home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोरोना का अंत : रखनी पड़ेगी पूरी सावधानी, एस्ट्रोलॉजर के अनुसार जानिए कब तक होगा कोरोना का खात्मा ?

कोरोना का अंत : रखनी पड़ेगी पूरी सावधानी, एस्ट्रोलॉजर के अनुसार जानिए कब तक होगा कोरोना का खात्मा ?

भारत के पड़ोसी देश चीन से फैला कोरोना वायरस पूरी दुनिया को संक्रमित कर चुका है। फिलहाल लोगों के मन में बस एक ही सवाल है कि कोरोना का अंत कब तक होगा ? कोरोना के संक्रमण के कारण लोगों का जीवन मानों रुक-सा गया हो। हमारे जीवन में घटित होने वाली घटानाओं में ग्रहों का भी महत्वपूर्ण योगदान होता है। पूरी दुनिया में फैले इस संक्रमण का कारण भी ग्रहों की दशा से जोड़ा जा सकता है। एस्ट्रोलॉजी के हिसाब से कोरोना का संक्रमण फैलने के पीछे ग्रहों की वर्तमान स्थितियां हैं। कोरोना वायरस के लिए मुख्य रूप से ग्रह जिम्मेदार बताएं जा रहे हैं। इस बारे में हैलो स्वास्थ्य ने दिल्ली की एस्ट्रो एंड वास्तु एक्सपर्ट रिद्धि बहल से बातचीत की। अगर आप एस्ट्रोलॉजी पर यकीन करते हैं तो इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि कब तक होगा कोरोना का अंत और कितनी जरूरी हैं सावधानियां।

यह भी पढ़ें: अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

कोरोना का अंत : इन ग्रहों का दिख रहा है असर

एस्ट्रो एंड वास्तु एक्सपर्ट रिद्धि बहल ने हैलो स्वास्थ्य को कोरोना महामारी के बारे में बताते हुए कहा कि महामारी के लिए दो ग्रह राहु और केतु मुख्य रूप से जिम्मेदार हैं। राहु और केतु दोनों ही ग्रह वायरस और बैक्टीरिया से होने वाले इंफेक्शन और किसी अचानक से उत्पन्न होने वाली बीमारी का कारण माने जाते हैं। वहीं बृहस्पति ग्रह को शुभ ग्रह माना जाता है। बृहस्पति ग्रह जीवन दायनी ग्रह होता है। बृहस्पति ग्रह का राहु या फिर केतु के साथ मिलन दुनिया भर में महामारी का कारण बन रहा है। ऐसा मान जाता है कि बृहस्पति ग्रह का संयोग जब केतु के साथ होता है तो किसी संक्रामक बीमारी का समाधान आसानी से नहीं हो पाता है, जबकि बृहस्पति ग्रह के राहु के साथ संयोग होने पर ऐसे बीमारी का इलाज मिल जाता है। बृहस्पति ग्रह का केतु के साथ संयोग 26 दिसंबर 2019 को हुआ था जिस कारण से कोरोना वायरस की बीमारी का इलाज नहीं मिल पा रहा है।

यह भी पढ़ें: शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाकर कोरोना वायरस से करनी होगी लड़ाई, लेकिन नींद का रखना होगा खास ध्यान

तो कब तक होगा कोरोना का अंत ?

एस्ट्रो एंड वास्तु एक्सपर्ट रिद्धि बहल के अनुसार ‘ केतु पहले धनु राशि में था लेकिन नवंबर में ही बृहस्पति का प्रवेश भी धनु राशि में हो गया और फिर बृहस्पति और केतु एक साथ आ गए। इन ग्रहों का असर 26 दिसंबर 2019 में साफ तौर पर दिखाई दिया। 26 दिसंबर को पड़ने वाले सूर्य ग्रहण में छह ग्रहों का संयोग बना जिसके कारण निगेटीविटी अधिक हो गई। यहीं कारण है कि चीन में फैला वायरस पूरी दुनिया में फैलने लगा और महामारी का रूप ले लिया। रिद्धि बहल कहती हैं कि रातों रात सिचुएशन नहीं बदल जाएंगी। हालात को बदलने में थोड़ा समय लगेगा। 14 अप्रैल को सूर्य मेष राशि में जा रहा है इस कारण से हालात में थोड़ा बदलाव होगा। लेकिन हालात पूरी तरह से नहीं सुधरेंगे। 10 से 15 मई के बीच तीन ग्रह ( शनि, गुरू और शुक्र) वक्रीय होने जा रहे हैं। इस कारण से स्थितियों में ज्यादा बदलाव महसूस होंगे। वहीं, 20 मई को राहु अपना दिशापरिवर्तन करेगा, जिसके कारण से खराब हालात में सुधार होगा। यानी ये कहा जा सकता है कि मई का महीना राहत लेकर आ सकता है। लोगों को फिलहाल सरकार की ओर से जारी किए गए दिशा-निर्देशों का पूरी तरह से पालन करना चाहिए। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से ख्याल रखना बहुत जरूरी है। अगर आपके ग्रह मजबूत हो लेकिन आप सावधानी न रखें तो आपको खतरे का सामना करना पड़ सकता है। बेहतर रहेगा कि आप अपना पूरा ख्याल रखें।

पहले भी बन चुके हैं ग्रहों के ऐसे योग

एस्ट्रो एंड वास्तु एक्सपर्ट रिद्धि बहल कहती हैं कि ऐसा नहीं है कि ग्रहों का ऐसा योग पहली बार बन रहा हो। ग्रहों का ऐसा योग साल 2005 में भी बना था जब बर्डफ्लू नामक बीमारी फैली थी। साथ ही 1993 में जब एड्स का वायरस फैला था, तब भी यही योग था। एड्स वायरस की आज तक दवा नहीं बन सकी है लेकिन बचाव ही उसका उपाय है। जब भी बृहस्पति-केतु का योग बनता है, विश्व में संक्रामक बीमारियां बढ़ने लगती हैं। स्पैनिश फ्लू महामारी के दौरान भी इसी तरह का योग बना था। कोरोना का अंत सभी लोग चाहते हैं, लेकिन इस महामारी को रोकने के लिए सभी को अपनी तरफ से प्रयास करने होंगे।

यह भी पढ़ें: दिल्ली और मुंबई ने लॉकडाउन व सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं किया सख्ती से पालन!

कोरोना का अंत चाहते हैं तो रखें ये सावधानी

ऐस्ट्रोलॉजी के अनुसार कुछ समय बाद कोरोना वायरस की महामारी खत्म हो जाएगी। लेकिन एक बात का ख्याल रखें कि बचाव का कदम सभी को मिलकर उठाना है। किसी एक व्यक्ति के प्रयास नहीं बल्कि सभी व्यक्तियों की सावधानी कोरोना का खात्मा कर सकती है। घर के अंदर रहकर देश के नागरिक होने की जिम्मेदारी को निभाएं और साथ ही कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें। घर में जिन सदस्यों को जानकारी नहीं आप उन्हें इन सावधानियों के बारे में जरूर बताएं। कोरोना का खात्मा सामूहिक प्रयास से ही संभव है।

  • दोनों हाथों को पानी व साबुन से अच्छी तरह से साफ करें
  • भीड़भाड़ वाली जगह न जाएं।
  • चेहरे को जितना हो सके, छूने से बचें
  • अगर आपको छींक या खांसी आ रही है, तो अपने मुंह और नाक को किसी टिश्यू पेपर या फिर कोहनी को मोड़कर ढकें। साथ ही टिशू पेपर को तुरंत डस्टबिन में फेंक दें। अगर रुमाल का यूज कर रहे हैं तो उसे भी साफ रखें।
  • अगर आपको बुखार, खांसी या सांस लेने में दिक्कत हो रही है, तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से मिलें।
  • अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर व डॉक्टर की हर सलाह मानें और पूरी जानकारी प्राप्त करते रहें।
  • अगर आप मास्क का उपयोग करते हैं, तो उस लगाने से पहले अपने हाथों को एल्कोहॉल बेस्ड हैंड रब या फिर साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं।
  • एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें।
  • मास्क को पीछे से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  • अपने मुंह और नाक को मास्क से अच्छी तरह कवर करें कि उसमें किसी भी तरह का गैप न रहे।
  • इस्तेमाल के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

(Accessed on 4/3/2020)

Outbreak Trends of Coronavirus Disease-2019 in India: A Prediction. – https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/32317044

COVID-19 Forecasts – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/covid-data/forecasting-us.html

Coronavirus – https://www.who.int/health-topics/coronavirus

Coronavirus (COVID-19) – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/index.html

Coronavirus (COVID-19) – https://www.nhs.uk/conditions/coronavirus-covid-19/ 

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Pooja Daphal के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित
अपडेटेड 03/04/2020
x