home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डायबिटीज में जामुन: स्वाद में मीठा जामुन डायबिटीज पेशेंट को पहुंचाता है फायदा या नुकसान?

डायबिटीज में जामुन: स्वाद में मीठा जामुन डायबिटीज पेशेंट को पहुंचाता है फायदा या नुकसान?

डायबिटीज की बीमारी होने पर लोगों के मन में मीठा खाने को लेकर अक्सर सवाल बने रहते हैं। शुगर सिर्फ मीठाईयों में ही नहीं होती है बल्कि ये फलों से लेकर सब्जियों और अनाज में भी हो सकता है। डायबिटीज होने पर पेशेंट को शुगर युक्त फूड्स को कम मात्रा में या फिर न खाने की सलाह दी जाती है। डायबिटीज में ऐसे कई फल और सब्जियां हैं, जो पेशेंट को फायदा पहुंचाने का काम करती है। जामुन भी उनमें से एक है। जामुन का न केवल फल बल्कि बीज और छाल भी सेहत के लिए फायदेमंद होता है। जामुन ब्लड में शुगर लेवल को मेंटेन करने का काम करता है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको जामुन के साथ ही जामुन के बीज के डायबिटीज पेशेंट के लिए फायदों के बारे में जानकारी देंगे। डायबिटीज में जामुन (Jamun for diabetes) के फायदों के बारे में जानने से पहले आइये जानते है कि आखिर जामुन क्या है?

और पढ़ें: डायबिटीज में करेला जामुन जूस नहीं किया है कभी ट्राय, तो आज ही पढ़ें इसके लाभ!

डायबिटीज में जामुन (Jamun for diabetes)

जामुन पावरफुल एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। जामुन का सेवन करने से इम्यूनिटी इंप्रूव होने के साथ ही डायबिटिक पेशेंट को भी फायदा पहुंचता है। डायबिटीज में जामुन (Jamun for diabetes) का इस्तेमाल करने से डाबिटीज के पेशेंट का ब्लड शुगर कंट्रोल में रहता है। जामुन एसिडिक फूड है और साथ ही इसमें कसैलापन ( Astringent) भी होता है। इसका स्वाद मीठा होता है। पके फल में ग्लूकोज और फ्रक्टोज शर्करा यानी शुगर के रूप में पाया जाता है। इस फल में पर्याप्त मात्रा में मिनिरल्स भी होते हैं। अगर जामुन की अन्य फलों से तुलना की जाए, तो इसमें अन्य फलों के मुकाबले इसमें कम कैलोरी होती है। इन्हीं कारणों से डायबिटीज के पेशेंट्स के लिए जामुन को लाभदायक माना जाता है।

जामुन में जाम्बोलिन (Jamboline) कंपाउंड पाया जाता है। जाम्बोलिन कम्पाउंड (Jamboline Compound) का इस्तेमाल होम्योपैथिक दवाओं के साथ ही आयुर्वेदिक दवाओं में भी किया जाता है। जामुन के बीज में ये कैमिकल कम्पाउंड पाया जाता है। जामुन का सेवन करने से ब्लड में शुगर का लेवल लगभग 30 प्रतिशत तक कम हो जाता है। ऐसा हाइपोग्लाइसेमिक प्रभाव (Hypoglycemic effects) होता है। जामुन के बीज अल्कलॉइड होते हैं, जिनमें हाइपोग्लाइसेमिक प्रभाव होता है। डायबिटीज में जामुन (Jamun for diabetes) का इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो डॉक्टर से जरूर जानकारी लें।

और पढ़ें: डायबिटीज में करेला जामुन जूस नहीं किया है कभी ट्राय, तो आज ही पढ़ें इसके लाभ!

डायबिटीज में जामुन (Jamun for diabetes) का कैसे किया जाए सेवन?

अगर आपको डायबिटीज की समस्या है, तो ऐसे में मन में ये सवाल जरूर आता है कि डायबिटीज में जामुन (Jamun for diabetes) का सेवन कैसे किया जाए? आप एक दिन में नौ से दस जामुन खा सकते हैं। अपनी पसंद के अनुसार आप चाहे तो जामुन के फल का सेवन कर सकते हैं या फिर जामुन के बीच का पाउडर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जामुन के बीच का पाउडर मार्केट में आसानी से मिल जाता है। डायबिटीज के पेशेंट जामुन का सेवन रोजाना कर सकते हैं। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में ब्लड शुगर लेवल धीरे-धीरे कंट्रोल होने लगता है। जामुन का सेवन करने से इंसुलिन की एक्टिविटी के साथ ही सेंसिटिविटी भी बढ़ जाती है। जामुन का सेवन टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 diabetes) के पेशेंट के साथ ही इंसुलिन डिपेंडेंट और नॉन इंसुलिन डिपेंडेंट (Non-insulin dependent) भी कर सकते हैं।

जामुन को खाने से न सिर्फ ब्लड शुगर लेवल मेंटेन रहता है बल्कि जामुन में पर्याप्त मात्रा में विटामिन A, विटामिन C भी पाया जाता है। ये दोनों विटामिन आंखों के साथ ही स्किन हेल्थ के लिए लाभदायक होते हैं। जिन लोगों को डायरिया की समस्या (Diarrhea problem) हो जाती है, उनके लिए भी जामुन का सेवन बेनिफिशियल होता है। जामुन में एंटी डायरियल प्रॉपर्टी होती है। जामुन खाने से डायजेस्टिव सिस्टम भी दुरस्त होता है। अगर आप फल या फिर जामुन के बीज का पाउडर का इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो डॉक्टर से जानकारी लें कि रोजाना कितनी मात्रा में फल का सेवन करना चाहिए या फिर पाउडर को कितनी मात्रा में लेना चाहिए।

और पढ़ें: डायबिटीज में खीरा : क्यों माना जाता है सूपरफूड?

डायबिटीज में जामुन: क्या घर में बना सकते हैं जामुन का पाउडर?

अगर आपको किसी कारण से जामुन का पाउडर नहीं मिल पा रहा है, तो आप घर में भी जामुन का पाउडर (Jamun Powder) आसानी से बना सकते हैं। आपको सबसे पहले जामुन के पल्प को हटाना और फिर उन्हें धोकर सुखाना है। आप सूती कपड़े में जामुन को रखकर तेज धूप में सुखा सकते हैं। जामुन को अच्छी तरह से सूखने के लिए पांच से छह दिन का समय भी लग सकता है। जब जामुन के बीज सूख जाएं, तो उन्हें आप मिक्सी में पीसकर पाउडर तैयार कर सकते हैं। इसका सेवन कितनी मात्रा में करना है, इस बारे में डॉक्टर से या एक्सपर्ट से जानकारी प्राप्त जरूर करें।

और पढ़ें: डायबिटीज में लाल प्याज : क्यों है जरूरी इस सूपरफूड का सेवन?

जानिए जामुन के अन्य फायदों के बारे में (Health Benefits of Jamun)

डायबिटीज में जामुन (Jamun for diabetes) का सेवन करने से न केवल ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है बल्कि शरीर को अन्य फायदे भी पहुंचते हैं। जानिए जामुन का सेवन करने से शरीर को क्या फायदे पहुंचते हैं।

  • जामुन का सेवन करने से हीमोग्लोबिन काउंट इम्प्रूव होता है और साथ ही शरीर में विटामिन सी, आयरन आदि कि कमी भी पूरी होती है।
  • जामुन का सेवन स्किन के साथ ही आंखों को भी फायदा पहुंचाता है।
  • जामुन खाने से हार्ट भी हेल्दी रहता है।
  • जामुन खाने से इंफेक्शन से भी बचा जा सकता है। जो लोग जामुन खाते हैं, उनकी इम्यूनिटी में सुधार होता है और रोगों से लड़ने की क्षमता भी बढ़ती है।

जामुन का सेवन भले ही आपके शरीर को कई फायदे पहुंचाता हो लेकिन इसका अधिक सेवन आपके लिए परेशानी भी खड़ी कर सकता है। अगर आप पाउडर या फिर बीज का सेवन कर रहे हैं, तो एक्सपर्ट से सही मात्रा के बारे में जानकारी जरूर लें।

और पढ़ें: जानिए डायबिटीज में नाखून में पीलेपन को क्यों ना करें इग्नोर?

डायबिटीज की बीमारी से छुटकारा पाने के लिए सिर्फ जामुन का सेवन फायदा नहीं पहुंचा सकता है। आपको मधुमेह में जामुन का सेवन करने के साथ ही खानपान में ऐसी चीजों को शामिल करने की जरूरत है,जिनमें अधिक मात्रा फाइबर हो और साथ ही न्यूट्रिएंट्स की पर्याप्त मात्रा हो। आपको खाने के साथ ही लिक्विड यानी पानी की पर्याप्त मात्रा का सेवन करना चाहिए। अगर आप वर्किंग हैं और ज्यादा समय नहीं है, तो आप रोजाना आधे घंटे के लिए वॉक पर भी जा सकते हैं। ऐसा करने से भी आपका वजन संतुलित रहेगा। आपको रेगुलर ब्लड शुगर की जांच भी करानी चाहिए।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको डायबिटीज में जामुन (Jamun for diabetes) खाने के बारे में जानकारी शेयर की है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

क्या आप जानते हैं कि डायबिटीज को रिवर्स कैसे कर सकते हैं? तो खेलिए यह क्विज!

(function() { var qs,js,q,s,d=document, gi=d.getElementById, ce=d.createElement, gt=d.getElementsByTagName, id=”typef_orm”, b=”https://embed.typeform.com/”; if(!gi.call(d,id)) { js=ce.call(d,”script”); js.id=id; js.src=b+”embed.js”; q=gt.call(d,”script”)[0]; q.parentNode.insertBefore(js,q) } })()

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट एक हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x