गंजे पुरुषों को ज्यादा है कोरोना का खतरा, जानें क्या कहती है रिसर्च 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट June 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

दुनियाभर में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए कई वैक्सीन और दवाओं पर तरह-तरह की रिसर्च चल रही हैं। सोशल डिस्टेंसिंग और तमाम एहतियातों के बावजूद भी कोविड-19 का खतरा बढ़ता ही जा रहा है। दिन पर दिन कोरोना पेशेंट्स की संख्या बढ़ती ही जा रही है। भारत में यह संख्या ढाई लाख से भी ऊपर पहुंच गई है। ऐसे में हर दिन कोरोना से बचाव के लिए रिसर्च हो रही है। इन शोधों से कई तरह के फैक्ट्स भी सामने आ रहे हैं। कोरोना के बदलते लक्षण से लेकर इसके रिस्क फैक्टर्स में कई तरह के बदलाव देखने को मिले हैं। इस ही बीच एक यह रिसर्च सामने आई है कि गंजे पुरुषों में कोरोना का खतरा ज्यादा होता है। आपको बता दें कि यह स्टडी अमेरिका की ब्राउन यूनिवर्सिटी के एक रिसर्चर ने की है।

क्या कहती है रिसर्च?

ब्राउन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता का मानना है कि गंजे पुरुषों में कोरोना का खतरा अधिक एंड्रोजन की वजह से होता है। एंड्रोजन हार्मोन का समूह जो पुरुषों में बालों के झड़ने का कारण बनता है। मेल बाल्डनेस, कोविड-19 के गंभीर मामलों से जुड़ा हुआ हो सकता है। शोधकर्ता का दावा है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में कोरोना संक्रमण से मरने वाले पहले अमेरिकी फिजिशियन का नाम डॉ फ्रैंक ग्राबिन था और वे गंजे थे। इसलिए, शोधकर्ता का मानना है कि उनकी इस खोज को “गैब्रिन साइन” के नाम से जाना जाना चाहिए।

और पढ़ें : कम समय में कोविड-19 की जांच के लिए जल्द हो सकती है नई टेस्टिंग किट तैयार

कोरोना का खतरा और पुरुषों में गंजापन

वैम्बियर और उनकी टीम ने स्पेन में कोरोना का खतरा और मेल बाल्डनेस पर दो अध्ययन किए। कार्लोस वैम्बियर के पहले अध्ययन में पाया गया कि स्पेनिश अस्पतालों में कोविड-19 के साथ जांचे गए 41 रोगियों में से 71% पुरुष गंजे थे। जर्नल ऑफ द अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी में प्रकाशित एक दूसरे अध्ययन में पाया गया कि मैड्रिड के अस्पतालों में 122 पुरुष कोरोना वायरस रोगियों में से 79% गंजे थे। रिसर्च के प्रमुख लेखक डॉ कार्लोस वैम्बियर ने कहा कि, ”गंजेपन और कोरोना की गंभीर स्थिति के बीच में संबंध है।” इसे गंभीरता से लेना चाहिए। शोधकर्ता का दावा है कि उसने रिसर्च में पाया है कि, गंजे पुरुषों में कोरोना के गंभीर संक्रमण का खतरा सबसे अधिक है।

COVID-19 Outbreak updates
Country: India
Data

1,435,453

Confirmed

917,568

Recovered

32,771

Death
Distribution Map

एंड्रोजन और कोरोना का खतरा

मेल सेक्स हार्मोन एंड्रोजन बालों के झड़ने का कारण बनता है और कोशिकाओं पर हमला करने के लिए कोरोना वायरस की क्षमता बढ़ा सकता है। इसका मतलब है कि हार्मोन-सप्रेसिंग ड्रग्स का इस्तेमाल संभवतः कोविड -19 की प्रगति को धीमा करने के लिए किया जा सकता है।

प्रोस्टेट कैंसर का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं पर अध्ययन को एक संभावित उपचार पद्धति के रूप में देखा गया है। हालांकि, मैथ्यू रेटिग, यूसी लॉस एंजिल्स के एक ऑन्कोलॉजिस्ट, सिएटल और न्यूयॉर्क में 200 बुजुर्गों पर एंड्रोजेन दवाओं के इस्तेमाल का निषेध कर रहे हैं। दरअसल, प्रोस्टेट कैंसर के उपचार में एंड्रोजन को एक एंजाइम कैंसर ग्रोथ बढ़ाने वाले एंजाइम के रूप में देखा गया है। अप्रैल में प्रकाशित एक पेपर में पाया गया कि यह एंजाइम कोरोना वायरस संक्रमण में शामिल था।

प्रोस्टेट कैंसर फाउंडेशन के कार्यकारी उपाध्यक्ष हावर्ड सोले ने इस महीने की शुरुआत में साइंस पत्रिका को बताया कि “हर कोई एंड्रोजन और कोरोना के खतरे के बीच में एक लिंक को ढूंढने में लगा हुआ है। हालांकि, तब तक मेरी यह सलाह है कि लोग ज्यादा से ज्यादा सावधानी बरतें। प्रोस्टेट कैंसर की दवाओं का उपयोग कोरोना वायरस उपचार के लिए करने से पहले कई सटीक शोधों की आवश्यकता है।”

और पढ़ें : कोरोना वायरस के ट्रीटमेंट के लिए इस्तेमाल की जाएगी रेमडेसिवीर, जानें इसके बारे में

एडीटी और कोरोना का खतरा

लीडिंग कैंसर मैगजीन एनल्स ऑफ ऑन्कोलॉजी में प्रकाशित स्टडी के मुताबिक, “शोधकर्ताओं ने पाया है कि COVID-19 संक्रमण से पुरुषों की रक्षा करने के लिए एंड्रोजन-डेप्रिवेशन थेरिपीज प्रभावी है। इटली के वेनेटो में 4532 पुरुषों के एक अध्ययन में पाया गया है कि जिन लोगों को एंड्रोजेन-डेप्रिवेशन थेरिपी (एडीटी) के साथ प्रोस्टेट कैंसर का इलाज किया जा रहा था, उनमें कोरोना वायरस होने की संभावना कम थी।”

यूनिवर्सिटी डेला स्वेजेरा इटालियाना (बेलिनजीनो, स्विटजरलैंड) के प्रोफेसर एंड्रिया अलिमोंटी के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने पाया कि कोविड-19, 9.5% (430) से संक्रमित 4532 पुरुषों में कैंसर था और 2.6% (118) को प्रोस्टेट कैंसर था। पुरुष कैंसर के मरीजों में COVID-19 संक्रमण खतरा 1.8 गुना ज्यादा था और इससे और अधिक गंभीर बीमारी विकसित हुई। हालांकि, वेनेटो क्षेत्र के सभी प्रोस्टेट कैंसर रोगियों को देखा, तो उन्होंने पाया कि एंड्रोजेन-डेप्रिवेशन थेरिपी पर 5,273 पुरुषों में से केवल चार ने COVID -19 संक्रमण विकसित किया और उनमें से किसी की भी मृत्यु नहीं हुई। इसकी तुलना में प्रोस्टेट कैंसर वाले 37,161 पुरुष, जिनको एंड्रोजेन-डेप्रिवेशन थेरिपी नहीं दी जा रही थी, उनमें से 114 में से18 की कोरोना संक्रमण के कारण मृत्यु हो गई। वहीं, अन्य प्रकार के कैंसर वाले 79,661 रोगियों में, 312 कोरोना संक्रमित हुए जिनमें से 57 की मृत्यु हो गई।

प्रोस्टेट कैंसर के रोगियों जिनको एडीटी दी गई उनमें कोरोना संक्रमण का खतरा चार गुना उन रोगियों की तुलना में कम था जिन्हें इस थेरिपी से दूर रखा गया। प्रोस्टेट कैंसर के रोगियों की एडीटी से तुलना करने पर इससे भी बड़ा अंतर पाया गया।

और पढ़ें : जानें भारत में कोरोना संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या पर क्या कहती है रिसर्च, सामने आए कुछ तथ्य

एंड्रोजन के लिए थेरिपी

कई मेडिकली एप्रूव्ड थेरिपीज हैं जो एंड्रोजन के स्तर को कम कर सकती हैं और जो रोगियों को दी जा सकती हैं। उदाहरण के लिए, हार्मोन को मुक्त करने वाले हार्मोन को ल्यूटिनाइज करना, या एलएच-आरएच, एंटागोनिस्ट्स (antagonists) 48 घंटों में रोगियों में टेस्टोस्टेरोन के स्तर को कम कर सकते हैं। प्रोफेसर एलीमॉन्टी (Institute of Oncology Research in Bellinzona) ने कहा कि “एण्ड्रोजन लेवल कोरोना वायरस संक्रमण के लक्षणों की गंभीरता को बढ़ा सकता है। COVID-19 से संक्रमित पुरुषों में थोड़ी देर के लिए एडीटी का उपयोग कोरोना के जोखिम को कम करने के लिए प्रेरित करता है। हालांकि, इन आंकड़ों को कोविड-19 के संक्रमित रोगियों के एक बड़े समूहों पर यह स्टडी करने की आवश्यकता है।”

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

रिसर्च की लिमिटेशन में यह फैक्ट है कि कोरोना संक्रमित कैंसर रोगियों का गैर-कैंसर रोगियों की तुलना में वायरस के लिए परीक्षण किया जा सकता है। इससे कैंसर रोगियों और कोरोनो वायरस के बीच संबंध को भी आसानी से समझ जा सकता है। एडीटी प्राप्त करने वाले प्रोस्टेट कैंसर के रोगियों को एडीटी न मिलने वाले लोगों की तुलना में सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में ज्यादा सावधान रहना चाहिए।

और पढ़ें :  इटली के वैज्ञानिकों ने कोविड-19 वैक्सीन बनाने का किया दावाः जानिए इस खबर की पूरी सच्चाई

क्या एंड्रोजन कुछ महिला रोगियों के लिए भी एक समस्या का संकेत है?

अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, “मेटाबॉलिक सिंड्रोम या बर्थ कंट्रोल मेथड का उपयोग करने वाली महिलाओं पर यह रिसर्च की जानी चाहिए। इसके अलावा, ऐसी कई मेडिकल कंडीशंस हैं जिससे महिलाओं में एंड्रोजन का स्तर बढ़ सकता है जिससे उनमे कोविड -19 के जोखिम की संभावना बढ़ सकती है।” बता दें इससे पहले ऐसी कई स्टडी रिपोर्ट आ चुकी है जिसमें यह तो साबित हो चुका है कि कोरोना वायरस का खतरा महिलाओं की तुलना में पुरुषों को ज्यादा है। ऐसे में मेल बाल्डनेस इस समस्या को और भी अधिक बढ़ा सकती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार या निदान प्रदान नहीं करता।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ऐसे बढ़ाएं इम्यूनिटी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए कुछ आसान उपाय

कोरोना से ठीक होने के बाद के उपाय के रूप में काढ़ा, आंवला, मुलेठी, हल्दी वाला गर्म दूध, गिलोय का अर्क आदि पीने के साथ ही योग और संतुलित डाइट फॉलो करें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
इंफेक्शस डिजीज, कोरोना वायरस September 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

पीपीआई यानी प्रोटोन पंप प्रोटोन पंप इंहिबिटर, ऐसी दवाएं जो हार्ट बर्न और एसिडिटी के इलाज में उपयोग की जाती है। अमेरिकन स्टडीज में दावा किया गया है कि इनके उपयोग से कोरोना वायरस का रिस्क बढ़ जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोविड 19 सावधानियां, कोरोना वायरस September 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

फिर से खुल रहे हैं स्कूल! जानें COVID-19 के दौरान स्कूल जाने के सेफ्टी टिप्स

COVID-19 के दौरान स्कूल लौटने के लिए सेफ्टी टिप्स in Hindi, school reopen guidelines covid-19 safety tips in Hindi, सेफ्टी टिप्स की गाइडलाइन।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोविड 19 व्यवस्थापन, कोरोना वायरस September 8, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें

कैसे स्वस्थ भोजन की आदत कोरोना से लड़ने में मददगार हो सकती है? जानें एक्सपर्ट्स से

स्वस्थ भोजन की आदत कैसे डेवलप करें? बेहतर स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ भोजन की आदत को अपनाना जरूरी है। स्वस्थ भोजन खाने के क्या फायदे या प्रभाव हैं?

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
इंफेक्शस डिजीज, कोरोना वायरस August 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

covid 19 vaccine - कोविड 19 वैक्सीन

जल्द से जल्द लोगों तक कोविड 19 वैक्सीन पहुंचाने की पहल, जाग रही है एक नयी उम्मीद

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ January 25, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोरोना वायरस वैक्सीनेशन गाइडलाइन्स

सरकार के दिशा-निर्देश के अनुसार कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए इन लोगों को अभी करना होगा इंतजार!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ January 18, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 वैक्सीन-COVID-19 vaccine

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ December 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ September 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें