एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan) क्यों किया जाता है?

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan) क्यों किया जाता है?

    सीटी (कंप्यूटेड टोमोग्राफी) स्कैन को सीएटी स्कैन (CAT Scan) भी कहा जाता है। यह एक प्रकार का विशिष्ट एक्सरे है जिसमें बॉडी के विशेष भाग की क्रॉस सेक्शनल इमेज ली जाती हैं। सीटी स्कैन में मशीन बॉडी की इमेज लेकर कंप्यूटर पर सेंड करती है। जिसे टेक्नीशियन के द्वारा देखा जाता है। एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan) डॉक्टर की एब्डोमिनल कैविटी में मौजूद ऑर्गन्स, ब्लड वेसल्स और बोन्स को देखने में मदद करते हैं। कई प्रकार की इमेजेस डॉक्टर्स को बॉडी की अलग-अगल एंगल से देखने में मदद करते हैं। इस आर्टिकल में एब्डोमिनल सीटी स्कैन से जुड़ी जानकारियां दी जा रही हैं।

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan)

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन डॉक्टर तब रिकमंड करते हैं जब उन्हें एब्डोमिनल एरिया में कुछ गलत होने की आशंका होती है और इसके बारे में फिजिकल एग्जाम और लैब टेस्ट के जरिए जानकारी नहीं मिल पाती। सीटी स्कैन कॉन्ट्रास्ट (Contrast) के साथ या बिना किया जा सकता है। कंट्रास्ट एक पदार्थ को संदर्भित करता है जो मुंह से लिया जाता है या एक अंतःशिरा (IV) लाइन में इंजेक्ट किया जाता है जो स्कैनिंग समय विशेष अंग या ऊतक को अधिक स्पष्ट रूप से देखने में मदद करता है। कॉन्ट्रास्ट एग्जामिनेशन के लिए आपको प्रक्रिया से पहले एक निश्चित अवधि के लिए उपवास करने की आवश्यकता हो सकती है। प्रक्रिया से पहले आपका डॉक्टर आपको इसके बारे में सूचित करेगा।

    निम्न कंडिशन में एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan) रिकमंड किया जा सकता है।

    और पढ़ें: डायजेशन के लिए बेस्ट स्लीपिंग पॉजिशन कौन सी होती हैं?

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन के लिए तैयारी केसे करें? (How to prepare for an abdominal CT scan)

    डॉक्टर स्कैन के दो से चार घंटे पहले कुछ ना खाने के लिए कहते हैं। इसके अलावा कुछ दवाओं का उपयोग करने की भी मनाही की जाती है। ढीले और कंफर्टेबल कपड़े पहनने के लिए कहा जाएगा क्योंकि प्रॉसीजर टेबल पर लेटना होता है। पहनने के लिए हॉस्पिटल गाउन दिया जा सकता है। व्यक्ति से आय ग्लासेस, ज्वैलरी, हेयर क्लिप्स, डेंचर और अंडरवायर ब्रा निकालने के लिए कहा जाएगा।

    सीटी स्कैन किए जाने के कारण के अनुसार डॉक्टर कॉन्ट्रास्ट (Contrast) को ओरली लेने के लिए कह सकते हैं। इसमें बैरियम या गेस्ट्रोग्राफिन (Barium and Gastrografin) हो सकता है। इसको पीने के बाद एक घंटे से 90 मिनट तक इंतजार करने के लिए डॉक्टर कह सकते हैं ताकि कॉन्ट्रास्ट शरीर में आगे बढ़ सके। अगर किसी को बैरियम या किसी कैमिकल से किसी प्रकार की एलर्जी है तो इसके बारे में डॉक्टर को जरूर बताना चाहिए। डायबिटीज या प्रेग्नेंट होने की जानकारी भी डॉक्टर को देनी चाहिए।

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन कैसे किया जाता है? (How is an abdominal CT scan done?)

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan) में 10 से 30 मिनट का समय लगता है। यह हॉस्पिटल के रेडियोलॉजी डिपार्टमेंट में होता है।

    जैसे ही व्यक्ति हॉस्पिटल का गाउन पहन लेता है। टेक्नीशियन प्रॉसीजर टेबल पर लेटने के लिए कहता है। स्कैन कराने के कारण के आधार पर हो सकता है कि आईवी के जरिए कॉन्ट्रास्ट डाय को वेन्स में डाला जाता है। डाय के बॉडी के अंदर जाने से एक गर्म सेंसेशन फील होता है। टेक्नीशियन सही पॉजिशन को मेंटेन रखने में आपकी मदद करता है। सही क्वालिटी की इमेज आ सके इसके लिए वे तकिया लगाने स्ट्रेप लगाने के लिए कह सकते हैं। स्कैन के कुछ हिस्से के लिए मरीज को थोड़ी देर के लिए सांस रोकने के लिए भी कहा जा सकता है।

    दूसरे रूम से रिमोट कंट्रोल के जरिए टेक्नीशियन टेबल को सीटी मशीन में ले जाता है। यह मशीन बड़े डोनट की तरह दिख सकती है जो कि प्लास्टिक और मेटल का बना होता है। मशीन के अंदर कई बार जाना पड़ सकता है। स्कैन्स के कई राउंड होने के बाद व्यक्ति को रुकने के लिए कह सकता है ताकि वह इमेज क्लियर हैं या नहीं यह चेक कर ले। ताकि डॉक्टर उन्हें आसानी से रीड कर सके।

    और पढ़ें: ये योग आपके डायजेशन को बेहतर बनाने निभा सकते हैं अहम रोल

    प्रॉसेस के दौरान

    यदि व्यक्ति को सांस लेने में कठिनाई, पसीना, सुन्नता या दिल की धड़कन महसूस होती है, तो आपको टेक्नीशियन को सूचित करना चाहिए। जब प्रक्रिया पूरी हो जाएगी, तो व्यक्ति को स्कैनर से हटा दिया जाएगा। यदि कॉन्ट्रास्ट के लिए IV लाइन डाली गई है, तो लाइन हटा दी जाएगी जबकि सीटी प्रक्रिया में कोई दर्द नहीं होता है, प्रक्रिया का समय ज्यादा होने से कुछ असुविधा या दर्द हो सकता है, खासकर हाल ही में यदि चोट लगी हो या सर्जरी हुई हो। ऐसे में टेक्नोलॉजिस्ट सभी संभव आराम उपायों का उपयोग करेगा और किसी भी असुविधा या दर्द को कम करने के लिए जितनी जल्दी हो सके प्रक्रिया को पूरा करने का प्रयास करेगा।

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan)

    सीटी स्कैन के बाद क्या होता है? (What happens after a CT scan?)

    अगर प्रॉसीजर के दौरान कॉन्ट्रास्ट डाय का उपयोग किया गया था तो व्यक्ति को कुछ समय के लिए मॉनिटर किया जाएगा। ताकि अगर कोई साइड इफेक्ट हो तो उसका समय रहते समाधान किया जा सके। जिसमें डाय के कारण खुजली, सूजन, चकत्ते और सांस लेने में समस्या शामिल है। अगर प्रॉसीजर के बाद व्यक्ति आईवी साइट पर दर्द, लालिमा या सूजन का अनुभव करता है तो डॉक्टर को बताना चाहिए। यह इंफेक्शन या किसी प्रकार का रिएक्शन हो सकता है।

    अन्यथा एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan) के बाद किसी विशेष प्रकार की देखभाल की जरूरत नहीं होती है। व्यक्ति अपने रेगुलर एक्टिविटीज और डायट को शुरू कर सकता है। डॉक्टर विशेष स्थिति के आधार पर प्रक्रिया के बाद आपको अतिरिक्त या वैकल्पिक निर्देश दे सकता है।

    सीटी स्कैन का रिजल्ट आने में एक दिन का समय लग सकता है। डॉक्टर रिजल्ट को डिस्कस करने के लिए फॉलो अप अपॉइंटमेंट फिक्स कर सकते हैं। यह रिजल्ट एब्नॉर्मल है उसके कई कारण हो सकते हैं। जैसे किडनी स्टोन या इंफेक्शन, लिवर प्रॉब्लम जैसे कि एल्कोहॉल रिलेटेड लिवर डिजीज, क्रोहन डिजीज, पैंक्रियाज या कोलोन का कैंसर आदि। ऐसे में डॉक्टर दूसरे टेस्ट कराने के लिए भी कह सकते हैं। इसके साथ ही वे ट्रीटमेंट ऑप्शन के बारे में बताएंगे।

    और पढ़ें: इनडायजेशन के 9 आसान घरेलू उपाय

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन के रिस्क क्या हैं? (What are the risks of abdominal CT scan)

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन अपेक्षाकृत सुरक्षित प्रक्रिया है, लेकिन इसमें जोखिम भी हैं। खासकर बच्चों के लिए जो वयस्कों की तुलना में रेडिएकशन जोखिम के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं। बच्चे का डॉक्टर केवल अंतिम उपाय के रूप में सीटी स्कैन का आदेश दे सकता है, और केवल तभी जब अन्य परीक्षण निदान की पुष्टि नहीं कर सकते।

    एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan) के जोखिमों में निम्नलिखित शामिल हैं:

    • कॉन्स्ट्राक्ट डाय से एलर्जी होना। कुछ लोगों के साथ ऐसा हो सकता है। अगर पहले कभी डाय से एलर्जी हुई हो तो डॉक्टर को बताना चाहिए।
    • सीटी स्कैन में रेगुलर एक्स रे की तुलना में रेडिएशन एक्सपोजर ज्यादा होता है।
    • लंबे समय तक सीटी स्कैन्स और एक्स रे करवाने से कैंसर का रिस्क बढ़ सकता है। हालांकि एक स्कैन से ऐसा नहीं होता। मॉर्डन स्कैनर रेडिएशन एक्सपोजर को कम कर सकते हैं।
    • डाय की वजह से किडनी फंक्शन बिगड़ने और किडनी के डैमेज होने के दुर्लभ मामले भी सामने आ सकते हैं।
    • आपके गुर्दे शरीर से IV डाय को हटाने में मदद करते हैं।
    • यदि आपको गुर्दा की बीमारी या मधुमेह है, तो आपके शरीर से आयोडीन को बाहर निकालने में मदद करने के लिए आपको परीक्षण के बाद अतिरिक्त तरल पदार्थों की आवश्यकता हो सकती है।

    और पढ़ें: गैस्ट्रोपैरीसिस : पाचन क्रिया से जुड़ी इस समस्या से हो सकती है टाइप 2 डायबिटीज की तकलीफ!

    उम्मीद करते हैं कि आपको एब्डोमिनल सीटी स्कैन (Abdominal CT Scan) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Abdominal CT scan/https://medlineplus.gov/ency/article/003789.htm/ Accessed on 28/01/2022

    Computed Tomography (CT or CAT) Scan of the Abdomen/https://www.hopkinsmedicine.org/health/treatment-tests-and-therapies/computed-tomography-ct-or-cat-scan-of-the-abdomen/Accessed on 28/01/2022

    CT scan: Risks/mayoclinic.org/tests-procedures/ct-scan/basics/risks/prc-20014610/Accessed on 28/01/2022

    What are the radiation risks from CT?
    fda.gov/radiation-emittingproducts/radiationemittingproductsandprocedures/medicalimaging/medicalx-rays/ucm115329.htm/

    Accessed on 28/01/2022

    Computed Tomography (CT) – Abdomen and Pelvis/
    https://www.radiologyinfo.org/en/info/abdominct/Accessed on 28/01/2022

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 28/01/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड