सिस्टम की न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. एजिसा फोरे ने बताया कि संक्रमण के कुछ दिनों के बाद दिमाग में सूजन आती है और लगातार बनी रहती है। इस मामले से ये साफ है कि दुर्लभ स्थिति में कोरोनावायरस दिमाग को भी अपनी चपेट में ले सकता है।

यह भी पढ़ें: क्या कोरोना वायरस के दौरान सेक्स जानलेवा हो सकता है?

कोरोना वायरस से दिमाग पर असर के कारण परेशानियों को लेकर क्या है डॉक्टर का कहना

कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों में दिमाग से जुड़ी इन समस्याओं को देखने के बाद पिट्सबर्ग यूनिवर्सिटी के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ शैरी चोउ ने चिंता जााहिर की है। उनके अनुसार, इस तरह के लक्षणों पर ज्यादा जानकारी के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि दिमाग के लिए फिलहाल कोई टेक्नोलॉजी नहीं है, अगर फेफड़ों में परेशानी होती है तो मरीज को ठीक करने के लिए वेंटिलेटर पर लेटा दिया जाता है लेकिन दिमाग के लिए ये सुविधा हमारे पास नहीं है।

कोरोना वायरस से दिमाग पर पड़ रहे असर से जुड़ी इस रिपोर्ट ने सबको किया हैरान

हाल ही में छपे एक शोध में चीनी शोधकर्ताओं का कहना है कि कोविड-19 से संक्रमित कुछ मामलों से ऐसे प्रमाण सामने आए हैं जिनसे मालूम होता है कि कोरोना वायरस सिर्फ सांस की नली तक सीमित नहीं है, ये वायरस नर्वस सिस्टम तक पहुंच रहा है। इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि फरवरी में चीन में कुछ ऐसे मामले देखे गए थे जिनमें दिमाग से जुड़ी समस्याएं देखी गई थी। शुरुआत में इन मामलों को नॉर्मल दिमाग से जोड़कर देखा गया। बाद में ये मरीज कोरोना से पीड़ित पाए गए। हैरान करने वाली बात यह थी कि इन लोगों में खांसी, जुकाम और बुखार जैसे लक्षण नहीं पाए गए थे।

कोरोना वायरस से सावधानी ही इस बीमारी का इलाज है। कोरोना वायरस के लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या महसूस हो रही है तो एक बार डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

और पढ़ें:

Coronavirus Lockdown : क्या कोरोना के डर ने आपकी रातों की नींद चुरा ली है, ये उपाय आ सकते हैं आपके काम

कोरोना वायरस से जंग में शरीर का साथ देगा विटामिन-डी, फायदे हैं अनेक

मास्क पर एक हफ्ते से ज्यादा एक्टिव रह सकता है कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

Coronavirus Live Update: कोरोना के बढ़ते संकट को देखते हुए देश में बढ़ सकता है लॉकडाउन

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

पीपीआई यानी प्रोटोन पंप प्रोटोन पंप इंहिबिटर, ऐसी दवाएं जो हार्ट बर्न और एसिडिटी के इलाज में उपयोग की जाती है। अमेरिकन स्टडीज में दावा किया गया है कि इनके उपयोग से कोरोना वायरस का रिस्क बढ़ जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड 19 सावधानियां, कोरोना वायरस सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

कोविड-19 के बाद ट्रैवल करना पहले जितना मजेदार नहीं रहेगा क्योंकि एक तो आपको संक्रमण से बचाव की चिंता लगी रहेगी दूसरी तरफ कई नियमों का पालन भी करना होगा।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड-19, कोरोना वायरस सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

फिर से खुल रहे हैं स्कूल! जानें COVID-19 के दौरान स्कूल जाने के सेफ्टी टिप्स

COVID-19 के दौरान स्कूल लौटने के लिए सेफ्टी टिप्स in Hindi, school reopen guidelines covid-19 safety tips in Hindi, सेफ्टी टिप्स की गाइडलाइन।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोविड 19 व्यवस्थापन, कोरोना वायरस सितम्बर 8, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे: पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी कैसे है एक दूसरे पर निर्भर?

जानिए विश्व मरीज सुरक्षा दिवस में कोविड-19 के समय कैसे मरीज और स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा एक दूसरे से संबंधित है? पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध,epilepsy and covid-19

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दिवाली में अरोमा कैंडल, aroma candle

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
हाथों की सफाई, hand wash

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ सितम्बर 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें