home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

ग्रीन टी का सेवन न करें इन चीजों के साथ, सेहत के लिए हो सकता है खतरनाक

ग्रीन टी का सेवन न करें इन चीजों के साथ, सेहत के लिए हो सकता है खतरनाक

एक ग्रीन टी बहुत से फायदों का खज़ाना है। उसमें एक तरफ जहां एंटी-कैन्सर के गुण है, वहीं एंटी ऑक्सिडंट की भरपूर मात्रा भी मौजूद होती है जो उसे उपयोगी बनाती है। ग्रीन टी में ऐसे तत्व हैं, जो चरबी और वसा को घटाते हैं। ग्रीन-टी शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाने में भी बहुत मदद करती है। ग्रीन टी का सेवन करने से कई तरह की समस्याएं दूर होती हैंपर इन सभी गुणों के साथ ही कुछ सावधानियां भी हैं जो हर ग्रीन-टी का सेवन करने वाले व्यक्ति को बरतनी चाहिये। ऐसे कई तत्व हैं जिनके साथ ग्रीन-टी का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपकी सेहत पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

ग्रीन टी क्या है? (what is green tea?)

ग्रीन टी कैमेलिया साइनेन्सिस पौधे से बनाई जाती है। इस प्लांट की पत्तियों का इस्तेमाल न सिर्फ ग्रीन टी के साथ दूसरी तरह की अन्य चाय बनाने में भी किया जाता है। यही पॉलीफेनोल्स जो एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी हो सकते है।

और पढ़ें : स्किन और हेयर के लिए ग्रीन टी के फायदे

ग्रीन टी का सेवन न करें इन चीजों के साथ

ग्रीन टी पीने के फायदे बहुत हैं। लेकिन, जब आप किसी बीमारी के लिए दवा का इस्तेमाल कर रहे हों तो डॉक्टर से यह परामर्श करें कि उस दवा का इंटरैक्शन ग्रीन टी के साथ होता है या नहीं नीचे ऐसी ही कुछ दवाओं के नाम दिए गए हैं। जिनके साथ ग्रीन टी का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे-

1.एम्फ़ैटेमिन के साथ ग्रीन-टी लेना हो सकता है हानिकारक:

अगर आप दवा के रूप में एम्फ़ैटेमिन ले रहे हैं तो आपको सतर्क होने का समय आ गया है। एम्फ़ैटेमिन हमारे नर्वस सिस्टम को तेज करती हैं। इनके सेवन से हृदय गति बढ़ जाती है। ग्रीन-टी में मौजूद कैफीन नर्वस सिस्टम को भी तेज कर सकता है। एम्फ़ैटेमिन के साथ ग्रीन-टी लेने से हृदय गति और उच्च रक्तचाप (high blood pressure) सहित गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। कैफीन के साथ एम्फ़ैटेमिन्स को लेने से बचें।

और पढ़ें : क्या आप जानते हैं क्रैब डायट के बारे में?

2.कोकेन और ग्रीन-टी साथ लेने से होगा दुष्परिणाम:

कोकेन के साथ ग्रीन-टी का सेवन शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के एक प्रकाशन से यह बात सामने आती है कि ग्रीन-टी और कोकेन का सेवन साथ में करने से हृदय गति में तेजी और रक्तचाप बढ़ने की समस्या सामने आती है।

और पढ़ें : असामान्य तरीके से वजन का बढ़ना संकेत है कमजोर मेटाबॉलिज्म का

3.गर्भनिरोधक गोलियों के साथ ग्रीन-टी करती है परस्पर क्रिया:

हमारा शरीर ग्रीन-टी में मौजूद कैफीन से छुटकारा पाने के लिये उसको छोटे-छोटे हिस्सों में तोड़ता है। गर्भ निरोधक गोलियों के सेवन से यह गति धीमी हो जाती है। गर्भ निरोधक गोलियों के साथ हरी चाय लेने से घबराहट, सिरदर्द, तेज़ दिल की धड़कन और आपको अन्य शिकायतें हो सकती हैं।

और पढ़ें : लेबर पेन के लिए एक्यूपंक्चर कितना सही है?

4.डिप्रेशन की दवा के साथ ना ले ग्रीन-टी:

ग्रीन टी में मौजूद कैफीन शरीर को उत्तेजित कर सकता है। डिप्रेशन के लिए इस्तेमाल की जाने वाली कुछ दवाइयाँ भी शरीर को उत्तेजित कर सकती हैं। ग्रीन टी पीने के साथ डिप्रेशन की कुछ दवाइयां लेने से शरीर में बहुत अधिक उत्तेजना बढ़ जाती है और दिल की धड़कन तेज हो जाती है। उच्च रक्तचाप, घबराहट, और अन्य गंभीर दुष्प्रभाव भी इस हो सकते हैं।

और पढ़ें : बच्चों की इन बातों को न करें नजरअंदाज, उन्हें भी हो सकता है डिप्रेशन

5.कुछ जड़ी बूटी और सप्लीमेंट्स के साथ ग्रीन-टी का सेवन न करें:

ग्रीन टी, कुछ जड़ी बूटियों और सप्लीमेंट्स की गतिविधि को प्रभावित कर सकती है, या उनके साथ रीऐक्ट करती है। उदाहरण के लिए, ग्रीन टी आयरन और फोलिक एसिड की खुराक को समाने की क्रिया को धीमा कर सकती है।

और पढ़ें : क्या मधुमेह में उपयोगी है ग्रीन-टी? जानें इसके फायदे

6. कुछ तरह के एंटीबायोटिक्स

कुछ एंटीबायोटिक्स के साथ ग्रीन टी का सेवन करना सेहत के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। इससे एंटीबायोटिक्स का असर शरीर पर कम हो सकता है। ग्रीन टी के साथ कुछ तरह की एंटीबायोटिक दवाओं को लेने से साइड इफेक्ट्स का खतरा बढ़ सकता है, जिसमें घबराहट, सिरदर्द, हृदय गति में वृद्धि और अन्य दुष्प्रभाव शामिल हैं। जैसे- सिप्रोफ्लोक्सासिन (ciprofloxacin), एनोक्सासिन (enoxacin), नॉरफ्लोक्सासिन (Chibroxin, Noroxin), स्पार्फ्लोक्सासिन (Zagam), ट्रॉवाफ़्लोक्सासिन (Trovan), और ग्रैफैफ्लोक्सासिन (Raxar)। ध्यान दें अगर आप इन एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन क्र रहे हैं तो ग्रीन टी का सेवन भूलकर भी न करें

और पढ़ें : ग्रीन टी के फायदे : मोटापा कम करने से लेकर कैंसर जैसे रोग में भी लाभकारी है यह चाय

7. डिपिरिडामोल (पर्सेंटाइन)

ग्रीन टी में कैफीन होता है। ग्रीन टी में मौजूद कैफीन डिपाइरिडामोल (पर्सेंटाइन) के प्रभाव को अवरुद्ध कर सकता है। डिपिरिडामोल (पर्सेंटाइन) का उपयोग अक्सर डॉक्टर हृदय का परीक्षण करने के लिए करते हैं। इस परीक्षण को कार्डियक स्ट्रेस टेस्ट कहा जाता है। कार्डियक स्ट्रेस टेस्ट से कम से कम 24 घंटे पहले ग्रीन टी या अन्य कैफीन युक्त उत्पाद पीना बंद कर दें। इससे परीक्षण प्रभावित हो सकता है।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में इन 7 तरीकों को अपनाएं, मिलेगी स्ट्रेस से राहत

8. सिमेटिडाइन (Tagamet)

ग्रीन टी में कैफीन होता है। ग्रीन टी के साथ सिमेटिडाइन (टैगामेट) लेने से कैफीन के दुष्प्रभाव की संभावना बढ़ सकती है जिसमें घबराहट, सिरदर्द, तेज़ दिल की धड़कन और अन्य साइड इफेक्ट्स शामिल हैं।

और पढ़ें : क्या ग्रीन-टी या कॉफी थायरॉइड पेशेंट्स के लिए फायदेमंद हो सकती है?

9. दवाएं जो लिवर को पहुंचा सकती हैं नुकसान

दवा के साथ-साथ ग्रीन टी के अर्क का सेवन करने से लिवर को भी नुकसान पहुंच सकता है। जो दवाएं लिवर को नुकसान पहुंचा सकती हैं उन दवाओं के साथ ग्रीन टी का सेवन लिवर के लिए खतरा बढ़ा देती हैं। अगर आप लिवर को नुकसान पहुंचाने वाली किसी भी दवा को ले रहे हैं तो ग्रीन टी का सेवन न करें। कुछ दवाएं जो लिवर को नुकसान पहुंचा सकती हैं उनमें एसिटामिनोफेन (Tylenol and others), अमियोडेरोन (Cordarone), कार्बोराजेपाइन (Tegretol), आइसोनियाजिड (INH), मेथोट्रेक्सेट (Rheumatrex), मेथिल्डोपा (Aldomet), फ्लुकोनाज़ोल (Diflucan), इट्राकोनाज़ोल (Sporanox), इरिथ्रोमाइसिन (Erythrocin, Ilosone, अन्य), फेनिटोइन (Dilantin), लवस्टैटिन (Mevacor) आदि।

और पढ़ें : वॉटर बर्थ प्रॉसेस के फायदे और नुकसान जानें यहां

10. एंटीडायबिटिक ड्रग्स

ग्रीन टी में कैफीन होता है। कैफीन रक्त शर्करा को बढ़ा सकता है। मधुमेह की दवाओं का उपयोग रक्त शर्करा को कम करने के लिए किया जाता है। कैफीन के साथ डायबिटीज के लिए कुछ दवाएं लेने से मधुमेह दवाओं की प्रभावशीलता कम हो सकती है। ग्रीन टी का सेवन करने के दौरान अपने ब्लड शुगर को बारीकी से मॉनिटर करें। डायबिटीज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली कुछ दवाओं में ग्लिमेपीराइड (अमारिल), ग्लाइबुराइड (DiaBeta, Glynase PresTab, Micronase), इंसुलिन, क्लोरप्रोपामाइड (डायबीनीज) आदि शामिल हैं।

ग्रीन टी के फायदे जानकर कुछ लोग ग्रीन टी का सेवन ज्यादा मात्रा में करने लगते हैं। लेकिन, आपको बता दें ऐसा करना स्वास्थ को हानि पहुंचा सकता है। इससे पेट-दर्द, अनिद्रा की, जी-मिचलाना, एनीमिया, डायरिया, सिरदर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं। साथ ही ध्यान रखें कि ग्रीन-टी के स्वास्थ्य लाभ के लिए पहले अपने डॉक्टर से पहले सलाह जरूर लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Green tea (Chinese tea). https://www.cancerresearchuk.org/about-cancer/cancer-in-general/treatment/complementary-alternative-therapies/individual-therapies/green-tea.Accessed on 04 Jan, 2020

Potential Interaction of Green Tea Extract with Hydrochlorothiazide on Diuretic Activity in Rats. https://www.hindawi.com/journals/isrn/2014/273908/. Accessed on 04 Jan, 2020

What Is Green Tea?. https://www.everydayhealth.com/drugs/green-tea. Accessed on 04 Jan, 2020

Update of green tea interactions with cardiovascular drugs and putative mechanisms. https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/29703388. Accessed on 04 Jan, 2020

Drug Interactions between green tea and warfarin. https://www.drugs.com/drug-interactions/green-tea-with-warfarin-2375-0-2311-0.html. Accessed on 04 Jan, 2020

Medications known to interact with green tea. https://www.drugs.com/drug-interactions/green-tea.html. Accessed on 04 Jan, 2020

GREEN TEA. https://www.webmd.com/vitamins/ai/ingredientmono-960/green-tea. Accessed on 04 Jan, 2020

 

लेखक की तस्वीर
Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 17/03/2021 को
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड