home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

World Press Freedom Day : महामारी के दौरान मीडियाकर्मियों ने दिया साहस का परिचय, क्या उनके जोखिम के बारे में जानते हैं आप ?

World Press Freedom Day : महामारी के दौरान मीडियाकर्मियों ने दिया साहस का परिचय, क्या उनके जोखिम के बारे में जानते हैं आप ?

जब देश-दुनिया में कोरोना महामारी फैली थी, उस वक्त सभी लोग घरों में कैद हो गए थे। ट्रेन, विमान सेवा से लेकर सभी जरूरी यातायात के साधनों को भी बंद कर दिया गया। घरों के अंदर लोगों के पास बाहर का हाल जानने के लिए केवल एक ही साधन था, वो था टीवी या मोबाइल पर आती लगातार अपडेट। महामारी के दौरान खबरों से अपडेट रहना हम सब की आदत बन चुकी है। क्या आपने कभी सोचा है कि देश-दुनिया में जब भी कोई त्रासदी मचती है तो लोग घरों के अंदर होते हैं लेकिन मीडिया कर्मी घटना की जानकारी जुटाने के लिए घरों के बाहर होते हैं। कोरोना महामारी के दौरान भी ठीक ऐसा ही हो रहा है। मीडियाकर्मी लगातार हॉटस्पॉट एरिया से, हॉस्पिटल्स आदि से कोरोना के बारे में जानकारी जुटाने में लगे हुए हैं। ऐसा नहीं है कि मीडियाकर्मियों को कोरोना खतरा नहीं है, बल्कि वो अपनी जिम्मेदारी से पीछे हटना नहीं चाहते हैं। मीडियाकर्मियों को अपना काम करते हुए अपनी सेफ्टी को लेकर भी सजक होना चाहिए। वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे के मौके पर जानिए कि लॉकडाउन में मीडिया कर्मियों के जोखिम आखिर क्या हैं और कैसे वो इन सब से लड़कर देश की जनता के लिए ताजी खबरे ला रहे हैं।

लॉकडाउन में मीडिया कर्मियों के जोखिम: कोरोना का संक्रमण

महामारी में लॉकडाउन के दौरान जब सभी लोग अपने घर में बैठकर कोरोना से संबंधित खबर देख रहे हैं, तब मीडिया रिपोर्टर फील्ड से महामारी से बढ़ते आंकड़ों के बारे में जानकारी देने में व्यस्त हैं । यहीं कारण है कि भारत के कई राज्यों से मीडियाकर्मियों के कोरोना संक्रमित होने की बात सामने आई है। आपको बताते चले कि लॉकडाउन में मीडिया कर्मियों के जोखिम का सबसे बड़ा मामला महाराष्ट्र में सामने आया। करीब 50 से ज्यादा मीडियाकर्मी कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए।

हैलो स्वास्थ्य ने भोपाल की मीडियाकर्मी रंजना दुबे से जब लॉकडाउन में मीडिया कर्मियों के जोखिम के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि ‘ मुझे रोजाना रिपोर्टिंग के लिए बाहर जाना पड़ता है। मुंह में मास्क, हाथों में ग्लव्स जरूर पहनती हूं और साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल भी रखती हूं। लेकिन इस सब के बावजूद मुझे फील्ड में डर लगता है। कोरोना वायरस तेजी से बढ़ रहा है और ये किसी को भी आसानी से संक्रमित कर सकता है। रंजना आगे कहती हैं कि मैं फिलहाल खुद को संक्रमण से बचाने के लिए साफ-सफाई का पूरा ध्यान दें रही हूं। और साथ ही अपने साथ रखने वाली सभी चीजों को भी सैनिटाइज करती रहती हूं ताकि संक्रमण का खतरा कम हो जाए।

लॉकडाउन में मीडिया कर्मियों के जोखिम: वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे (World Press Freedom Day)

वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे हर साल 3 मई को सेलीब्रेट किया जाता है। UNESCO ने साल 2020 की थीम जर्नलिस्ट विदआउट फियर ( Journalism without Fear or Favour) रखी गई है। सच्चाई को सामने रखने के लिए मीडिया का स्वतन्त्र होना बहुत जरूरी है। पॉलिटिकल और कमर्शियल इंफ्लुएंस के प्रभाव से दूर रहकर दुनियाभर की मीडिया काम कर सके, इसलिए ये खास दिन सेलिब्रेट किया जाता है। वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे यूएन जनरल एसेंबली की ओर से दिसबंर 1993 को घोषित किया गया था। तब से लेकर आज तक हर साल 3 मई को इस दिन को सेलिब्रेट किया जाता है। UNESCO ने मीडिया को ध्यान में रखते हुए ग्लोबल कैम्पेन भी शुरू किए हैं। आपको बताते चले कि साल 2020 दुनियाभर के पत्रकारों के लिए चैलेंजिंग है। कोरोना महामारी के दौरान जानकारी जुटाना किसी खतरे से कम नहीं है। ऐसे में दुनिया भर के पत्रकार बिना डर के अपना काम कर रहे हैं। साल 2020 में वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे की कुछ सब-थीम भी रखी गई हैं।

  • महिला और पुरुष पत्रकारों और मीडियाकर्मियों की सुरक्षा
  • मीडिया में सभी परिस्थितियों में जेंडर इक्वेलिटी
  • पॉलिटिकल और कमर्शियल इंफ्लुएंस के प्रभाव से मुक्त मीडिया

और पढ़ें :लॉकडाउन में एंट्रेंस एक्जाम (प्रतियोगी परीक्षा) की तैयारी? न मानें हार और इन 10 तरीकों से पाएं सफलता

अन्य राज्यों में भी असुरक्षित हैं मीडियाकर्मी

देश के अन्य राज्यों मध्य प्रदेश, गुजरात में भी मीडियाकर्मियों के कोरोना से संक्रमित होने की बात सामने आ चुकी है। महाराष्ट्र के बाद दिल्ली में भी मीडियाकर्मियों की कोरोना जांच शुरू कर दी गई ताकि संक्रमित लोगों का पता जल्द चल जाए। फिलहाल मीडियाकर्मियों का कोरोना से संक्रमित होने का जोखिम बढ़ता जा रहा है।

तो क्या सोशल डिस्टेंसिंग में हो जाती है चूक ?

लॉकडाउन में मीडिया के लिए सेफ्टी टिप्स अपनाने के बावजूद भी लोग कोरोना के संक्रमण में आ गए। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि जब भी कोई स्वस्थ्य व्यक्ति कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आता है तो सोशल डिस्टेंसिंग न अपनाने की वजह से भी कोरोना का संक्रमण आसानी से फैल जाता है। रिपोर्टिंग के दौरान रिपोर्टर कई लोगों से मिलता है, इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखने के बावजूद भी कई बार चूक हो जाती है।

और पढ़ें :इम्यूनिटी पासपोर्ट को लेकर WHO ने पूरी दुनिया को चेताया, तेज होगी कोरोना की रफ्तार

लॉकडाउन में मीडिया कर्मियों के जोखिम : न्यूज अपडेट देने का प्रेशर

ऐसा नहीं है कि मीडियाकर्मियों को अपनी जान की परवाह नहीं होती है, लेकिन दिन रात उन पर न्यूज अपडेट देने का प्रेशर रहता है। साथ ही टीवी और मोबाइल के इस दौर में तेजी और सटीकता के साथ खबरों का प्रसारण होता है, जिसके कारण दिनभर खुद की सुरक्षा पर ध्यान रख पाना मुश्किल हो जाता है। फील्ड में दिनभर काम करने के साथ ही हाइजीन मेंटेंन करना वाकई बड़ा चैलेंज है। जो रिपोर्टर हाइजीन मेंटेन नहीं कर पा रहे हैं, वो आसानी से कोरोना महामारी का शिकार बन रहे हैं।

और पढ़ें :मर्दों के लिए लॉकडाउन में हेयर केयर टिप्स, जिनसे मिलेंगे सैलून जैसे बाल

लॉकडाउन में मीडिया के लिए सेफ्टी टिप्स क्या हो सकते हैं ?

लॉकडाउन में जो भी रिपोर्टर फील्ड में काम कर रहे हैं, उनके लिए भी वहीं सेफ्टी टिप्स हैं, जो सामान्य लोगों के लिए हैं। घर से बाहर निकलते समय अगर सुरक्षा का ध्यान दिया जाए तो कोरोना महामारी से मीडियाकर्मी बच सकते हैं।

  • घर ले बाहर निकलते वक्त अपने साथ ले जाने वाले सामान को सैनिटाइज जरूर कर लें।
  • हाथों में ग्लव्स और मुंह में मास्क का प्रयोग जरूर करें।
  • अगर खुद के वाहन का प्रयोग कर रहे हैं तो दो पहिया वाहन में एक से अधिक व्यक्ति न जाएं।
  • माइक से बाइट लेते वक्त सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें।
  • जरूरी न तो भीड़ में न जाएं।
  • समय-समय पर हाथों को सैनिटाइज करते रहें
  • मास्क को उतारते समय आगे की तरफ न छुएं
  • खाना खाने से पहले हाथों को अच्छी तरह से साफ कर लें।
  • अगर हॉटस्पॉट में जा रहे हैं तो खुद का अधिक ध्यान रखने की आवश्यकता है।
  • संस्थान से सेफ्टी टिप्स के बारे में बात अवश्य करें।

और पढ़ें :कोरोना वायरस: क्या गौमूत्र और गोबर से नोवल कोरोना वायरस की रोकथाम में मदद मिल सकती है?

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है। अगर आपको कोरोना वायरस या फिर अन्य बीमारियों के बारे में जानकारी चाहिए तो बेहतर होगा कि एक बार अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

 

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Delhi to start Covid-19 testing for media persons after 53 Mumbai journalists test positive: https://theprint.in/india/delhi-to-start-covid-19-testing-for-media-persons-after-53-mumbai-journalists-test-positive/406262/ Accessed on 30/4/2020

Media faces challenges in covering coronavirus outbreak: https://www.businessinsider.com/media-faces-challenges-in-covering-coronavirus-outbreak-2020-3?IR=T Accessed on 30/4/2020

Coronavirus in Mumbai: 30 media persons test Covid-19 positive, sent to home quarantine: https://www.indiatvnews.com/news/india/coronavirus-mumbai-30-media-persons-test-covid-19-positive-journalists-sent-to-home-quarantine-609439 Accessed on 30/4/2020

Media faces challenges in covering coronavirus outbreak:https://apnews.com/3ee23783be9290dd7fb696a2468e5e24 Accessed on 30/4/2020

The challenges of global case reporting during pandemic :http://www9.who.int/bulletin/volumes/92/1/12-116723/en/ Accessed on 30/4/2020

 

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 25/05/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x