home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

वर्किंग मॉम्स : मां का ऑफिस जाना बच्चे को दिला सकता है सफलता, जानें कैसे?

वर्किंग मॉम्स : मां का ऑफिस जाना बच्चे को दिला सकता है सफलता, जानें कैसे?

लेखक कारमेन नोबेल द्वारा लिखे गए एक लेख “किड्स बेनिफिटस फ्रॉम हैविंग ए वर्किंग मॉम”, जो कि हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू (एचबीआर) में प्रकाशित किया गया था में बताया गया है कि “ऑफिस में उनकी बेटियों की सफलता का सकारात्मक संबंध उनकी वर्किंग मदर्स से जुड़ा हुआ है”। एचबीएस के 24 देशों में किए गए एक अध्ययन से पता चलता है कि “जिन लड़कियों की मां वर्किंग होती हैं वे अच्छी सुपरवाइजर साबित होती हैं। उनमें जिम्मेदारी समझने की संभावना अधिक होती है। वर्किंग मॉम्स के बच्चों का विकास एक अलग तरीके से होता है, उनमें ज्यादा मैच्योरिटी और समझ होती है। “हैलो स्वास्थ्य” के इस आर्टिकल में जानते हैं कि कैसे मां का वर्किंग होना बच्चे को लाभ पहुंचाता है।

यह भी पढ़ें : वर्किंग मदर्स फॉलो करें ये टिप्स, घर और ऑफिस का काम हो सकता है आसान

कैसे वर्किंग मॉम्स अपने बच्चों की सफलता के लिए नींव रखती हैं?

वर्किंग मॉम्स बच्चे के भविष्य के लिए बेहतर होती हैं। नीचे दिए गए पॉइंट्स से यह बात स्पष्ट होती है।

बच्चों में काम के लिए एक अच्छी वर्क एथिक पैदा करती हैं

जब बच्चे देखते हैं कि माता-पिता घर के साथ-साथ ऑफिस का भी काम संभालते हैं, तो वे भी सीखते हैं। बच्चे चीजों को मैनेज करना सीखते हैं। एक कामकाजी महिलाओं का घर के साथ ही ऑफिस की जिम्मेदारियां को भी बखूबी निभाना बच्चों को भी ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

यह भी पढ़ें : वर्क फ्रॉम होम करने वाली न्यू मदर्स अपनाएं ये 5 टिप्स, काम होगा आसान

बच्चे समय का सही उपयोग करना सीखते हैं

मिशेल लारोवे ने अपनी बुक “वर्किंग मॉम्स 411: हाउ टू मैनेज किड्स, करियर एंड होम” में लिखा है कि फुल टाइम जॉब के बाद कई मॉम्स को सप्ताह में लगभग 40 घंटे मिलते हैं, जिसमें वह घर की साफ-सफाई से लेकर खरीददारी, रिश्तेदारों और दोस्तों से मिलने और पर्सनल इंटरेस्ट के लिए समय निकालतीं हैं। अपनी वर्किंग मदर्स को ऐसे देखकर ही बच्चे समय का सही उपयोग करना सीखते हैं और अपनी लाइफ में इसे लागू करने की कोशिश करते हैं।

टीम वर्क की उपयोगिता समझते हैं

हर कामकाजी महिला टीम वर्क की अहमियत अच्छे से समझती है। वर्किंग मॉम्स को घर और ऑफिस दोनों के ही कामों में दूसरे सदस्यों की आवश्यकता होती है ताकि दोनों जगह सही संतुलन बना रहे। बचपन से ही जब बच्चे देखते हैं कि उनकी मां की मदद हर कोई कर रहा है और बच्चों की देख- रेख भी दूसरे लोग कर रहे हैं, तो ऐसे में उन्हे कम उम्र से टीम वर्क का महत्व समझ में आने लगता है।

यह भी पढ़ें : वर्किंग मदर्स और शिशु के बीच बॉन्ड बढ़ाएंगे ये 7 टिप्स

वर्किंग मॉम्स बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम ज्यादा अच्छे से स्पेंड करती हैं

वर्किंग मॉम्स बच्चे के साथ जो क्वालिटी टाइम बिताती हैं वह कामकाजी माताओं की तुलना में काफी बेहतर होता है। दरअसल, वर्किंग मॉम्स (working moms) को पता होता है कि उन्हें घर पहुंचने के बाद पूरा समय बच्चे और फैमिली को देना है। इससे वे अपना 100% कीमती समय सिर्फ अपने बच्चों को समर्पित करती हैं।

भावनात्मक विकास होता है बेहतर

यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन (university of London) में बहुत सारे शोध इस विषय पर किए गए हैं कि क्या वर्किंग मॉम्स के बच्चे भावनात्मक रूप से कमजोर होते हैं। अच्छी बात यह है कि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। काम और पेरेंटिंग के बीच संतुलन से बच्चों का भावनात्मक स्तर (emotional level) अच्छा रहता है। इसके अलावा वर्किंग मॉम्स होने का कुछ फायदा मां को भी मिलता है। आंकड़े बताते हैं कि एक घर पर रहने वाली मां को अवसाद से पीड़ित होने की अधिक संभावना होती है, जबकि वर्किंग मॉम्स में डिप्रेशन होने की संभावना कम होती है।

बच्चे अधिक जिम्मेदार बनते हैं

ऑफिस और घर में बैलेंस बनाए रखने वाली वर्किंग मॉम को हर हफ्ते होने वाली गतिविधियों का ध्यान रखना होता है। साथ ही वर्किंग पेरेंट्स दोनों के साथ, ही परिवार के हर सदस्य का ख्याल रखते हैं। ऐसी परिस्थितियों से बच्चे अधिक जिम्मेदार बनते हैं। भविष्य में आने वाली जिम्मेदारियों के प्रति बच्चे ज्यादा रेस्पोंसिब्ल बनते हैं। साथ ही वे खुद की जिम्मेदारी को भी अच्छे से निभाते हैं।

बच्चों में हेल्प करने की आदत पड़ती है

वर्किंग मॉम्स होने की वजह से पिता भी घर के काम में मदद करते हैं। नतीजन, बच्चा भी अपने माता-पिता से प्रेरित होता है और समाज में अन्य लोगों की मदद करता है। इसलिए, बच्चे में अच्छी आदतें पनपने लगती हैं। तो यह भी एक कामकाजी मां होने के फायदों में से एक है।

यह भी पढ़ें : 2020 में पेरेंट्स के लिए बड़ी चुनौती हो सकती है एडीएचडी बीमारी, जानें इससे बचने के उपाय

बच्चों को व्यवहार संबंधी समस्याएं कम होती हैं

कई वर्किंग मॉम्स को चिंता रहती है कि संतानों के साथ पर्याप्त समय नहीं बिता पाने की वजह से बच्चों में व्यवहार संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। लेकिन, 1960 में शोध को देखने के बाद, सच्चाई यह है कि कामकाजी माओं के बच्चों में बेहवियरल प्रॉब्लम्स (behavioral problems) कम होती हैं। घर पर रहने वाले माओं के बच्चों की तुलना में वर्किंग मॉम्स के बच्चे बेहतर व्यवहार करते हैं।

हर तरह के वातावरण को स्वीकार कर पाते हैं

‘अचानक कुछ भी हो सकता है’ वर्किंग मॉम्स इस बात को हमेशा दिमाग में रखती हैं। जैसे- बच्चे का बीमार पड़ जाना, नौकरानी का अचानक से न आना या बेबी केयर टेकर न आना आदि। इन परिस्थितियों के लिए वर्किंग मदर्स हमेशा तैयार रहती हैं, जिसकी वजह से बच्चा भी कम उम्र से ही हर सिचुएशन के अनुकूल बनना सीखता है। यह एक ऐसा गुण है जो बच्चे के बड़े होने के साथ ही बढ़ता रहता है जो आगे चलकर कार्यक्षेत्र में उनके काम आता है।

2017 में “फादरली” (Fatherly) द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि ” जहां पहले लड़कियां सिर्फ नर्स या टीचर बनने का सपना देखती थी वहीं, आज आगे बढ़ती हुई वैज्ञानिक या डॉक्टर बनने का सपना देखने लगी हैं।” आज वे अलग-अलग फील्ड में काम करते हुए घर को भी बखूबी संभालती हैं। इस तरह से सही मायनों में बच्चों की रोल मॉडल उनकी वर्किंग मॉम्स ही हैं।

उम्मीद है कि वर्किंग मॉम्स पर आधारित यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। आपको यह लेख कैसा लगा? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं साथ ही अगर आपका इस विषय से संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव है तो वो भी हमारे साथ शेयर करें।

और पढ़ें:-

जिद्दी बच्चों को संभालने के 3 कुशल तरीके

बच्चे की हाइट बढ़ाने के लिए आसान उपाय

कैसे सुधारें बच्चे का व्यवहार ?

बच्चे को कैसे और कब करें दूध से सॉलिड फूड पर शिफ्ट

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Working moms have long-lasting benefits for their kids, says Harvard study. https://www.mother.ly/work/its-science-working-moms-have-long-lasting-benefits-for-their-kids. accessed on 19 Sep 2019

Having a working mom has benefits for kids later in life, study says. https://edition.cnn.com/2018/07/18/health/working-moms-kids-study/index.html. accessed on 19 Sep 2019

Kids of Working Moms Grow into Happy Adults. https://hbswk.hbs.edu/item/kids-of-working-moms-grow-into-happy-adults. accessed on 19 Sep 2019

11 Positive Effects of Working Moms (For Everyone). https://www.lifehack.org/articles/work/11-positive-effects-working-moms.html. accessed on 19 Sep 2019

The Pressure Is Real For Working Mothers. https://www.forbes.com/sites/marybethferrante/2018/08/27/the-pressure-is-real-for-working-mothers/#3c69cc862b8f. accessed on 19 Sep 2019

10 Ways Moms Can Balance Work and Family. https://www.parents.com/parenting/work/life-balance/moms-balance-work-family/.accessed on 19 Sep 2019

Girls With Working Moms Get Better Jobs and Higher Pay, According to Research. https://money.com/working-moms-better-kids/.accessed on 19 Sep 2019

लेखक की तस्वीर badge
Shikha Patel द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 30/01/2020 को
और Dr. Radhika apte द्वारा फैक्ट चेक्ड
x