आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

दिल की बीमारी के लिए अनुवांशिक कारण (Hereditary reasons ) क्या होते हैं जिम्मेदार?

दिल की बीमारी के लिए अनुवांशिक कारण (Hereditary reasons ) क्या होते हैं जिम्मेदार?

एक उम्र के बाद व्यक्ति का बीमार पड़ना बहुत ही आम बात होती है। कोई व्यक्ति जल्दी बीमार पड़ जाता है, तो कोई व्यक्ति देर में। यह बात काफी हद तक व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करती है। अगर आप बेहतर लाइफस्टाइल अपनाते हैं, तो आपकी इम्यूनिटी भी अच्छी रहती है। वही खराब लाइफ स्टाइल अपनाने वाले जल्दी बीमार पड़ते हैं। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो बेहतर लाइफस्टाइल अपनाते हैं लेकिन उनको गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ता है। हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण ( Hereditary reasons for heart conditions) या फिर अन्य बीमारियों के लिए भी अनुवांशिक कारण जिम्मेदार हो सकते हैं।

कुछ बीमारियां ऐसी होती हैं जो एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में आसानी से जाती है। अनुवांशिक बीमारियों से बचना मुश्किल होता है लेकिन अगर आपको पहले से जानकारी मिल जाए, तो ऐसी बीमारियों से काफी हद तक बचाव किया जा सकता है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण (Hereditary reasons for heart conditions) और हार्ट डिजीज से बचने के उपाय के बारे में जानकारी देंगे। आइए पहले जानते हैं कि अनुवांशिक बीमारियां (hereditary diseases) क्या होती हैं।

और पढ़ें: हार्ट पेशेंट्स के लिए योग है बेहतर उपाय लेकिन ये योग कहीं पैदा न कर दें खतरा!

हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण: अनुवांशिक बीमारियां क्या होती हैं?

जेनेटिक म्यूटेशन के कारण हेरिडिटी डिजीज हो सकती हैं। अनुवांशिक बीमारियां माता-पिता से बच्चों को मिलती है और इस तरह बच्चे इस बीमारी को आगे बढ़ाते हैं और कई पीढ़ी तक बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। कई बार म्यूटेशन के कारण अचानक से जीन में परिवर्तन हो जाता है और बीमारी उत्पन्न हो जाती है। यह जरूरी नहीं है कि एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में भी हो जीन म्यूटेशन हो। अगर आपके माता या पिता को हार्ट संबंधी बीमारी या हार्ट अटैक (Heart attack) हुआ हो, तो आपको भी इस बीमारी का खतरा बढ़ जाता है लेकिन आप कुछ सावधानियां रख कर बीमारी की गंभीरता को कम कर सकते हैं। जानिए हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण (Hereditary reasons for heart conditions) के बारे में।

आनुवंशिक कारक हाय ब्लड प्रेशर, हृदय रोग और अन्य संबंधित स्थितियों में कुछ भूमिका निभाते हैं। हालांकि, यह भी संभावना है कि हृदय रोग की फैमिली हिस्ट्री वाले लोग सामान्य वातावरण और अन्य फैक्टर को साझा करते हैं, जो उनके जोखिम को बढ़ा सकते हैं। कुछ फैक्टर्स जैसे कि स्मोकिंग अधिक करना, मोटापा, एक्टिव न रहना आदि खतरे को बढ़ाने का काम करते हैं।

और पढ़ें: हार्ट ब्लॉकेज में योगा : इस कठिन समस्या का आसान समाधान

हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण (Hereditary reasons for heart conditions)

 हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण ( Hereditary reasons for heart conditions)

न्यूयार्क के कॉर्डियोलॉजिस्ट, एमडी और पीएचडी जगत नरूला कहते हैं कि यह सच है कि यदि यह आपके परिवार में हार्ट डिजीज या हार्ट संबंधी बीमारियां चली आ रही हैं, तो आपको भी इसका खतरा हो सकता है। कुछ लोग भले ही इसे पहेली का हिस्सा मानें लेकिन ये सच है। अगर आप जोखिम पैदा करने वाले फैक्टर्स पर नजर रखते हैं, तो आप सीधा तौर पर बीमारी पर नजर रख रहे हैं।

माता-पिता से बच्चों को ना केवल जीन मिलते हैं बल्कि कुछ खराब आदतें भी मिल जाती हैं। अधिक मीठा खाना, एक ही स्थान पर काफी देर तक बैठे रहना, स्मोकिंग करना एल्कोहॉल का सेवन करना, दिनचर्या में व्यायाम को शामिल ना करना, आदि आदतें बच्चों में हार्ट डिजीज का खतरा बढ़ा देती हैं। हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण ( Hereditary reasons for heart conditions) जिम्मेदार होते हैं लेकिन कुछ खराब आदतें भी बच्चों में इस बीमारी के खतरों को बढ़ाने का काम करती है।

और पढ़ें: क्या है धीमी हार्ट पल्स रेट की समस्या? जानिए इस आर्टिकल के जरिए!

हार्ट अटैक के रिस्क फैक्टर संबंधी स्टडी (Heart attack risk factor study)

द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन (The New England Journal of Medicine ) में प्रकाशित एक हालिया स्टडी इस विषय के बारे में जानकारी देती है। यह देखा गया कि कैसे आनुवंशिक के साथ ही लाइफस्टाइल फैक्टर कोरोनरी आर्टरीज डिजीज के रिस्क फैक्टर को बढ़ाने का काम करते हैं। इस स्टडी के दौरान करीब 50 लोगों को शामिल किया गया, जिनमें ज्ञात अनुवांशिक मार्कर थे। उनमें से कोई भी स्मोकिंग नहीं करता था और साथ ही मोटापे की समस्या भी नहीं थी। स्टडी में शामिल लोग हेल्दी डायट लेने के साथ ही फिजिकल एक्टिव भी थे। अध्ययन में पाया गया कि हृदय रोग के लिए उच्च आनुवंशिक जोखिम वाले लोग दिल का दौरे या स्ट्रोक के लिए अपने जोखिम को लगभग दोगुना कर देते हैं। हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण (Hereditary reasons for heart conditions) जिम्मेदार होते हैं और ये व्यक्ति में हार्ट डिजीज के खतरे को अधिक बढ़ा देते हैं।

और पढ़ें: हार्ट पेशेंट्स ट्राय करेंगे यह डेजर्ट्स, तो उनकी सेहत को नहीं होगा कोई नुकसान!

हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण हो सकते हैं जिम्मेदार, लेकिन इन बातों का रखें ध्यान!

अगर आपके परिवार में आपके पिता या भाई या फिर दादा- दादी आदि किसी को भी हार्ट संबंधी समस्या रही हैं, तो आप में भी इस बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। आप इसकी जांच डॉक्टर द्वारा करा सकते हैं। जांच के बाद डॉक्टर आपको भविष्य में हार्ट संबंधी बीमारी के खतरे के बारे में सतर्क कर सकते हैं। अगर आपको यह खतरा है, तो बेहतर होगा कि आप सावधान हो जाएं और अपनी लाइफस्टाइल (Lifestyle) में सुधार करें। लाइफस्टाइल में सुधार के लिए बहुत जरूरी है कि आप अपने खाने में पौष्टिक आहार (Healthy foods) को शामिल करें और साथ ही ऐसे फूड्स से दूर रहे, जो आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल के लेवल को बढ़ा देता है। खाने के साथ ही आपको पर्याप्त मात्रा में पानी भी पीना चाहिए। हार्ट की बीमारी हाय ब्लड प्रेशर (High blood pressure) के कारण भी हो सकती है। आपको टेंशन से बचने के लिए व्यायाम करना चाहिए। आप योग या मेडिटेशन की मदद से टेंशन को दूर कर सकते हैं। आप चाहे तो इस बारे में डॉक्टर या एक्सपर्ट से भी जानकारी ले सकते हैं।

और पढ़ें: हार्ट डिजीज के लिए जड़ी-बूटियों का उपयोग हो सकता है फायदेमंद, जान लीजिए इनके नाम

अगर आप स्मोकिंग करते हैं या फिर मोटापे से ग्रस्त हैं, तो आपको एक्टिव होने की जरूरत है। आपको स्मोकिंग पूरी तरह से छोड़ देनी चाहिए और साथ ही मोटापे से छुटकारे के लिए आपको खानपान के साथ ही एक्सरसाइज पर भी ध्यान देना चाहिए। इन बातों का ध्यान रख आप हार्ट डिजीज के खतरे को कम कर सकते हैं। हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण (Hereditary reasons for heart conditions) भले ही जिम्मेदार हो, लेकिन आप सावधानी रख बीमारी के खतरे को काफी हद तक कम कर सकते हैं। आप हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण (Hereditary reasons for heart conditions) के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

इस आर्टिकल में हमने आपको हार्ट कंडीशन के लिए अनुवांशिक कारण (Hereditary reasons for heart conditions) के बारे में बारे में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्स्पर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

health-tool-icon

टार्गेट हार्ट रेट कैल्क्यूलेटर

जानें अपना साधारण और अधिकतम रेस्टिंग हार्ट रेट,आपकी उम्र और रोजाना एक्टिविटीज और अन्य एक्टिविटीज के दौरान प्राभावित होने वाली हार्ट रेट के बारे में।

पुरुष

महिला

क्या आप खोज रहे हैं?

आपकी रेस्टिंग हार्ट रेट क्या है? (बीपीएम)

60

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/11/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड