स्ट्रेस को कम करने के अलावा कर्नापीड़ासन के 6 और फायदे, तरीका और चेतावनी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट December 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

समय आधुनिक हो सकता है, लेकिन शारीरिक और मानसिक रूप से  मजबूत रखने का तरीका योग के द्वारा 5000 साल पुराने विज्ञान में अभी भी प्रचलित है। शरीर और मन के स्वास्थ्य और शांति को बनाए रखने के लिए ऋषि मुनियों और योगियों द्वारा सदियों से अभ्यास किया जा रहा है। योग का अनुशासन स्वास्थ्य और कल्याण का आदर्श रक्षक है। कर्नापीड़ासन (Karnapidasana) योग आपके स्‍वस्‍थ जीवन में महत्‍वपूर्ण योग दे सकते हैं। यह मानव स्‍वास्‍थ्‍य में सकारात्‍मक परिवर्तन करने की शक्ति रखते हैं। कर्नापीड़ासन संस्कृत शब्द ’कर्ण’ से आया है जिसका अर्थ है “कान”, “पीड़ा” का अर्थ है “बल”,‘आसन ’का अर्थ है “सीट या मुद्रा ”। कर्णपीड़ासन (Karnapidasana) हल की मुद्रा का एक बढ़ा अभ्यास है। इसलिए, इसे ‘राजा हलासना’ (किंग प्लो आसन) के नाम से भी जाना जाता है।

और पढ़ें : पीठ दर्द में योगा है आवश्यक

कर्नापीड़ासन का शब्‍दार्थ है कान और घुटनों से बनी ऐसी मुद्रा जो मनुष्‍य को कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने में मदद करता है। कर्नापीड़ासन मुद्रा के फायदे विशेष रूप से तनाव को कम करने के लिए जाने जाते हैं। आज हम इस आर्टिकल में आपको कर्नापीड़ासन करने के फायदे और सावधानी के बारे में जानेगें।जिन्‍हें जानकर आप भी कर्नापीड़ासन के फायदे प्राप्‍त कर सकते हैं।

कर्नापीड़ासन (Karnapidasana) करने के लिए ये स्टेप्स देखें

  • कर्नापीड़ासन योग करने के लिए मैट जमीन पर बिछा लें।
  • कर्नापीड़ासन योग करने के लिए सबसे पहले आराम करने की स्थिति में अपनी पीठ के बल फर्श पर लेट जाएं।
  • अब अपनी भुजाओं को जमीन पर दोनों तरफ रखकर उन्हें आराम करने की मुद्रा में रखें।
  • इस दौरान आपके पैर आपके सामने सीधे होने चाहिए।
  • अब एक गहरी सांस लें और अपनी हथेलियों को फर्श से नीचे रखें।
  • अब अपने पैरों को हवा में उठाएं और सांस छोड़ने की कोशिश करें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : रोज करेंगे योग तो दूर होंगे ये रोग, जानिए किस बीमारी के लिए कौन-सा योगासन है बेस्ट

कर्नापीड़ासन मुद्रा करने के लिए चित्र देखें
कर्नापीड़ासन मुद्रा

कर्नापीड़ासन (Karnapidasana) मुद्रा करने के लिए चित्र देखें[/caption]

  • अपने पैरों को हवा में सीधा रखने की कोशिश करें। आपके पैर हवा में 90 डिग्री पर सीधे होने चाहिए)।
  • अब अपने पैरों को अपने सिर के ऊपर रखने की कोशिश करें।
  • अब अपने हिप्स को ऊपर की ओर उठाने की कोशिश करें और अपने पैरों को सिर के ऊपर झुकाने की कोशिश करें।
  • आपके दोनों पैर आपके कानों के एकदम पास होने चाहिए।
  • अब अपने पैर को फर्श पर दबाकर सटाएं और दबाने की कोशिश करें।
  • आपकी भुजाएं आपके शरीर के समानांतर होनी चाहिए।
  • अपने कूल्हों को सहारा देने के लिए अपने हाथों को ऊपर उठाने की कोशिश करें और उन्हें अपनी पीठ के नीचे रखें।

और पढ़ें : ब्रेस्ट साइज कम करने के लिए करें ये 6 योगासन

  • अपने झुकने वाले घुटनों को एक साथ पकड़ने की कोशिश करें।
  • उसके बाद अपने घुटनों को नीचे रखें और गहरी सांस लें।
  • उसके बाद अपने घुटनों को मोड़ें और उन्हें जमीन पर रखें।
  • अब अपने पैरों को जमीन पर रखें और अपनी भुजाओं को समानांतर मुद्रा में फैलाने का प्रयास करें।
  • अपने हथेलियों को छत की ओर सामने खुला रखें और अपने दिमाग को शांत करें।
  • एक बार में कम से कम छह से आठ सांस भरे और छोड़े।
  • अंत में फर्श पर अपनी बाहों को नीचे रखें और प्रारंभिक स्थिति में वापस आ जाएं।
  • अब एक मिनट के लिए आराम करें और इस प्रक्रिया को लगभग 3 से 5 बार दोहराएं।

योगा के बारे में अधिक जानने के लिए खेलें क्विज : Quiz : योग (yoga) के बारे में जानने के लिए खेलें योगा क्विज

कर्नापीड़ासन (Karnapidasana) करने के फायदे

हर कदम पर योग आपके जीवन को एक बेहतर दिशा देने का कार्य करता है और प्रत्येक योग आसन में उस तत्व का समावेश होता है। जो बेहतर जीवन जीने की दिशा में योगदान देने का कार्य करता है। कर्नापीड़ासन घुटने से लेकर कान तक एक ऐसी मुद्रा है, जिसे किसी व्यक्ति को कई स्वास्थ्य लाभ लेने के लिए बनाया गया है। कर्नापीड़ासन के कई तरह के हेल्थ बेनिफिट्स होते हैं। जो इस प्रकार से हो सकते है।

थायराइड ग्रंथि और तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करता है

इस आसन का अभ्यास करने से थायरॉयड-उत्तेजक हॉर्मोन (थायरोट्रोपिन या थायरोट्रोपिक हार्मोन) पर एक दबाव बनता है। जो थायरॉयड ग्रंथि को ट्रिगर करता है और ट्राइयोडोथायरोनिन और थायरोक्सिन का उत्पादन करता है। यह अस्थमा के रोगियों के लिए भी बहुत लाभप्रद हो सकता है, जो हर ऊतक के चयापचय को उत्तेजित करता है। यह आसन तंत्रिका तंत्र को भी उत्तेजित करता है और शरीर की बेहोश क्रियाओं के कार्य को भी नियंत्रित करता है और शरीर की बाकी प्रतिक्रिया को भी उत्तेजित करता है।

और पढ़ें : रोज करेंगे योग तो दूर होंगे ये रोग, जानिए किस बीमारी के लिए कौन-सा योगासन है बेस्ट

पाचन में सुधार करता है

शरीर के सभी स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए पाचन स्वास्थ्य महत्वपूर्ण है। घुटने से कान के आसन का अभ्यास पाचन स्राव को उत्तेजित करता है, जिसके परिणामस्वरूप विषाक्त पदार्थों का उन्मूलन होता है।

  • कर्नापीड़ासन मुद्रा वजन कम करने में मददगार होता है।
  • यह आपके अंदर मानसिक स्पष्टता लाता है।
  • आपके शरीर के आंत्र आंदोलन को नियंत्रित करता है।
  • हमारे शरीर में पोषक तत्वों के अवशोषण में सुधार होता है।
  • आपकी मनोदशा को बढ़ाने में मददगार होता है।
  • हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाने का कार्य करता है।
  • यह आसन पित्ताशय को उत्तेजित करता है जो आपके स्वस्थ को मजबूत करता है साथ ही आपके पाचन तंत्र की कार्यप्रणाली को ठीक करता है।

और पढ़ें : योगा या जिम शरीर के लिए कौन सी एक्सरसाइज थेरिपी है बेस्ट

स्ट्रेच, टोन और शरीर को मजबूत करता है

  • यह आसन आपके शरीर को एक अच्छी तरह से स्ट्रेच करता है।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा आपके शरीर को स्ट्रेच करने के साथ-साथ टोन करता है और इसे मजबूत बनाता है।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा विशेष रूप से आपके कंधे, गर्दन, पीठ के निचले हिस्से, नितंब, कूल्हों और जांघों पर अच्छे से कार्य करता है।
  • यह मांसपेशियों के लचीलेपन को बढ़ाने में मदद करता है।
  • गति की संयुक्त सीमा को बढ़ाता है।
  • चोट के जोखिम को कम करता है और शरीर में दर्द से राहत देता है।
  • यह शरीर के वजन को कम करने में मदद करता है।
  • इन सभी के अलावा यह हमारे हृदय स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाता है।

और पढ़ें : बुजुर्गों के लिए योगासन, जो उन्हें रखेंगे फिट एंड फाइन

मन को शांत करता है

कर्नापीड़ासन आपके मन को शांत रखने में मदद करता है। आमतौर पर तनाव कई अन्य शरीर और मानसिक मुद्दों के सबसे बड़े मूल कारणों में से एक है।

  • कर्नापीड़ासन आसन का अभ्यास मन को शांत करता है।
  • यह तनाव, चिंता और थकान को कम करने में मदद करता है।
  • इसके अलावा अनिद्रा का इलाज करने में भी मददगार है।
  • यह उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा चिंताओं और आशंकाओं को रोकने का कार्य करता है।
  • आंतरिक शक्ति को जागृत करता है।
  • कर्नापीड़ासन हमारे अंदर के नकारात्मक प्रभाव को दूर करता है।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा सिरदर्द की समस्या वाले लोगों का इलाज करता है और आत्मविश्वास का निर्माण करता है।

और पढ़ें : बुजुर्गों के लिए योगासन, जो उन्हें रखेंगे फिट एंड फाइन

यौन और प्रजनन स्वास्थ्य के लिए अच्छा है

  • कर्नापीड़ासन मुद्रा हर तरह से शरीर को लाभ पहुंचाता है।
  • यह पुरुषों और महिलाओं दोनों को कई यौन और प्रजनन स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। आसन प्रजनन क्षमता में सुधार करता है।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा श्रोणि स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा यौन शक्ति को बढ़ाता है।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा नपुंसकता को ठीक करता है।
  • मेनोपॉज के लक्षणों को कम करता है।
  • मासिक धर्म को नियंत्रित करता है और पेट के अंगों को उत्तेजित करता है।

और पढ़ें : क्या है एरियल योगा(Aerial Yoga), जानें इसके फायदे

स्वस्थ रीढ़ के लिए प्रभावशाली

रीढ़ की सेहत बनाए रखने के लिए कर्नापीड़ासन मुद्रा सबसे अच्छे आसनों में से एक माना जाता है। रीढ़ के कई महत्वपूर्ण लाभ उठाने के लिए कर्नापीड़ासन मुद्रा किया जा सकता है।

  • जहां इसमें रीढ़ का लचीलापन सबसे प्रभावशाली है।
  • यह आंदोलन रीढ़ को नीचे की ओर और सामने की ओर झुकाने में मदद करता है।
  • इसे परिणामस्वरूप यह एक गहरी खिंचाव देता है और इसे मजबूत करता है।

और पढ़ें : ये योगासन आपको रखेंगे हेल्दी और फिट

समग्र शरीर को सक्रिय करता है

कर्नापीड़ासन मुद्रा एक महान और प्रसिद्ध आसन है। जब यह शरीर की ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए आता है। तब हमारा शरीर ऊर्जा से भर जाता है, तो हम स्वचालित रूप से सक्रिय महसूस करने लगते हैं।

  • कर्नापीड़ासन मुद्रा हमारी दैनिक उत्पादकता को बढ़ाता है।
  • यह थकान को कम करता है।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा मस्तिष्क के फॉग से लड़ता है।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा ऊर्जा की रुकावटों को दूर करता है।
  • यह तंत्र के ऊर्जा प्रवाह को समायोजित करता है और इसके परिणामस्वरूप शरीर में सद्भाव और संतुलन आता है।

और पढ़ें : ब्रेस्ट साइज कम करने के लिए करें ये 6 योगासन

कर्नापीड़ासन (Karnapidasana) मुद्रा करने से पहले क्या सावधानी बरतें?

  • वैसे तो आप यह आसन सुबह या शाम दोनों ही समय कर सकते हैं।
  • जरूरी ये है की यह आसन करते समय आपका पेट खाली होना चाहिए।
  • इसे आप खाली पेट या भोजन करने के 3-4 घंटे बाद कर सकते हैं।
  • इस दौरान आप अपनी सांस सामान्य रखें।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा में झुकते समय धीरे-धीरे सांस लें या अपने पैरों को सिर की ओर उठाएं और पोजीशन छोड़ते हुए धीरे-धीरे सांस छोड़ें।
  • कर्नापीड़ासन मुद्रा केवल तब तक करें जब तक आप सहज महसूस न करें।
  • इस आसन को करने से पहले डॉक्टरों की सलाह अवश्य लें।
  • कमजोर लोगों को इसे बहुत सावधानी से करना चाहिए।

योगासन का गुण और महत्व जानने के लिए इस वीडियो को देखें-

और पढ़ें : जानें, फेशियल योगा से कैसे स्किन को टाइट करें

  • पीठ या गर्दन की चोट वाले लोगों को इससे बचना चाहिए।
  • उच्च / निम्न रक्तचाप वाले लोगों को इससे बचना चाहिए।
  • जो लोग कर्नापीड़ासन मुद्रा की शुरुआत कर रहे हैं। उन्हें इसे 5-6 सेकंड और 1 रेपिटेशन के लिए ही करना चाहिए।  इसके साथ ही आप हर सप्ताह 2-3 सेकेंड तक समय बढ़ा सकते हैं।
  • जो लोग थोड़े समय से कर्नापीड़ासन मुद्रा करते आ रहे हैं, उनको इसे 15-20 सेकेंड के लिए करना चाहिए। एक रीपिटेशन करके उन्हें हर हफ्ते 2-3 सेकेंड का समय बढ़ाना चाहिए।
  • जो लोग काफी समय से इसे नियमित रूप से करते आ रहे हैं। उन्हें इसे 10-15 मिनट और दो रीपिटेशन के साथ करना चाहिए।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी योग, दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या है वायु मुद्रा, इसे करने का सही तरीका और फायदे के बारे में जानें

वायु मुद्रा कर किन किन बीमारियों से बचा सकता है, इसके फायदे और नुकसान को जानने के साथ कैसे इस मुद्रा को करें, कितनी देर तक करें, जानें इस आर्टिकल में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

क्या है उज्जायी प्राणायाम, इसके करने का सही तरीका और इसके फायदों के बारे में जानें

उज्जायी प्राणायाम सेहत के कई काफी लाभकारी है, यह हमें कई बामारियों से बचाता है, इसे कैसे किया जाए यह जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh

पादहस्तासन : पांव से लेकर हाथों तक का है योगासन, जानें इसके लाभ और चेतावनी

पादहस्तासन योग करने से हमें क्या फायदा होता, नुकसान, दुष्परिणाम के साथ किसे करना चाहिए और किसे नहीं आदि जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

के द्वारा लिखा गया Satish singh

ओवेरियन सिस्ट (Ovarian Cyst) से राहत दिलाएंगे ये 6 योगासन

जानिए ओवेरियन सिस्ट के आसन in Hindi, ओवेरियन सिस्ट का इलाज, ओविरियन सिस्ट के लिए दवाईयां, Ovarian Cyst के उपाय, ओवेरियन सिस्ट के आसन कैसे करें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Anu sharma

Recommended for you

Change your bad habits- गलत आदतों से छुटकारा

क्यों न इस स्वतंत्रता दिवस अपनी इन गलत आदतों से छुटकारा पाया जाए

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ August 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अपान मुद्रा

अपान मुद्रा: जानें तरीका, फायदा और नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ August 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
शीतली प्राणायाम

शीतली प्राणायाम करने का तरीका और फायदा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ July 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
ताड़ासन

कैसे करें ताड़ासन? क्या हैं इसके फायदे और सावधानियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ July 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें