डायबिटीज पेशेंट्स में हाय प्रोटीन डायट से वजन कम करने में मिल सकती है मदद!

    डायबिटीज पेशेंट्स में हाय प्रोटीन डायट से वजन कम करने में मिल सकती है मदद!

    डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों के लिए ओवरवेट होना खतरे से खाली नहीं है। डायबिटीज में वेट मैनेजमेंट ब्लड शुगर लेवल (Blood sugar level) को कंट्रोल करने के साथ ही ब्लड प्रेशर को कम करने में भी मदद करता है। इसमें डायट की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। कई स्टडीज में हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम होने (Weight loss in diabetes patients with high protein diet) की पुष्टि की गई है। इस आर्टिकल में इससे संबंधित जानकारी दी जा रही है।

    एनसीबीआई (NCBI) में छपी स्टडी के अनुसार कैलोरी में कमी और फिजिकल एक्टिविटी ओबेसिटी और टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes) के मैनेजमेंट के लिए बेहद जरूरी है। लो फैट डायट में कार्ब की जगह प्रोटीन को जगह दी जाए तो यह बॉडी कंपोजिशन, कार्डियोवैस्कुलर डिजीज (Cardiovascular disease) के रिस्क फैक्टर्स जिसमें इंसुलिन सेंसिटिविटी, ग्लाइसेमिक कंट्रोल और ओवरवेट लोगों में ब्लड लिपिड्स में सुधार हो सकता है जिसमें टाइप 2 डायबिटीज के मरीज भी शामिल हैं। आगे इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

    हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम (Weight loss in diabetes patients with high protein diet)

    डायबिटीज के मरीजों के लिए कार्ब इंटेक को कम करना और प्रोटीन इंटेक को बढ़ाना फायदेमंद हो सकता है क्योंकि कार्ब युक्त फूड्स ब्लड शुगर लेवल को तेजी से बढ़ाने का काम करते हैं। इसके साथ ही हाय प्रोटीन डायट (High Protein diet) ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखकर वजन को कम करने में मदद करती हैं। क्योंकि यह पोस्ट मील ब्लड शुगर स्पाइक को कम करती है और फुल रहने का एहसास कराती है। इसलिए डायबिटीज के मरीजों को अपनी डायट को जरूर मॉनिटर करना चाहिए। इसके लिए डायटीशियन की मदद भी ली जा सकती है।

    और पढ़ें: वॉकिंग और टाइप 2 डायबिटीज : जानिए इससे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

    हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम विषय पर हुई एक अन्य रिसर्च

    हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम (Weight loss in diabetes patients with high protein diet) को लेकर डायबिटीज जर्नल की एक छपी स्टडी के अनुसार रेजिस्टेंस ट्रेनिंग के साथ एनर्जी रेस्ट्रिक्टेड हाय प्रोटीन डायट से अधिक वजन घटाने और शरीर की संरचना (Body composition) में अधिक अनुकूल परिवर्तन प्राप्त किए गए। सभी उपचारों में ग्लाइसेमिक नियंत्रण (Glycemic control) और सीवीडी जोखिम मार्कर (CVD risk markers) में समान सुधार थे। हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम विषय पर हुई रिसर्च में 83 महिला और पुरुष शामिल हुए थे जिन्हें टाइप 2 डायबिटीज थी। ऐसे में ऐसा माना जा सकता है कि हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम (Weight loss in diabetes patients with high protein diet) करने में मदद मिल सकती है।

    डायबिटीज के मरीज किसी प्रकार की डायट को फॉलो करने या उसमें बदलाव करने से पहले डॉक्टर की राय अवश्य है। साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि हर डायट सभी को सूट नहीं करती क्योंकि हर मरीज की स्वास्थ्य स्थिति अलग हो सकती है।

    और पढ़ें: जानें टाइप 2 डायबिटीज में एक्सरसाइज इंड्यूस्ड हायपरटेंशन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

    क्या डायबिटीज के कारण वजन बढ़ सकता है? (Can diabetes cause weight gain?)

    अगर व्यक्ति को टाइप 1 डायबिटीज (Type 1 diabetes) है और जब वह इंसुलिन लेना शुरू करता है तो वेट बढ़ना शुरू हो जाता है। इसके कई कारण हो सकते हैं जिसमें व्यक्ति कितना इंसुलिन लेता है, डायट और किस प्रकार का इंसुलिन लिया जा रहा है ये शामिल है। इंसुलिन एक ग्रोथ हॉर्मोन (Growth hormone) है। किसी प्रकार के ग्रोथ हॉर्मोन को लेने से वजन बढ़ता है। डायबिटीज के निदान के बाद हो सकता है कि व्यक्ति का वजन कम समय में तेजी से कम हो जाए जो कि एक लक्षण है और वेट गेन रिकवरी का हिस्सा होता है।

    और पढ़ें: जानें टाइप 2 डायबिटीज में एक्सरसाइज इंड्यूस्ड हायपरटेंशन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी

    डायबिटीज और वेट लॉस का रिलेशन (Diabetes and weight loss)

    मोटापा (Obesity) इंसुलिन रेजिस्टेंस के डेवलप होने का बड़ा रिस्क फैक्टर है और इंसुलिन रेजिस्टेंस टाइप 2 डायबिटीज के डेवलप होने का। इसके साथ ही यह ब्लड शुगर कंट्रोल को प्राप्त करने में भी बाधा बनता है, लेकिन वजन कम करना एक प्रभावी एंटीडोट (Antidote) हो सकता है। कई स्टडीज में इस बात की पुष्ट हुई है कि वजन कम करके डायबिटीज को कंट्रोल के साथ ही कम किया जा सकता है। टाइप 1 डायबिटीज के मरीजों के लिए भी वजन कम करना जरूरी होता है, लेकिन इंसुलिन लेने से वजन बढ़ने को दूसरे तरीके अपनाकर कम किया जा सकता है। जिसमें डायट और एक्सरसाइज महत्वपूर्ण है। चलिए अब जान लेते हैं हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम करने के लिए किस प्रकार के प्रोटीन का चयन किया जाना चाहिए।

    डायबिटीज पेशेंट्स के लिए हाय प्रोटीन डायट (High protein diet for diabetics)

    हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम (Weight loss in diabetes patients with high protein diet) हो सकता है ये जानने के बाद आप ये जरूर जानना चाहेंगे कि डायबिटीज के मरीजों को किस प्रकार के प्रोटीन फूड्स का सेवन करना चाहिए और किनका नहीं। चूंकि कार्डियोवैस्कुलर डिजीज डायबिटीज का एक प्रमुख कॉम्प्लिकेशन है तो ऐसे में हार्ट हेल्दी प्रोटीन का चयन करना जरूरी हो जाता है। ताकि वजन कम हो सके और ब्लड शुगर कंट्रोल में रहे और दिल भी सुरक्षित रहे। ऐसे प्रोटीन फूड्स को स्किप करना चाहिए जो आर्टरीज को ब्लॉक करने वाले सैचुरेटेड फैट से युक्त हों। इसकी जगह लीन प्रोटीन और प्लांट बेस्ट प्रोटीन फूड्स को शामिल करना चाहिए।

    और पढ़ें: टाइप 2 डायबिटीज के ओबेस पेशेंट्स में एक्सरसाइज कैपेसिटी को लेकर क्या कहती है रिसर्च? जानें

    हाय प्रोटीन फूड्स (High Protein foods)

    • चिकन (Chicken)- चिकन एक अच्छा ऑप्शन है। जिसमें बेक्ड, रोस्टेड या ग्रिल्ड को प्राथमिकता देनी चाहिए और फ्राइड चिकन से बचना चाहिए।
    • अंडे (Eggs)- अंडे भी प्रोटीन फूड का एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है। इसमें पोषक तत्व भी पाए जाते हैं। यह आसानी से उपलब्ध होने वाला स्वादिष्ट ऑप्शन है। साथ ही ये ब्लड शुगर लेवल को भी नहीं बढ़ाते।
    • दालें और बीन्स (Lentils and beans)- हालांकि, बीन्स और दालों में कार्बोहायड्रेट पाया जाता है, लेकिन ये प्रोटीन और फायबर का भी अच्छा सोर्स हैं। इसलिए ये वजन कम करने में मदद के साथ ही ब्लड शुगर लेवल को बढ़ाने की जगह नियंत्रित करेंगी।
    • मछली (Fish)- मछलियां प्रोटीन का अच्छा ऑप्शन हैं, लेकिन साथ ही ये इनमें ओमेगा 3 फैटी एसिड्स पाया जाता है। साल्मन और टूना अच्छे ऑप्शन हैं।
    • नट्स (Nuts)- प्रोटीन और हेल्दी फैट्स के अच्छे ऑप्शन होने के साथ ही इनका सेवन सुविधाजनक है।
    • सोय (Soy)- चाहे आप टोफू का चुनाव करें या सोयाबीन्स का। सोय वेजिटेरियन के लिए बेस्ट प्रोटीन ऑप्शन है।
    • डेयरी (Dairy)- ग्रीक योगर्ट और कॉटेज चीज प्रोटीन का अच्छा सोर्स हैं, लेकिन चीज में सैचुरेटेड फैट भी पाया जाता है इसलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में करना चाहिए।

    उम्मीद करते हैं कि आपको हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम (Weight loss in diabetes patients with high protein diet) होने से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में हाय प्रोटीन डायट से डायबिटीज पेशेंट्स में वजन कम से संबंधित अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    A High-Protein Diet With Resistance Exercise Training Improves Weight Loss and Body Composition in Overweight and Obese Patients With Type 2 Diabetes /https://diabetesjournals.org/care/article/33/5/969/27071/A-High-Protein-Diet-With-Resistance-Exercise/ Accessed on 1/02/2022

    weight loss and diabetes/https://www.diabetes.org.uk/guide-to-diabetes/enjoy-food/eating-with-diabetes/whats-your-healthy-weight/lose-weight/Accessed on 1/02/2022

    A High-Protein Diet With Resistance Exercise Training Improves Weight Loss and Body Composition in Overweight and Obese Patients With Type 2 Diabetes/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2858200/Accessed on 1/02/2022

    Diabetes and Weight Loss: What You Need to Know/https://health.clevelandclinic.org/diabetes-and-weight-loss-what-you-need-to-know/Accessed on 1/02/2022

    Diabetes diet: Create your healthy-eating plan/
    https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/diabetes/in-depth/diabetes-diet/art-20044295/Accessed on 1/02/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 01/02/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड