backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

नए पेरेंटिंग टिप्स दे रही हैं नेहा धूपिया, न्यू मॉम्स के आएंगे काम

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Ankita mishra द्वारा लिखित · अपडेटेड 30/09/2021

नए पेरेंटिंग टिप्स दे रही हैं नेहा धूपिया, न्यू मॉम्स के आएंगे काम

बॉलीवुड एक्ट्रेस नेहा धूपिया और अंगद बेदी की बेटी मेहर धूपिया बेदी अब 10 महीने की हो चुकी हैं। जैसे हर पेरेंट्स और स्टार अपने बच्चों को एक खास अंदाज में विश करते हैं, वैसे ही नेहा धूपिया ने भी अपनी मेहर के लिए खास अंदाज चुना। बेटी के 10 महीने पूरे होते ही उन्होंने मेहर का इंस्टाग्राम अकाउंट शुरू कर दिया है, जिसमें मेहर के बायो में उन्होंने लिखा है “स्लीप-फीट-बर्प-रिपीट”, यानी सोना-खाना-गुड़गुड़ाना-दोहराना।

बता दें कि नेहा धूपिया अपने प्रेग्नेंसी के दिनों में भी काम पर पूरा ध्यान देती थीं। नेहा धूपिया की तरह ही करीना भी प्रेग्नेंट होने पर शूट पर जाया करती थीं। दोनों की प्रेग्नेंसी और पेरेंटिग (Parenting) ने बच्चों की परवरिश को एक नया अंजाम दिया है, जो कई तरह से सकारात्मक देखा जा रहा है। हम इनकी कुछ आदतों से अपने बच्चों के परवरिश में बहुत बड़ा बदलाव ला सकते हैं, जो न सिर्फ हमारी परवरिश को बेहतर बनाएंगे, बल्कि बच्चे के विकास में भी मददगार साबित हो सकते हैं।

यहां देखें मेहर का इंस्टाग्राम अकाउंट

नेहा धूपिया

नेहा धूपिया और करीना कपूर से सीखिए पेरेंटिंग के न्यू टिप्स (Parenting tips)

और पढ़ेंः बच्चों को इंग्लिश सीखाने के 5 आसान तरीके

1.प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के आखिरी लम्हे तक काम

हम यह नहीं कहते हैं कि आपको भी डिलिवरी तक काम करना चाहिए, पर इतनी सहूलियत देंगे कि शरीर को हमेशा एक्टिव रखें। ताकि, बच्चे के जन्म में किसी तरह की परेशानी न आएं। आपका एक्टिव रहना न सिर्फ आपके शरीर पर प्रभाव डालता है, बल्कि बच्चे की सेहत पर भी अच्छा असर दिखा सकता है। करीना कपूर और नेहा धूपिया की बात करें, तो दोनों ही डिलिवरी के बहुत करीब आने पर भी अपने-अपने काम में बिजी थीं। दोनों और दोनों के बच्चे कितने स्वस्थ्य हैं। इसका उदाहरण भी आप खुद ही देख सकते हैं। आपको बता दें कुछ केस ऐसे होते हैं जिनमें डॉक्टर काम करने या एक्टीविटी के लिए मना करते हैं। कई बार कॉम्पलिकेशन के चलते डॉक्टर बैड रेस्ट की सलाह देते हैं। इसलिए अपने डॉक्टर से कंसल्ट करते रहे और जैसा आपका डॉक्टर सलाह दे वैसा ही करें।

2.बच्चे के जन्म की खुशखबरी

आमतौर पर किसी बच्चे के जन्म के बाद हमारे घरों में क्या होता है? यही न कि बच्चे को बाहरी लोगों से छिपा कर रखो, नहीं तो उसे किसी की नजर लग जाएगी! लेकिन, करीना कपूर खान, शाहिद कपूर, सोहा अली खान ने ऐसा नहीं किया। उन्होंने अपने बच्चे के जन्म के कुछ ही घंटो बाद पूरी दुनिया के सामने उनकी मुंह दिखाई की। वो अपनी खुशी अपने घरवालों के साथ-साथ अपने फैंस के साथ भी शेयर करने के लिए बेताब देखे गए। सोशल मीडिया के जरिए उन्होंने अपने बच्चे की तस्वीर शेयर की। हालांकि, करीना कपूर ने जहां तैमूर के जन्म की एक प्यारी सी तस्वीर साझा की थी, वहीं नेहा धूपिया ने अपनी बेटी मेहर की तस्वीरें तो साझा करती हैं लेकिन, अभी भी मेहर का चेहरा छिपाए हुए हैं।

और पढ़ेंः बच्चों का एज्युकेशन प्लानिंग करते समय रखें इन 5 बातों का ध्यान

3.खुशहाली में नामकरण

एक सामान्य परिवार की बात करें, तो वो अपने नए बच्चे का नामकरण थोड़ा गुप्त तौर पर करते हैं। घर और रिश्तेदारों के अलावा, बाहरी लोगों से नए बच्चे का नाम छिपा रखते हैं। अब इसके पीछे कारण क्या हो सकता है, यह नहीं बताया जा सकता। हालांकि, हमारे स्टार्स ऐसा नहीं करते। करीना की तरह ही, नेहा धूपिया ने भी अपनी बेटी मेहर का नाम सोशल मीडिया पर पहले ही दिन बता दिया था। साथ ही, उनकी बेटी के नाम का अर्थ क्या है, इसके बारे में भी बताया था।

4.बच्चों को बनाएं सोशल फ्रेंडली (Social Friendly)

एक तरफ जहां लोग अपने बच्चों को सोशल मीडिया और इंटरनेट की दुनिया से दूर रखना चाहते हैं, वहीं ये स्टार्स इस बारे में अलग नजरिया रखते हैं। वो अपने बच्चों की हर छोटी सी छोटी हरकत सोशल मीडिया पर शेयर करते हैं। ताकि, लोगों को भी उनके स्वभाव के बारे में पता चल सके। आप भी अपने बेबी का सोशल मीडिया पर अकाउंट बना सकती हैं और उसकी हर नई एक्टीविटी को लोगों संग शेयर कर सकती हैं। इससे आपके बेबी की एक एल्बम भी तैयार हो जाएगी।

और पढ़ेंः बच्चों की सोचने की क्षमता को बढ़ाने के लिए 10 बेस्ट माइंड गेम्स

5.मम्मा-पप्पा की तरह बच्चे भी फैशनेबल

करीन कपूर खान और सैफ अली खान के बेटे तैमूर अली खान की बात करें, तो इन्हें बॉलीवुड स्टार्स किड्स में सबसे ज्यादा फैशनेबल माना जाता है। वहीं नेहा धूपिया की बेटी भी इस रेस में पीछे नहीं है। अब वो जमाना बीत गया है, जहां बच्चे की आंखों में गहरा और मोटा काजल लगाया जाता था और ढ़ीले ढाले कपड़े पहना दिए जाते थे। अब बच्चों के बे एक से एक स्टाइलिश कपड़े आते हैं। तो सोच क्या रही हैं इस हफ्ते आप भी अपने बच्चे के लिए अच्छी सी शॉपिंग करके लाएं।

6.हॉलीडे (Holiday) भी जरूरी

पेरेंटिंग टिप्स

आए दिन बॉलीवुड स्टार्स हॉलीडे मानने कहीं न कहीं जाते ही रहते हैं। लेकिन, इस दौरान भी उन्हें उनके बच्चों के साथ ही देखा जाता है। सोशल मीडिया पर करीना कपूर और नेहा धूपिया आए दिन अपने बच्चों के साथ आउटिंग की तस्वीरें साझा करती रहती हैं। जिस तरह नई जगह घूमने-फिरने से बड़ों के मन पर प्रभाव पड़ता है, उसी तरह यह बच्चे के लिए भी अच्छा हो सकता है। अब नई-नई जगह भला किसे घूमना पसंद नहीं होता है।

7.काम के साथ-साथ बच्चे की देखभाल भी (Child care along with work)

ऐसा नहीं है कि हमारे स्टार्स बच्चे की परवरिश के लिए पूरा समय घर पर ही रहते हैं। लेकिन, काम के बाद वो अपना एक खास समय अपने बच्चे के साथ भी गुजारते हैं। अगर काम और बच्चे की परवरिश का तालमेल देखना है, तो करीना कपूर खान और नेहा धूपिया एक अच्छा उदाहरण हो सकते हैं। दोनों ही अपने काम के बाद तैमूर और मेहर के साथ समय बिताते हैं।

और पढ़ेंः जब बच्चे का पढ़ाई में मन न लगे तो अपनाएं ये 5 उपाय

कुछ सावधानियां भी जरूरी (Some precautions are also necessary)

पेरेंटिग टिप्स (Parenting tips) परवरिश के लिए जरूरी हैं, लेकिन इसके साथ ही कुछ बातों का ख्याल भी रखना चाहिए, जैसेः

सोशल मीडिया (Social Media) पर निर्भर होने से रोकें

बच्चा अगर दिन का कुछ समय सोशल मीडिया पर गुजारता है, तो यह बेहद सामान्य है, लेकिन अगर वो छोटी सी छोटी बात सोशल मीडिया पर शेयर करने लगे, तो जरा सावधान हो जाएं क्योंकि, इस आदत के कारण अपका बच्चा अपने हर फैसले के लिए सोशल मीडिया पर निर्भर हो सकता है।

फिजूलखर्ची न करने दें (Don’t waste money)

बच्चे की सिर्फ उतनी ही जरूरतों को पूरा करें, जो आपके लिए और उसके लिए जरूरी हो। बच्चे के लिए अनावश्यक चीजों को खरीद कर आप उसमें फिजूलखर्च करने की बुरी आदत विकसित कर सकते हैं। बच्चे को इस बारे में बताएं कि उसे किस तरह से अपने पैसे खर्च करने चाहिए।

बुरा व्यवहार करने से बचाएं (Avoid misbehaving)

अक्सर बच्चे अपने से कमजोर अन्य  बच्चों और लोगों पर अपना रौब दिखा सकते हैं। कई बार बच्चे घर में कामकाज करने वाले मेड और हेल्पर से भी बुरा व्यवहार कर सकते हैं। अगर आपको अपने बच्चे में ऐसे कोई भी लक्षण दिखाई दें, तो उसे समझाएं कि, उसका इस तरह का व्यवहार उसे लोगों के नजरिए में बुरा व्यक्ति बना सकता है।

इसके साथ ही, यह भी ध्यान रखें कि बच्चे को छोटी उम्र से ही छोटी-छोटी बातों का अभ्यास कराएं। जैसे- हमेशा सच बोलें, किसी की वस्तुएं उनकी मर्जी से ही इस्तेमाल करें, हर दिन कुछ नया सीखें।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. प्रणाली पाटील

फार्मेसी · Hello Swasthya


Ankita mishra द्वारा लिखित · अपडेटेड 30/09/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement