home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

COVID-19 के कहर के बीच, अल्जाइमर से पीड़ित मरीजों की देखभाल करते वक्त इन 5 बातों का रखें ध्यान

COVID-19 के कहर के बीच, अल्जाइमर से पीड़ित मरीजों की देखभाल करते वक्त इन 5 बातों का रखें ध्यान

रहस्यमय कोरोना वायरस लगातार फैल रहा है। दिन-ब-दिन इसके मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। दुनियाभर में इस वायरस को लेकर दहशत का माहौल है। ऐसे में कोरोना वायरस जैसी महामारी के बीच अल्जाइमर से पीड़ित सगे संबधियों की देखभाल करना चुनौतियों भरा साबित हो सकता है। खासकर तब जब आपको विशेष रूप से सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए देखभाल करनी हो। आज इस लेख में हम बात कर रहे हैं लॉकडाउन में अल्जाइमर पेशेंट का कैसे ध्यान रखें।

लॉकडाउन में अल्जाइमर पेशेंट का इस तरह रखें ध्यान

लॉकडाउन में अल्जाइमर पेशेंट का कैसे ध्यान रखें यह जानने से पहले हम जानते हैं अल्जाइमर क्या है और किस उम्र के लोग इससे प्रभावित होते हैं:

अल्जाइमर डिजीज डिमेंशिया का ही एक प्रकार है, जिसके शिकार ज्यादातर बड़ी उम्र के बुजुर्ग होते हैं। जो लोग इस बीमारी से ग्रसित होते हैं उनकी याददाश्त कमजोर हो जाती है। इसके साथ ही उनके सोचने और समझने की शक्ति पर भी असर नजर आने लगता है। इस बीमारी में याददाश्त की क्षमता पर तो असर पड़ता ही है साथ ही सोचने, समझने की शक्ति भी प्रभावित होती है। पहले जहां ये माना जा रहा था कि यह बीमारी 65 साल या उससे अधिक उम्र के लोगों को होती है लेकिन अमेरिका में किए गए एक रिसर्च में इसके ठीक उलट परिणाम सामने आए हैं। इस शोध के निष्कर्ष की मानें तो 65 साल से कम उम्र के बहुत से लोग भी इस बीमारी की चपेट में आ रहे हैं।

किन लोगों को होता है अल्जाइमर और क्या हैं इसके लक्षण

  • रक्तचाप
  • सिर में चोट लगना
  • मधुमेह
  • आधुनिक जीवनशैली

उपरोक्त बताए कारणों से अल्जाइमर को होने की आशंका होती है। कुछ लोगों में इस बीमारी के होने का कारण उनका लाइफस्टाइल होता है। जैसे शराब या सिगरेट पीना, सम पर खाना खाना आआदि। कई लोगों को यह बीमारी उनके परिवार से मिलती है। कई बार सिर पर चोट लगने या स्ट्रोक से भी इस बीमारी के लक्षण नजर आने लगते हैं।

लक्षण

  • अपने सामान को रखकर भूल जाना
  • अल्जाइमर रोग के कारण ध्यान केंद्रित करने और सोचने में कठिनाई होती है।
  • एक साथ कई काम करने में कठिनाई
  • समय पर बिलों का भुगतान न करना, चेक-बुक को बैलेंस रखना आदि कार्य चुनौती पूर्ण हो सकते हैं।
  • संख्याओं को पहचानने में परेशानी होती है।
  • रोजमर्रा की चीजों को भूल जाना

यह भी पढ़ें: कोरोना की वजह से अपनों को छूने से डर रहे लोग, जानें स्किन को एक टच की कितनी है जरूरत

लॉकडाउन में अल्जाइमर पेशेंट का इसलिए ध्यान रखना है जरूरी

कोरोना वायरस के मामले में देखें तो ब्रिटेन में संक्रमण से हुई 90% मौतों की वजह पुरानी बीमारी जैसे डिमेंशिया, क्रॉनिक लोअर रेस्पिरेट्री डिसीज, इंफ्लूएंजा, निमोनिया शामिल थे। इनमें अल्जाइमर से पीड़ित मरीज भी थे, जिनको कोविड-19 का संक्रमण हुआ। संक्रमण के मामलों में उम्र बेहद बड़ा फैक्टर है यानी कोरोना से बचने के लिए उम्रदराज लोगों को अधिक सावधान रहने की जरूरत है। लेकिन तब क्या किया जाए जब आप खुद ऐसे ही किसी मरीज की देखभाल कर रहे हैं जो अल्जाइमर से पीड़ित है। घबराने की जरूरत नहीं है। इन पांच तरीकों से आप उनका ख्याल बेहतर ढंग से रख सकते हैं।

हाइजीन पर ध्यान देना है जरूरी

लॉकडाउन में आपका अपना कोई अल्जाइमर का रोगी है तो बेहतर होगा कि आप उनकी हाइजीन का ख्याल रखें। हम सभी जानते हैं कि कोरोना महामारी से बचाव के लिए समय समय पर हाथ धोना कितना जरूरी है। अल्जाइमर से पीड़ित लोगों में स्मरण शक्ति कम होती है, जिस वजह से हो सकता है कि वह अपने हाथों को निरंतर अंतराल पर धोना भूल सकते हैं। ऐसे में बेहतर होगा कि आप वक्त-वक्त पर उन्हें हाथों को वॉश करना याद दिलाते रहें। संभव हो तो उनकी मदद भी करें। हाथ धोने से मतलब है स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए पानी और हैंडवॉश से करीबन 20 सेकेंड तक हाथों को साफ करना। आप उनके लिए अलार्म लगा सकते हैं और बता सकते हैं कि थोड़ी देर बाद उन्हें अपने हाथों को धोना है। इस बीच आपको यह भी ख्याल रखना होगा कि आपके बार-बार याद दिलाने की वजह से वे किसी तरह का तनाव महसूस न करें।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस का L-Strain क्या है जो भारत के कई क्षेत्रों को धीरे-धीरे बना रहा वुहान

देखभाल को लेकर भी बनाएं योजना

कोरोना की वजह से कम स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध हो पा रही हैं। लॉकडाउन में अल्जाइमर पेशेंट का ध्यान रख रहे हैं तो ये बेहद जरूरी है कि आप भी स्वस्थ हो। अपने परिवार के साथ बैठकर इस पर विचार करें कि अगर आप बीमार हो गए तो कौन उनका ख्याल रखेगा। इसके साथ ही उनके आसपास के वातावरण को खुशनुमा बनाकर रखें। उनके डॉक्टर से ऑनलाइन या फोन पर उनकी तबीयत बताकर रुटीन चैकअप कराएं। डॉक्टर की क्लीनिक या किसी भी भीड़भाड़ वाली जगह पर उन्हें लेकर न जाएं। कोशिश करें कि मेडिकल स्टोर से एक महीने की दवा ले आए जिससे आपको बार बार मेडिकल स्टोर न जाना पड़े।

धैर्य रखें

लॉकडाउन में अल्जाइमर पेशेंट आपको परेशान कर सकते हैं। कोरोना वायरस के बचाव के चलते हम सभी घर के अंदर कैद हैं। ऐसे समय में अच्छे खासे लोगों का बुरा हाल हो रखा है। घर में बंद रहने के कारण अल्जाइमर से पीड़ित लोगों के व्यवहार में बदलाव देखने को मिल सकते हैं। उनके व्यवहार में बदलाव देखने को मिल सकता है। उनके मूड स्विंग देखकर कई बार आप अपना आपा खो सकते हैं। इस समय में सबसे पहले आपके अपने आप कोशांत रखना होगा। आपको यह समझना होगा कि उनके इस व्यवहार के पीछे क्या कारण है। आपको इस बात को हमेशा ध्यान में रखना है कि इस मुसीबत के समय में आपको उनका सहारा बनना है।

आपको इन हालातों से जूझ रहे मरीज का सहारा बनना है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस का ड्रग : क्या सिर की जूं (लीख) की दवाई आइवरमेक्टिन कोविड-19 को खत्म कर सकती है?

कोरोना महामारी के बारे में जानकारी दें

कोरोना वायरस की वजह से दुनिया भर में लोग मुश्किल हालात का सामना कर रहे हैं। इस संकट के बारे में बुजुर्गों से कैसे बात करें, इसके लिए ये कुछ टिप्स हैं। आप को अपने प्रियजनों की चिंता दूर करनी होगी। उन्हें बताना होगा कि कोरोना वायरस वैसा ही वायरस है, जैसा वायरस आप को खांसी-जुकाम होने या डायरिया और उल्टी होने पर हमला करता है। उन्हें बताएं कि बाहर ऐसी परिस्थियां बनीं हैं जिस वजह से लोग बाहर नहीं जा सकते। सबसे पहले तो आप उन्हें आश्वासन दीजिए। साथ ही ये बताएं कि वो कौन से ऐसे कदम उठाएं, ताकि वो संक्रमित होने के खतरों को टाल सकें। उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करने को लेकर समझाएं। कोई घर पर उनसे मिलने आए तो उन्हें हाथ मिलाने या गले लगने से मना करें। उन्हें समझाए कि वो सबसे दूरी बनाकर रखें।

खुद का भी रखें ध्यान

अल्जाइमर से पीड़ित लोगों की देखभाल करने वाले खुद का भी ध्यान रखें। ऐसा नहीं कि दिनभर उनका ख्याल रखने के चक्कर में आप खुद को ही भूल जाएं। लॉकडाउन की यह स्थिति आगे कितने समय तक रहेगी इसके बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है। अल्जाइमर एसोसिएशन ने महामारी के बारे में चिंता कम करने के लिए निम्नलिखित तरीके बताए हैं:

  • खुद के तनाव पर भी ध्यान दें
  • किसी न किसी एक्टिविटी में खुद को व्यस्त रखें
  • सोशल मीडिया से दूर रहें बशर्ते अगर यह आपको चिंतित करता है
  • दिनभर कोरोना वायरस की खबरों को न देखें, इससे भी स्ट्रेस होता है

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस: क्या गौमूत्र और गोबर से नोवल कोरोना वायरस की रोकथाम में मदद मिल सकती है?

इस लेख में हमने आपको बताया है कि लॉकडाउन में अल्जाइमर पेशेंट का ध्यान रखते वक्त किन बातों का ध्यान रखें। यदि आपको इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी चाहिए तो आप अपना सवाल कमेंट कर पूछ सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें :-

कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

कोविड-19 है जानलेवा बीमारी लेकिन मरीज के रहते हैं बचने के चांसेज, खेलें क्विज

ताली, थाली, घंटी, शंख की ध्वनि और कोरोना वायरस का क्या कनेक्शन? जानें वाइब्रेशन के फायदे

कोराना के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ धोना है जरूरी, लेकिन स्किन की करें देखभाल

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Caring for Someone with Alzheimer’s During the COVID-19: https://www.healthline.com/health-news/caring-for-people-with-alzheimers-during-covid-outbreak#5.-Practice-self-care  Accessed April 28, 2020

Coronavirus (COVID-19): Tips for Dementia Caregivers: https://www.alz.org/help-support/caregiving/coronavirus-(covid-19)-tips-for-dementia-care Accessed April 28, 2020

Coronavirus and Alzheimer’s Disease: https://www.brightfocus.org/alzheimers-disease/article/covid-19-and-alzheimers-disease Accessed April 28, 2020

Coronavirus and Dementia: https://www.beingpatient.com/coronavirus-dementia/ Accessed April 28, 2020

Caregiving In A Time Of Coronavirus: http://www.mind.uci.edu/caregiving-in-a-time-of-coronavirus-a-message-from-your-alzheimers-disease-research-center/ Accessed April 28, 2020

लेखक की तस्वीर badge
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/06/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x