home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज में गुस्सा : एक ऐसी स्थिति, जिससे पीछा छुड़ाना है मुश्किल!

डायबिटीज में गुस्सा : एक ऐसी स्थिति, जिससे पीछा छुड़ाना है मुश्किल!

डायबिटीज (Diabetes) की समस्या में व्यक्ति को कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। यह परेशानियां डायबिटीज कॉम्प्लिकेशन के नाम से भी जानी जाती हैं। डायबिटीज में जब ब्लड शुगर लेवल हाय हो जाता है और आसानी से कंट्रोल में नहीं आता, तो हमारे शरीर पर इसका बुरा प्रभाव पड़ता है। यही वजह है कि शरीर में अन्य समस्याएं पैदा होने लगती हैं। ऐसी स्थिति को डायबिटीज कॉम्प्लिकेशन (Diabetes complication) का नाम दिया गया है। आज हम एक ऐसी ही डायबिटीज कॉम्प्लिकेशन की बात करने जा रहे हैं, जिसका नाम है ग़ुस्सा (Anger)। ये एक ऐसी कंडिशन है, जो आम तौर पर डायबिटिक व्यक्ति को झेलनी पड़ती है। डायबिटीज में गुस्सा आना (Anger in diabetes) एक आम बात मानी जाती है। लेकिन डायबिटीज में गुस्सा आने के पीछे क्या कारण है, ये जानना बहुत ज़रूरी है। आइए जानते हैं इसके पीछे क्या कारण हो सकते हैं, लेकिन इससे पहले समझते हैं डायबिटीज की तकलीफ को।

और पढ़ें : Quiz : फिटनेस क्विज में हिस्सा लेकर डायबिटीज के बारे में सब कुछ जानें।

क्यों होती है डायबिटीज की तकलीफ?

डायबिटीज की दिक्कत तब होती है, जब आपके शरीर में ब्लड शुगर लेवल (Blood sugar level) बढ़ जाता है। जब भी आप भोजन करते हैं, तो शरीर उसे शुगर में तोड़ देता है और शरीर की कोशिकाएं ऊर्जा के लिए इसका उपयोग करती हैं। इस उपयोग के लिए पैंक्रियाज को इंसुलिन (Insulin) का उत्पादन करने की जरूरत पड़ती है। जब आप मधुमेह के शिकार होते हैं, तो पैंक्रियाज या तो बेहद कम मात्रा में इंसुलिन पैदा करती है, या इंसुलिन पैदा करना बंद कर देती है। क्योंकि शरीर इसका प्रभावी ढंग से इस्तेमाल नहीं कर पाता, इसलिए व्यक्ति डायबिटीज (Diabetes) का शिकार हो जाता है। लेकिन डायबटीज की आहट उसके लक्षणों से पहचानी जा सकती है। इसका इसके लिए आपको कुछ लक्षणों पर ध्यान देने की जरूरत पड़ती है।

और पढ़ें: क्या मधुमेह रोगी चीनी की जगह खा सकते हैं शहद?

क्या हैं डायबिटीज के लक्षण? (Symptoms of Diabetes)

डायबिटीज की समस्या में शरीर आपको कुछ सिम्टम्स देता है। यह सिम्टम्स यानी कि लक्षण आप को समझने होते हैं। डायबिटीज (Diabetes) के लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं-

  • बार-बार यूरिनेशन होना
  • बार-बार प्यास लगना
  • बहुत भूख लगना
  • अत्यधिक थकान
  • धुंधला दिखना
  • किसी चोट को ठीक होने में ज्यादा समय लगना
  • लगातार घटता वजन
  • पैर में झुनझुनी या दर्द

यदि आप इन लक्षणों को महसूस करते हैं, तो आपको जल्द से जल्द अपना ब्लड शुगर लेवल मापने की जरूरत पड़ती है। इसलिए ऐसे लक्षण दिखाई देने पर आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। डॉक्टर जरूरी टेस्ट करने के बाद आपको डायबिटीज के लिए आवश्यक मेडिसिन प्रिसक्राइब कर सकते हैं। इन दवाइयों की मदद से आप जल्द से जल्द डायबिटीज (Diabetes) को कंट्रोल में ला सकते हैं। ज़ाहिर है डायबिटीज आपके लिए मुसीबत का कारण बन सकती है और इसी मुसीबत में आपको गुस्से की परेशानी भी झेलनी पड़ती है। आइए अब जानते हैं डायबिटीज में गुस्सा (Anger in diabetes) क्यों आता है और इसे किस तरह कंट्रोल किया जा सकता है?

व्यक्ति को डायबिटीज में गुस्सा (Anger in diabetes) आने की समस्या क्यों होती है?

डायबिटीज में गुस्सा (Anger in diabetes)

डायबिटीज में मूड स्विंग (Mood swings in diabetes) होने की संभावना बढ़ जाती है। डायबिटीज में ब्लड शुगर लेवल के उतार-चढ़ाव के चलते भावनाओं में बदलाव देखा जाता है, यही वजह है कि डायबिटीज में गुस्सा आना एक आम समस्या मानी जाती है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं। डायबिटीज (Diabetes) में खानपान पर परहेज करना पड़ता है, जिसकी वजह से डायबिटिक पेशेंट शर्मिंदगी महसूस करता है। साथ ही साथ उसे जरूरी सहानुभूति की जरूरत होती है। कई बार ऐसा ना होने पर डायबिटीज में गुस्सा (Anger in diabetes) देखा जा सकता है। डायबिटीज में ब्लड शुगर लेवल के बढ़ने की वजह से शरीर में अचानक बदलाव होते हैं, जिसकी वजह से व्यक्ति चिड़चिड़ा हो जाता है और अपने गुस्से पर कंट्रोल नहीं कर पाता। यही वजह है कि डायबिटीज में गुस्सा (Anger) आना एक आम तकलीफ मानी जाती है।

और पढ़ें : Diabetes insipidus : डायबिटीज इंसिपिडस क्या है ?

आम तौर पर इसका सीधा संबंध खाने के परहेज से जुड़ा होता है। जब डायबिटीज में खाने की छोटी से छोटी चीजों पर परहेज होने लगता है, तब व्यक्ति में गुस्सा बढ़ जाता है। जब यह स्थिति समय के साथ बढ़ती चली जाती है, तो व्यक्ति में आवेश की भावना उत्पन्न होती है और डायबिटीज में गुस्सा (Anger in diabetes) आने लगता है। ऐसी स्थिति में व्यक्ति अपने निजी संबंधों के साथ साथ सामाजिक संबंधों को भी खराब करने लगता है। यही कारण है कि डायबिटीज में गुस्सा व्यक्ति के लिए बेहद मुसीबत खड़ी कर सकता है। ऐसी स्थिति खड़ी होने पर आपको कुछ बातों का ध्यान रखने की जरूरत पड़ती है। आइए जानते हैं डायबिटीज में गुस्सा (Anger) किस तरह कंट्रोल किया जा सकता है।

और पढ़ें: डायबिटीज में डायरिसिस स्वास्थ्य को कैसे करता है प्रभावित? जानिए राहत पाने के कुछ आसान उपाय

डायबिटीज में गुस्सा : कैसे करें इस समस्या को कंट्रोल? (Anger in diabetes)

जैसा कि हम पहले बता चुके हैं डायबिटीज (Diabetes) व्यक्ति को कई बातों से झुंझलाहट (Annoyance in diabetes) हो सकती है। डॉक्टर के पास बार-बार जाना, बार-बार ब्लड शुगर लेवल चेक करना और खाने को लेकर छोटी-छोटी बातों में परहेज के चलते व्यक्ति अपना भावनात्मक संतुलन खो बैठता है। यही कारण है कि उसे डायबिटीज में गुस्सा (Anger in diabetes) आने लगता है। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए कुछ बातों पर ध्यान देने की जरूरत पड़ती है, जो इस प्रकार है –

अपनी स्थिति को स्वीकार करें

जब आप जल्द से जल्द अपनी स्थिति को स्वीकार कर लेते हैं, तो यह आपके लिए उतना ही फायदेमंद साबित होता है। आपको अपनी बीमारी के हर पहलू को समझकर उसे स्वीकार करना चाहिए। जिससे आप नेगेटिविटी (Negativity) से बच सकें हमेशा खुद को सकारात्मक बनाए रख सकें। इससे आप डायबिटीज (Diabetes) की समस्या को सामान्य बनाए रखे सकेंगे।

और पढ़ें :Diabetic Eye Disease: मधुमेह संबंधी नेत्र रोग क्या है? जानें कारण, लक्षण और उपाय

एक्शन प्लान निर्धारित करें

अपनी समस्या को स्वीकार करने के बाद आपको जल्द से जल्द ठीक होने के लिए एक एक्शन प्लान की जरूरत होगी। जिसमें खास तौर पर स्वस्थ आहार और व्यायाम (Healthy diet and exercise) की जरूरत पड़ती है। ऐसे में डॉक्टर से सलाह ले कर अपने लिए एक सही आहार और व्यायाम का प्लान तैयार करें और उसे पूरे मन से फॉलो करें।

अपनों से जुड़े रहें

अकेलापन (Loneliness) आपके लिए बेहद गंभीर समस्याएं लेकर आ सकता है। यदि आप डायबिटिक हैं तो अकेले रहना आपके लिए सही नहीं है। इसके बदले अपने परिवार के साथ घुले-मिले और उनसे हंस कर बातें करें, जिससे आप चिंता से दूर रहेंगे और आपके परिवार का साथ और प्यार आपको इस समस्या में मजबूत बनाए रखेगा। इससे अब डिप्रेशन (Depression) से भी दूर रहेंगे।

और पढ़ें : रिसर्च: हाई फाइबर फूड हार्ट डिसीज और डायबिटीज को करता है दूर

लाइफ स्टाइल में बदलाव

लाइफस्टाइल में बदलाव करके भी आप डायबिटीज में गुस्सा (Anger in diabetes) आने की समस्या से बच सकते हैं। समय पर खाना और सही डायट लेना आपके शरीर को बेहतर महसूस करवाएगा, जिससे आपको मूड स्विंग की समस्या नहीं होगी। साथ ही साथ रोजाना एक्सरसाइज आपके शरीर में ब्लड फ्लो बेहतर बनाएगा, जिससे आपका आवेश कम होगा और डायबिटीज में गुस्सा (Anger) आना कम होगा। डायबिटिक व्यक्ति के लिए यह जानना जरूरी है कि दवा आपके लिए बेहद जरूरी है। डॉक्टर द्वारा प्रिसक्राइब की हुई दवा समय पर लें, जिससे आपका ब्लड शुगर लेवल मेंटेन रहे और आपका मूड बेहतर बना रहे।

डायबिटीज में गुस्सा (Anger) आना एक आम बात मानी जाती है, लेकिन आप अपने मन को समझा कर ऐसी स्थिति में बेहतर महसूस कर सकते हैं। इसलिए डॉक्टर की सलाह के बाद अपने लिए एक एक्शन प्लान बनाएं और डायबिटीज में गुस्सा (Anger in diabetes) कम करने की कोशिश करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Accessed on 6th Oct, 2021

  • Understanding diabetes and mental health

https://www.diabetes.org/healthy-living/mental-health

  • Stress and Diabetes

https://spectrum.diabetesjournals.org/content/18/2/121

  • Diabetes and depression: Coping with the two conditions

https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/diabetes/expert-answers/diabetes-and-depression/faq-20057904

  • How Does Anger Coping Style Affect Glycemic Control in Diabetes Patients?

https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2900155/

  • 10 Tips for Coping with Diabetes Distress

https://www.cdc.gov/diabetes/managing/diabetes-distress/ten-tips-coping-diabetes-distress.html

लेखक की तस्वीर badge
Toshini Rathod द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ दिन पहले को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड