home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज की वजह से हो सकती है हियरिंग लॉस की समस्या, यकीन नहीं होता तो पढ़िए यह लेख!

डायबिटीज की वजह से हो सकती है हियरिंग लॉस की समस्या, यकीन नहीं होता तो पढ़िए यह लेख!

अगर कोई आपसे पूछे कि बीमारी या रोग क्या होते हैं तो आपका जवाब क्या होगा? दरअसल, बीमारियां या रोग वो एब्नार्मल स्थितियां होती हैं, जिनसे हमारे स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है और हमारे शरीर को सही से काम करने में मुश्किल होती है। यह तो हुई बीमारियों की बात, लेकिन क्या आप जानते हैं कि डायबिटीज एक ऐसी समस्या है, जिसके दुनिया भर में सबसे अधिक रोगी हैं? यही नहीं, इस समस्या की वजह से हर साल लाखों लोग अपनी जान भी गवां देते हैं। आप यह तो जानते ही होंगे कि डायबिटीज के कारण हमारे शरीर के कई अंगों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। किंतु, डायबिटीज के कारण सुनने में समस्या भी हो सकती है। आज हम बात करने वाले हैं डायबिटीज और हियरिंग लॉस के बारे में। डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) के बारे में बात करने से पहले जान लेते हैं डायबिटीज के बारे में।

डायबिटीज क्या है? (What is Diabetes)

डायबिटीज वो स्थिति है जिसमें शरीर एनर्जी के रूप में भोजन का सही प्रयोग नहीं कर पाता। हम जो भी चीज खाते हैं, वो ग्लूकोज या शुगर में बदल जाती है, ताकि हमारा शरीर इसका प्रयोग एनर्जी के रूप में कर सके। ब्लड ग्लूकोज हमारी एनर्जी का मुख्य स्त्रोत है। इंसुलिन, एक हॉर्मोन है जिसे हमारा अग्न्याशय (Pancreas) बनाता है और यह भोजन से मिले ग्लूकोज को एनर्जी के रूप में बदलने में मदद करता है। लेकिन, कई बार हमारा शरीर पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना पाता या इसका सही से प्रयोग नहीं कर पता है। ऐसे में ग्लूकोज खून में रह जाता है और कोशिकाओं तक नहीं पहुंच पाता। यह स्थिति डायबिटीज का कारण बनती है।

यह भी पढ़ें : Episode-3: डायबिटीज को दूर नहीं, पर कंट्रोल किया जा सकता है!

डायबिटीज दो तरह की होती है टाइप 1 डायबिटीज और टाइप 2 डायबिटीज। जिसमें से टाइप 1 कम उम्र के लोगों में बहुत सामान्य है और टाइप 2 डायबिटीज की रोकथाम संभव है। यह तो हुई डायबिटीज की बात अब बात करते हैं डायबिटीज और हियरिंग लॉस के बारे में। सबसे पहले जानते हैं की क्या संबंध है डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) में।

Diabetes and Hearing Loss

डायबिटीज और हियरिंग लॉस में क्या संबंध है? (How Diabetes and Hearing Loss are Linked)

डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) में संबंध के बारे में अभी स्टडी की जा रही है। कुछ थ्योरीज के अनुसार हाय ब्लड ग्लूकोज ब्लड वेसल को नुकसान पहुंचा सकता है और इससे रक्त प्रवाह में भी समस्या हो सकती है। शोधकर्ताओं का मानना है कि ब्लड ग्लूकोज के स्तर में उतार-चढ़ाव के परिणामस्वरूप कान में ब्लड वेसल को नुकसान होता है। इस के कारण हियरिंग लॉस हो सकता है। डायबिटीज से पीड़ित लोगों में ब्लड ग्लूकोज के स्तर में उतार-चढ़ाव बहुत तेजी से होता है। ऐसे में उन्हें हियरिंग लॉस और कानों की समस्याएं होने की संभावना बढ़ जाती है।

ब्लड वेसल को नुकसान होने से कोक्लीआ (Cochlea) भी प्रभावित हो सकता है। कोक्लीआ (Cochlea) कान के अंदर का एक नाजुक हिस्सा है जो साउंड वायब्रेशन (Sound Vibrations) को नर्व इम्पल्स (Nerve Impulses) में बदलने में मदद कर सकता है, जो बाद में दिमाग को भेजी जाती हैं। संक्षेप में कहा जाए तो डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) के बारे में अभी शोध जारी है। लेकिन, एक्सपर्ट्स के मुताबिक डायबिटीज हमारे सुनने की क्षमता और अन्य नुकसानों का कारण बन सकती है। इस समस्या के उपचार के लिए आपको कानों की समस्याओं के लक्षणों के बारे में पता होना चाहिए, जो इस प्रकार हैं:

Quiz : फिटनेस क्विज में हिस्सा लेकर डायबिटीज के बारे में सब कुछ जानें:

हियरिंग लॉस के लक्षण (Symptoms of Hearing Loss)

डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) के बीच में संबंध के बारे में आप जान गए होंगे। अगर आपको डायबिटीज है तो आपको अधिक सतर्क रहना चाहिए। अगर आपको हियरिंग लॉस के कोई भी लक्षण नजर आते हैं तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। यह हैं हियरिंग लॉस के कुछ लक्षण:

  • टेलीफोन में दूसरे व्यक्ति की आवाज सुनने में समस्या होना (Difficulties Hearing over the Telephone)
  • दूसरे व्यक्ति को बात दोहराने के लिए कहना (Asking others to Repeat Themselves)
  • ऐसा महसूस होना की दूसरा व्यक्ति साफ बात नहीं कर रहा, बल्कि फुसफुसा रहा है (Sensing that others are Whispering or not Speaking Clearly)
  • दूसरा व्यक्ति जो भी कहता है उसे गलत समझना (Misunderstanding what Others say)
  • टीवी और अन्य चीजों की वॉल्यूम को बढ़ा कर प्रयोग करना (Turning up Volume of TV or Other Devices too High)

कार्तिके गुलाटी, DO, मनस्टर, इंडियाना में फ्रांसिस्कन फिजिशियन नेटवर्क में फेलोशिप-प्रशिक्षित ओटोलैरिंगोलॉजिस्ट (Otolaryngologist) हैं। उनके अनुसार डायबिटीज के कारण सुनने की क्षमता धीरे-धीरे कम हो सकती है और इसका उपचार संभव नहीं है। यह एक गंभीर समस्या है। क्योंकि हियरिंग लॉस के कारण जीवन की गुणवत्ता में कमी आ सकती है।

यह भी पढ़ें : टाइप-1 डायबिटीज क्या है? जानें क्या है जेनेटिक्स का टाइप-1 डायबिटीज से रिश्ता

हियरिंग लॉस से जुड़े रिस्क फैक्टर (Risk Factors of Hearing Loss)

डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) के बीच का क्या संबंध है यह आप जान गए होंगे। लेकिन, हियरिंग लॉस का जोखिम अन्य समस्याओं में भी बढ़ सकता है। डायबिटीज के साथ ही कुछ अन्य फैक्टर भी हैं जो सुनने की समस्या को बदतर बना सकते हैं। जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

  • उम्र का अधिक होना (Being 65 or Older)
  • शोर- शराबे में अधिक रहना (Regular Exposure to Loud Noises)
  • अपने ब्लड ग्लूकोज टारगेट को बार-बार मिस करना(Frequently Missing your Blood Glucose Targets)
  • हार्ट संबंधी रोग (Having Heart Disease)
  • स्मोकिंग (Smoking)
  • जेनेटिक (Genetic)
  • कान की अन्य समस्याएं, जैसे बीमारी या संक्रमण (Having other Ear Problems, such as Disease or Infection)

डायबिटीज और हियरिंग लॉस

हियरिंग लॉस का निदान कैसे किया जाता है? (Diagnosis of Hearing Loss)

हियरिंग लॉस चाहे डायबिटीज के कारण हुआ हो या अन्य किसी कारण से, समय रहते इस समस्या का निदान और उपचार किया जाना चाहिए। अगर आपको इससे संबंधित कोई भी समस्या होती है, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं। हियरिंग लॉस के निदान के लिए डॉक्टर आपसे लक्षणों के बारे में पूछेंगे और कान की जांच की जाएगी। ताकि, पता चल सके की यह समस्या ब्लॉकेज, इंफेक्शन या अन्य किसी कारण से तो नहीं है। अगर आपको डायबिटीज है तो डॉक्टर डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) के लक्षणों के बारे में आपसे पूरी जानकारी लेंगे। इसके निदान के लिए आपको यह टेस्ट कराने की सलाह दी जा सकती है:

ट्यूनिंग फोर्क टेस्ट (Tuning Fork Test) : हियरिंग लॉस के निदान के लिए डॉक्टर ट्यूनिंग फोर्क टेस्ट (Tuning Fork Test) भी कर सकते हैं। ताकि, हियरिंग लॉस का निदान हो सके। इससे यह निर्धारित करने में भी मदद मिल सकती है कि समस्या मिडिल इयर में या आंतरिक कान में नसों में है। परिणामों के आधार पर, आपको कान, नाक और गले के विशेषज्ञ या ऑडियोलॉजिस्ट के पास भेजा जा सकता है।

ऑडियोमीटर टेस्ट (Audiometer Test) : एक अन्य डायग्नोस्टिक टूल ऑडियोमीटर टेस्ट है। इस टेस्ट के दौरान, आपको इयरफोन का एक सेट दिया जाएगा। इसके बाद विभिन्न श्रेणियों और स्तरों में ध्वनियों को आपको सुनाया जाएगा। जब भी आपको यह ध्वनि सुनाई देगी, तो डॉक्टर को इशारा कर के बताना होता है। इससे भी डॉक्टर आपकी कान की समस्या का अंदाजा लगा सकते हैं। जानिए, कैसे हो सकता है इस समस्या का उपचार।

यह भी पढ़ें : Episode-6 : प्रेग्नेंसी दौरान होने वाली जेस्टेशनल डायबिटीज के साथ बढ़ जाते हैं कॉम्प्लिकेशन

किस तरह से संभव है इस समस्या का उपचार? (Treatment of Diabetes and Hearing Loss)

अगर आपको हियरिंग प्रॉब्लम होती है तो आपके डॉक्टर आपको ENT स्पेशलिस्ट के पास जाने के लिए कह सकते हैं, जो आपके कान की जांच करेंगे। समस्या के अनुसार ही इसका उपचार संभव है। इस समस्या के उपचार के लिए डॉक्टर यह तरीके अपना सकते हैं

  • डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) की स्थिति में सबसे जरूरी है, मरीज के लिए अपनी डायबिटीज को कंट्रोल करना। इसके लिए डॉक्टर आपको डायबिटीज से संबंधित दवाइयां दे सकते हैं। इसके साथ ही डायबिटीज को कंट्रोल करने के लिए आपको अपने आहार का खास ध्यान रखना होता है। डायबिटीज में सही और संतुलित भोजन खाने से आपको अच्छे परिणाम मिलते हैं। इसके साथ ही तनाव से बचना और व्यायाम करना भी डायबिटीज को कंट्रोल करने में महत्वपूर्ण हैं।
  • हियरिंग लॉस की समस्या को दूर करने के लिए डॉक्टर कुछ उपकरणों जैसे फ़ोन के लिए एम्पलीफायर (Amplifiers) का उपयोग करने की सलाह दे सकते हैं।
  • इसके साथ ही हियरिंग एड्स (Hearing Aids), और कोक्लीअर इम्प्लांटस (Cochlear Implants) का प्रयोग किया जा सकता है।
  • अगर आप किसी शोर वाली जगह काम करते हैं, तो इससे आपके कान और सुनने की क्षमता प्रभावित न हों, इसको लेकर सही उपाय करें। अधिक आवाज में म्यूजिक सुनने से भी बचें।
  • अगर आप एक म्युजियशन हैं, तो म्यूजिशियन एयरप्लग का प्रयोग करें।
  • अगर आपको डायबिटीज नहीं भी है, तब भी हर साल कम से कम एक बार अपने कानों की जांच अवश्य कराएं। इसके साथ ही इस परेशानी से बचाव भी संभव है, इससे बचने के कुछ तरीके इस प्रकार हैं।

डायबिटीज और हियरिंग लॉस से कैसे बचा जा सकता है? (How to Prevent Diabetes and Hearing Loss)

उम्र के बढ़ने के साथ हियरिंग लॉस बहुत सामान्य है। लेकिन, डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) से संबंधित किसी भी समस्या से बचने के लिए आपको कुछ चीजों का खास ध्यान रखना होगा, जैसे:

ब्लड शुगर को कंट्रोल रखना (Control Blood Sugar)

ब्लड शुगर को कंट्रोल रखना, सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए बेहद जरूरी है। अधिक ब्लड शुगर को मेंटेन रखने से आप कानों से संबंधित समस्याओं से भी बच सकते हैं।

स्मोकिंग न करें (Don’t smoke)

स्मोकिंग से सुनने की क्षमता प्रभावित होती है। लेकिन अगर आपको डायबिटीज है या आप शोर वाली जगह पर काम करते हैं और ऊपर से आप स्मोकिंग भी करते हैं, तो यह सब फैक्टर आपकी कानों की समस्याओं को बदतर बना सकते हैं।

डायबिटीज और हियरिंग लॉस

अधिक शोर को मैनेज करें (Manage Loud Noise)

अधिक शोर वाली जगह पर रहना भी कानों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। अगर आप ऐसी नौकरी छोड़ नहीं सकते, तो अपने कानों को शोर से बचाने के लिए सही उपाय ढूंढें

यह भी पढ़ें : क्या आप जानते हैं कि डायबिटीज को रिवर्स कैसे कर सकते हैं? तो खेलिए यह क्विज!

जानिए कैसे होती है आपको डायबिटीज़ की समस्या –

डायबिटीज और हियरिंग लॉस (Diabetes and Hearing Loss) के बारे में इस चर्चा से आप डायबिटीज का कानों पर क्या प्रभाव पड़ता है, यह जान ही गए होंगे। एक बात का ध्यान रखें कि अगर आपके कान को कोई हानि होती है, तो आपकी खोई सुनने की क्षमता फिर से वापस नहीं आ सकती। इसलिए नियमित रूप से अपनी ब्लड ग्लूकोज को मैनेज करना और हियरिंग की जांच कराना जरूरी है। अगर आपको हियरिंग से संबंधित कोई भी समस्या है, तो अपने डॉक्टर से बात करें। हेल्दी रहने और अच्छी हियरिंग के लिए नियमित एक्सरसाइज करना भी न भूलें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
AnuSharma द्वारा लिखित
अपडेटेड 4 weeks ago
x