home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

ब्रेस्ट साइज कम करने के लिए करें ये योगासन

द्वारा प्रायोजित:

ब्रेस्ट साइज कम करने के लिए करें ये योगासन

अगर आप ब्रेस्ट साइज (Breast Size) कम करना चाहती हैं? तो योग से बेहतर और कोई उपाय नहीं है। योग में व्यायाम के जरिए शरीर की स्ट्रेचिंग होती है, जो मानसिक और शारीरिक सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। योग के कुछ आसन बहुत सरल होते हैं, जिन्हें बिना किसी इक्विपमेंट के घर पर भी आसानी से किया जा सकता है। योग द्वारा स्तन का साइज घटने में समय तो लगेगा। लेकिन, नतीजा भी यकीनन मिलेगा। हम आपको कुछ योगासन बताएंगें, जिनके साथ लो-फैट डाइट का पालन करके आप अपने ब्रेस्ट साइज को कम कर सकती हैं। ब्रेस्ट साइज कम करने के लिए एक्सरसाइज या योगा की मदद ली जा सकती है लेकिन, इसके साथ ही आहार पर भी विशेष ध्यान देने की जरूरत होती है।

1. ब्रेस्ट साइज कम करना: सूर्यनमस्कार

सूर्य नमस्कार योगा का वह आसन है, जो दुनिया भर में मशहूर है। नियमित रूप से सूर्यनमस्कार किया जाए, तो ब्रेस्ट साइज घटाने और बगल के नीचे का मोटापा कम करने में मदद मिलती है। याद रखें, सूर्यनमस्कार करते समय ठीक से सांस लें। रोजाना सूर्यनमस्कार के 15 – 20 राउंड करें, इससे स्तन का साइज कम करने और उन्हें टाइट करने में मदद मिलेगी। इस योगासन के दौरान डीप ब्रीदिंग लें। ऐसा करने से आप रिलैक्स भी महसूस कर सकते हैं।

और पढ़ें: बद्ध पद्मासन: जानिए इस योगासन को करने का सही तरीका, फायदा और सावधानियां

2. सेतु बंधासन

इस आसन में सख्ती से पीछे की ओर झुकना होता है, जिससे आपके स्तन और आस-पास के मसल्स को टाइट करने में मदद मिलती है। यह आसन रोजाना किया जाए, तो स्तन को लटकने से बचाया जा सकता है। इस आसन को करने के लिए मैट पर पीठ के बल लेट जाएं। हाथ बगल में फैला लें। अब घुटनों को मोड़ें और उन्हें बाहर की ओर फैला लें। पेट से शरीर ऊपर की ओर उठाएं और अपने हाथों के सहारे कुछ देर इसी मुद्रा में रहें। यह आसन आपके कूल्हों, जांघों, पेट और पीठ पर भी काम करेगा। इस आसन को 15 बार सांस लेने तक रोके रखें और धीरे-धीरे छोड़ें। शुरुआत में इस आसान के दौरान आपको परेशानी महसूस हो सकती है लेकिन, कुछ दिनों में आप इस योगा आसान को आराम से कर सकते हैं और ब्रेस्ट साइज को भी परफेक्ट रख सकती हैं।

3. ब्रेस्ट साइज कम करना: अर्ध चक्रासन

यह स्तन के आकर को निखारने के लिए बेहतरीन आसन माना जाता है। यह आपके शरीर के ऊपरी हिस्से को हरकत में ला कर उसे टोन करता है और निचले हिस्से से फैट की मात्रा घटाने में मदद करता है। इस आसन को नियमित रूप से करने पर आप कुछ ही दिनों में अपने ब्रेस्ट के आकर में फर्क महसूस करने लगेंगे। इस आसन को करने के लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। अब अपने हाथों को एक साथ ऊपर की तरफ फैला दें और मुट्ठी बांध लें। अपनी हथेलियों को एक साथ जोड़ कर कलाई को टाइट करें। अब शरीर को ऊपर की तरफ करें, कंधों को सुनिश्चित करके अपने कानों को छूने की कोशिश करें। गहरी सांस ले, अपने शरीर को कूल्हों के सहारे ऊपरी की ओर धकेलें। घुटनों को मोड़ लें। इस आसन की स्तिथि में एक या दो मिनट तक रहें।

और पढ़ें: जानें कैसे वॉकिंग (Walking) है एक बेहतरीन एक्सरसाइज?

4. शीर्षासन

इस आसन को परफॉर्म करने के लिए आपको सिर के बल खड़े होने की जरुरत होगी। इस आसन से आपके स्तन को ग्रेविटी के विरुद्ध सही पोस्चर मिलेगा, जो समान्य पोस्चर के विपरीत है। यह स्तन का साइज कम करने और उन्हें सुडोल बनाने में मदद करता है। इस आसन को रोजाना करने से स्तन के शेप का बेहतरीन विकास होता है।

शीर्षासन/Sirsasana (Headstand)

5. वीरभद्रासन

इस आसन को करने से बाजुओं के ऊपरी हिस्से और स्तन के मसल्स स्ट्रेच होते हैं। स्ट्रेचिंग से स्तन में तनाव होता है और वह टाइट हो जाते हैं। ब्रेस्ट का अच्छा शेप प्राप्त करने के लिए वीरभद्रासन जरूर ट्राय करें।

6. ब्रेस्ट साइज कम करना: पदंगुष्ठासन

यह आसन आपके ब्रेस्ट और कन्धों को फैला देता है जिससे ब्रेस्ट के निचले हिस्सों को सही आकार प्राप्त करने में मदद मिलती है। इस आसन को हमेशा खाली पेट ही करें| इसे किसी भी प्रकार की जमीन पर करने से परहेज करें और हमेशा योग मैट का इस्तेमाल करें।

और पढ़ें: वृक्षासन योग से बढ़ाएं एकाग्रता, जानें कैसे करें इस आसन को और क्या हैं इसके फायदे

7. प्रार्थना मुद्रा

यह एक सरल मुद्रा है, जिसे आप अक्सर प्रभु को प्रार्थना करते समय अभ्यास कर सकते हैं। यह स्वाभाविक रूप से स्तन में कमी लाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण योग अभ्यासों में से एक माना जाता है। आपको बस अपने हाथों या हथेलियों को एक दूसरे के खिलाफ दबाने की जरूरत है। यह आपकी छाती या पेक्टोरल मांसपेशियों पर दबाव डालेगा, जिससे उनकी कमी होगी।

8. अर्ध चन्द्र आसन

आधा चन्द्र आसन या अर्ध चक्रासन स्तन कमी के लिए एक बहुत ही लोकप्रिय योग मुद्रा है। यह स्तनों के आकार को धीरे-धीरे लेकिन लगातार कम कर सकता है। हालांकि, यह एक कठिन योग व्यायाम है, और आपको यह केवल एक योग शिक्षक या ट्रेनर की उपस्थिति में ही करना चाहिए। यह आपको लाभ दिलाने में मदद कर सकता है और आपको सभी चोटों से बचा सकता है।

9. ब्रेस्ट साइज कम करना: वॉल प्रेस टेक्निक

यह योग आपके स्तन के आकार को कम करने के सबसे महत्वपूर्ण तरीकों में से एक माना जाता है।इस प्रक्रिया को करने के लिए एक दीवार के सामने सीधे खड़े हो जाएं और इसे अपने दोनों हाथों से दबाएं। यह योग भी आपके चेस्ट या पेक्टोरल मांसपेशियों को पर्याप्त व्यायाम प्रदान कर सकता है। इससे आपके स्तनों का आकार कम हो सकता है।

और पढ़ें: कार्डियो एक्सरसाइज से रखें अपने हार्ट को हेल्दी, और भी हैं कई फायदे

10. अष्टांग योग व्यायाम

अष्टांग योग व्यायाम जिसे बिकाराम योग व्यायाम के रूप में भी जाना जाता है, इस योग व्यायाम ने पिछले कुछ दशकों के दौरान इसके बहुत से लाभों को साबित किया है। आप इस योग अभ्यास का अभ्यास कर सकते हैं यदि आप यह जानना चाहते हैं कि योग द्वारा स्तन का आकार कैसे कम करें। हालांकि, यह एक कठिन योग व्यायाम है। आपको यह अभ्यास केवल एक विशेषज्ञ योग शिक्षक की उपस्थिति में करने की आवश्यकता है।

11. मेंढक मुद्रा

मेढ़क मुद्रा करने के लिए आप अपनी एड़ी के बल खड़े हो जाओ और धीरे-धीरे एक स्कॉट की स्थिति में आ जाइए। अपनी एड़ी को फर्श से उठाएं और अपनी हथेली को जमीन पर रखें। अब अपनी रीढ़ को जितना संभव हो फैलाएं। सांस अंदर लें जैसे कि आप सीधे हों ताकि आप अपने घुटनों और उंगलियों को जमीन से छूते हुए अपने सिर के साथ मुड़े हुए हों। उठते ही सांस बाहर छोड़ें। बेहतर परिणाम के लिए प्रत्येक दिन कुछ बार आसन दोहराएं।

योग के इन आसनों के द्वारा आप अपने ब्रेस्ट साइज को कम कर सकती हैं। इसके अलावा यह आसन आपके स्तन को बेहतर आकार देने और उन्हें टोन करने में भी मदद करेंगे। योग के अलावा ऐसे कई एक्सरसाइज हैं, जिनकी मदद से आप अपने ब्रेस्ट की साइज को कम कर सकते हैं। इसके साथ ही ब्रेस्ट को एक बेहतर शेप भी दे सकते हैं। ब्रेस्ट को टोंड करने के लिए कई वेट ट्रेनिंग एक्सरसाइज कि जाती है।वह बहुत असरदार भी माना जाता है। हालांकि ऊपर बताई गई योगा के साथ-साथ महिलाओं को ब्रेस्ट साइज मेंनटेन करने के लिए आहार पर भी ध्यान देना आवश्यक है। इसलिए ब्रेस्ट साइज कम करने के लिए अपने आहार में निम्नलिखित खाद्य पदार्थ शामिल करें। जैसे-

और पढ़ें: साइनस (Sinus) को हमेशा के लिए दूर कर सकते हैं ये योगासन, जरूर करें ट्राई

डायट

आप जो कुछ भी खाते हैं उसका असर शरीर पर पड़ना तय माना जाता है। यह ध्यान रखें कि अगर शरीर का फैट बढ़ेगा तो ऐसी स्थिति में ब्रेस्ट को साइज भी बढ़ सकता है। हालांकि संतुलित आहार के सेवन से बढ़ते वजन के साथ-साथ ब्रेस्ट साइज भी परफेक्ट होता है। इसलिए अपने आहार में लीन मीट, मछली, ताजे और मौसमी फल और हरी सब्जियों का सेवन रोजाना करना चाहिए। अपने आहार में मीठे का सेवन कम से कम करें। मीठे खाद्य पदार्थों के सेवन से वजन बढ़ने की संभावना ज्यादा होती है। इसके अलावा भी ऐसा माना जाता है कि, अखरोट और सायाबीन जैसे प्रोटीन युक्त आहार का सेवन करने से भी ब्रेस्ट साइज बढ़ता है। यदि आप अपना ब्रेस्ट साइज कम करना चाहते हैं, तो आपको ऐसे आहार लेने से बचना चाहिए।

योगा को बढ़ावा देने के लिए आयुष मंत्रालय की पहल के बारे में जानें इस वीडियो के माध्यम से:

ब्रेस्ट साइज कम करना: ग्रीन टी का सेवन

ग्रीन टी वजन घटाने के लिए काफी फायदेमंद होता है और यह प्राकृतिक उपाय भी माना जाता है। दरअसल ग्रीन टी में मौजद एंटीऑक्सीडेंट होते हैं और वसा और कैलोरी को कम कर आपके चयापचय को बढ़ा सकते हैं। फैट का सेवन कम करने से ब्रेस्ट साइज भी कम हो सकता है। इसलिए दिनभर में दो से तीन कप ग्रीन टी का सेवन किया जा सकता है लेकिन, इससे ज्यादा इसका सेवन न करें इससे नींद न जैसी परेशानी भी हो सकती है।

अदरक

अदरक भी ग्रीन टी की तरह काम करता है। दरअसल इसके सेवन से शरीर में मौजूद एक्स्ट्रा फैट कम होता है। खाद्य पदार्थ जैसे सब्जियों में इसका प्रयोग किया जाता है लेकिन, इसका ज्यादा फायदा मिले इसके लिए इसके चाय का सेवन करना लाभकारी हो सकता है। इसके सेवन से मेटाबॉलिज्म भी बेहतर होता है।

और पढ़ें: ग्रीन टी का सेवन न करें इन चीजों के साथ, सेहत के लिए हो सकता है खतरनाक

ब्रेस्ट साइज कम करने के लिए क्या न खाएं?

यदि आप अपने ब्रेस्ट की साइज को कम करना चाहते हैं,तो आपको कुछ विशेष आहार का सेवन करने से बचना चाहिए। जो इस प्रकार से हैं।

  • शुगर यानि चीनीयुक्त आहार लेने से बचना चाहिए।
  • बहुत अधिक सोडा का उपयोग करने से बचें।
  • एक बार में अधिक भोजन करने से बेहतर होगा कि आप कम मात्रा में 2 से 3 बार में भोजन करें।
  • शरीर में पानी की कमी न होने दें, अपने शरीर को हमेशा हाइड्रेट रखें।
  • बहुत ऑयली भोजन को खाने से बचें।

और पढ़ें: पेट की परेशानियों को दूर करता है पवनमुक्तासन, जानिए इसे करने का तरीका और फायदे

ब्रेस्ट साइज किन कारणों से बढ़ जाते हैं?

स्तन का साइज निम्नलिखित कारणों से बढ़ सकते हैं। जैसे:

पीरियड्स के कारण बढ़ सकता है स्तन साइज- पीरियड्स के दौरान प्रोजेसटेरॉन और एस्ट्रोजन हॉर्मोन लेवल में बदलाव होता है और ऐसी स्थिति में ब्रेस्ट के साइज में बदलाव देखा जा सकता है।

गर्भावस्था- प्रेग्नेंसी के दौरान भी स्तनों में बदलाव देखे जाते हैं। ऐसा हॉर्मोन में हो रहे बदलाव की वजह से होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान ब्रेस्ट के टिशू में ब्लड सर्कुलेशन तेज होने की वजह से ऐसा होता है।

वजन बढ़ना- शरीर का वेट बढ़ने की वजह से स्तन के साइज में भी बदलाव आता है।

शारीरिक संबंध- सेक्शुअल एंड रिलेशनशिप एक्सपर्ट्स अनुसार फोरप्ले या शारीरिक संबंध की वजह से ब्लड सर्कुलेशन तेज हो जाता है। ऐसी स्थिति में ब्रेस्ट की नसों में सूजन आ जाता है, जिस वजह से ब्रेस्ट और आस-पास की त्वचा में सूजन और कसाव महसूस होता है।

गर्भ निरोधक दवाएं- गर्भ निरोधक दवाएं के सेवन से ब्रेस्ट के आकार में बदलाव देखा जाता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार इन दवाओं में एस्‍ट्रोजन मौजूद होता है, जिससे ब्रेस्ट साइज बढ़ जाते हैं।

ब्रेस्ट में गांठ होना- अगर ब्रेस्ट में गांठ की समस्या है, तो इससे भी ब्रेस्ट के साइज बड़े हो सकते हैं। यह ध्यान रखें की हर गांठ कैंसर नहीं होता है।

योगा और आहार के साथ-साथ महिलाओं को ब्रा का चयन भी समझदारी से करना चाहिए। ब्रा की साइज हमेशा सही और कम्फर्टेबल रखें। अगर आप ब्रेस्ट साइज से जुड़े किसी भी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है। इसलिए किसी भी एक्सरसाइज या डायट को फॉलो करने से पहले अपने चिकित्सक या ट्रेनर से उचित सलाह लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

How To Reduce Breast Size With Yoga Asanas https://www.womenfitness.org/reduce-breast-size-yoga-asanas/Accessed on 30/01/2020

Breast reduction for women/https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/breast-reduction-for-women/Accessed on 30/01/2020

Choosing size of reduction https://www1.plasticsurgery.org/psmatch/askasurgeon/detail.aspx?thread=496/Accessed on 30/01/2020

Breast reduction/https://www.ouh.nhs.uk/patient-guide/leaflets/files/5271Pbreastreduction.pdf/Accessed on 30/01/2020

Understanding
Breast Changes/https://www.cancer.gov/types/breast/breast-changes/understanding-breast-changes.pdf/Accessed on 30/01/2020

लेखक की तस्वीर
Mubasshera Usmani द्वारा लिखित
अपडेटेड 04/07/2019
x