home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्या आप भी कोविड इन्फेक्टेड हो चुके हैं, तो फिर इस दिवाली इन बातों का रखें खास ध्यान

क्या आप भी कोविड इन्फेक्टेड हो चुके हैं, तो फिर इस दिवाली इन बातों का रखें खास ध्यान

खुशी, उमंग और रोशनी का त्योहार दिवाली का त्योहार बाकी सालों से थोड़ा अलग होने वाला है और खासतौर पर कोरोना से उबर चुके लोगों और कोरोना मरीजो को इस साल ज्यादा एहतियात बरतने की जरूरत है। दिवाली पर न पटाखों का शोर होगा, न दोस्तों और पड़ोसियों का जमावड़ा। एक-दूसरे के घर मिलने-जुलने पर भी पाबंदी रहेगी और यह सब हो रहा है कोरोना महामारी की वजह से जिसने पूरी दुनिया की तस्वीर बदलकर रख दी है। भारत में पिछले कुछ हफ्तों में कोरोना वायरस के नए मामलों में कमी जरूर आई है, लेकिन दिल्ली में जिस रफ्तार से मामले बढ़ रहे है उसने सबकी परेशानी और डर भी बढ़ा दिया है। लोगों की बढ़ती भीड़ और वायु प्रदूषण इसके लिए जिम्मेदार बताया जा रहा। तो इस बार आप भी दिवाली मनाइए, लेकिन सिर्फ अपने परिवार के साथ और दीयों की रोशनी में पटाखों से दूरी बनाकर। महाराष्ट्र सरकार ने भी दिवाली को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी है कि शहर में पटाखे नहीं फोड़े जाएंगे, सार्वजनिक स्थलों पर पूरी तरह से पटाखों पर प्रतिबंध रहेगा, लेकिन निजी सोसाइटी में लक्ष्मी पूजन के दिन फूलझड़ी आदि चलाई जा सकती है। यह प्रतिबंध कोरोना वायरस के मद्देनजर लगाया गया है, क्योंकि विशेषज्ञों का मानना है कि पटाखों के कारण हवा बहुत दूषित होगी और इससे न सिर्फ कोरोना मरीजाें की परेशानी बढ़ेगी, बल्कि सांस से जुड़ी समस्या बढ़ने से कोरोना के मामलों में भी बढ़ोतरी हो सकती है, इसलिए महाराष्ट्र, दिल्ली और हरियाणा समेत कई राज्यों में पटाखों को बैन कर दिया गया है।

और पढ़ें : स्ट्रेस को कम करने के अलावा कर्नापीड़ासन के 6 और फायदे, तरीका और चेतावनी

कोरोना पेशेंट दिवाली पर रखें इन बातों का ध्यान

दिवाली तो हर किसी के लिए होती है और तो इसे मनाने का हक भी सभी को है, लेकिन महामारी की वजह से इस साल सबको अधिक एहतितायत बरतनी होगी, खासतौर पर कोरोना मरीज़ों और बीमारी से उबर चुके लोगों को बहुत सतर्क रहने की जरूरत है।

  • भूलकर भी मास्क न उतारें। यदि घर में परिवार के ही ज्यादा लोग है तो कोरोना पॉजिटिव लोगों को उनसे दूर रहना चाहिए और हमेशा मास्क से मुंह को कवर करके रखें।
  • कोरोना से उबर चुके लोगों या अस्थमा पेशेंट को इन्हेलर और दवाइयां हमेशा अपने साथ रखनी चाहिए।
  • पटाखों के आसपास भी न जाएं। पटाखों से निकलने वाला धुंआ कोरोना मरीजों की परेशानी बढ़ा सकता है।
  • बाहर की चीज़ें खाने से भी परहेज करें।
  • बुज़ुर्गों को घर के अंदर ही रहना चाहिए और वर्चुअली परिवार के बाकी सदस्यों से मिलकर शुभकामनाएं दें।
  • त्योहार के जोश में आकर किसी से गले न मिलें, नमस्ते करने के नियम को हमेशा याद रखें। त्योहार में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन अपनी और दूसरों की सुरक्षा के लिए जरूरी है।
  • वेंटिलेशन का खास ध्यान रखें, खिड़कियां खोलकर रखें ताकि ताजी हवा आ सके।
  • विटामिन सी, ए, मैगनिशियम और ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर डायट लें यह ओवरऑल इम्यूनिटी बूस्ट करने का काम करता है।
  • बाहर रनिंग, जॉगिंग के लिए जाने की बजाय घर पर ही योग, मेडिटेशन आदि करें।

सुरक्षित दिवाली के लिए हर कोई करें इन नियमों का पालन

  • सभी रिश्तेदारों को घर पर बुलाने की बजाय वर्चुअली ही मिलें या फोन पर शुभकामना संदेश दे दें।
  • सैनिटाइजर से दूर रहें। माना की सैनिटाइजर हमारी जिंदगी का हिस्सा बन गया है, लेकिन दिवाली के दिन इसे खुद से दूर रखें, क्योंकि यह ज्वलनशील होता है ऐसे में सैनिटाइजर लगाकर दीया जलाने पर हाथ जल जाएगा।
  • साबुन और पानी की एक बाल्टी घर के दरवाजे पर रख दें ताकि बाहर से आने वाला हर सदस्य हाथ धोकर ही घर में एंट्री करें।
  • बाहर खाने से बचें। मिठाई से लेकर नमकीन और अन्य पकवान घर पर ही बना लें। पके हुए खाने से कोरोना होने के सबूत भले ही न मिले हैं, लेकिन यह आपका पाचन बिगाड़ सकता है, इसलिए घर का बना खाना ही खाएं।
  • पटाखों से पूरी तरह परहेज करें, इसकी बजाय घर को दीयों और लाइट्स से डेकोरेट करें और रंगोली से सजाएं।
  • गिफ्ट लेने-देने से परहेज करें, यदि कोई गिफ्ट देता भी है तो तुरंत खोलने की बजाय पहले उसे सैनिटाइज करें।
  • बाहर से खाने की चीज़ें लागकर उसे सैनिटाइज न करें यह सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है। खाने-पीने का सब सामान घर पर बनाने की कोशिश करें।
  • पड़ोसी भी यदि मिलने आए तो मास्क जरूर लगाएं, त्योहार की खुशी में सुरक्षा से समझौता बिल्कुल न करें।
  • दिवाली के मौके पर घर में ढेर सारे पकवान बनते हैं, ऐसे में सबकुछ एकसाथ ही न खाएं, वरना पेट बिगड़ सकता है और ऐसे माहौल में हर कोई डॉक्टर के पास जाने से बच रहा है तो आपको अपनी सेहत का ध्यान रखना होगा। सब कुछ खाएं, लेकिन सीमित मात्रा में और फिर इसे ग्रीन टी और सलाद खाकर बैलेंस भी करें।

और पढ़ें : किन कारणों से हो सकती है खुजली की समस्या? जानिए क्या हैं इसे दूर करने के घरेलू उपाय

विशेषज्ञों को सता रही कोरोना बढ़ने की चिंता

सर्दियों का मौसम और त्योहारो की भीड़ को देखते हुए एक्सपर्ट्स बार-बार चेतावनी दे रहे हैं कि आने वाले महीनों में यूरोप की तरह ही भारत में भी कोरोना के मामले फिर से बढ़ सकते हैं। दरअसल, अनलॉक 5 और फेस्टिव सीज़न में कई जगह लोग कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाकर मजे से शॉपिंग कर रहे हैं, स्ट्रीट फूड खा रहे हैं और सोशल डिस्टेंसिंग को पूरी तरह से भूल गए हैं, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है। इसके अलावा सर्दियों का मौसम भी वायरस को फैलने में मदद करता है, ऐसे में जिन जगहों पर ज़्यादा ठंड पड़ती हैं, वहां मामले फिर से बढ़ने की चिंता जताई जा रही है। साथ ही वायु प्रदूषण की भी इसमें अहम भूमिका है। डॉक्टरों का मानना है कि इससे कई तरह की बीमारियों होती है जिसमें सांस की बीमारी भी शामिल है और जिन लोगों को सांस की बीमारी होती है उनके संक्रमित होने की संभावना बहुत अधिक होती है, ऐसे मरीजों को रिकवर होने में भी बहुत वक्त लगता है। इसलिए अब लोगों को खुद ही सतर्क रहना होगा और नियमों का पालन करते हुए त्योहार का आनंद लेना होगा।

इस दिवाली हेल्दी तरीके से बनोन के लिए आप इन बातों का ध्यान जरूर रखें। इसी के साथ ही अगर आप काेविड पेशेंट रह चुके हैं, तो आपको इन बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित
अपडेटेड 11/11/2020
x