आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव क्या होता है?

    एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव क्या होता है?

    एक्सरसाइज और वेट लॉस टाइप 2 डायबिटीज के इलाज में सबसे जरूरी माने गए हैं। बॉडी वेट में कम करने में मदद करने के साथ ही नियमित रूप से की जाने वाली एक्सरसाइज स्केलेटल मसल इंसुलिन मेडिएटेड ग्लूकोज अपटेक को बढ़ाने का भी काम करती है। टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों में एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव कैसे होता है यह जानना ट्रीटमेंट गाइडलाइंस को डिफाइन करते वक्त अधिक रिलेवेंट है। बता दें कि मेटफॉर्मिन डायबिटीज के मरीजों को प्रिस्क्राइब की जाने वाली बेहद कॉमन ओरल मेडिसिन है। इस आर्टिकल में एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव (Effect of Metformin on Glucose Homeostasis During Moderate Exercise) क्या होता है इसके बारे में जानकारी दी जा रही है। इसके पहले जान लेते हैं कि ग्लूकोज होमियोस्टेटिस क्या होता है?

    ग्लूकोज होमियोस्टेटिस (Glucose homeostasis)

    ग्लूकोज होमियोस्टेटिस को आसान भाषा में समझें तो ब्लड ग्लूकोज को मैनेज करने के लिए इंसुलिन और ग्लूकागोन में बैलेंस बनाना। मानव स्वास्थ्य के लिए ग्लूकोज होमियोस्टेटिस महत्वपूर्ण है क्योंकि ग्लूकोज एनर्जी का सोर्स है और फैक्ट यह है कि मस्तिष्क के टिशूज इसे सिंथेसाइज नहीं कर पाते। इसलिए जीवित रहने के लिए ब्लड में पर्याप्त ग्लूकोज का स्तर बनाए रखना आवश्यक है। ब्लड में ग्लूकोज का अनुचित स्तर डायबिटीज का प्राथमिक लक्षण है। ग्लूकोज होमियोस्टेटिस बॉडी के लिए जरूरी है। हालांकि इस प्रॉसेस को आज तक पूरी तरह समझा नहीं जा सका है।

    खाने के बाद ग्लूकोज ग्लूकोज एब्जॉर्ब होता है और इसका प्लाज्मा लेवल बढ़ जाता है। यह पेंक्रियाटिक बीटा सेल्स को इंसुलिन सीक्रेट करने के लिए स्टिम्यूलेशन होता है। यह हॉर्मोन पेरिफेरल टिशूज (Peripheral tissues), ग्लाइजोजन सिंथेसिस (Glycogen synthesis) और लिवर में लिपिडोजेनिसिस (Lipogenesis) के जरिए ग्लूकोज डिसपोजल (Glucose disposal) को बढ़ाता है और ग्लूकोज के अपटेक को प्रमोट करता है, मांसपेशियों और एडिपोसाइट्स द्वारा क्रमशः ग्लाइकोजन या ट्राइग्लिसराइड्स में रूपांतरण को बढ़ावा देता है। इन सभी प्रक्रियाओं से ग्लूकोज के स्तर में कमी आती है और इंसुलिन स्रावित करने के लिए स्टिम्यूलेशन बंद हो जाता है।

    मेटाबोलिक सिंड्रोम (MS) में ग्लूकोज होमियोस्टेसिस बाधित हो जाता है और बीटा कोशिकाएं लगातार दबाव में समाप्त हो जाती हैं, जिससे टाइप 2 डायबिटीज मेलिटस (type 2 diabetes mellitus) हो जाता है। एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव (Effect of Metformin on Glucose Homeostasis During Moderate Exercise) के बारे में जानने से पहले मेटफॉर्मिन टेबलेट के बारे में भी जान लीजिए।

    और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज के लॉन्ग टर्म कॉम्प्लीकेशन में शामिल हो सकती हैं ये समस्याएं!

    मेटफॉर्मिन (Metformin)

    हेल्दी डायट और एक्सरसाइज के अलावा दूसरी दवाइयों के साथ ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मेटफॉर्मिन का उपयोग किया जाता है। जो मरीज टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित हैं उनके लिए डॉक्टर की सलाह पर इसका उपयोग किया जाता है। यह दवा ब्लड शुगर को कंट्रोल करने से किडनी डैमेज, अंधापन, नर्व समस्या और सेक्शुअल समस्याओं को रोकने में मदद करती है। मेटफॉर्मिन, स्वाभाविक रूप से बनने वाले इंसुलिन के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया को सुधारने में मदद करने का काम करती है। इसके साथ ही मेटफॉर्मिन शुगर की मात्रा को कम करती है

    एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव (Effect of Metformin on Glucose Homeostasis During Moderate Exercise)

    बता दें कि मेटफॉर्मिन एक बिगुनाइड (Biguanide) है और टाइप 2 डायबिटीज के उपचार में सबसे अधिक प्रिस्क्राइब की जाने वाली एंटीडायबिटिक दवा है। प्लाज्मा ग्लूकोज (Plasma glucose) को कम करके और ग्लूकोनियोजेनिसिस (Gluconeogenesis) को कम करके ग्लूकोज होमियोस्टेटिस को प्रभावित करती है। इस मैक्नेनिज्म को अब तक समझा नहीं जा सका है। प्राथमिक तौर पर इसका कारण ग्लूकोनोजेनिक प्रीक्यूसर (Gluconeogenic precursor) की कमी है। एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव का एक कारण पेरिफेरल इंसुलिन सेंसटिविटी को बढ़ाना है। हालांकि कई स्टडीज इसको ऑब्जर्ब करने में असफल रही हैं। एक हालिया अध्ययन ने प्रलेखित किया है कि मेटफॉर्मिन ग्लूकागन सिग्नलिंग (Glucagon signaling) को रोकता है।

    एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव को लेकर क्या कहती है स्टडी?

    एनसीबीआई में छपी स्टडी के अनुसार एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेसिस पर प्रभाव पॉजिटिव पड़ता है। स्टडी में मॉडरेट एक्सरसाइज के दौरान ग्लूकोज कैनेटीक्स (Glucose kinetics) पर मेटफॉर्मिन की भूमिका की जांच की गई थी। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से सलाह लें। एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव (Effect of Metformin on Glucose Homeostasis During Moderate Exercise) को जानने के बाद मेटफॉर्मिन के उपयोग से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। वो भी जान लीजिए।

    मेटफॉर्मिन का इस्तेमाल करने से क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं? (Metformin side effects)

    अगर आपको इस दवा के उपयोग से किसी तरह की एलर्जी के लक्षण, हीव्स, सांस लेने में दिक्कत, चेहरे, होठ, जीभ या गले मे सूजन आदि तो आप मेडिकल सेवाओं की सहायता लें।

    इस दवा के इस्तेमाल से लैक्टिक एसिडोसिस (शरीर मे लैक्टिक एसिड का बनना जोकि खतरनाक हो सकता है) हो सकती है। लैक्टिक एसिडोसिस धीरे-धीरे शुरू होता है और समय बीतने के साथ और अधिक खराब स्थिति में पहुंच जाता है। आप तुरंत मेडिकल सेवाओं की सहायता लें अगर आपको लैक्टिक एसिडोसिस के निम्नलिखित लक्षण भी महसूस हों जैसे;

    • पेट दर्द, उल्टी के साथ मिचली होना
    • हार्ट रेट का धीरे या असमान्य होना
    • मेगालोब्लास्टिक एनीमिया
    • मांसपेशियों में दर्द या कमजोरी
    • हाथों और पैरों का ठंडा पड़ना या सुन्न होना
    • सांस लेने में दिक्कत होना
    • सिर चकराना, सिर हल्का होना, थकान या अधिक कमजोरी महसूस होना

    अपने डॉक्टर को कॉल करें अगर आपको ये गंभीर साइड इफेक्ट्स महसूस हों जैसे:

    • बुखार, ठंड लगना, बॉडी दर्द, फ्लू के लक्षण
    • हल्की थकान में भी सांस लेने में दिक्कत होना
    • सूजन या तेजी से वजन बढ़ना

    और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज और जंक फूड : यह स्वादिष्ट आहार कहीं बन ना जाए जी का जंजाल!

    कौन सी दवाएं मेटफॉर्मिन के साथ नहीं ली जा सकती हैं? (Metformin interaction with other drugs)

    अगर आप वर्तमान में डायबिटीज की दूसरी दवा या अन्य कोई दवा ले रहें हैं तो यह दवा उसके साथ इंटरैक्ट कर सकती है जिससे दवा का एक्शन प्रभावित होगा या फिर गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसको रोकने के लिए आप उन दवाओं की लिस्ट रखें जो डॉक्टर द्वारा पर्चे पर लिखी गई हों या ना लिखी गई हों या हर्बल प्रोडक्ट्स हो और उन्हें डॉक्टर या फार्मासिस्ट के साथ शेयर करें। अगर आप ब्लड शुगर लेवल बढ़ाने वाली दवाइयों के साथ मेटफॉर्मिन का इस्तेमाल करते हैं तो आपको हाइपरग्लाइसिमिया (हाय ब्लड शुगर) हो सकता है। ये दवाइयां इस प्रकार हैं;

    • फीनोथियाजिन
    • थाइरॉइड मेडिसिन
    • बर्थ कंट्रोल पिल्स और दूसरे हॉर्मोन
    • दौरे पड़ने पर लेने वाली दवाइयां
    • डायट पिल्स या अस्थमा, सर्दी जुकाम और एलर्जी की दवाइयां
    • आइसोनियाजाइड
    • डाईयूरेटिक्स (वाटर पिल्स)
    • स्टेरॉयड (प्रेडनिसोन और अन्य)
    • हार्ट या ब्लड प्रेशर की दवाइयां
    • नियासिन

    डायबिटीज टाइप 2 (Type 2 diabetes) और एक्सरसाइज से जुड़ी ये सावधानियां जरूर अपनाएं

    Effect of Metformin on Glucose Homeostasis

    एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव (Effect of Metformin on Glucose Homeostasis During Moderate Exercise) तो समझ चुके हैं, लेकिन डायबिटीज टाइप 2 में एक्सरसाइज से संबंधित सावधानियां रखनी चाहिए।

    • हर मरीज की हेल्थ कंडिशन के अनुसार डॉक्टर एक्सरसाइज सजेस्ट करते हैं। किसी दूसरे मरीज की देखादेखी आप ऐसा ना करें।
    • डायबिटीज में वॉक करने के बहुत फायदे बताए गए हैं, लेकिन आप किसी प्रकार के कॉम्प्लिकेशन का सामना कर रहे हैं तो इस बारे में भी डॉक्टर से सलाह जरूर लें। अगर पहले से वॉक नहीं करते हैं तो इसकी शुरुआत हमेशा माइल्ड वॉक से ही करें।
    • कभी भी डॉक्टर की सलाह के बिना किसी भी प्रकार के एक्सरसाइज प्रोग्राम का हिस्सा ना बनें।
    • अगर एक्सरसाइज नहीं कर पा रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह पर आप योग की मदद भी ले सकते हैं।

    और पढ़ें : डायबिटीज डायट में क्या करें शामिल और किन खाद्य पदार्थों से बढ़ाएं दूरी?

    उम्मीद करते हैं कि आपको एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव (Effect of Metformin on Glucose Homeostasis During Moderate Exercise) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में एक्सरसाइज के दौरान मेटफॉर्मिन का ग्लूकोज होमियोस्टेटिस पर प्रभाव से संबंधित कोई अन्य सवाल है तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

     

    health-tool-icon

    बीएमआई कैलक्युलेटर

    अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/11/2021 को
    Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड