Yoghurt: योगर्ट क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date फ़रवरी 12, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
Share now

परिचय

योगर्ट (Yoghurt) क्या है?

योगर्ट दूध से बनाए जाने वाला एक उत्पाद है। इसे दूध में बैक्टीरिया के जरिए खमीरीकरण कर बनाया जाता है। इसमें इस्तेमाल होने वाले बैक्टीरिया का नाम ‘योगर्ट कल्चर’ है। ये प्रोटीन और कैल्शियम जैसे पोषक तत्वों से समृद्ध होता है। आयुर्वेद में भी इससे होने वाले फायदों का वर्णन किया गया है।

योगर्ट (Yoghurt) का इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

न्यूट्रिएंट्स से भरपूर:
योगर्ट न्यूट्रिएंट्स से भरपूर होता है। इसमें भरपूर मात्रा में कैल्शियम होता है जो हमारे दांतों और हड्डियों के लिए भी अच्छा होता है। एक कप योगर्ट को लेने से दिनभर की 49% कैल्शियम की जरूरत पूरी होती है। इसके अलावा इसमें विटामिन-बी भी होता है जो दिल संबंधित बीमारियों से सुरक्षा कवच प्रदान करता है। एक कप योगर्ट में 38% फासफॉरस, 12% मैग्नीशियम और 18% पोटैशियम होते हैं जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के साथ मेटाबॉलिज्म और हड्डियों के लिए फायदेमंद होते हैं। इसके अलावा इसमें विटामिन-डी होता है जो हड्डियों और इम्यून सिस्टम के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। इसके साथ ही ये हृदय रोगों और डिप्रेशन से दूर रखता है।

प्रोटीन से भरपूर होता है:
योगर्ट में अच्छी मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। बता दें, शरीर में प्रोटीन की कमी का सबसे पहला असर आपकी स्किन, बाल और नाखूनों पर दिखाई देता है। इससे त्वचा लाल पड़ने लगती है, बाल पतले होने लगते हैं, नाखून टूटने लगते हैं आदि। यह मांसपेशियों को मजबूत बनाता है। प्रोटीन को मांसपेशियों को भोजन कहा जाता है। पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन लेने से भूख का नियंत्रण करने के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह हार्मोर्न का उत्पादन बढ़ाता है जो पूर्णता का संकेत देता है। यह आपके द्वारा समग्र रूप से खपत कैलोरी की संख्या को स्वचालित रूप से कम कर सकता है, जो वजन नियंत्रण के लिए फायदेमंद है।

डायजेस्टिव सिस्टम को दुरुस्त रखता है:
योगर्ट में कुछ ऐसे बैक्टीरिया और प्रोबायोटिक्स होते हैं जो डायजेस्टिव सिस्टम को दुरुस्त रखने में मदद करते हैं। प्रोबायोटिक्स डायजेस्टिव ट्रैक्ट में जाकर डायजेशन में सुधार करते हैं और साथ ही गट हेल्थ को बनाए रखने में मदद करते हैं। डायजेशन संबंधित परेशानियां जैसे ब्लोटिंग, कब्ज और डायरिया में यह बेहद फायदेमंद होता है।

इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है:
योगर्ट इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मददगार है। इसमें मौजूद प्रोबायोटिक्स सूजन को कम करते हैं जो कई सारी परेशानियां जैसे वायरल इंफेक्शन और गट डिसऑर्डर का कारण है। योगर्ट में मैग्नीशियम, सेलेनियम और जिंक होता है जो इम्यून सिस्ट के लिए फायदेमंद होता है। विटामिन-डी से भरपूर योगर्ट कोल्ड और फ्लू से रक्षा कवच प्रदान करता है।

ओस्टियोपोरोसिस से सुरक्षा प्रदान करता है:
योगर्ट में कैल्शियम, प्रोटीन, पोटेशियम, फासफॉरस और विटामिन-डी होता है जो हड्डियों को मजबूत बनाए रखने में मदद करता है। ये सारे विटामिन और मिनिरल्स ओस्टियोपोरोसिस को कोसों दूर रखने में मददगार है। आमतौर पर यह परेशानी बड़ी उम्र के लोगों में देखी जाती है। ऑस्टियोपोरोसिस से ग्रसित लोगों में लो बोन डेंसिटी होती है जिस वह हड्डियों के फ्रैक्चर होने की संभावना ज्यादा रहती है।

यह भी पढ़ें: Wild Carrot: जंगली गाजर क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है योगर्ट का उपयोग?

आमतौर पर योगर्ट का सेवन सभी के लिए सुरक्षित है, लेकिन अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट या हर्बलिस्ट से परामर्श करें, यदि:

  • अगर आप प्रेग्नेंट हैं या ब्रेस्टफीडिंग कराती हैं तो भी इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श लें। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दौरान गर्भवती मां की इम्यूनिटी काफी कमजोर होती है, ऐसे में  कुछ भी लेने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लेनी चाहिए।
  • जिन लोगों का इम्यून सिस्टम कमजोर हो उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि इसमें मौजूद बैक्टीरिया उनके लिए हानिकारक साबित हो सकता है।
  • एचआईवी (HIV) एड्स के पेशेंट्स इससे दूरी बनाकर रखें।
  • अगर आपको दूसरी दवाओं या फिर हर्ब्स से एलर्जी है।
  • आपको कोई दूसरी तरह की बीमारी, डिसऑर्डर या मेडिकल कंडिशन है।
    आपको किसी तरह की एलर्जी है, जैसे किसी खास तरह के खाने से, डाई से, प्रिजर्वेटिव या फिर जानवर से।

दवाइयों की तुलना में हर्ब्स लेने के लिए नियम ज्यादा  सख्त नहीं हैं। बहरहाल, यह कितना सुरक्षित है इस बात की जानकारी के लिए अभी और भी रिसर्च की जरूरत है। इस हर्ब को इस्तेमाल करने से पहले इसके रिस्क और फायदे को अच्छी तरह से समझ लें। हो सके तो अपने हर्बल स्पेशलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लेकर ही इसे यूज करें।

यह भी पढ़ें: थाइम क्या है?

सावधानी और चेतावनी

योगर्ट (Yoghurt) से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

यूं तो योगर्ट हमारी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है, लेकिन इसका अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से निम्नलिखित साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं:

हालांकि, हर किसी को ये साइड इफेक्ट हो ऐसा जरूरी नहीं है। कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं, तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: एलोवेरा क्या है?

डोसेज

योगर्ट (Yoghurt) को लेने की सही खुराक क्या है?

  • डायबिटीज के पेशेंट्स एंटीबायोटिक दवाओं के साथ 125 मिली लीटर योगर्ट का सेवन करें। एक बात का ख्याल रखें दवाओं से दो घंटे पहले या बाद में इसका सेवन करें।
  • कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए 200 मिली लीटर योगर्ट का रोजाना सेवन करें।
  • वजायनल यीस्ट या बैक्टीरियल इंफेक्शन के लिए 150 मिली लीटर योगर्ट का प्रति दिन सेवन करें।

यहां दी हुई जानकारियों का इस्तेमाल डॉक्टरी सलाह के विकल्प के रूप में न करें। डॉक्टर या हर्बलिस्ट की राय के बिना इस दवा का इस्तेमाल नहीं करें।

यह भी पढ़ें: चिया बीज क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है योगर्ट (Yoghurt)?

  • नॉर्मल योगर्ट (Normal Yoghurt)
  • योगर्ट ड्रिंक (Yoghurt drink)

हैलो हेल्थ ग्रुप डॉक्टरी सलाह, डायग्नोसिस या ट्रीटमेंट प्रदान नहीं करता है।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में इस हर्बल से जुड़ी ज्यादातर जानकारियां देने की कोशिश की है, जो आपके काफी काम आ सकती हैं। अगर आपको ऊपर बताई गई कोई सी भी शारीरिक समस्या है तो इस हर्ब का इस्तेमाल आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। बस इस बात का ध्यान रखें कि हर हर्ब सुरक्षित नहीं होती। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से कंसल्ट करें तभी इसका इस्तेमाल करें। योगर्ट से जुड़ी यदि आप अन्य जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं।

और पढ़ें:-

नारियल तेल क्या है?

25 की होते ही बढ़ गया वजन? वक्त आ गया है इस डायट चार्ट से वजन घटाने का

तमिल ब्राह्मण दही के लिए इतने दीवाने क्यों होते हैं?

इन घरेलू उपायों से करें प्रेग्नेंसी में होने वाले एनीमिया का इलाज

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Parsley piert: पार्सले पिअर्त क्या है?

    जानिए पार्सले पिअर्त की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, पार्सले पिअर्त उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Parsley piert डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 28, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Iceland moss: आइसलैंड मॉस क्या है?

    आइसलैंड मॉस क्या है? इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है? किन लोगों को इसके इस्तेमाल से परहेज करना चाहिए? जानिए इससे होने वाले साइड इफेक्ट्स के बारे में...

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 26, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Wild Thyme: वाइल्ड थाइम क्या है?

    वाइल्ड थाइम (Wild Thyme) क्या है? वाइल्ड थाइम का उपयोग किन परेशानियों के लिए किया जाता है? वाइल्ड थाइम से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 25, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Tormentil: टॉरमेंटिल क्या है?

    जानिए टॉरमेंटिल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, टॉरमेंटिल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Tormentil डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 18, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें