home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

ORS and ORT: ओआरएस और ओआरटी कैसे करते हैं शरीर में पानी की कमी को दूर?

ORS and ORT: ओआरएस और ओआरटी कैसे करते हैं शरीर में पानी की कमी को दूर?

डेवलपिंग कंट्रीज में एक्यूट डायरिया डेथ इलनेस का आम कारण मानी जाती है। समय पर ट्रीटमेंट न मिल पाने के कारण बच्चों की मौत हो जाती है। ऐसा नहीं है कि ये समस्या केवल बच्चों में ही होती है, वयस्कों को भी सही समय पर इलाज न मिलने पर ये बीमारी भयानक या जानलेवा साबित हो सकती है। ओरल रिहायड्रेशन सॉल्युशन (ORS) की सहायता से कई देशों में डायरिया से होने वाली मौतों को रोकने में मदद मिली है। ओआरएस और ओआरटी (ORS and ORT) पानी की कमी को दूर करने में अहम रोल अदा करते हैं। ओआरएस ग्लूकोज बेस्ड होता है। कम ऑस्मोलैरिटी (Lower osmolarity) वाले ग्लूकोज-आधारित ओआरएस ने कई देशों में डायरिया की बीमारी में नियंत्रण पाने में मदद की है। आज भी लोगों को ओआरएस और ओआरटी (ORS and ORT) के बारे में अधिक जानकारी नहीं है। ओआरएस डे के मौके पर हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको ओआरएस और ओआरटी (ORS and ORT) के बारे में जानकारी देंगे।

और पढ़ें: दस्त का आयुर्वेदिक इलाज क्या है और किन बातों का रखें ख्याल?

ओआरएस और ओआरटी (ORS and ORT) क्या हैं?

ORS

ओरल रिहायड्रेशन सॉल्यूशन (ORS) एक लीटर पानी, छह चम्मच चीनी और आधा चम्मच नमक का मिक्चर है। ये घोल कम रुपय में आसानी से किसी भी मेडिकल स्टोर में मिल जाता है। अब तक ओरल रिहायड्रेशन सॉल्यूशन की सहायता से कई लोगों की जान बचाई जा चुकी है। ओरल रिहाइड्रेशन थेरेपी (ORT) की मदद से शरीर में हुई पानी की कमी को पूरा किया जाता है और डायरिया का ट्रीटमेंट भी किया जाता है।

रिहायड्रेशन फेज (Rehydration phase) – पानी और इलेक्ट्रोलाइट की मदद से ओरल रिहायड्रेशन सॉल्युशन (ORS) शरीर में पानी की कमी को दूर करता है। ओआरएस का घोल तीन से चार घंटे में काम शुरू कर देता है और शरीर में होने वाले फ़्लूइड लॉस को कम करता है।

मेंटीनेस फेज (Maintenance phase): इस फेज में तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट (Electrolyte) के नुकसान को पूरा किया जाता है और साथ ही आहार का सेवन (Dietary intake) भी किया जाता है। जानिए और क्या होता है रिहायड्रेशन फेज में।

दोनों ही फेज में वॉमिटिंग और डायरिया के दौरान (During diarrhea) फ़्लूइड लॉस को सुधारा जाता है। बच्चे में पानी की कमी को दूर करने के साथ ही स्तनपान कराने की सलाह दी जाती है। अगर बच्चा फॉर्मूला मिल्क पी रहा है, उसे भी पीने की सलाह दी जा सकती है। आपको डॉक्टर से पूछना चाहिए कि जब बच्चे में रीहायड्रेशन का प्रोसेस चल रहा हो, तो उसे साथ में क्या खाने के लिए दिया जा सकता है।

और पढ़ें: बच्चों को दस्त होने पर ना दें ये फूड्स

ओआरएस और ओआरटी (ORS and ORT) : कैसे दी जाती है ओआरटी प्रोसेस?

डायरिया की समस्या को दूर करने के लिए ओआरएस और ओआरटी (ORS and ORT) अहम भूमिका निभाते हैं। ओआरएस को चम्मच की सहायता से थोड़ी-थोड़ी मात्रा में पेशेंट को दिया जाता है। अगर बच्चा ओआरएस घोल पीने से इंकार करता है या पिर ओआरएस घोल पिलाने पर बाहर कर देता है, तो उसके लिए नासोगैस्ट्रिक ट्यूब (Nasogastric tube) का इस्तेमाल किया जा सकता है।नासोगैस्ट्रिक ट्यूब की सहायता से बच्चे को धीमे-धीमे ओआरएस (ORS) का घोल दिया जाता है। जिन लोगों को डायरिया के दौरान अधिक उल्टी की समस्या (Vomiting problem) हो रही है, उनके लिए भी नासोगैस्ट्रिक ट्यूब को इस्तेमाल करने की सलाह दी जा सकती है। अगर वॉमिटिंग या दस्त अधिक हो रहे हैं, तो ओआरएस की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है। आपको इस बारे में अधिक जानकारी डॉक्टर से प्राप्त करनी चाहिए।

बच्चे के बीमार पड़ने पर भले ही आप घर में उसे ओआरएस का घोल दें लेकिन डॉक्टर से जांच कराना बहुत जरूरी है। कई बार डायरिया के दौरान दस्त और उल्टी अधिक हो सकती है, जिसके कारण बच्चे में पानी बहुत कम हो जाता है। ऐसे में तुरंत ट्रीटमेंट की जरूरत होती है। बच्चे ऐसे में चिड़चिड़े और कमजोर हो जाते हैं। आपको बच्चे का अधिक ध्यान रखना चाहिए और ये भी ध्यान देना चाहिए कि वो दस्त के साथ ही यूरिन पास कर रहे हैं कि नहीं। शरीर में पानी की कमी के कारण यूरिन नहीं हो पाता है। आपको इस संबंध में डॉक्टर से भी जानकारी लेनी चाहिए और फिर उपाय अपनाने चाहिए।

और पढ़ें: दस्त होना कर देता शरीर का बुरा हाल, राहत पाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

बच्चों में डायरिया को न लें हल्के में

बच्चों में डायरिया होने पर शरीर में तेजी से पोषक तत्वों की कमी होने लगती है। बच्चों को दस्त के सात ही उल्टी और बुखार की समस्या भी हो सकती है। बच्चों में डायरिया खानपान की खराबी, दूषित पानी या फिर कई बार बाहर के दूध के कारण भी हो सकता है। बच्चों में जब दांत निकलते हैं, तो उन्हें कुछ न कुछ चबाने का मन करता है। इस कारण से वो कई बार दूषित चीजों को भी खा लेते हैं, जो डायरिया का कारण बन जाता है। बच्चे को ओआरएस के घोल के साथ ही नारियल का पानी (Coconut water) पिलाना भी फायदेमंद हो सकता है। अगर बच्चे की उम्र दो साल से अधिक है, तो उसे दाल का पानी या फिर चावल का माड़ भी दिया जा सकता है। अगर बच्चा केला खाता है, तो आप उसे थोड़ी मात्रा में केला यानी बनाना भी दे सकते हैं।

ओआरएस और ओआरटी: ओआरएस के साथ जिंक सप्लिमेंट्स (Zinc Supplements with ORS)

ओरआरएस के साथ ही जिंक सप्लिमेंट्स का सेवन करने की सलाह भी दी जाती है। डायरिया के कारण शरीर में जिंक की कमी भी हो जाती है। जिंक सेलुलर इम्यूनिटी को इंप्रूव करने के साथ ही गट सेल्स को मेंटिनेंस का भी ध्यान रखता है। ये प्रोटीन सिंथेसिस (Protein synthesis) और सेल ग्रोथ, के लिए भी जरूरी होता है। कई स्टडी में डायरिया को ठीक करने के लिए जिंक के अहम रोल के बारे में जानकारी मिल चुकी है। ओआरएस के साथ जिंक सप्लिमेंट (zinc supplement) बच्चों में डायरिया के एपिसोड को कम करने में मदद करते हैं। डब्लू एच ओ और यूनिसेफ के अनुसार बच्चों में डायरिया होने पर उन्हें ओआरएस के साथ 10 से 14 दिन तक रोजाना 20 ग्राम जिंक सप्लिमेंट की देनी चाहिए। वहीं इंफेंट को डेली 10 एमजी मिलनी चाहिए। आपको डॉक्टर की बिना जानकारी के जिंक की गोलियों (Zinc pills) का सेवन नहीं करना चाहिए और बच्चों को भी नहीं देना चाहिए। आप डॉक्टर से ओआरएस और ओआरटी (ORS and ORT) के बारे में विस्तार से जानें।

और पढ़ें: बच्चों में दस्त होने के कारण और घरेलू उपाय

इन चीजों का सेवन कर देना चाहिए बंद

अगर बच्चे को दस्त की समस्या हुई है, तो आपको उपरोक्त बताई गई विधि के अनुसार ही बच्चों को ओआरएस घोल पिलाना चाहिए। आपको सबसे पहले डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए और फिर किसी तरह उपाय अपनाना चाहिए। आपको बच्चे के खाने में फास्ट फूड (Fast food), डोनट्स, पेस्ट्री आदि को पूरी तरह से बंद कर देना चाहिए। आपको बच्चे के खाने में ब्रोकली (Broccoli), मटर या फिर बैंगन आदि भी नहीं देने चाहिए। आपको ऐसे फूड बिल्कुल नहीं देने चाहिए, जो पचने में अधिक समय लगाते हो। आपको इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से भी जानकारी लेनी चाहिए।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार उपलब्ध नहीं कराता। इस आर्टिकल में हमने आपको ओआरएस और ओआरटी (ORS and ORT) के संबंध में जानकारी दी है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस संबंध में अधिक जानकारी चाहिए, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/09/2021 को
डॉ. हेमाक्षी जत्तानी के द्वारा मेडिकली रिव्यूड