home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

गर्भधारण से पहले देखभाल क्यों जरूरी है?

गर्भधारण से पहले देखभाल क्यों जरूरी है?

महिलाओं को सिर्फ गर्भधारण के बाद ही नहीं, बल्कि उससे पहले भी अपनी सेहत का ख्याल रखना चाहिए। गर्भधारण से पहले देखभाल (Pre pregnancy care) जरूरी है ताकि मां और बच्चे को आगे चलकर किसी तरह का जोखिम न हो। महिलाओं की कुछ आदतें और बीमारियां अजन्मे बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती है। इसलिए प्रीकन्सेपशन हेल्थ यानी गर्भधारण से पहले स्वास्थ्य की देखभाल जरूरी है। गर्भधारण से पहले देखभाल करने के साथ ही डॉक्टर से भी संपर्क करना चाहिए ताकि वो आपको वे सभी चीजें बता दे जो गर्भधारण के समय करना चाहिए और जो नहीं करना चाहिए।

गर्भधारण से पहले देखभाल क्यों जरूरी है? (Pre Conception Care & Check Up)

हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए महिलाओं को गर्भधारण से पहले देखभाल करनी चाहिए अपने स्वास्थ्य की।। इससे समय से पहले जन्म और प्रेग्नेंसी के दौरान अन्य किसी तरह की जटिलताओं को कम किया जा सकता है। साथ ही यदि महिला को किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या है तो उसके बारे में जानकर डॉक्टर गर्भधारण से पहले ही उसका इलाज करेंगे ताकि इसका प्रेग्नेंसी पर कोई असर न हो। यानी मां और बच्चे दोनों की सेहत के लिए गर्भधारण से पहले देखभाल आवश्यक है।

और पढ़ें- इन वजह से बच्चों का वजन होता है कम, ऐसे करें देखभाल

प्रेग्नेंसी प्लानिंग (Pregnancy Planning) कर रही हैं तो गर्भधारण से पहले देखभाल है जरूरी, इन बातों का रखें ध्यान

  • गर्भधारण से पहले देखभाल करते समय इस बात का ध्यान रखें कि हर दिन कम से कम 400 से 800 माइक्रोग्राम फॉलिक एसिड (Folic Acid Tablets) जरूर लें। यह जन्म के समय बच्चे के ब्रेन, स्पाइन आदि में किसी तरह की कमी की संभावना को कम कर देता है। हर महिला को रोजना फॉलिक एसिड लेना चाहिए। इस बारे में डॉक्टर से बात करें, वह आपको इसका सही डोज बताएगा। कुछ डॉक्टर महिलाओं को जो पेरेंटल विटामिन्स देते हैं, उसमें फॉलिक एसिड की मात्रा अधिक होती है।
  • गर्भधारण की योजना (Pregnancy Planning) बना रही हैं, तो उससे महीनों पहले ही सिगरेट और शराब से दूरी बना लें।
  • यदि आपको किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या है तो पहले उसका इलाज करवाएं। अस्थमा, डायबिटीज रोग (Diabetes), मोटापा और ओरल हेल्थ का प्रेग्नेंसी पर बहुत असर पड़ता है (Oral Health in Pregnancy), इसलिए पहले इनका ट्रीटमेंट करवाएं।
  • गर्भधारण से पहले आप जो भी दवाइयां या हर्बल सप्लिमेंट्स ले रही हैं उसके बारे में डॉक्टर को बताएं, क्योंकि कई बार कुछ दवाएं प्रेग्नेंसी में नुकसानदायक साबित हो सकती हैं।
  • ऑफिस या घर पर किसी भी तरह की हानिकारक चीजों से दूर रहें जिनसे इंफेक्शन का खतरा हो सकता है। खतरनाक केमिकल के संपर्क में आने से भी बचें।
  • हेल्दी लाइफस्टाइल (Healthy Lifestyle) अपनाएं। सामान्य एक्सरसाइज, योग और हेल्दी डायट से खुद को फिट और स्वस्थ रखें।

[mc4wp_form id=”183492″]

और पढ़ें- इनफर्टिलिटी से बचने के लिए इन फूड्स से कर लें तौबा

गर्भधारण से पहले देखभाल (Pre pregnancy care) के लिए प्रेग्नेंसी से पहले डॉक्टर से करें बात

गर्भधारण से पहले ही देखभाल करने से आपके गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है। यदि आप सेक्शुअली एक्टिव हैं तो गर्भधारण से पहले स्वास्थ्य की देखभाल के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें, सात ही पार्टनर की सेहत के बारे में भी बताएं। आमतौर पर कंसीव करने से 3 महीने पहले प्रीकन्सेपशन केयर की जरूरत होती है ताकि आपका शरीर प्रेग्नेंसी के लिए तैयार हो जाए, लेकिन कुछ महिलाओं को अधिक समय लगता है। इसलिए पहले ही अपने डॉक्टर से कुछ मुद्दों पर चर्चा कर लें जैसे-

  • फैमिली प्लानिंग (Family Planning) और बर्थ कंट्रोल।
  • फॉलिक एसिड जो आप ले रही हैं।
  • टीकाकरण और जांच जो आपको करवानी है जैसे पैप टेस्ट और सेक्शुअली ट्रांसमिटेड संक्रमण (Sexually Transmitted Infections) की जांच जिसमें एचआईवी भी शामिल है।
  • स्वास्थ्य समस्याएं जैसे डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure), थायरॉइड, मोटापा, डिप्रेशन, ईटिंग डिसऑर्डर (Eating Disorders) और अस्थमा नियंत्रण के बारे में बात करें, क्योंकि इनका प्रेग्नेंसी पर असर पड़ सकता है।
  • डॉक्टर द्वारा दी गई दवा के अलावा आप जो भी हर्बल और अन्य सप्लिमेंट्स ले रही हैं उसके बारे में बताएं।
  • कैसे आप अपने संपूर्ण स्वास्थ्य को बेहतर बना सकती हैं। जैसे हेल्दी वेट कितना होना चाहिए, खाने में क्या लें, कौन सी फिजिकल एक्टिविटी करनी है, स्ट्रेस कम कैसे कर सकती हैं आदि के बारे में चर्चा करें।
  • पहली प्रेग्नेंसी में यदि किसी तरह की समस्या हुई तो वह भी बताएं।
  • घर या ऑफिस में मौजूद खतरे जो प्रेग्नेंसी को प्रभावित कर सकते हैं, पर चर्चा करें।
  • पार्टनर या परिवार में चलने वाली स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में बात करें।

और पढ़ें- मां और शिशु दोनों के लिए बेहद जरूरी है प्री-प्रेग्नेंसी चेकअप

गर्भधारण से पहले देखभाल (Pre pregnancy care) के लिए पार्टनर से लें मदद?

पत्नी की प्रेग्नेंसी की तैयारियों में पति कई तरीके से सहयोग देने के साथ ही महिला का उत्साह बढ़ा सकते हैं। गर्भधारण से पहले देखभाल करते वक्त इन बातों का जरूर ध्यान रखें:

  • प्रेग्नेंसी का फैसला साथ मिलकर लें। जब दोनों पार्टनर साथ मिलकर पेरेंट्स बनने की इच्छा जाहिर करते हैं तो महिलाएं जल्दी अपना ख्याल रखना शुरू कर देती हैं और बुरी आदतों को छोड़ देती हैं।
  • पार्टनर सेक्शुअली ट्रांसमिटेड डिजीज के लिए खुद की जांच करवाकर यह सुनिश्चित करा सकते हैं कि यह पत्नी में ट्रांसफर तो नहीं हुआ है।
  • पुरुषों को भी अपनी प्रजनन क्षमता बढ़ाने (Fertility) के लिए सिगरेट, शराब से दूरी बनानी चाहिए। हेल्दी खाना चाहिए और तनाव कम करने की कोशिश करनी चाहिए। अध्ययन के मुताबिक, अधिक सिगरेट, शराब पीने वाले पुरुषों के स्पर्म (Sperm Count) के साथ समस्याएं होती हैं। जिससे महिला पार्टनर को गर्भधारण में मुश्किलें आती हैं।
  • पुरुष पार्टनर को डॉक्टर से अपनी और अपने परिवार की हेल्थ हिस्ट्री के बारे में बात करनी चाहिए और जो दवाएं ले रहे हैं उसके बारे में भी।
  • हानिकारक केमिकल्स और टॉक्सिन के बीच काम करने वाले पुरुषों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि फीमेल पार्टनर इन केमिकल्स के संपर्क में न आए। इसलिए घर जाने से पहले कपड़े बदल लेना जरूरी है।

और पढ़ें- कैसा हो मिसकैरिज के बाद आहार?

गर्भधारण से पहले देखभाल के लिए जेनेटिक सलाह लेना है जरूरी

बच्चे में माता-पिता के जीन्स आते हैं। यदि माता-पिता के जीन्स में किसी तरह की समस्या है तो बच्चे को भी जीन डिसऑर्डर हो सकता है जैसे सिंगल जीन डिसऑर्डर, क्रोमोसोम डिसऑर्डर आदि। इसलिए प्रेग्नेंट होने से पहले डॉक्टर से अपने पार्टनर और परिवार की सेहत के बारे में विस्तार से चर्चा करें। इससे डॉक्टर को यह पता करने में मदद मिलेगी कि आपको किसी तरह का जेनेटिक जोखिम है या नहीं। आपके जेनेटिक जोखिम के आधार पर डॉक्टर आपको जेनेटिक प्रोफेशनल से मिलने की सलाह दे सकता है।

हम आशा करते हैं कि गर्भधारण से पहले किन बातों का ख्याल रखना चाहिए और गर्भधारण से पहले देखभाल (Pre pregnancy care) कैसे करें विषय पर आधारित यह लेख आपको पसंद आया होगा। जब भी प्रेग्नेंसी प्लानिंग करें उससे पहले डॉक्टर से जरूर बात करें ताकि उसकी सलाह कंसीव करने में मदद कर सके। गर्भधारण से पहले देखभाल की अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Preconception health for women/https://www.pregnancybirthbaby.org.au/preconception-health-for-women (Accessed on 27/November/2019)

Preconception health/https://www.womenshealth.gov/pregnancy/you-get-pregnant/preconception-health (Accessed on 27/November/2019)

Preconception planning: Is your body ready for pregnancy? https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/getting-pregnant/in-depth/preconception/art-20046664 (Accessed on 27/November/2019)

Before you get pregnant – https://www.womenshealth.gov/pregnancy/you-get-pregnant (Accessed on 27/November/2019)

Pregnancy test – https://medlineplus.gov/ency/article/003432.htm (Accessed on 27/November/2019)

YOUR CHECKUP BEFORE PREGNANCY – https://www.marchofdimes.org/pregnancy/your-checkup-before-pregnancy.aspx (Accessed on 27/November/2019)

लेखक की तस्वीर badge
Kanchan Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/09/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड