home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

क्या कोरोना वायरस की वजह से घर पर डिलीवरी कराना होगा सेफ?

क्या कोरोना वायरस की वजह से घर पर डिलीवरी कराना होगा सेफ?

कोरोना वायरस की बीमारी कोविड- 19 (COVID-19) के संकट में संक्रमण से बचाव के लिए लोग काफी एहतियात बरत रहे हैं, क्योंकि इस इंफेक्शन का डर हर किसी को सता रहा है। इस डर की वजह से कई गर्भवती महिलाओं और उनके परिवार के सामने होम बर्थ (Home Birth) यानी घर पर डिलीवरी करवाने का विकल्प ज्यादा आसान और सुरक्षित दिख रहा है। इसके अलावा उनके मन में एक डर यह भी है कि, अगर गर्भवती महिला को SARS-CoV-2 इंफेक्शन हो गया, तो कहीं उनके बच्चे पर भी इसका खतरा तो नहीं आ जाएगा। तो आइए, जानते हैं कि क्या कोरोना वायरस के डर के कारण घर पर डिलीवरी करवाने का फैसला सुरक्षित है या नहीं?

गर्भवती महिलाएं घर पर डिलीवरी क्यों करवाना चाहती हैं?

दुनियाभर के सभी देशों में स्थित अस्पतालों में कोविड- 19 के मरीजों की भरमार है। अभी तक कोरोना वायरस इंफेक्शन से विश्वभर में 25 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। यह वायरस संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने या उसके खांसने, बात करने या छींकने के दौरान मुंह व नाक से निकलने वाली ड्रॉप्लेट्स के संपर्क में आने से फैलता है, जिसके बाद सूखी खांसी, बुखार, थकान जैसे लक्षण दिखने लगते हैं। इस वायरस का अभी तक कोई इलाज या वैक्सीन विकसित नहीं हो पाई है, जिस वजह से कोरोना वायरस से बचाव ही एकमात्र रास्ता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं के मन में यह डर है कि, घर से अस्पताल जाना और फिर वहां इतने सारे लोगों के बीच में रहने से कोरोना वायरस से संक्रमित होने का खतरा बढ़ सकता है। आपको बता दें कि, गर्भवती महिलाओं की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी सामान्य महिला के मुकाबले कम हो जाती है और यह भी इस डर का एक मुख्य कारण है। क्योंकि, कोरोना वायरस संक्रमण कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों में गंभीर स्थिति पैदा करता है। इन्हीं कारणों की वजह से हर देश में दाई या प्रोफेशनल मिडवाइफ (professional midwide) को काफी गर्भवती महिलाओं या उनके परिवार द्वारा संपर्क किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: कोविड-19: दिन रात इलाज में लगे एक तिहाई मेडिकल स्टाफ को हुई इंसोम्निया की बीमारी

क्या सच में कोरोना वायरस के दौरान घर पर डिलीवरी (Home Birth) करना चाहिए?

कोरोना वायरस से निपटने के साथ ही चाइल्ड डिलीवरी या अन्य जरूरी मेडिकल सपोर्ट की एमरजेंसी वाले मरीजों के लिए सभी अस्पतालों में सुरक्षात्मक एहतियात बरती गई हैं। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के लिए या तो स्पेशल अस्पताल रखा गया है या अस्पताल में स्पेशल ब्लॉक की व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही अन्य मरीजों के आने-जाने के लिए अलग एंट्री रखी गई है और साथ ही उस ब्लॉक में सभी के आने-जाने पर पूरी निगरानी रखी गई है। ऐसे में आपको घर से अस्पताल जाने तक व्यक्तिगत सावधानी जरूर बरतनी चाहिए। अस्पताल में गर्भवती महिलाओं की डिलीवरी में मदद करने वाले स्टाफ द्वारा भी मास्क, पर्सनल हाइजीन जैसी पूरी सावधानी बरती जाती है। इसलिए आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है और आप वैसी ही डिलीवरी करवाएं, जैसा कि आपने यह महामारी शुरू होने से पहले प्लान की थी।

यह भी पढ़ें: चेहरे के जरिए हो सकता है इंफेक्शन, कोरोना से बचने के लिए चेहरा न छूना

क्या चाइल्ड बर्थ (Child Birth) के दौरान मां की वजह से बच्चे को भी होता है कोरोना का खतरा?

पहले हुए शोध और अध्ययन में यह पता चला था कि, कोविड- 19 संक्रमित गर्भवती महिला से डिलीवरी के बाद बच्चे को संक्रमण होने की आशंका नहीं होती है। चीन के वुहान शहर में SARS-CoV-2 संक्रमण से संक्रमित चार गर्भवती महिलाओं पर स्टडी की गई थी। इनमें से किसी भी महिला के नवजात बच्चे में टेस्टिंग के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण का मामला नहीं पाया गया। हालांकि, अभी राजस्थान के नागौर में कुछ दिन पहले एक संक्रमित महिला की डिलीवरी के बाद बच्चे में भी कोरोना वायरस संक्रमण पाया गया, वहीं विश्व में भी कुछ ऐसे मामले देखने को मिले हैं। हालांकि, अभी कोविड- 19 संक्रमण की वजह से गर्भावस्था के दौरान शिशु के विकास में बाधा या गर्भपात का कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है।

यह भी पढ़ें: सोशल डिस्टेंसिंग को नजरअंदाज करने से भुगतना पड़ेगा खतरनाक अंजाम

घर पर डिलीवरी क्यों करवाना पसंद करती हैं महिलाएं

कोरोना वायरस के अलावा कुछ गर्भवती महिलाएं घर पर ही चाइल्ड बर्थ करना पसंद करती हैं। इसके पीछे निम्नलिखित कारण हो सकते हैं।

  1. एक जानी-पहचानी हुई जगह और आरामदायक जगह डिलीवरी करना।
  2. अस्पताल के प्रति अंसतुष्टि।
  3. बच्चा जनने की प्रक्रिया के दौरान पूरी स्वतंत्रता और नियंत्रण।
  4. सांस्कृतिक और धार्मिक राय।
  5. अस्पताल तक जाने के लिए जरूरी परिवहन की कमी।
  6. कम खर्चा।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

किन स्थितियों में होम बर्थ करने से बचना चाहिए?

डॉक्टर और एक्सपर्ट के मुताबिक गर्भवती महिलाओं को कुछ विशेष स्थितियों में होम बर्थ करने से बचना चाहिए। जैसे-

  • अगर आपके गर्भ में मल्टीपल बेबी हैं।
  • अगर आपकी पहली डिलीवरी में जटिलताओं का सामना करना पड़ा था या आपने सी-सेक्शन डिलीवरी की थी।
  • अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, एचआईवी, हेपेटाइटिस जैसी कोई स्वास्थ्य समस्या हो तो।
  • अगर आपका शिशु डिलीवरी के लिए सुविधाजनक स्थिति में नहीं है।
  • अगर आपने बच्चे का संभावित वजन ज्यादा हो तो।

यह भी पढ़ें: UV LED लाइट सतहों को कर सकती है साफ, कोरोना हो सकता है खत्म

घर पर बच्चे के जन्म करने के रिस्क

अगर आप घर पर डिलीवरी करने के योग्य हैं, तो भी आपको घर पर बच्चे के जन्म के खतरों के बारे में पता होना चाहिए। जिससे आपको एक बेहतर निर्णय लेने में मदद मिलेगी, तो आइए हम घर पर डिलीवरी के खतरों के बारे में जानते हैं।

  1. घर पर जन्म बच्चे के स्किन कलर, पल्स और जन्म के बाद उसकी ताकत पर असर पड़ सकता है, जो कि एक आशंकित जटिलता का संकेत हो सकता है।
  2. घर पर डिलीवरी हुए बच्चे की मृत्यु होने का खतरा दो से तीन गुना ज्यादा होता है।
  3. होम बर्थ के दौरान कोई भी परेशानी होने पर अस्पताल जाने व मेडिकल सहायता मिलने में देरी हो सकती है, जिससे बच्चे व मां के स्वास्थ्य पर असर पड़ सकता है।

इन सभी बातों को ध्यान में रखकरकोविड- 19 इंफेक्शन के समय अपने बच्चे की डिलीवरी को लेकर एक सही निर्णय ले सकती है।

COVID-19 Outbreak updates
Country:India
Data

1,435,453

Confirmed

917,568

Recovered

32,771

Death
Distribution Map

कोरोना वायरस अपडेट (latest news on corona)

वर्ल्ड ओ मीटर के मुताबिक 24 अप्रैल सुबह 9 बजे तक दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 27,25,391 हो गई है और इस खतरनाक बीमारी से जान गंवाने वालों की तादाद 1,91,055 हो गई है। दुनियाभर में कोरोना वायरस से ठीक होने वाले लोगों की संख्या 7,45,820 पहुंच गई है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Coronavirus – https://www.who.int/health-topics/coronavirus – Accessed on 24/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/index.html – Accessed on 24/4/2020

Coronavirus (COVID-19) – https://www.nhs.uk/conditions/coronavirus-covid-19/ – Accessed on 24/4/2020

Coronavirus disease 2019 (COVID-19) – Situation Report – 94 – https://www.who.int/docs/default-source/coronaviruse/situation-reports/20200423-sitrep-94-covid-19.pdf?sfvrsn=b8304bf0_4 – Accessed on 24/4/2020

Novel Corona Virus – https://www.mohfw.gov.in/ – Accessed on 24/4/2020

Should You Have a Home Birth Because of Coronavirus? – https://www.nytimes.com/2020/03/30/parenting/home-birth-coronavirus-hospital.html – Accessed on 24/4/2020

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Surender aggarwal द्वारा लिखित
अपडेटेड 24/04/2020
x