कोरोना वायरस के इलाज में प्रभावी हो सकती है रेमडेसिवीर दवा, जानें इसके बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट June 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोविड- 19 (COVID- 19) का इलाज खोजने के लिए पूरी दुनिया कोशिश कर रही है। इसी कोशिश के दौरान कोरोना वायरस के इलाज (Coronavirus Treatment) में एक दवा का नाम सामने आ रहा है, जो कि इस महामारी के इलाज (Coronavirus Vaccine Development) में काफी प्रभावशाली साबित हो सकती है। इस ड्रग के प्रभाव पर अभी शुरुआती स्टडी चल रही है, लेकिन इसे काफी प्रभावशाली माना जा रहा है और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) भी कोविड- 19 के मरीजों के इलाज में इस दवा का उपयोग करने पर विचार कर सकती है। जिस दवा के बारे में हम बात कर रहे हैं, उसका नाम रेमडेसिवीर (Remdesivir Drug) है। आइए, जानते हैं कि रेमडेसिवीर दवा का कोविड- 19 के इलाज में किस तरह का प्रभाव है।

यह भी पढ़ें: क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

रेमडेसिवीर दवा पर स्टडी और ट्रायल (Remdesivir Drug Trial)

अमेरिका की प्रमुख बायोटेक्नेलॉजी कंपनियों में शामिल गिलियड साइंसेज ने रेमडेसिवीर दवा पर एक स्टडी कराई थी। स्टडी के मुताबिक, अस्पताल में भर्ती किए गए कोविड- 19 के 53 गंभीर मरीजों पर इसका क्लीनिकल ट्रायल किया गया था। कोरोना वायरस के 53 गंभीर मरीजों में से 36 मरीजों में इस दवा से काफी सुधार देखने को मिला है। यह स्टडी शुक्रवार को न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसीन (New England Journal of Medicine) में प्रकाशित हुई थी।

यह भी पढ़ें: अगर जल्दी नहीं रुका कोरोना वायरस, तो ये होगा दुनिया का हाल

रेमडेसिवीर दवा पर गिलियड साइंसेज के सीईओ का बयान

नौ देशों से शामिल मरीजों को रेमडेसिवीर ड्रग की पहली डोज 7 मार्च को दी गई, जिसके बाद उनमें से 68 प्रतिशत मरीजों ने क्लिनिकल इंप्रूवमेंट दिखाया, 47 प्रतिशत मरीजों को अस्पतला से छुट्टी दे दी गई और 13 प्रतिशत मरीजों की मृत्यु हो गई। गिलियड साइंसेज के सीईओ डैनियल ओडे ने लिखा कि, ‘रेमडेसिवीर दवा से उपचार पर अभी स्टडी और जांच जारी है और दुनिया के किसी भी देश में इसके उपयोग के लिए अभी मंजूरी नहीं दी गई है। अभी हम यह पता लगा रहे हैं कि यह दवा कितनी सुरक्षित है या इसके कोई साइड इफेक्ट तो नहीं है। हम जांच कर रहे हैं कि विभिन्न स्थितियों में यह दवा कैसे कार्य करती है और इसके लिए दुनियाभर में कई क्लीनिकल ट्रायल चल रहे हैं।’ आपको बता दें कि, रेमडेसिवीर दवा को इबोला वायरस डिजीज (Ebola Virus Disease) के ट्रीटमेंट के लिए भी टेस्ट किया जा रहा है। क्योंकि, यह इबोला आउटब्रेक के दौरान भी काफी प्रभावशाली साबित हुई थी।

यह भी पढ़ें: अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

रेमडेसिवीर दवा पर आईसीएमआर का क्या कहना है?

इस स्टडी पर अपनी बात रखते हुए आईसीएमआर के एपिडेमियोलॉजी एंड कम्युनिकेबल डिजीज (Epidemiology and Communicable Disease) विभाग के प्रमुख, रमन गंगाखेडकर ने कहा कि, ‘नई स्टडी के मुताबिक इबोला वायरस आउटब्रेक के दौरान इस्तेमाल की जाने वाली रेमडेसिवीर दवा को कोरोना वायरस के रिप्रोडक्शन में बाधा डालते हुए देखा गया है, जिस वजह से यह माना जा रहा है कि यह कोविड- 19 ट्रीटमेंट के दौरान इस्तेमाल हो सकती है। लेकिन हम विश्व स्वास्थ्य संगठन के नतीजों का इंतजार करेंगे और अगर डब्ल्यूएचओ ने इसके इस्तेमाल को मंजूरी दी तो हम इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। लेकिन, चूंकि यह दवा अभी हमारे देश में मौजूद नहीं है और सरकार द्वारा अन्य फार्मासियुटिकल कंपनियों को इसके उत्पादन के लिए आमंत्रित किया जाएगा।’

यह भी पढ़ें: भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन की जानकारी गलत, जानें क्या है इसका मतलब

बीसीजी वैक्सीन और हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा पर भी चल रहा है शोध

रेमडेसिवीर दवा के अलावा बीसीजी वैक्सीन और हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन दवा पर भी कोरोना वायरस के इलाज में प्रभावशीलता पर शोध चल रहा है। हाल ही में हुए शोध में पता चला था कि, जिन देशों में टीबी जैसे लंग इंफेक्शन को खत्म करने के लिए बीसीजी टीके का इस्तेमाल हो रहा है, वहां कोरोना वायरस के मामले कम देखने को मिल रहे हैं। इसके अलावा, कोरोना वायरस के इलाज में हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन ड्रग (Hydrocychloroquine drug) का प्रभाव देखने के लिए भी शोध किया जा रहा है। दरअसल, हाइड्रोक्सी कोलोरोक्वाइन एक एफडीए मान्यता प्राप्त एंटीमलेरियल ड्रग है जो कि मुंह द्वारा लिया जाता है। मलेरिया के अलावा, यह रूमेटाइड अर्थराइटिस और ल्यूपस एरिथेमेटोसस (rheumatoid arthritis and lupus erythematosus) बीमारी में भी इस्तेमाल की जाती है। यह कम उम्र के बच्चों के लिए नहीं दी जाती है, इसलिए इस दवा का सेवन सिर्फ डॉक्टर द्वारा बताए गए तरीके से ही करना चाहिए। हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन टैबलेट्स का गलत इस्तेमाल करने से कई गंभीर दुष्प्रभावों का सामना करना पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ सख्ती पर ऑक्सफोर्ड ने जारी की रिपोर्ट, भारत ने किया टॉप

COVID-19 Outbreak updates
Country: India
Data

1,435,453

Confirmed

917,568

Recovered

32,771

Death
Distribution Map

कोरोना वायरस से सावधानी

कोरोना वायरस इंफेक्शन से बचने के लिए भारत सरकार ने लोगों के लिए कुछ सलाह दी है। सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के साथ इन एहतियात रूपी सलाह को फॉलो करने से आप कोरोना वायरस संक्रमण से काफी हद तक बच सकते हैं।

  1. कोरोना से बचाव के लिए हाथों की अच्छी से सफाई जरूरी है।
  2. लोगों से मिलते समय उचित दूरी बनाएं।
  3. आंखों, नाक और मुंह को छूने से पहले हाथ धुल लें।
  4. खांसी या फिर छींक आए तो हैंकी या फिर टिशू का यूज जरूर करें।
  5. कोरोना के लक्षण दिखने पर डॉक्टर से संपर्क करें।
  6. जब तक कोरोना की वैक्सीन न बन जाएं, तब तक सभी को सतर्क रहने की जरूरत है।
  7.  अगर आपके पास साबुन नहीं है तो एल्कोहॉल बेस्ड सैनिटाइजर का भी यूज कर सकते हैं।
  8. मास्क को मुंह में सही तरह से लगाएं। मास्क और मुंह के बीच स्पेस न रहने दें।
  9. मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें। डिस्पोजल मास्क को एक बार यूज करने के बाद फेंक दें।
  10. मास्क को आगे से छूने की भूल न करें।
  11. इस्तेमाल के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।

ये भी ध्यान रखें

कोरोना वायरस महामारी को देश से खत्म करने के लिए आपको लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही मास्क व पर्सनल हाइजीन जैसी सावधानियों का पालन करना होगा। इसके अलावा, सिर्फ सरकार या हेल्थ एक्सपर्ट द्वारा दी गई जानकारी पर ही विश्वास करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें :-

कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

कोविड-19 है जानलेवा बीमारी लेकिन मरीज के रहते हैं बचने के चांसेज, खेलें क्विज

ताली, थाली, घंटी, शंख की ध्वनि और कोरोना वायरस का क्या कनेक्शन? जानें वाइब्रेशन के फायदे

कोराना के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ धोना है जरूरी, लेकिन स्किन की करें देखभाल

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

अधिकतर भारतीय कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए हैं तैयार, लेकिन कुछ लोग अभी भी करना चाहते हैं इंतजार

कोविड-19 वैक्सीनेशन को लेकर लोगों की क्या राय है, कितने लोग कोविड-19 वैक्सीनेशन कराना चाहते हैं, जानिए और अधिक, Covid-19 vaccination in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
कोविड-19, कोरोना वायरस January 8, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

यूके में मिला कोरोना वायरस का नया वेरिएंट, जो है और भी खतरनाक! 

यूके में कोरोना वायरस पर ब्रेक लगा नहीं कि अब कोरोना वायरस के नय प्रकार ने लोगों को शिकार बनाना शुरू कर दिया है। कैसे खुद को बचाएं संक्रमण? Coronavirus new variant found in United Kingdom details in Hindi.

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
कोरोना वायरस, कोविड 19 और शासन खबरें December 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोविड-19 वैक्सीन प्रोग्राम। गवर्मेंट ने दी ग्रीन सिग्नल। UK has become the first country in the world to approve the Pfizer/BioNTech coronavirus vaccine

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कोविड 19 की रोकथाम, कोविड-19 December 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध: कोविड-19 के पेशेंट में दौरे के लक्षण देखने को मिले हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस दिमाग पर अटैक कर रहा है, जिस कारण सीजर्स के लक्षण देखने को मिल रहे हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोविड-19, कोरोना वायरस November 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोरोना की दवाएं

कोराेना वायरस (Corona Virus) की दवाओं से लेकर वैक्सीन तक जानिए कैसा रहा अब तक का सफर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 2, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
covid 19 vaccine - कोविड 19 वैक्सीन

जल्द से जल्द लोगों तक कोविड 19 वैक्सीन पहुंचाने की पहल, जाग रही है एक नयी उम्मीद

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ January 25, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोरोना वायरस वैक्सीनेशन गाइडलाइन्स

सरकार के दिशा-निर्देश के अनुसार कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए इन लोगों को अभी करना होगा इंतजार!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ January 18, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोरोना वायरस वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination)

क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ January 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें