बच्चे को जरूरी पोषण मिल रहे या नहीं कैसे जानें?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 9, 2020
Share now

क्या आपके बच्चे को जरूरी पोषण प्राप्त हो रहा है, जो उसके विकास के लिए जरूरी है? हम सभी को पता है कि पांच साल की उम्र तक बच्चे का शरीरिक और मानसिक विकास बहुत तेजी से होता है। यदि उस दौरान उसकी डायट सही न हो, तो बच्चे के विकास में फर्क पड़ता है। इसलिए बच्चे के अच्छे विकास के लिए संतुलित आहार बहुत जरूरी है। अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स की जानकारी के अनुसार, आप अपने बच्चे को जरूरी पोषण मिल रहा है या नहीं इस तरह सुनिश्चित कर सकते हैं।

बच्चे काे जरूरी पोषण देने के लिए क्या करना चाहिए?

बढ़ते बच्चे को जरूरी पोषण मिल सके इसके लिए उनकी डायट पर विशेष ध्यान देना जरूरी है। बच्चों को किनोवा और कीवी जैसे एग्जॉटिक फूड या बाहर की चीजें न खिलाएं। कोशिश करें की उसे अधिक से अधिक सीजनल फूड खिलाएं। बच्चे की खाने की टाइमिंग का खासतौर पर ध्यान रखें। इसका ये मतलब नहीं है कि कम समय में एक बार में दो समय का खाना खिला दें। बच्चे के हर मील के बीच में अंतराल होना चाहिए। शिशु और बच्चे को संतुलित मात्रा में ही खाना खिलाएं।

बच्चे को खाने में हमेशा ताजे फूड आयटम्स ही दें। बच्चे को फ्रोजन फूड प्रोडक्ट्स बिलकुल न दें। इसमें न्यूट्रिएंट वैल्यू कम होती है। इन्हें स्टोर करने के लिए कुछ कैमिकल्स का भी इस्तेमाल किया जाता है। यह बच्चे की इम्युनिटी के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं क्योंकि, बड़ों के मुकाबले बच्चों की इम्युनिटी कमजोर होती है। जितना आपको लगता है कि आपका बच्चा खाएगा, उससे कम दें। यदि आपका बच्चा अभी भी भूखा है, तो उसे और मांगने दें। बच्चे को जरूरी पोषण मिल रहा है यह सुनिश्चित करना पेरेंट्स की ही जिम्मेदारी होती है।

मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरा बच्चा कब खा रहा है?

आमतौर बच्चे भूख लगने पर खाते हैं और जब उनका पेट भर जाता है, तो रुक जाते हैं। कुछ पेरेंट्स चिंता करते हैं कि छोटे बच्चे बहुत कम मात्रा में भोजन करते हैं। बच्चे को जरूरी पोषण मिले इसके लिए उसके खाने के विकल्पों पर ध्यान दें। किसी दिन बच्चा कम भी खा सकता है। इसकी पूर्ति अगले दिन की जा सकती है। बच्चे पर हमेशा ज्यादा खाने का दबाव न डालें। अपने बच्चे को अच्छा खाने के लिए प्रोत्साहित करें। अलग-अलग फूड आयटम्स अलग-अलग पोषक तत्व प्रदान करते हैं।

यह भी पढ़ें: कहीं स्तनपान के बाद भी बच्चा भूखा तो नहीं?

ऐसे सुनिश्चित करें कि बच्चे को जरूरी पोषण मिल रहा है

बच्चों की कैलोरी काउंट करें

बच्चे के उचित विकास के लिए उसे आयु, लिंग और विकास दर के आधार पर प्रति दिन एक निश्चित मात्रा में कैलोरी की आवश्यकता होती है। यदि आपका बच्चा अधिक या कम वजन का लगता है या आपको उनके पोषण तत्वों के संबंध में कोई शंका है, तो अपने बाल रोग विशेषज्ञ से बात करनी चाहिए।

यहां एक सरल कैलोरी चार्ट दी गई है।

  • दो से तीन वर्ष के बीच 1,000 – 1,400 कैलोरी प्रति दिन
  • चार और आठ के बीच उम्र: 1,200 – 2,000 कैलोरी प्रति दिन
  • नौ और 13 के बीच उम्र: 1,400 – 2,600 कैलोरी प्रति दिन
  • 14 और 18: 1,800 – 3,200 कैलोरी प्रतिदिन के बीच

यह भी पढ़ें : क्या आप अपने बच्चे को खिलाते हैं ये कलरफुल सुपरफूड ?

स्वादिष्ट व्यंजनों के साथ प्रोटीन

यह न भूलें कि बच्चे को जरूरी पोषण  देने की दिशा में प्रोटीन बहुत जरूरी है। यह बच्चे के विकास के लिए आवश्यक होता है क्योंकि यह मांसपेशियों के निर्माण में मदद करता है। खाद्य और पोषण बोर्ड के अनुसार, आपके बच्चे को प्रति दिन 13 से 19 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है। अपने बच्चे को अधिक अंडे और मीट खाने के लिए प्रोत्साहित करें। चिकन के साथ स्वस्थ, पौष्टिक व्यंजनों को बनाना मुश्किल नहीं है। आप अपने बच्चे के लिए चिकन ड्रमस्टिक्स और चिकन नगेट्स भी बना सकते हैं। दोनों बहुत ही पौष्टिक और स्वस्थ हैं।

यह भी पढ़ें: प्रोटीन सप्लिमेंट (Protein Supplement) क्या है? क्या यह सुरक्षित है?

बच्चे को जरूरी पोषण में फैट भी है शामिल

इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन फूड एंड न्यूट्रिशन बोर्ड ऑफ द यूएसए की सिफारिश है कि बच्चों को अपनी कैलोरी का 30 प्रतिशत वसा से 12 वर्ष की आयु तक प्राप्त करना चाहिए। अपने बच्चे को अधिक अखरोट खाने और कैनोला या जैतून के तेल में बना खाना खाने हेतु प्रोत्साहित करें। आपके बच्चे के विकास के लिए ओमेगा -3 और ओमेगा -6 फैटी एसिड की आवश्यकता होती है, इसलिए बच्चों के लिए वसा की कटौती न करें।

यह भी पढ़ें: दिल और दिमाग के लिए खाएं अखरोट, जानें इसके 9 फायदे

बच्चे को जरूरी पोषण देने के लिए गुड कार्बोहाइड्रेट चुनें

एक बच्चे के आहार में जोड़ने के लिए कार्बोहाइड्रेट बहुत आसान है। चाहे आपका बच्चा पराठा, पास्ता या चावल पसंद करता हो – सभी कार्बोहाइड्रेट के अच्छे स्रोत हैं। यह जानने की कोशिश करें कि अपने बच्चों को एक साथ क्या खाना पसंद है, इसका उदाहरण लें – उदाहरण के लिए, चावल के साथ राजमा, या चिकन पास्ता और फिर उन चीजों को अक्सर पकाएं। एक सप्ताह के लिए सेट मेनू होने से भी बच्चों में बेहतर अनुशासन बनता है और यह आपके लिए जीवन को आसान बनाता है।

यह भी पढ़ें : 10 फूड्स जिनमें कम होती है कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) की मात्रा

बच्चे को जरूरी पोषण मिले इसके लिए उन्हें दें सब्जियां और नट्स

10 साल से कम उम्र के बच्चे फास्ट फूड के शौकीन होते हैं। आप उन्हें घर पर कुछ स्वादिष्ट खिलाएंगे तो वे ज्यादा खुश होंगे। क्यों न अच्छा पास्ता बनाया जाए जिसमें सब्जियों और शिमला मिर्च जैसी सब्जियों का इस्तेमाल स्वादिष्ट सॉस में किया जाए? अपने बच्चों को हर दिन मैकडॉनल्ड्स बर्गर के लिए रोने से रोकने का एकमात्र तरीका है कि वे घर पर खाना पसंद करें। इसके अलावा, बादाम और अखरोट जैसे नट्स बच्चों के लिए बहुत अच्छे होते हैं।

बच्चे को जरूरी पोषण न मिलने से हो सकती हैं ये समस्याएं

बच्चे को जरूरी पोषण मिलना केवल उसके शारिरीक और मानसिक विकास के लिए ही नहीं बल्कि बच्चे को कई स्वास्थ्य समस्याएं भी हो सकती हैं। बच्चों में जरूरी पोषण की कमी के कारण अवसाद और घबराहट जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा बच्चे में हाइपरएक्टिविटी के लिए बच्चों में जरूरी पोषण की कमी ही कारण हो सकता है। पोषण की कमी के कारण बच्चों में कारण बच्चों की स्किन से लेकर उसे दांतों की भी समस्या हो सकती है। कई मामलों में देखा गया है कि बच्चे के जिद्दी स्वभाव की वजह भी पोषण की ही कमी होती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

यह भी पढ़ें:

बच्चों में पोषण की कमी के इन संकेतों को न करें अनदेखा

उचित नूट्रिशन (आहार-पोषण) के बारे में जानने के लिए क्विज खेलें

पिकी ईटर्स के लिए रेसिपी, जो उनको देगीं भरपूर पोषण

शिमला मिर्ची के खाने से हो सकते हैं 9 फायदे

संबंधित लेख:

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    क्या हैं ईटिंग डिसऑर्डर या भोजन विकार क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

    ईटिंग डिसऑर्डर (भोजन विकार) क्या है in hindi? Eating Disorder के लक्षण, भोजन विकार के कारण। खाना खाने से संबंधित कई असाधारण और खराब आदतें ईटिंग डिसऑर्डर का कारण हैं। इस आर्टिकल में जानते हैं इसके प्रकार।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Shikha Patel