‘बेबी वियरिंग’ से गहरा होता है मां और बच्चे का रिश्ता

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

अगर घर में एक नवजात शिशु हैं और आपको उसे हाथ में देर तक उठाना पड़ता है, तो  बेबी वियरिंग आपके लिए बेहतर विकल्प है। बेबी वियरिंग बच्चे के साथ-साथ मां के लिए भी जरूरी है। बेबी वियरिंग जहां मां को बच्चे से करीब रखता है यह मां को बच्चे के साथ समय बिताने के लिए पूरी आजदी भी देता है। कुछ बच्चे बेबी वियरिंग में मां को परेशान करते हैं लेकिन ज्यादातर बच्चों को बेबी वियरिंग पसंद होता है। बच्चे बेबी वियरिंग में खुद को काफी कुला-खुला महसूस करते हैं।

ये भी पढ़ें- बिजी शेड्यूल के बीच कैसे अपने बच्चे को फील कराएं स्पेशल

बेबी वियरिंग क्या है

बेबी वियरिंग से आपको अपने बच्चे को उठाने या पकड़ने में मदद मिल सकती है। बेबी वियर या अपने बच्चे को कहीं ले जाने के लिए उठाने की प्रथा सदियों से चली आ रही है। ज्यादातर घुमने-फिरने वाले लोग अपने शिशुओं को उनके साथ आरामदायक यात्रा करने के लिए बेबी वियरिंग का सहारा लेते हैं। अगर आपके पास भी एक नवजात शिशु है, जिसे आप घंटों तक गोद में लेकर घूमाना चाहते हैं, तो बेबी वियरिंग आपके लिए मददगार साबित हो सकती है। यह पूरी तरह से सामान्य है। क्योंकि वैसे भी नवजात शिशु आपके पास ही रहना चाहते हैं। बेबी वियरिंग के माध्यम से बच्चे खुद को संभालना सिखते हैं। साथ ही उन्हें इसके जरिए खुद को बैलेंस करना भी आता है। बच्चे का शुरूआती समय वह अपनी मां के साथ बिताना चाहता है ऐसे में बेबी वियरिंग उन्हें अफनी मां के करीब रखने में मदद करता है।

बेबी वियरिंग के फायदे शिशु और मां दोनों के लिए हैंः

बच्चे के साथ सफर करना होगा आसान

ट्रैवलिंग के दौरान बेबी वियरिंग से बिना स्ट्रॉलर को धक्का दिए आप एक जगह से दूसरी जगह आसानी से जा सकते हैं। यह आपके हाथों को फ्री रखता है और जब आप जल्दबाजी में कुछ करना चाहते हैं, तो ये आपकी मदद करता है। इसकी मदद से बच्चा अपनी मां के गोद में बैठ के आराम से यात्रा कर सकता है। इसकी मदद से बच्चा जिसकी गोद में भी होता है उसका हाथ खाली होता है और वह कुछ और काम भी कर सकता है।

ये भी पढ़ें- पेरेंटिंग स्टाइल पर भी निर्भर है आपके बच्चे का विकास

बच्चे कीटाणु वाले हाथों से बचते हैं

आपका बच्चा जब बेबी वियर में होता है, तो आपके करीब और कीटाणु वाले हाथों से दूर होता है। हर किसी को बच्चे पसंद होते हैं और जब वह बच्चे को देखते हैं, तो उसे छूते हैं। बेबी वियरिंग के मुकाबले बच्चे को स्ट्रॉलर में छूना आसान होता है। बच्चा जब बेबी वियरिंग में होता है तो उनको छूने से पहले लोग सोचते हैं। ऐसे में बच्चा हर किसी के कीटाणु वाले हाथ से बचता है।

बेबी वियरिंग बच्चे के लिए आरामदायक

जब माता-पिता बच्चे को बेबी वियर में रखते हैं, तो बच्चे कम रोते हैं। बेबी वियर पहनने से बच्चों का रोना कम हो जाता है, खासकर शाम के समय। जितना अधिक आप अपने बच्चे को बेबी वियर पहनाते हैं, आपका बच्चा उतना ही खुश होगा, वह उतना ही कम रोएगा और उतना ही समय वह शांत रखेगा। बेबी वियरिंग जहां बच्चों के लिए आरामदायक होता है वहीं वह इसकी मदद से खुद को बैलेंस करना भी सिखते हैं।

बेबी वियरिंग बच्चे के स्वास्थ्य के लिए अच्छा

बेबी वियरिंग आपको उन्हें ऐसी स्थिति में ले जाने की परमिशन देता है जो उनके शारीरिक स्वास्थ्य और विकास के लिए फायदेमंद है। यह फ्लैट हेड सिंड्रोम को रोकने में मदद करता है और पाचन को बढ़ावा दे सकता है। इसके अलावा माता-पिता की गोद में बच्चे खुद को संतुलित करने के लिए मांसपेशियों का उपयोग भी करते हैं। बच्चों का स्वास्थ माता-पिता की पहली टेंशन होती है लेकिन इसकी मदद से बच्चे की पाचन शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है।

ये भी पढ़ें- बच्चे को किस करने से हो सकती है यह बीमारी, रहें सतर्क

इसमें थोड़ा समय लग सकता है लेकिन एक बार जब आपको इसकी आदत हो जाती है, तो आप बिना किसी की मदद के यह कर सकते हैं। खासकर अगर आप बच्चे के लिए रिंग स्लिंग या रैप का इस्तेमाल करते हैं।

बच्चे के साथ बॉन्ड बनाने का शानदार तरीका

जब आप अपने बच्चे को बेबी वियर में डालती हैं, तो आपका उसके साथ कनेक्ट करने का तरीका अलग होता है। बच्चे बेबी वियर में सोते हैं, जागते हैं और बोलने की कोशिश करते हैं, जो गर्भ से बाहर आने पर बच्चे के साथ फिर से जुड़ने का एक शानदार तरीका है। इस दौरान आप अपने बच्चे के इशारों का जवाब देने और उनकी जरूरतों को पूरा करना सीखते हैं। ऐसा करने से आप बच्चे को लेकर अधिक आत्मविश्वास महसूस कर सकते हैं, क्योंकि आप पेरेंटिंग के सभी गुण अच्छे से सीखते हैं। यह आपके बच्चे के साथ आपकी बॉन्डिंग स्ट्रॉन्ग करता है। जब बच्चे इसमें होते हैं तो अपनी मां की धड़कनों के सबसे करीब होते हैं ऐसे में ये मां से बच्चे की बॉन्डिंग बढ़ाता है।

ये भी पढ़ें- बच्चे को पहली बार मूवी दिखाने ले जा रहे हैं, तो ध्यान रखें ये बातें

बेबी वियरिंग से परिवार के साथ जुड़ते हैं बच्चे

बेबी वियरिंग से केवल मां का बच्चे  के साथ बॉन्ड मजबूत नहीं होता, यह एक ऐसी एक्टिविटी है जो शिशु को अपनी मां के अलावा अपने पिता और अपने रिश्तेदारों से कनेक्ट करने का मौका देता है। मां के साथ-साथ बेबी वियरिंग पिता भी पहन सकता है। ये बच्चे को माता-पिता के करीब लेकर जाता है। इसको माता-पिता के अलावा घर के बड़े लोग भी पहन सकते है। बच्चों के साथ उनका बॉन्ड अच्छा होता है।

बेबी वियरिंग से नए पेरेंट को सुविधा मिलती है। अगर आपका बच्चा बेबी वियर में है, तो आप आराम से दैनिक कामों को पूरा कर सकते हैं जिससे आपके साथ बच्चा भी सुरक्षित और खुश रहता है। इसके अलावा आपको अपने घुमक्कड़पन को भी कंट्रोल करने की जरूरत नहीं है। बेबी वियरिंग नई मां के लिए काफी मददगार साबित हो सकता है। इसलिए आजकल की युवा जेनेरेशन बेबी वियरिग का इस्तेमाल ज्यादातर करती हैं।

और पढ़ें-

बच्चे करते हैं ‘नोज पिकिंग’, डांटें नहीं समझाएं

बच्चे को चैन की नींद सुलाने के लिए अपनाएं ये आसान टिप्स

बेबी बर्थ अनाउंसमेंट : कुछ इस तरह दें अपने बच्चे के आने की खुशखबरी

बच्चों के लिए सिंपल बेबी फूड रेसिपी, जिन्हें सरपट खाते हैं टॉडलर्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    क्या रात में बच्चे का किक मारना ठीक है?

    गर्भावस्था में बच्चे का किक मारना कब शुरू होता है? बच्चे का किक मारना क्यों है सेफ, Baby Kick, क्यों बच्चों के लिए जरूरी है किकिंग, जानें और

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Abhishek Kanade
    के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
    प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी नवम्बर 2, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    बेबी फूड्स में पाए गए टॉक्सिक मैटल, बच्चों का आईक्यू हो सकता है कम

    बेबी फूड्स में टॉक्सिक मैटल कितना सच है, जानें किन बेबी फूड्स में है टॉक्सिक मैटल, कैसे फूड्स पहुंचा सकते हैं बेबी को नुकसान, जानें और

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
    स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें अक्टूबर 19, 2019 . 3 मिनट में पढ़ें

    बच्चों के कपड़े खरीदते समय रखें इन बातों का ख्याल

    बच्चों के कपड़े खरीदते समय यह ध्यान रखें कि वे बहुत कपड़े गीले करते हैं। ऐसे में बच्चों के कपड़े खरीदते समय मौसम को भी ध्यान में रखें। 1 sal ke bacche ke liye kapde.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
    के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
    बच्चों का स्वास्थ्य (0-1 साल), पेरेंटिंग अक्टूबर 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    बच्चे को घर पर अकेला छोड़ने से पहले उसे दें ये सेफ्टी टिप्स

    बच्चों की सेफ्टी हर पेरेंट‌्स की चिंता होती है। खासतौर पर जब बच्चा अकेला हो। इसलिए बच्चों के लिए सेफ्टी टिप्स को लेकर पेरेंट्स् को एलर्ट रहना चाहिए।

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Abhishek Kanade
    के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
    पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग अक्टूबर 6, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    ओवरड्यू डिलिवरी डेट

    ओवरड्यू डिलिवरी डेट के ये हो सकते हैं सामान्य कारण

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
    प्रकाशित हुआ जनवरी 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    गर्भावस्था में ग्रुप बी स्ट्रेप्टोकोकस के बारे में आप क्या जानते हैं

    गर्भावस्था में ग्रुप बी स्ट्रेप्टोकोकस के बारे में आप क्या जानते हैं?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    प्रकाशित हुआ दिसम्बर 16, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
    बेबी पूप कलर - baby poop color

    बेबी पूप कलर से जानें कि शिशु का स्वास्थ्य कैसा है

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
    के द्वारा लिखा गया Bhawana Sharma
    प्रकाशित हुआ नवम्बर 17, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
    ब्रीच बेबी डिलिवरी

    क्यों जरूरी है ब्रीच बेबी डिलिवरी के लिए सी-सेक्शन?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
    प्रकाशित हुआ नवम्बर 11, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें