ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट December 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

साल 2019 के आखरी कुछ महीने और साल 2020 की शुरुआत के साथ, भारत में भी दस्तक देने वाली जानलेवा बीमारी कोविड-19 के ग्राफ में बढ़त ही देखी जा रही है। ऐसे में देश के एक-एक नागरिक को अब सिर्फ इंतजार है कोविड-19 वैक्सीन (COVID-19 vaccine) का। कोविड-19 वैक्सीन पर लगातार रिसर्च भी जारी है। यूनाइटेड किंगडम (UK) ने फाइजर और बायोटेक (Pfizer-BioNTech) की कोविड-19 वैक्सीन के इस्तेमाल को ग्रीन सिग्नल दे दिया है। यूनाइटेड किंगडम कोरोना वायरस की वैक्सीन को इस्तेमाल की मंजूरी देने वाला सबसे पहला देश है। ब्रिटेन में अगले सप्ताह से कोविड-19 वैक्सीन आम लोगों के लिए उपलब्ध होगी।

कोविड-19 वैक्सीन-COVID-19 vaccine

विश्वभर में कोविड-19 वैक्सीन (COVID-19 vaccine) की सप्लाय पर ध्यान केंद्रित

कोविड-19 वैक्सीन को ग्रीन सिग्नल मिलने के बाद फाइजर की ओर से यह कहा गया है कि कोविड-19 वैक्सीन के इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन का फैसला कोरोना वायस के खिलाफ चल रही लड़ाई में यह ऐतिहासिक कदम से कम नहीं है। कोरोना वायरस के बढ़ते आंकड़ों पर जल्द से जल्द ब्रेक लगाने के लिए फाइजर ब्रिटेन के अलावा अन्य देशों को भी बेहतर क्वॉलिटी की कोविड-19 वैक्सीन सप्लाय पर विचार कर रही है।

कुछ रिपोर्ट्स और हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार कोविड-19 वैक्सीन का रखरखाव भी बेहद अहम है। अभी तक जो वैक्सीन से जुड़ी जानकारी मिल रही है, उस अनुसार इसे लगभग -70 डिग्री पर स्टोर किये जाने की बात कही गई। एक जगह से दूसरी जगह तक इस वैक्सीन के ट्रांफर के दौरान भी एहतियात बरती जाएगी और इसे एक ऐसे बॉक्स में रखकर ले जाया जायेगा जिसमें ड्राय आइस स्टोर किया जा सके।

और पढ़ें : क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

कोविड-19 वैक्सीन की सप्लाय

कोविड-19 वैक्सीन-COVID-19 vaccine

यूनाइटेड किंगडम (UK) में कोविड-19 वैक्सीन की सप्लाय किस तरह होगी, इस पर लगातर चर्चा भी चल रही है। कोरोना वायरस वैक्सीन को शुरुआती दिनों में 4 करोड़ डोज के लिए ऑर्डर दिया गया है, जिसका लाभ 2 करोड़ लोगों को मिल सकेगा। कोरोना वायरस वैक्सीन (COVID-19 vaccine) की दो डोज 21 दिनों के गैप पर दी जाएगी (अगर किसी व्यक्ति को आज डोज दिया गया, तो आज से ठीक 21वें दिन दूसरी खुराक दी जाएगी)। इसके साथ ही कोविड-19 वैक्सीन 16 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों को ही फिलाल देने की बात कही गई है। ब्रिटेन ने कोविड-19 के खतरे को कम करने के लिए, या यूं कहें कि इस जानलेवा बीमारी पर पूरी तरह से रोकथाम के लिए अपनी तैयारी पूरी कर ली है, लेकिन ऐसे में अब भी भारतीय लोगों में इस बात की चर्चा तेजी से चल रही है कि आम लोगों को कब तक कोविड-19 वैक्सीन का इंतजार करना पड़ेगा।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) के मुताबिक कोरोना वायरस से इन्फेक्टेड लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। भारत में भी कोविड-19 के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। ये आंकड़े इस प्रकार हैं:

  • कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या- 9534641
  • कोरोना वायरस की वजह से मृत लोगों की संख्या- 138705
  • कोरोना वायस से रिकवर हुए लोगों की संख्या- 8972360

ये आंकड़े 02 दिसंबर 2020 तक के हैं। ऐसा नहीं है कि इस जानलेवा बीमारी से बचना नामुमकिन है, क्योंकि कोविड-19 के रिकवरी रेट (रिकवर हुए लोगों की संख्या- 8972360) से ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि भारत में इस बीमारी से लड़ने के लिए अब तक कोरोना वायरस की दवा या कोविड-19 वैक्सीन पर मुहर नहीं लगी है।

भारत में कोविड-19 वैक्सीन पर चल रही रिसर्च क्या कहती है?

भारत में भी ऑक्सफोर्ड कोरोना वायरस वैक्सीन (Oxford Coronavirus Vaccine) बनाने की तयारी में है और ट्रायल में साझेदारी कर रहे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) भी इसपर लगातार प्रयास कर रही है। वहीं भारत बायोटेक NIV और ICMR के साथ मिल कर तैयार की जा रही वैक्सीन की दो फेज की ट्रायल हो चुकी और अब जल्द ही ट्रायल का तीसरा फेज भी जल्द ही शुरू किया जाएगा। अगर थर्ड ट्रायल भी सफल होता है, तो अंदाजा लगाया जा रहा है कि फरवरी या मार्च 2021 तक इस वैक्सीन को सरकार की ओर से हरी झंडी मिल सकती हैं। हालांकि अभी तक कोविड-19 वैक्सीन या दवा की उपलब्धता न होने की वजह से ऐसी स्थिति में खुद को सुरक्षित रखना बेहद जरूरी है।

और पढ़ें : कोरोना महामारी में अस्पताल जाने के दौरान इन टिप्स का जरूर रखें ध्यान

कैसे रखें खुद को या अपने करीबियों को कोरोना वायरस से सुरक्षित?

कहते हैं सावधानी हटी दुर्घटना घटी… तो कोरोना वायरस से बचने के लिए विशेष, लेकिन इम्पोर्टेन्ट स्टेप्स को फॉलो कर बचा जा सकता है। कोरोना वायरस (Coronavirus) के दस्तक देने के साथ ही डॉक्टर्स और भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से विशेष गाइडलाइन जारी की जा रही हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • अपने हाथों को साबुन से धोते रहें। अगर आप कहीं बाहर हैं, तो ऐसे वक्त में सैनेटाइजर का इस्तेमाल करें।
  • डिस्पोजेबल ग्लव्स का इस्तेमाल करें।
  • मास्क पहन कर ही बाहर जाएं। ऐसे मास्क का इस्तेमाल ना करें, जिसे पहनने पर सांस लेने में तकलीफ हो।
  • स्टीम लेने की आदत डालें।
  • आंख, नाक और चेहरे को न छुएं।
  • खांसने या छींकने के दौरान नाक और मुंह को टिशू पेपर से कवर करें और इस्तेमाल के बाद टिशू पेपर को बंद डस्टबिन के डब्बे में डिस्पोज करें।
  • पूरी तरह से सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करें

ऊपर बताये इन आसान नियमों का पालन करें। अगर घर से बाहर जाने की जरूरत पड़ती है, तो सावधानी के साथ निकलें।

यह जानना भी है जरूरी:-

हाथ धोना-

कोविड-19 वैक्सीन-COVID-19 vaccine

  1. दोनों हाथों को साबुन से 20 सेकेंड तक अच्छी तरह से वॉश करें।
  2. आप लिक्विड सोप या साबुन दोनों में से किसी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  3. नाखूनों की सफाई पर ध्यान दें।

और पढ़ें : इस प्रॉसेस से स्किन टाइप के हिसाब से घर पर ही बनाएं अपना हैंड वॉश

मास्क पहनना-

कोविड-19 वैक्सीन-COVID-19 vaccine

  1. मास्क के सामने के हिस्से को हाथों से टच न करें। अगर आप हाथ से मास्क को छू रहें हैं, तो जल्द से जल्द साबुन से हाथ धो लें।
  2. मास्क ऐसे पहने कि आपकी नाक, मुंह और दाढ़ी के हिस्से अच्छी तरह से कवर हो जाएं।
  3. मास्क निकालने के वक्त इलास्टिक की मदद से ही निकालें।
  4. डिस्पोजिबल मास्क का इस्तेमाल सिर्फ एक बार ही करें।
  5. कपड़े के मास्क को एक बार यूज होने के बाद साबुन से धो दें।

इन मास्क और हैंड वॉश रूल्स को फॉलो करें।

और पढ़ें : मास्क पर एक हफ्ते से ज्यादा एक्टिव रह सकता है कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

कोरोना वायरस के इंफेक्शन को कैसे रोकें?

अगर आप कोविड-19 पॉजिटिव हैं, तो आपको कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए। कई लोग ऐसे हैं, जो कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित होने पर खुद को घर में ही आइसोलेशन में रहकर और डॉक्टर से संपर्क कर ठीक भी हुए हैं। इसलिए नीचे बताई गई टिप्स को फॉलो करें-

  • अगर इन्फेक्टेड एरिया में रह रहें हैं या किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आ चुके हैं, तो आप अपने आपको कौरेन्टीन करें।
  • परिवार के लोगों के संपर्क में न रहें।
  • पब्लिक प्लेस पर न जाएं।
  • घर में गेस्ट्स को इन्वाइट न करें और अगर घर में बच्चे या बुजुर्ग लोग हैं, तो उन्हें भी अपने करीब न आने दें।
  • आप जिस बाथरूप या वॉशरूम का इतेमाल कर रहें हैं, उसमें आपके अलावा किसी और की इंट्री बंद कर दें।
  • 14 दिनों तक अपने आपको कौरेन्टीन ही रखें।

हार्ट पेशेंट और डायबिटज पेशेंट्स कोरोना वायरस के इस वक्त में अपने आपको कैसे रखें सुरक्षित? जानिए इस 👇वीडियो लिंक लो क्लिक कर:

इन नियमों के बावजूद अगर आपकी परेशानी कम नहीं होती है, तो डॉक्टर से कंसल्ट करें और नीचे बताये नियमों का पालन करें। जैसे:

  • डॉक्टर द्वारा दी गई दवाओं को समय-समय पर लेते रहें। अभी तक इस बीमारी से बचने के लिए भारत में दवा उपलब्ध नहीं है। इसलिए लापरवाही बिलकुल भी न बरतें।
  • जबतक आप पूरी तरह से स्वस्थ्य न हो जाएं और आपकी कोविड-19 (Coronavirus) रिपोर्ट नेगेटिव न आ जाए, तबतक परिवार या अन्य लोगों से दूरी बनाएं रखें।
  • डॉक्टर से अपने डायट के बारे में जरूर समझें और वैसे ही खाने-पीने की चीजों को रेग्यूलर बेसिस पर फॉलो करते रहें।
  • मन में नेगेटिव थॉट्स न लाएं, क्योंकि नेगेटिविटी आपकी परेशानी कम करने की बजाए फिजिकल और मेंटली दोनों ही तरह से आपकी तकलीफ बढ़ा सकती है।

अगर आप कोविड-19 वैक्सीन या इस बीमारी से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

यूके में मिला कोरोना वायरस का नया वेरिएंट, जो है और भी खतरनाक! 

यूके में कोरोना वायरस पर ब्रेक लगा नहीं कि अब कोरोना वायरस के नय प्रकार ने लोगों को शिकार बनाना शुरू कर दिया है। कैसे खुद को बचाएं संक्रमण? Coronavirus new variant found in United Kingdom details in Hindi.

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
कोविड 19 और शासन खबरें, कोरोना वायरस December 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कोरोना वायरस के बाद नए इंफेक्शन का खतरा, जानिए क्या है म्युकोरमाइकोसिस (Mucormycosis)

क्या है म्युकोरमाइकोसिस (Mucormycosis)? क्या हैं इस फंगल इंफेक्शन के लक्षण? क्या एकदूसरे से फैल सकता है म्युकोरमाइकोसिस? What is Mucormycosis and why post-Covid fungal infection is new worry in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कोविड 19 सावधानियां, कोरोना वायरस December 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध: कोविड-19 के पेशेंट में दौरे के लक्षण देखने को मिले हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस दिमाग पर अटैक कर रहा है, जिस कारण सीजर्स के लक्षण देखने को मिल रहे हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोरोना वायरस, कोविड-19 November 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

जानें क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज की स्टेजेस और लाइफस्टाइल में जरूरी बदलाव

सीओपीडी की बीमारी सांस संबंधि है। जानिए सीपीडी के प्रकार और सीओपीडी होने पर किए जाने वाले टेस्ट के बारे में।chronic obstructive pulmonary disease (COPD)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

Recommended for you

covid 19 vaccine - कोविड 19 वैक्सीन

जल्द से जल्द लोगों तक कोविड 19 वैक्सीन पहुंचाने की पहल, जाग रही है एक नयी उम्मीद

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ January 25, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोरोना वायरस वैक्सीनेशन गाइडलाइन्स

सरकार के दिशा-निर्देश के अनुसार कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए इन लोगों को अभी करना होगा इंतजार!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ January 18, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोरोना वायरस वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination)

क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ January 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 वैक्सीनेशन

अधिकतर भारतीय कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए हैं तैयार, लेकिन कुछ लोग अभी भी करना चाहते हैं इंतजार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ January 8, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें