कोविड-19 से लड़ने आगे आया देश का सबसे अमीर घराना, मुंबई में COVID-19 अस्पताल बनाया

By Medically reviewed by Dr. Pranali Patil

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए रिलायंस इंडस्ट्रीज ने भी हाथ बढ़ा दिया है। कंपनी ने दो सप्ताह के थोड़े समय में कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए मुंबई में COVID-19 अस्पताल बनाया है, जिसमें 100 बेड का अरेंजमेंट है। रिलायंस ने बीएमसी के सहयोग के साथ दो हफ्ते में इस हॉस्पिटल को तैयार किया है। यह देश का पहला अस्पताल है जो कोरोना यानि कोविड-19 के मरीजों के लिए डेडिकेटेड है।

मुंबई में COVID-19 अस्पताल

रिलायंस का यह हॉस्पिटल मुंबई के सेवेन हिल्स हॉस्पिटल में बनाया गया है। यह पूरी तरह से रिलायंस फाउंडेशन द्वारा फंडेड है। इस हॉस्पिटल का नाम कोविड-19 रखा गया है। फिलहाल यह अस्पताल मुंबई के उन मरीजों के लिए है जो कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

मुंबई में COVID-19 अस्पताल: क्या है इसमें खास

रिलायंस के मुताबिक, कोविड-19 हॉस्पिटल में नेगेटिव प्रेशर रूम है। यह संक्रमण को कंट्रोल करने के साथ क्रॉस कंटेमीनेशन यानी संक्रमण को फैलने से रोकता है। इसमें कोरोना पेशेंट्स के लिए हर जरूरी मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर जैसे पेसमेकर्स, वेंटिलेटर्स, डायलिसिस मशीन और पेशेंट मॉनिटरिंग डिवाइस की फैसिलिटी है। इसके अलावा रिलायंस ने लोधीवली में एक आइसोलेशन सेंटर बनाया है। फिलहाल उन्होंने इस आइसोलेशन सेंटर को सरकार को सौंप दिया है। कंपनी का कहना है कि मुंबई में विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सेवा संस्थानों में शामिल सर एच एन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल ने अधिसूचित देशों से आने वाले यात्रियों के लिए क्वारेंटाइन सर्विसेज उपलब्ध कराने की भी पेशकश की है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस की चेन टूटना है जरूरी, अगर आपको है सही जानकारी तो खेलें ये क्विज

रिलायंस लाइफ साइंसेज प्रभावी टेस्टिंग के लिए अतिरिक्त टेस्ट किट्स और उपभोग्य सामग्रियों का आयात कर रही है। रिलायंस ने बताया कि इनके डॉक्टर और शोधकर्ता भी इस घातक वायरस का इलाज खोजने के लिए ओवरटाइम काम कर रहे हैं।

मुंबई में COVID-19 अस्पताल के अलावा रिलायंस ने किया ये काम

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए रिलायंस ने मास्क का उत्पादन बढ़ाया। उन्होंने एक लाख मास्क प्रतिदिन तैयार करने का फैसला लिया है। कोरोनो वायरस की चुनौती से लड़ने के लिए हेल्थ वर्कर्स के लिए पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट्स जैसे सूट, कपड़े के उत्पादन पर काम किया जा रहा है। इसके अलावा Covid-19 के मरीजों को ले जाने वाले वाहनों को मुफ्त ईंधन देने और अलग-अलग शहरों में मुफ्त भोजन उपलब्ध कराने की घोषणा की है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस: क्या थर्ड स्टेज की तरफ बढ़ रहा है भारत?

मुंबई में COVID-19 अस्पताल के साथ रिलायंस ने शुरू किया ये अभियान

कोरना वायरस से बचने के लिए सामाजिक दूरी बनाए रखना बेहद महत्वपूर्ण है। रिलायंस ने सामाजिक दूरी बनाए रखने के साथ लोगों को अपने करीबी मित्रों, परिवारों, सहकर्मियों, व्यवसायों और समुदायों के साथ संपर्क के लिए कई प्लान निकालें हैं। भारत को जुड़े रहने के लिए जियो ने हैशटैग कोरोना हारेगा#coronaharega #jeetegaindia जीतेगा इंडिया पहल की शुरुआत की है।

कर्मचारियों को पूरा वेतन देगा रिलायंस

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस के कारण उनका काम रुकता है, तब भी वह स्थायी और कॉन्ट्रेक्ट पर काम करने वाले कर्मचारियों को पूरा वेतन देगी। यहीं नहीं कंपनी कोविड-19 से पीड़ित मरीजों को ले जाने वाले आपातकालीन वाहनों को मुफ्त में ईंधन उपलब्ध कराएगी। कोरोना वायरस के कारण जिन लोगों की आजीविका प्रभावित हुई है रिलायंस फाउंडेशन उन लोगों को मुफ्त में खाना उपलब्ध कराएगी।

यह भी पढ़ें: कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा COVID-19 के मामले

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या 124 (26 मार्च 2020, 13:43) हो गई है। प्रदेश में अब तक इस वैश्विक महामारी से चार लोगों की मौत हो गई है। अगर कोरोना वायरस से देशभर के मामलों की बात करें तो स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, भारत में कोविड-19 के कारण कुल 13 लोगों (26 मार्च 2020, 13:43) की मौत हो गई है और अब तक संक्रमण के कुल 649 (26 मार्च 2020, 13:43) मामले सामने आए हैं। देशभर में अब तक इस खतरनाक वायरस से 13 लोगों (26 मार्च 2020, 13:43) की मौत हो गई है। आज जम्मू-कश्मीर में भी कोरोना से मौत का पहला मामला सामने आया है। श्रीनगर में 65 साल के बुजुर्ग ने कोरोना की वजह से दम तोड़ दिया है। इसकी जानकारी राज्य के मुख्य सचिव ने ट्वीट कर दी है।

मुंबई में COVID-19 अस्पताल के अलावा रिलायंस ने लोगों की मदद के लिए जारी की ये सर्विसेज

जियो अपनी डिजिटल क्षमताओं को माइक्रोसॉफ्ट टीम्स के साथ जोड़ रही है ताकि व्यक्तियों, छात्रों, शैक्षणिक व हेल्थकेयर इंस्टीट्यूशंस को उनकी सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करते हुए उनकी प्रोफेशनल लाइफ जारी रखने में सक्षम बनाया जा सके। रिलायंस ने इसके तहत नीचे बताए प्लान शुरू किए हैं:

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस आउटब्रेक : वुहान से पूरी दुनिया तक ऐसे फैला ये वायरस, ले ली 19 हजार जान

घर बैठे स्वास्थ्य का रखें ध्यान

  • सिंपटम चेकर (Symptom checker): अस्पतालों में लोगों की भीड़ से डॉक्टरों को काफी परेशानी हो रही है। इसे देखते हुए रिलायंस ने सिंपटम चेकर टूल निकाला है जिसके जरिए आप घर पर बैठकर कोरोना के लक्षण चेक कर सकते हैं। साथ ही यह टूल लोगों को कोरोना की स्थिति पर रियल टाइम अपडेट्स व सूचना भी देगा।
  • जियो हैप्टिक पॉवर्स मॉयगॉव कोरोना हेल्पडेस्क (Jio Haptik ने MyGov Corona Helpdesk) भी विकसित किया है। यह भारत सरकार का वॉट्सऐप चैटबोट है। इस पर कोरोना वायरस से संबंधित सही जानकारी मिलेगी और अफवाह व गलत सूचना फैलने से रोकने में मदद ​होगी।
  • मेडिकल कंसल्टेशन (Medical Consultation): यूजर्स को फिजीशियंस व डॉक्टर्स के साथ कनेक्ट होकर घर पर ही रियल टाइम मेडिकल परामर्श मिलेगा।

घर पर पढ़ाई (Study at Home)

  • छात्र व अध्यापक वीडियो कॉलिंग से क्लासरूम सेशन जॉइन कर सकते हैं। इसमें अध्यापक बच्चों संग डॉक्युमेंट शेयर करने में भी सक्षम होंगे। एक स्कूल ईयर के सभी लेसन्स के लिए फ्री स्टोरेज के साथ कम्युनिकेशन हब मिलेगा। फ्री स्टोरेज टीम्स व इंडीविजुअल्स दोनों के लिए होगा।

यह भी पढ़ें: WHO ने कोरोना वायरस के चार सबसे प्रभावशाली उपचारों का किया ट्रायल

वर्क फ्रॉम होम (Work from Home)

यूजर्स को रिमोट ऑडियो व वीडियो मीटिंग्स, बातचीत, फाइल शेयरिंग, मीटिंग रिकॉर्डिंग, स्क्रीन शेयरिंग आदि में मददद होगी। एक ही प्लैटफॉर्म पर आप संचार से जुड़ी समभी जरूरतों को पूरा कर पाएंगे।

और पढ़ें:

शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाकर कोरोना वायरस से करनी होगी लड़ाई, लेकिन नींद का रखना होगा खास ध्यान

कोरोना वायरस वैक्सीन को विकसित होने में इतना समय क्यों लग रहा है? कैसे बनती है कोई वैक्सीन

कोरोना वायरस फैलाने को लेकर चीन के खिलाफ मुकदमा, अमेरिकी सांसद ने ठोका 200 खरब डॉलर का केस

कोरोना मास्क : क्या आप जानते हैं मास्क के प्रकार और कैसे काम करते हैं ये?

Share now :

रिव्यू की तारीख मार्च 26, 2020 | आखिरी बार संशोधित किया गया मार्च 27, 2020