तो क्या भारत में कोरोना वायरस (coronavirus) पहुंच चुका है ? जानें बचाव के तरीके

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट June 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

चीन में फैले कोरोना वायरस के खतरे का असर अब भारत में भी दिखने लगा है। इस संक्रमण से अब तक 26 लोगों की मौत हो चुकी है। ये अब तक दुनिया भर के 830 लोगों को संक्रमित कर चुका है। हाल ही में भारत में कोरोना वायरस के मामले की जानकारी मिली है। महाराष्ट्र में पांच लोगों को लक्षणों के आधार पर डॉक्टरों की निगरानी में स्पेशल वार्ड में रखा गया है। पांच लोगों में से दो लोग करीब 48 घंटे पहले चीन से भारत वापस लौटे थे। उन्हें कुछ ही समय बाद कोल्ड के लक्षण दिखने लगे। माइल्ड कोल्ड को देखते हुए उन्हें तुरंत चिंचपोकली के कस्तूरबा हॉस्पिटल में डॉक्टर्स की निगरानी में रखा गया है। इस बारे में गुरुवार को आधिकारिक सूत्रों से जानकारी मिली है।

भारत में कोरोना वायरस का खतरा अधिक है क्योंकि चीन हमारा पड़ोसी देश है। वायरस अब तक कई देशों में फैल चुका है। ऐसे में भारत में कोरोना वायरस फैलने की संभावना बढ़ जाती है। भारत में कोरोना वायरस न फैले, उसके लिए हमें सतर्क रहने की जरूरत है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि कैसे कोरोना वायरस से बचा जा सकता है और क्या होते हैं इस वायरस के लक्षण।

और पढ़ें :  कोरोना की लड़ाई में क्यू आर कोड का इस्तेमाल कर रहा है चीन, जानें क्यों

भारत में कोरोना वायरस न फैले, इसलिए जांच है जरूरी

संदिग्ध पांच लोगों में से तीन लोग जोगेश्वरी, कल्याण और नालासोपारा से हैं, वहीं दो लोग पुणे के रहने वाले हैं। बीएमसी एक्जीक्यूटिव और हेल्थ ऑफिसर डॉ पद्मजा केस्कर ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि कल्याण और नालासोपारा के रहने वाले पैसेंजर्स ने माइल्ड कोल्ड और कफ के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वो चीन से लौटे हैं। हमने तुरंत उन्हें चेकअप के लिए डॉक्टरों की निगरानी में रखा है। हम जांच कर रहे हैं कि ये इंफेक्शन के लक्षण हैं या फिर नहीं।

health care color GIF by MFD

और पढ़ें :  पिज्जा डिलिवरी बॉय को हुआ कोरोना, क्या आप भी पिज्जा डिलिवरी बॉय के संपर्क में आ चुके हैं ?

वहीं राज्य महामारी रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रदीप अवाटे ने कहा है कि पेशेंट में कोरोना वायरस के लक्षण नहीं दिखाई दिए हैं। दो व्यक्ति चीन के वुहान से लौटे थे। इस वक्त चीन के वुहान में कोरोना वायरस का आतंक फैला हुआ है। कोरोना वायरस अब तक कई देशों में फैल चुका है जिसमें थाइलैंड, जापान, साउथ कोरिया और साउदी अरब शामिल है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मुंबई में रहने वाले दोनों व्यक्ति वुहान से करीब 1000 किमी दूर रह रहे थे। वो लोग मुंबई बुधवार को शाम चार बजे पहुंचे थे। अभी चेकअप के दौरान किसी भी तरह के कोरोना वायरस फैलने की जानकारी नहीं मिली है। सैंपल को पुणे नेशनल इंस्टूट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में भेज दिया गया है। महामारी रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रदीप अवाटे का कहना है कि भारत में कोरोना वायरस न फैले, इसके लिए मुंबई एयरपोर्ट में 18 जनवरी से वायरस से संक्रमित देशों से लौट रहे लोगों की एयरपोर्ट में जांच की जा रही है।

और पढ़ें : कोरोना वायरस के मुश्किल समय में जीवन रक्षक बन रही है भारतीय डाक सेवा

भारत में कोरोना वायरस : कैसे करें कोरोना से सुरक्षा

भारत में कोरोना वायरस फैलने का खतरा मंडरा रहा है। ऐसे में कोरोना से सावधानी और बचाव ही सबसे बेहतर उपाय है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से एजवाइजरी जारी की गई है। भारत में कोरोना वायरस को लेकर सरकार भी अब अलर्ट है। बीजिंग में भारतीय दूतावास ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। बेहतर होगा कि माइल्ड कोल्ड के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। छींक आना, शारीरिक थकान, खांसी, नाक बहना, बुखार, गले में दर्द, सांस फूलना, डायरिया आदि लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। इन लक्षणों को इसलिए भी हल्के में न लें क्योंकि कोरोना वायरस का नया प्रकार नोवल कोरोना वायरस फैल रहा है, जिसके बारे में साइंटिस्ट्स भी कम ही जानते हैं।कोरोनो को लेकर वैक्सीन की खोज चालू हो चुकी है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

घर से बाहर निकलें या विदेश यात्रा कर रहे हों तो इन बातों का ध्यान रखें

  • घर से बाहर निकलें तो मुंह पर मास्क का प्रयोग करके निकलें।
  • हैंड सेनेटाइजर का यूज करें
  • ट्रेवलिंग हो या फिर घर, छींकते या खांसते समय रुमाल का प्रयोग करें।
  • जिस भी व्यक्ति को जुखाम, बुखार और इंफेक्शन की समस्या हो, उससे दूरी बनाकर रखें।
  • अगर आपको इंफेक्शन के लक्षण नजर आ रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। बचाव ही वायरस को रोकने का बेहतर विकल्प है।
  • जो लोग चीन की यात्रा कर वापस आए हैं, उन्हें खास तौर पर अपने स्वास्थ्य पर ध्यान रखना चाहिए।
  • स्वास्थ्य के बारे में बारीकी से नजर रखें और उसमें जरा-सा भी बदलाव आने पर डॉक्टर को तुरंत दिखाएं।
  • चीन के साथ ही अन्य इंफेक्टेड देशों की यात्रा करने के दौरान या उसके बाद आपको छींक, खांसी, बुखार या शारीरिक थकान महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर की मदद लें।

घर के बाहर जाते समय रखें ध्यान

  • घर से बाहर जाने पर अपने साथ ताजा खाना रखें और बाहर का खाना न खाएं।
  • किसी से भी हाथ मिलाने से बचें और यदि जरूरी भी है तो हाथ मिलाने के बाद हाथों को साबुन से धोएं
  • खांसी और छींक से परेशान मरीज के पास न जाएं। ऐसे में खुद को सुरक्षित रखें और संक्रमण से बचें।
  • जानवरों के संपर्क से दूर रहें और मीट का सेवन भी कम करें।
  • सरकार की तरफ से जो भी एडवाइजरी जारी की जाए, उसका पालन करें।

भारत में कोरोना वायरस का क्यों हो सकता है खतरा?

कोरोना वायरस की पहचान 1937 में पक्षियों में फैले संक्रामक ब्रोंकाइटिस वायरस से की गई थी। कोरोना वायरस 15 से 30 प्रतिशत तक कॉमन कोल्ड के लिए जिम्मेदार होता है। पिछले करीब 70 सालों में साइंटिस्ट ने ये पाया है कि कोरोना वायरस चूहों, कुत्तों, बिल्ली, घोड़ों, सुअर और कैटल्स को भी संक्रमित कर सकता है। नोवल कोरोना वायरस के लक्षणों को लेकर सबसे पहले चीन ने पिछले साल 31 दिसंबर को WHO को सूचना दी थी। इसके कई मामले वुहान में देखे गए थे। इसके बाद इसे (2019-nCoV) नाम दिया गया है। यह वायरस इसलिए भी खतरनाक हो जाता है क्योंकि यह सार्स और मार्स इंफेक्शन की फैमिली से ही संबंध रखता है। चीन का पड़ोसी देश होने की वजह से भारत पर भी इस वायरस का खतरा है।

भारत में कोरोना वायरस को लेकर लोग सतर्क हो गए है, बेहतर होगा कि आप अधिक जानकारी हासिल करें और वायरस से बचने के लिए उचित प्रयास करें। भारत के डॉक्टर्स ने लोगों को कोरोना से बचाव के लिए सावधानी रखने की सलाह दी है।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार मुहैया नहीं कराता।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

फिर से खुल रहे हैं स्कूल! जानें COVID-19 के दौरान स्कूल जाने के सेफ्टी टिप्स

COVID-19 के दौरान स्कूल लौटने के लिए सेफ्टी टिप्स in Hindi, school reopen guidelines covid-19 safety tips in Hindi, सेफ्टी टिप्स की गाइडलाइन।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
हेल्थ न्यूज, स्वास्थ्य September 8, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें

फीवर में डायट: क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

अक्सर गलत डायट बीमारी को बढ़ा देती है, इसलिए फीवर को हल्के में न लें और फीवर में डायट के बारे में सही जानकारी लें। Fever diet in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
स्पेशल डायट, आहार और पोषण September 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Allercet Cold Tablet : अल्लर्सेट कोल्ड टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

अल्लर्सेट कोल्ड टैबलेट की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, लिवोसिट्रिजिन, पैरासिटामोल और फेनिलफ्रिन दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Allercet Cold Tablet

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
दवाइयां और सप्लिमेंट्स A-Z August 27, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

सीरो सर्वे को लेकर क्यों हो रही है चर्चा, जानें एक्सपर्ट से इसके बारे में सबकुछ

सीरो सर्वे क्या है, एंटीबॉडी टेस्ट क्यों किया जाता है, एंटीबॉडी टेस्ट कैसे करते हैं, कोरोना में सीरो सर्वे, आईसीएमआर की गाइडलाइन, Sero survey antibody test Covid-19, ICMR.

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Recommended for you

हर्पीस सिम्पलेक्स वायरस, Herpes Simplex virus

Herpes Simplex: हार्पीस सिम्पलेक्स वायरस से किसको रहता है ज्यादा खतरा?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ February 5, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 वैक्सीन-COVID-19 vaccine

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ December 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
हाथों की सफाई, hand wash

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ October 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ September 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें