home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

एस्ट्रोलॉजर के अनुसार लाइटिंग करने से होगा ये लाभ, क्या आप जानते हैं इस बारे में ?

एस्ट्रोलॉजर के अनुसार लाइटिंग करने से होगा ये लाभ, क्या आप जानते हैं इस बारे में ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी देशवासियों को 5 अप्रैल को रात नौ बजे 9 मिनट के लिए घरों की बाल्कनी में दिया, कैंडिल या मोबाइल फोन की लाइट के माध्यम से उजाला करने के लिए कहा है।प्रधानमंत्री ने कहा कि हम सभी इस माध्यम से संदेश दें कि संकट की इस घड़ी में देश गरीब तबके साथ खड़ा है। उन्होंने कहा कि कोरोना ने हमारी विचारधारा, आस्था और परंपरा पर हमला किया है। 5 अप्रैल (रविवार) को देश की जनता की महाशक्ति का जागरण करेंगे। यकीनन अपने चारों ओर सकारात्मक ऊर्जा को जगाने का ये अच्छा तरीका है लेकिन क्या आप इसके पीछे का अंक ज्योतिषी जानते हैं ? एस्ट्रोलॉजी के हिसाब से देखा जाए तो ये दिन वाकई में बहुत महत्वपूर्ण है। फेमस एस्ट्रोलॉजर जय मदान ने कैंडिल लाइट के पीछे एस्ट्रोलॉजी के गणित को समझाया है। अगर आपको भी एस्ट्रोलॉजी के अनुसार लाइटिंग का महत्व जानना है तो इस आर्टिकल को पढ़ें और जानिए कि कैसे लाइटिंग कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एक प्रभावी तरीका साबित हो सकता है।

और पढ़ें : कोरोना वायरस फैक्ट चेक: कोरोना वायरस की इन खबरों पर भूलकर भी यकीन न करना, जानें हकीकत

और पढ़ें : अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

एस्ट्रोलॉजी के अनुसार लाइटिंग का लॉजिक

एस्ट्रोलॉजर डॉ. जय मदान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मैसेज के बारे में बताते हुए कहती हैं कि प्रधानमंत्री ने रात को नौ बजे नौ मिनट के लिए दिया जलाने की बात ही क्यों की ? रविवार खास दिन है और इसके पीछे स्ट्रॉन्ग लॉजिक भी है। एस्ट्रोलॉजी एक प्रिडिक्टिव साइंस भी है, गाइडिंग साइंस भी है। जय मदान कहती हैं कि मोदी जी ये काम शाम को सात बजे भी करा सकते थे और आठ बजे भी, लेकिन उन्होंने रात को नौ बजे का वक्त ही क्यों चुना। एस्ट्रोलॉजर जय मदान कहती हैं कि नौ नंबर मार्स यानी मंगल का अंक है। नौ बजे और नौ मिनट के लिए यानी मंगल का दुगना प्रभाव होगा। मंगल को मजबूत बनाने से विल पावर मजबूत होता है। साथ ही आपके अंदर लड़ने की क्षमता आती है और ये आपकी इम्यूनिटी को भी स्ट्रॉन्ग करता है। स्ट्रॉन्ग मार्स की वजह से इंसान के अंदर की ताकत भी बढ़ती है।

पांच तारीख को चंद्रमा सिंह राशि में है।सिंह राशि से मतलब सूर्य की राशि से होता है। दिया जलाने से चंद्रमा को भी ताकत मिलेगी। इससे इंसानों के मन के साथ ही पूरे देश को भी ताकत मिलेगी। अभी काल सर्प योग चल रहा है जिसके कारण इंसान परेशान है। किसी को डॉक्टर के पास जाना पड़ रहा है तो किसी को मेंटल प्रॉब्लम से गुजरना पड़ रहा है। अगर आप रात में नौ बजे दिया जालाएंगे और साथ ही मंत्रो का जाप करेंगे तो साउंड एनर्जी क्रिएट होगी। लाइट और साउंड का कॉम्बिनेशन बहुत अच्छा माना जाता है। एस्ट्रोलॉजी के अनुसार लाइटिंग करने से न सिर्फ पॉजिटिव एनर्जी रिलीज होगी, बल्कि विल पावर भी मजबूत होगी।

और पढ़ें : कोरोना पर जीत हासिल करने वाली कोलकाता की एक महिला ने बताया अपना अनुभव

एस्ट्रोलॉजी के अनुसार लाइटिंग: ऐसे करें उजाला

एस्ट्रोलॉजर जय मदान कहती हैं कि मैं आपको लोगों को सलाह देती हूं कि आप दिया या फिर कैंडिल ही जलाएं। आप इलेक्ट्रॉनिक लाइट का यूज न करें तो ही बेहतर होगा क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक राहु को रिफलेक्ट करता है। हमे राहु की एनर्जी यानी अंधकार को कम करना है। अगर आप दिया जला रहे हैं तो सरसों के तेल का यूज करें।अगर आप घी का दिया जला रहे हैं तो उसमें थोड़ा सा कपूर जरूर डाले। तिल के तेल का दिया जला रहे हैं तो उसमे थोड़ा सा लौंग डाल सकते हैं। ऐसा करने से बीमारी को कंट्रोल करने में हेल्प मिलेगी। कैंडिल जला रहे हैं तो उसमे थोड़े से दाने ज्वार के डाल दें। ऐसा करने से राहु के प्रभाव को कम किया जा सकता है। ऐसा हम सभी देशवासियों को करना चाहिए। लाइटिंग के पीछे एस्ट्रोलॉजी को समझिए और फिर घर के सभी सदस्य मिलकर कुछ समय के लिए दीप जलाएं। एस्ट्रोलॉजी के अनुसार लाइटिंग करने से एक नहीं बल्कि बहुत से फायदे होंगे। कुछ समय निकालकर इसे किया जा सकता है।

एस्ट्रोलॉजी के अनुसार लाइटिंग : डर हो जाएंगे खत्म

एस्ट्रोलॉजर जय मदान के अनुसार, ‘पांच तारीख को जो 9 बजे ट्रांजिट की जो सिचुएशन होगी ( उस समय लिब्रा असेंडेंट होगा) उससे सारे डर खत्म हो जाएंगे और साथ ही परेशानी भी कम होगी। एस्ट्रोलॉजर जय मदान कहती हैं एस्ट्रोलॉजी आपको गाइड करने का काम करती है। ऐसा नहीं है कि बिना दवा के भी सही हुआ जा सकता है। अगर आपको बीमारी है तो उसका इलाज भी करवाना पड़ेगा और साथ ही आपको अपना ख्याल भी रखना पड़ेगा। आपको अंधविश्वास के तहत कोई काम नहीं करना है बल्कि एक लॉजिक, एक गणित के तहत दिया जलाना चाहिए। ऐसा करने से आपको अंदर सकारात्मक ऊर्जा का एहसास होगा। लाइटिंग के पीछे एस्ट्रोलॉजी को समझना बहुत जरूरी है। सरकार की तरफ से लोगों से अपील की गई है कि रात को नौ बजे केवल घर की एक लाइट ही बंद करें, न कि सभी होम एप्लाइसेंस को स्विच ऑफ करें।

और पढ़ें : कोरोना वायरस: महिलाओं और बच्चों में कोरोना वायरस का खतरा कम, पुरुषों में ज्यादा

कोरोना का अंत चाहते हैं, तो रखें ये सावधानी

एस्ट्रोलॉजी के अनुसार लाइटिंग कोरोना वायरस के खात्मे के लिए बेहतर विकल्प हो सकता है। लेकिन एक बात का ख्याल रखें कि बचाव का कदम सभी को मिलकर उठाना है। किसी एक व्यक्ति के प्रयास नहीं बल्कि सभी व्यक्तियों की सावधानी कोरोना का खात्मा कर सकती है। घर के अंदर रहकर देश के नागरिक होने की जिम्मेदारी को निभाएं और साथ ही कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें। घर में जिन सदस्यों को जानकारी नहीं आप उन्हें इन सावधानियों के बारे में जरूर बताएं। कोरोना का खात्मा सामूहिक प्रयास से ही संभव है।

  • सबसे पहली बात आपको जिसका ध्यान रखना है वो यह कि दिनभर में कई बार अपने हाथों को अच्छी तरह से धोएं
  • जरूरत पड़ने पर ही घर से बाहर कदम रखें। बेवजह लोगों से मिलने न जाएं। कहीं भी भीड़ न लगाएं।
  • आंखों, नाक और मुंह को छूने की गलती न करें।
  • घर से बाहर जा रहे हैं तो अपने मुंह और नाक को मास्क से अच्छी तरह कवर करें।
  • एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें।
  • मास्क को पीछे से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  • इस्तेमाल के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 06/11/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x