home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जानें भारत में कोरोना संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या पर क्या कहती है रिसर्च, सामने आए कुछ तथ्य

जानें भारत में कोरोना संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या पर क्या कहती है रिसर्च, सामने आए कुछ तथ्य

भारत में कोरोना काफी तेजी से बढ़ रहा है। संक्रमितों संख्या की प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, जोकि 5 जून 2020 तक 2,26,859 पहुंच गई है। ये भारत के लिए काफी भयावह है, इसी तरह से अगर कोरोना संक्रमितों के मामले रोजाना बढ़ते रहें तो भारत की स्थिति बद से बदतर हो जाएगी। इसी बीच चीन की एक स्टडी के मुताबिक जहां इस वक्त भारत में कोरोना संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या लगभग आठ हजार है, वहीं ये संख्या जून महीने के बीच और अंत तक 15,000 प्रतिदिन की हो जाएगी। ये स्थिति बहुत ही डराने वाली है। आइए जानते हैं कि भारत में कोरोना संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या का ग्राफ क्या है और इसे कैसे कम किया जा सकता है।

और पढ़ें : कम समय में कोविड-19 की जांच के लिए जल्द हो सकती है नई टेस्टिंग किट तैयार

भारत में संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या पर क्या कहती है रिसर्च?

संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या

दुनिया भर में कोरोना संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या पर चीन की लैंझू यूनिवर्सिटी ने नजर बना कर रखी है। 180 देशों का रोजाना ‘ग्लोबल कोविड-19 प्रीडिक्ट सिस्टम’ के तहत रोजाना कोरोना से संक्रमित लोगों का आंकड़ा दर्ज किया जा रहा है। रिसर्चर्स ने 2 जून को 9,291 कोरोना के मरीज भारत में आने की घोषणा की थी। दो जून को भारत सरकार की तरफ से जारी रिपोर्ट में 8,821 नए कोरोना के मरीज मिलें। ये 24 घंटे में पाए जाने वाले कोरोना मरीजों में अब तक सबसे बड़ा आंकड़ा था। इसी क्रम में ये आंकड़ें तीन जून को 9,676 होने की भविष्यवाणी की गई थी, जो 9,633 रही और चार जून को 10,078 नए मामाले आने की घोषणा की गई थी। ये आंकड़ा 9,988 रहा। इसी तरह से कोरोना के नए मरीजों के बढ़ते हुए ग्राफ को देखते हुए 15 जून तक कोरोना संक्रमितों की प्रतिदिन की संख्या 15,000 से ज्यादा हो जाएगी।

और पढ़ें : जाने क्यों कोरोना के इलाज के लिए एजिथ्रोमाइसिन (azithromycin) हो सकती है प्रभावी?

संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या

वहीं, इसी रिसर्च में ये बात सामने आई है कि अमेरिका में भारत की तुलना में कोरोना के मामले दोगुने हो जाएंगे। 15 जून तक अमेरिका में रोजाना 30,000 नए कोरोना मरीज सामने आएंगे।

भारत में मरने वालों की संख्या में भी हुआ इजाफा

संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या

जहां एक तरफ भारत सरकार के हवाले से बार-बार कहा जा रहा है कि भारत में रिकवरी रेट ज्यादा और डेथ रेट कम है। वहीं, बीते कुछ दिनों में से आंकड़े भी बदलते दिखाई दिए। इसमें कोई दो राय नहीं है कि भारत में कोरोना मरीजों की रिकवरी रेट अन्य देशों से बहुत अच्छी है। लेकिन बीते चार दिनों में कोरोना से मरने वालों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। पिछले चार दिनों के आंकड़ें निम्न हैं :

संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या

इस तरह से देखा जाए तो 200 से ज्यादा लोगों की मौत हो रही है। अभी तक भारत में 6,363 लोगों ने कोरोना के कारण अपना दम तोड़ दिया है।

और पढ़ें : डब्लूएचओ की तरफ से हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन की ट्रायल पर ग्रीन सिग्नल, मिल सकती है कोरोना मरीजों को राहत

भारत में रिकवरी रेट क्या है?

संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या

भारत में संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या के बीच रिकवरी रेट थोड़ी राहत देती है। क्योंकि भारत की रिकवरी रेट अन्य देशों की तुलना में काफी अच्छी है। जून में पिछले चार दिनों निम्न रिकवरी रेट रही :

  • 1 जून को 94.47% रिकवरी रेट रही
  • 2 जून को 94.51% रिकवरी रेट रही
  • 3 जून को 94.47% रिकवरी रेट रही
  • 4 जून को 94.46% रिकवरी रेट रही

और पढ़ें : लॉकडाउन में डॉग ट्रेनिंग कैसे करें, जानें आसान टिप्स

भारत में डेथ रेट क्या है?

भारत में संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या की तुलना में डेथ रेट कम है। इसे ऐसे समझिए कि जब कम लोग कोरोना संक्रमित थे तो उनमें मरने वालों की प्रतिशत में गणना ज्यादा थी, जबकि संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या की तुलना में मरने वालों की संख्या लगभग पांच फीसदी हो कर रह गई है। जून के महीने में पिछले चार दिनों का डेथ रेट निम्न है :

  • 1 जून को 5.53% डेथ रेट रही
  • 2 जून को 5.49% डेथ रेट रही
  • 3 जून को 5.53% डेथ रेट रही
  • 4 जून को 5.54% डेथ रेट रही

इस तरह से अगर आसाम भाषा में समझा जाए तो 100 कोरोना मरीजों में से लगभग पांच या उससे कम लोगों की जान जा रही है।

और पढ़ें : किडनी मरीजों को कोविड-19 से कितना खतरा? जानिए भारत के किडनी विशेषज्ञ डॉक्टरों की राय

भारत में संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या का कारण क्या है?

दि न्यूयॉर्क टाइम्स ने सभी देशों पर किए कोरोना के मामलों पर एक सर्वे किया, जिसमें भारत को लेकर अहम बातें कहीं। भारत में लॉकडाउन लगाना एक प्रशंसनीय कदम था, लेकिन बावजूद इसके कोरोना के मामले तेजी से बढ़ें। महाराष्ट्र और दिल्ली में कोरोना के मरीजों की संख्या सबसे ज्यादा पाई गई है, इसके लिए भारत की जलवायु और जनसंख्या जिम्मेदार है। भारत में मॉनसून ने दस्तक दे दी है और ऊपर से ओडिशा और बंगाल में अम्फन साइक्लोन और मुंबई में साइक्लोन ‘निसर्ग’ ने कोरोना के मामलों को बढ़ावा दिया।

दूसरी तरफ देखा जाए तो लॉकडाउन में ढील मिलने के बाद लोगों में कोरोना का डर कम हो गया और कोरोना से बचने कि नियमों को फॉलो नहीं कर रहे हैं। भारत में संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या के पीछे की एक वजह ये भी है। इसलिए सिर्फ 10 दिनों में कोरोना के मरीजों की संख्या दोगुनी हुई है।

संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या को कम करने के लिए क्या करें?

भारत में संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या को कम करने के लिए हर एक व्यक्ति को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या को कम करने के उपाय के बारे में जानने से पहले ये समझते है कि कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ने के लिए कौन से चार फैक्टर्स जिम्मेदार हैं :

  • आप कोरोना संक्रमित व्यक्ति से कितने पास से मिले हैं?
  • आप कोरोना संक्रमित व्यक्ति से कितने दूर से गुजरे हैं?
  • क्या उस दौरान संक्रमित व्यक्ति के वायरल ड्रॉपलेट्स आपके संपर्क में आए हैं?
  • आपने कितने बार अपने चेहरे या चेहरे के अंगों को छुआ है?

उपरोक्त बताई गई सभी वजहों से भारत में संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या देखी जा रही है। इसके लिए निम्न नियमों को फॉलो कर के इस संख्या को कम किया जा सकता है :

  • सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना बहुत जरूरी है, घर के बाहर लोगों से कम से कम छह फीट की दूरी बनाए रखें।
  • हर आधे से एक घंटे पर अपने हाथों को धुलते रहें। आप जब भी घर से बाहर जाएं तो 70% एल्कोहॉल से बना हुआ सैनिटाइजर का इस्तेमाल आप करते रहें। वहीं घर वापस आने के बाद बिना किसी चीज को छूए, 20 सेकेंड तक अच्छे से हाथ और नाखूनों को साफ करें।
  • चेहरे को छूने से बचें। जब आप अपने गंदे हाथों से आंख, नाक और मुंह को छूते हैं तो आप कोरोना से संक्रमित हो सकते हैं।
  • हमेशा चेहरे पर मास्क लगा कर रखें। खास कर के जब आप बाहर जाएं तो चेहरे पर मास्क लगाकर रखें। इससे आप किसी भी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने पर कोरोना के संक्रमण से बच सकते हैं।

बस अंत में यही कहना है कि घबराने की जरूरत नहीं है, आपकी समझदारी और बचाव ही आपको कोरोना के संक्रमण से बचा सकता है। इसलिए आप ऊपर बताए गए सभी रोकथाम को अपनाएं। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई मेडिकल जानकारी और इलाज मुहैया नहीं कराता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Total Coronavirus Cases in India https://www.worldometers.info/coronavirus/country/india/ Accessed on 5/6/2020

New system forecasts COVID-19 around world http://en.nhc.gov.cn/2020-05/28/c_80512.htm Accessed on 5/6/2020

Propagation analysis and prediction of the COVID-19 https://doi.org/10.1016/j.idm.2020.03.002 Accessed on 5/6/2020

Daily new confirmed COVID-19 deaths https://ourworldindata.org/coronavirus Accessed on 5/6/2020

लेखक की तस्वीर badge
Shayali Rekha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 05/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x