home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोरोना वायरस से जंग में शरीर का साथ देगा विटामिन-डी, फायदे हैं अनेक

कोरोना वायरस से जंग में शरीर का साथ देगा विटामिन-डी, फायदे हैं अनेक

कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है। तेजी से ह्यूमन टु ह्यूमन ट्रांसफर होने वाले इस वायरस से हर जगह लोग घबराए हुए हैं। कई देशों ने इस वायरस के चलते लॉकडाउन किया हुआ है। हर देश में सरकार से लेकर डॉक्टर तक सभी अलग-अलग तरीके से लोगों को कोरोना से बचाने के लिए जागरूक कर रहे हैं। कोविड-19 से लड़ने के लिए मनुष्‍य के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को काफी महत्‍वपूर्ण माना जाता है। इस वायरस से जिन लोगों की मौत हुई है उनमें ज्यादातर में इम्यूनिटी सिस्टम की समस्या देखने को मिली थी। इसलिए बार-बार डायट पर खास ख्याल देने की सलाह दी जा रही है। एक ताजा शोध के अनुसार, कोरोना वायरस और विटामिन-डी के कनेक्शन के बारे में बताया गया है। इस शोध में कोरोना से होने वाली मौतों का प्रमुख कारण विटामिन-डी की कमी को बताया जा रहा है। आइए जानते हैं कोरोना वायरस और विटामिन-डी के कनेक्शन के बारे में…

यह भी पढ़ें: चाइना की ऑर्गेनाइजेशन ने कोरोना महामारी से निपटने के लिए भारत को दिए प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट

कोरोना वायरस और विटामिन-डी (Coronavirus and Vitamin-D)

कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर में शोधकर्ता शोध करके इसके बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी जुटाने में लगे हैं। हाल ही में एक रिपोर्ट में यह पाया गया है कि विटामिन-डी की स्थिति को बेहतर करके हम कोविड-19 के खतरे को कम कर सकते हैं। शोधकर्ताओं ने इस शोध के लिए 12 फरवरी से 16 मार्च तक भर्ती हुए मरीजों पर अध्ययन किया। इसमें उन मरीजों की रिपोर्ट को बारीकी से जांचा गया जिनकी स्थिति गंभीर होने के चलते आईसीयू में रखा गया था। इनमें जिन लोगों की मौत हुई उनमें विटामिन-डी की कमी प्रमुख कारण मिली।

अमेरिका, यूरोप, ईरान में कोविड-19 के कारण हुई मौतों में 80 फीसदी मरीज 65 वर्ष से अधिक आयु के थे। वहीं इनमें 16 से 54.5 फीसद मृतकों में विटामिन-डी की मात्र न्यूनतम से भी कम मिली है। इस शोध को अंतरराष्ट्रीय जर्नल में 24 मार्च को प्रकाशित किया गया है। इन देशों के आधार पर विटामिन-डी (25 हाइड्रोक्सी-डी) का शरीर में मानक 25 नैनो मोल प्रति लीटर मानकर यह स्टडी की गई।

यह भी पढ़ें: सवालों से हैं परेशान तो कुछ इस अंदाज में दे सकते हैं बच्चों को कोरोना वायरस की जानकारी

कोरोना वायरस और विटामिन-डी में क्या है कनेक्शन

विटामिन-डी का हमारे शरीर में मल्टीपल रोल है। यह खासतौर पर इम्यून सिस्टम को दुरुस्त रखने के लिए बेहद जरूरी है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि फिलहाल कोविड-19 की कोई वैक्सीन नहीं तैयार की गई है। अभी इससे बचने के लिए हाइजीन मेंटेन और सोशल डिस्टेंसिग की सलाह दी जा रही है। कुछ रिपोर्ट इस बात का दावा कर रही है कि विटामिन-डी के लेवल को मेंटन करके इससे बचा जा सकता है। क्योंकि विटामिन डी इम्यून सिस्टम को हेल्दी रखता है। बता दें, हमारे इम्यून सिस्टम का सही तरीके से काम करना बहुत जरूरी है क्योंकि ये ही किसी भी इंफेक्शन और बीमारी को होने से हमें सबसे पहले बचाता है। इसके साथ ही फेफड़े का फंक्शन दुरुस्त रखने में मददगार है, जो कि संक्रमण से भी बचाने में कारगर साबित होता है। शरीर में यदि विटामिन-डी की कमी होती है तो उससे कई तरह की बीमारी, इंफेक्शन और इम्यून संबंधित परेशानी होने का खतरा होता है।

विटामिन-डी का लेवल कम होने से वायरल और बैक्टीरियल रेस्पिरेटरी डिजीज जैसे टीबी, अस्थमा, क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) होने का खतरा अधिक होता है। विटामिन-डी का सीधा कनेक्शन फेफड़ों के फंक्शन से है जो आपके शरीर को श्वसन संक्रमण से लड़ने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन में ‘कोरोना वायरस पॉर्न’ की बढ़ी मांग, जानें क्यों

क्या विटामिन-डी को लेने से कोविड-19 से बचा जा सकता है?

फिलहाल कोविड-19 का कोई इलाज नहीं है। विटामिन-डी सप्लीमेंट्स का कोरोना वायरस पर क्या असर होता है इसे लेकर अभी कोई शोध नहीं किया गया है। लेकिन विटामिन-डी की कमी इम्यून सिस्टम को नुकसान पहुंचाती है और रेस्पिरेटरी डिजीज होने का कारण बनती है। लोगों को प्रतिरोधक क्षमता मेनटेन करने के लिए विटामिन-डी की कमी को पूरा करना जरूरी है। विटामिन-डी कोरोना वायरस के प्रति संवेदनशील बना सकती है। यह मुख्य रूप से रेस्पिरेटरी डिजीज जैसे फ्लू, जुकाम और निमोनिया से बचाव करने में कारगर है। यह शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाता है जो शरीर को वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने में कारगर बनाता है।

विटामिन-डी डेफिशियेंसी के कारण क्या हैं?

भारत के लिए यह स्टडी बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि देश के ज्यादातर लोग विटामिन-डी की कमी से जूझ रहे हैं। आइए जानते हैं विटामिन-डी की कमी के कारण के बारे में…

धूप से दूर रहना: हमारा ज्यादातर समय दफ्तर में निकलता है। यदि हम धूप में नहीं जाते हैं तो भी शरीर में विटामिन-डी डेफिशियेंसी भी हो सकती है। सूर्य की किरणें विटामिन डी का सबसे उच्च स्त्रोत होती हैं। इसके लिए आप सुबह की सूर्य की किरणों में कुछ समय तक रह सकते हैं।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से बचने के लिए 5 मिनट में घर पर ही बनाएं हैंड सैनिटाइजर

शुध्द शाकाहारी होना

आहार के तौर पर विटामिन-डी डेफिशियेंसी को पूरा करने के सबसे बेहतर स्त्रोत पशु आधारित आहार होता है। हालांकि, ऐसे लोग जो शुध्द शाकाहारी हैं, उनमें विटामिन डी की कमी के जोखिम ज्यादा होते हैं। क्योंकि मछली और मछली के तेल, अंडे की जर्दी, फॉर्टफाइड मिल्क (Fortified Milk) और मीट विटामिन डी के एक अच्छे स्त्रोत होते हैं।

कमजोर मेटाबॉलिज्म

कुछ कारणों के चलते कुछ लोगों का मेटाबॉलिज्म विटामिन डी के स्त्रोतों को अच्छी मात्रा में नहीं पचा पाता है, जिसकी वजह से भी शरीर में धीरे-धीरे विटामिन-डी डेफिशियेंसी हो सकती है।

किडनी का सही तरीके से काम न करना: बढ़ती उम्र के साथ ही शरीर के अलग-अलग अंगों के कार्य करने की क्षमता भी प्रभावित होने लगती है। इसकी तरह किडनी विटामिन डी को उसके सक्रिय रूप में परिवर्तित करने में कम सक्षम होने लगता है, जिसके कारण भी शरीर में विटामिन-डी डेफिशियेंसी का खतरा बढ़ सकता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस वैक्सीन का ह्युमन ट्रायल, 60 लोग प्री-क्लीनिकल स्टेज में

विटामिन-डी की कमी को दूर करने के लिए धूप को प्राकृतिक स्त्रोत है। इसलिए 30 मिनट तक धूप में रोजाना बैठने की कोशिश करें। फिलहाल जैसा कि सभी लोग लॉकडाउन के चलते घरों में रहने को मजबूर है तो ऐसे समय में आप अपने लिए थोड़ा वक्त निकालकर धूप में बैठ सकते हैं। इसके अलावा कुछ लोग स्पलीमेंट्स लेते हैं तो कुछ इसकी कमी को दूर करने के लिए इंजेक्शन लगवाते हैं। इसके बारे में अपने डॉक्टर से कंसल्ट करें। इसकी टैबलेट, सीरप औऱ पाउडर आते हैं। जिसकी खुराक आपकी रिपोर्ट देखने के बाद आपके डॉक्टर ही तय करेंगे।

फिलहाल पूरी दुनिया इस महामारी से लड़ रही है। ऐसे समय में सोशल डिस्टेंसिंग, हाथों की साफ सफाई के साथ खुद को स्वस्थ रखना भी उतना ही जरूरी है। यदि आप किसी वायरस के शिकार हो भी जाते हैं तो हमारा शरीर उससे लड़ने के लिए तैयार होना चाहिए। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में कोरोना वायरस और विटामिन-डी से जुड़ी हर जानकारी देने की कोशिश की गई है। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सवाल है तो आप कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

और पढ़ें:

मास्क पर एक हफ्ते से ज्यादा एक्टिव रह सकता है कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

रैपिड एंटीबॉडी ब्लड टेस्ट से जल्द होगी कोरोना पेशेंट की जांच

सच या झूठः क्या आपको भी मिला है कोरोना लॉकडाउन फेज का ये मैसेज?

कोरोना के दौरान कैंसर मरीजों की देखभाल में रहना होगा अधिक सतर्क, हो सकता है खतरा

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Vitamin D for prevention of respiratory tract infections: https://www.who.int/elena/titles/commentary/vitamind_pneumonia_children/en/ Accessed April 07, 2020

Vitamin D and Immune System: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3166406/ Accessed April 07, 2020

Vitamin D could reduce Corona risk: https://riotimesonline.com/brazil-news/miscellaneous/vitamin-d-could-help-reduce-coronavirus-risk-study-says/ Accessed April 07, 2020

Coronavirus and Vitamin D: https://www.healthline.com/nutrition/vitamin-d-coronavirus#does-it-protect-against-covid-19 Accessed April 07, 2020

Vitamin D Deficiency: https://www.healthline.com/nutrition/vitamin-d-deficiency-symptoms Accessed April 07, 2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Mona narang द्वारा लिखित
अपडेटेड 08/04/2020
x