home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

भारत में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या में कमी, लेकिन मृत्यु दर अधिक क्यों है?

भारत में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या में कमी, लेकिन मृत्यु दर अधिक क्यों है?

कोरोना वायरस महामारी के कारण पूरी दुनिया त्रस्त है। अमेरिका, इंगलैंड, चीन, इटली, स्पेन जैसे देशों में कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। रोजाना इन देशों से सैकड़ों, हजारों लोगों के मरने की खबर भी आ रही है। नया आंकड़ा यह बताता है कि कोरोना वारयस की मार के कारण दुनिया भर में मरने वाले लोगों की संख्या दो लाख के पास पहुंच चुकी है। भारत भी कोरोना की मार झेल रहा है, लेकिन भारत की स्थिति दुनिया के दूसरे देशों से कुछ अलग है। यहां कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्या में तो कमी आ रही है, लेकिन कोरोना वायरस से होने वाली मृत्यु दर अधिक है।

कोरोना वायरस से मृत्यु दर : भारत में यहां पहुंची कोविड-19 रोगियों की संख्या

भारत में अब तक कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्या 22 हजार के पास पहुंच चुकी है और इससे 681 लोगों की मौत हो चुकी है। वर्ल्डोमीटर के इस चार्ट को देखकर आप भारत में कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्या के बारे में अच्छी तरह जान पाएंगे।

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस के लक्षण तेजी से बदल रहे हैं, जानिए कोरोना के अब तक विभिन्न लक्षणों के बारे में

इस दूसरे चार्ट से आप भारत में कोरोना वायरस संक्रमण और मृत्यु दर को समझेंगे।

ये भी पढ़ेंः फार्मा कंपनी ने डोनेट की 34 लाख हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन टैबलेट्स, ऐसे होगा इस्तेमाल

कोरोना वायरस से मृत्यु दर : भारत की स्थिति दूसरे देशों से अलग

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, अमेरिका, इंगलैंड, चीन, इटली, स्पेन आदि देशों में कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्या जितनी तेजी से बढ़ी, उतनी ही तेजी से लोगों की मौत भी हुई है। इसके विपरीत भारत में ऐसा नहीं देखा गया। भारत में कोविड-19 मरीजों की संख्या में कमी देखने को मिली, लेकिन कोरोना से होने वाली मृत्यु दर दूसरे देशों की तरह ही है। एक मीडिया ग्रुप के इस ग्राफ में आप कोरोना संक्रमण से भारत में होने वाली मृत्यु दर को जानेंगे।

ये भी पढ़ेंः कहीं सब्जियों के साथ आपके घर न पहुंच जाए कोरोना वायरस, बरतें ये सावधानियां

कोरोना वायरस से मृत्यु दर : देश में हर राज्य में हो रही मरीजों की मौत

कोरोना वायरस से होने वाली मृत्यु दर का पता लगाने का कुछ विशेष बातों का ध्यान रखा जाता है। इसमें यह देखा जाता है कि कोविड-19 संक्रमित जितने मरीज हॉस्पिटल में भर्ती हुए, उनमें से कितने लोग स्वस्थ हुए और कितने लोगों की मृत्यु हुई। मृत्यु दर से बीमारी की गंभीरता का भी पता लगाया जाता है। इससे यह भी पता चलता है कि कोरोना महामारी का प्रकोप अभी भी बढ़ रहा है या नहीं। यहां दिए गए चार चार्ट से आप भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या और मृत्यु दर की जानकारी पा सकते हैं। ये आंकड़े बताते रहे हैं कि भारत में मरने वाले लोगों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही है।

इसमें 7 दिनों की औसत वृद्धि दर को दिखाया गया है। आप इस चार्ट में देखेंगे कि कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में एक दिन में बढ़ी हुई है, तो दूसरे दिनों में मरीजों की संख्या सामान्य या फिर कम हुई है।

यह ग्राफ लॉकडाउन से पहले और लॉकडाउन के बाद की स्थिति को बता रहा है। इसमें 20 अप्रैल तक का आंकड़ा दिखाया गया है। इससे आपको पता चलेगा कि लॉकडाउन के बाद कोरोना वायरस से संक्रमण की दर धीमी हुई है।

सभी ग्राफ में आपने देखा कि भारत में संक्रमित रोगियों की संख्या दूसरे देशों से कम जरूर है, लेकिन कोरोना का मार लोगों की जान के घातक सिद्ध हो रहा है।

ये भी पढ़ेंः कोरोना से होने वाली फेफड़ों की समस्या डॉक्टर्स के लिए बन रही है पहेली

कोरोना वायरस से मृत्यु दर : भारत में रिकवरी रेट दूसरे देशों से बेहतर

भारत में भले ही कोविड-19 संक्रमित के कारण 681 लोगों की मौत हो चुकी है, लेकिन सबसे अच्छी बात यह है कि कोरोना संक्रमित 4376 मरीज इलाज के बाद ठीक भी हो गए हैं। यह आंकड़ा बताता है कि दूसरे देशों की तुलना में भारत में संक्रमित मरीज का रिकवरी रेट बेहतर है।इस दूसरे ग्राफ से आप जानेंगे कि दूसरे देशों में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या कितनी बढ़ी और भारत की तुलना में दूसरे देशों की रिकवरी रेट कितनी है।

पश्चिमी देशों की तुलना में भारत में कोविड-19 संक्रमित मरीजों की रिकवरी रेट बेहतर है। यहां हर 10 मरीज में से 8 मरीज ठीक हो रहे हैं, जबकि केवल 2 मरीजों की ही मौत हो रही है। इस हिसाब से विश्व में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की 79.1% है, तो भारत में यह 83.6% है।

COVID-19 Outbreak updates
Country:India
Data

1,435,453

Confirmed

917,568

Recovered

32,771

Death
Distribution Map

ये भी पढ़ेंः कोरोना का प्रभाव: जानिए 14 दिनों में यह वायरस कैसे आपके अंगों को कर देता है बेकार

कोरोना वायरस से मृत्यु दर : रिकवरी रेट में केरल दूसरे राज्यों से बेहतर

अगर भारत में राज्यों की तुलना की जाए, तो केरल का रिकवरी रेट सभी राज्यों में सबसे बेहतर रहा है। केरल में 100 मरीजों का औसतन रिकवरी रेट 1.1% है, जो दुनिया में सबसे अच्छा है।

कोरोना वायरस से मृत्यु दर-corona fatality rate is rising

ये भी पढ़ेंः कोविड-19 के इलाज के लिए 100 साल पुरानी पद्धति को अपना रहे हैं डॉक्टर, जानें क्या है प्लाज्मा थेरेपी

कोरोना वायरस से मृत्यु दर : गुजरात में संक्रमित मरीजों की बढ़ रही संख्या

गुजरात एक ऐसा राज्य है, जहां कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 18.3% की औसत सेबढ़ रही है। 50 संक्रमित मरीजों का अध्ययन करके यह आंकड़ा तैयार किया गया है। भारत के दूसरे राज्यों का पिछले सात दिनों तक अध्ययन किया गया। अध्ययन में यह मिला कि सिर्फ गुजरात ही नहीं, बल्कि एमपी, यूपी, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में भी संक्रमित मरीजों की संख्या रोज दहाई का आंकड़ा पार कर रही है।

कोरोना वायरस से मृत्यु दर-corona fatality rate is rising

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस : किन व्यक्तियोंं को होती है जांच की जरूरत, अगर है जानकारी तो खेलें क्विज

कोरोना वायरस से मृत्यु दरः दिल्ली और राजस्थान में मरीजों की संख्या में कमी

बीते सात दिनों में दिल्ली, राजस्थान, बिहार, जम्मू-कश्मीर में कोरोना मरीजों की संख्या कमी देखने को मिली। कर्नाटक, तेलांगाना, आंध्रप्रदेश में भी पहले से संक्रमित मरीजों की संख्या कम हो रही है। इन राज्यों की सरकार ने कोरोना पर नियंत्रण पाने के लिए बेहतर उपाय किए हैं, जिसका असर अब हो रहा है।

कोरोना वायरस से मृत्यु दर-corona fatality rate is rising

ये भी पढ़ेंः सावधान ! क्या आप कोरोना वायरस के इन लक्षणों के बारे में भी जानते हैं? स्टडी में सामने आई ये बातें

अब आप यह समझ गए होंगे कि भारत में कोविड-19 संक्रमित मरीजों की संख्या में कमी तो हो रही है, लेकिन कोरोना संक्रमण के कारण मृत्यु दर में बढ़ोतरी भी हो रही है, जो चिंता की बात है। आपने यह भी देखा कि भारत में कोरोना के प्रकोप के शुरुआती समय में संक्रमित मरीजों की संख्या कितनी कम थी और अब यह धीरे-धीरे बढ़ रही है। हालांकि कुछ राज्यों ने बेहतर उपाय करके कोरोना संक्रमण को जरूर कम करने में सफलता पाई है, लेकिन मृत्यु दर में बढ़ोतरी बीमारी की गंभीरता बता रही है। उम्मीद है कि दूसरे राज्य भी केरल से सीखेंगे और कोरोना की मार से खुद को उबारने में सफल हो सकेंगे।

ये भी पढ़ेंः कोरोना वायरस के बारे में सोशल मीडिया में फैल रही इन 10 बातों पर न करें यकिन

जिस तरह भारत में कोरोना का संक्रमण कम हो रहा है, आशा है कि उसी तरह मृत्यु दर में कमी आएगी। इसके लिए आपको भी पूरी तरह सचेत रहना है। कोरोना महामारी मुख्य रूप से संक्रमित मरीज के संपर्क में आने से फैलती है। इसलिए संक्रमित मरीज से दूर रहें। छींकते और खांसते समय मास्क का उपयोग करें। सरकार के साफ-सफाई के अलावा अन्य निर्देशों का पूरी तरह पालन करें। ऐसा करके ही कोरोना संक्रमण से होने वाली मृत्यु दर को कम किया जा सकता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ेंः

क्या एक ही व्यक्ति को दोबारा हो सकता है कोरोना वायरस का संक्रमण?

कॉन्टैक्ट लेंस से कोविड-19 के संक्रमण का खतरा! जानिए एक्सपर्ट की राय

अगर आपका इलाका भी हो भी रहा सैनिटाइज, तो इन बातों का रखें ख्याल

Corona Virus Fact Check: आखिर कैसे पहचानें कोरोना वायरस की फेक न्यूज को?

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

All accessed on 23/04/2020

1.Novel Corona Virus – https://www.mohfw.gov.in/
2.Worldometer- https://www.worldometers.info/coronavirus/country/india/
3.Coronavirus-https://www.who.int/health-topics/coronavirus-
2.Coronavirus disease (COVID-19) Pandemic –https://www.who.int/emergencies/diseases/novel-coronavirus-2019
3.India ramps up efforts to contain the spread of novel coronavirus-https://www.who.int/india/emergencies/novel-coronavirus-2019
4.#IndiaFightsCorona COVID-19 –https://www.mygov.in/covid-19

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Suraj Kumar Das द्वारा लिखित
अपडेटेड 23/04/2020
x