प्रेग्नेंसी में STD से बचाव: प्रेग्नेंसी में यौन संचारित रोगों से बचने के टिप्स

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

प्रेग्नेंसी में STD से बचाव कैसे करें?  

एसटीडी यानि सेक्शुअल ट्रांसमिटेड डिजीज, ऐसे रोग जो यौन संबंध बनाने से फैलते हैं उन्हें एसटीडी कहते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान भी एसटीडी का खतरा रहता है इसलिए  प्रेग्नेंसी में STD से बचाव बेहद जरूरी है। प्रेग्नेंसी में महिला को सेहत का विशेष ध्यान रखना पड़ता है। ऐसे में अगर एसटीडी का खतरा हो तो मां और शिशु दोनों के लिए खतरनाक हो सकता है।

प्रेग्नेंसी में यौन संचारित रोगों से मां की सेहत को तो रिस्क रहता ही है, साथ ही बच्चे को भी मां से संक्रमण का डर बना रहता है। प्रेग्नेंसी के दौरान मां का शरीर बच्चे के विकास में लगा रहता है जिस वजह से उसके शरीर में कई हार्मोनल बदलाव आते हैं। जिससे उनका शरीर किसी दूसरे संक्रमण से लड़ने के लिए तैयार नहीं रहता है। ऐसे में असुरक्षित यौन संबंध बनाने से एसटीडी का खतरा बढ़ जाता है। अगर पार्टनर एसटीडी से पीड़ित है तो यौन संबंध बनाते समय सुरक्षा रखना जरूरी है ताकि किसी तरह की एसटीडी से बचा जा सके।

यह भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी के दौरान गैस से छुटकारा दिलाने वाले 9 घरेलू नुस्खे

यौन संचारित रोगों में क्लैमिडिया, गोनोरिया, हेपेटाइटिस-बी, सिफिलिस, एचआईवी एड्स, जेनिटल वार्ट्स, ट्राइकोमोइसिस मुख्य है। इन सब रोगों के लक्षण अलग-अलग हैं, इसके इलाज भी अलग-अलग है। सवाल ये है कि रोग होने पर इलाज तो किया जा सकता है, लेकिन क्यों न पहले से ही सावधानी रखी जाएं ताकि प्रेग्नेंसी में STD से दूर रहा जा सके। तो आइए जानते है प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए क्या सावधानियां रखी जानी चाहिए?

यह भी पढ़ें- क्या एबॉर्शन और मिसकैरिज के बाद हो सकती है हेल्दी प्रेग्नेंसी?

प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए रखें ये सावधानियां  

प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए कई तरह की सावधानियां रखना जरूरी है। वैसे तो प्रेग्नेंसी के दौरान स्पेशल केसेस में यौन संबंध बनाने की मनाही की जाती है, लेकिन अगर सब नॉर्मल चल रहा है तो विशेष सावधानियां अपनाकर प्रेग्नेंसी दौरान शारीरिक संबंध बनाएं जा सकते हैं। अगर प्रेग्नेंसी में शारीरिक संबंध बना रहे हैं तो एसटीडी का खतरा भी बना रहता है ऐसे में सावधानियां रखना जरूरी है। तो आइए जानते हैं वे कौन-सी सावधानियां हैं जिन्हें अपनाने से प्रेग्नेंसी के दौरान एसटीडी से बचा जा सकता है-

  • प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए शारीरिक सबंध न बनाना ही सुनिश्चित तरीका है, लेकिन अगर यौन संबंध बनाए जा रहे हैं तो आपको सुरक्षा का ध्यान रखना जरूरी है।
  • यदि प्रेग्नेंसी में STD से बचाव चाहते हैं और किसी से यौन संपर्क बनाएं तो हर बार कंडोम का इस्तेमाल करें।
  • यदि यौन संपर्क के लिए लुब्रिकेटर का इस्तेमाल करते हैं तो बेहतर है कि वाटर-बेस्ड लुब्रिकेटर का इस्तेमाल करें।
  • यदि आपके पार्टनर को यौन संचारित रोग है तो प्रेग्नेंसी के दौरान यौन संबंध बनाने से बचना चाहिए, यदि इस दौरान यौन संबंध बना लिए गए हैं तो समय रहते एसटीडी के टेस्ट करवाना जरूरी है।

यह भी पढ़ें- नशे में सेक्स करना कितना सही है? जानिए स्मोक सेक्स और ड्रिंक सेक्स में अंतर

  • प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए मोनोगैमी को फॉलो करना चाहिए यानि एक से ज्यादा लोगों से संबंध बनाने से बचना चाहिए।
  • प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए सबसे जरूरी है एक ही व्यक्ति के साथ यौन संबंध बनाएं, जिस व्यक्ति के साथ यौन संपर्क में है वह भी यौन जनित रोगों के रिस्क को कम करने के लिए एक ही पार्टनर से संबंध बनाएं।
  • समय-समय पर डॉक्टर से जांच जरूर करवाएं, यदि आपको संक्रमण है तो बच्चे को STD के रिस्क से बचाने की कोशिश करें।

यह भी पढ़ें- पेनिस (लिंग) में खुजली होने के कारण, लक्षण व उपाय

  • प्रेग्नेंसी के पहले हफ्तों में यदि STD डायग्नोस न हो तो ये जरूरी नहीं कि आने वाले हफ्तों में भी नहीं होगा।
  • प्रेग्नेंसी में यौन संचारित रोग न हो, इसलिए लापरवाही न करें और समय-समय पर जांच करवाते रहें।
  • प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए प्रेग्नेंसी के दौरान शराब या ड्रग्स का सेवन न करें।
  • नशे में यौन संबंध न बनाएं, इससे सुरक्षित यौन संबंध में लापरवाही होने की संभावना होती है।
  • प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए सबसे जरूरी है STD के लक्षण के बारे में जानिए, यदि यह आपमें या अपने पार्टनर में दिखाई दें तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें- IUI प्रेग्नेंसी क्या हैं? जानिए इसके लक्षण

प्रेग्नेंसी में STD से बचाव या STD को फैलने से कैसे रोका जा सकता है?

प्रेग्नेंसी के दौरान एसटीडी का खतरा रहता है ऐसे में इससे बचाव बेहद जरूरी है। यदि प्रेग्नेंसी के दौरान पार्टनर एसटीडी से पीड़ित है तो हो सकता है की आपको भी एसटीडी हो जाए, इसलिए एसटीडी से बचाव के लिए निम्न तरीकों को आजमाना जरूरी है।

  • अगर पार्टनर या आपको कभी एसटीडी था तो कंसीव करने से पहले टेस्ट करवाएं कि आप किसी तरह के एसटीडी से तो संक्रमित नहीं है।
  • प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए जरूरी है कि आप पार्टनर के साथ हमेशा कंडोम का इस्तेमाल करें।
  •  जब तक डॉक्टर से पूरी तरह STD का इलाज न करवा लें, तब तक शारीरिक संबंध न बनाएं।
  • प्रेग्नेंसी में STD से बचाव के लिए अपने डॉक्टर के दिए गए निर्देशों का पालन करें।
  • यह सुनिश्चित करें कि आपके साथ पार्टनर भी इलाज करवाएं।

यह भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी में सेक्स: क्या आखिरी तीन महीनों में सेक्स करना हानिकारक है?

  • होने वाले बच्चे को एसटीडी से बचाने के लिए समय-समय पर एसटीडी के टेस्ट करवाते रहे, ताकि गर्भस्थ बच्चे को एसटीडी के इंफेक्शन से बचाया जा सके।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान एसटीडी जैसे रोगों के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी हासिल करें और जब भी किसी तरह के लक्षण दिखाई दे डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें और टेस्ट करवाएं।

यह भी पढ़ें- इन घरेलू उपायों से करें प्रेग्नेंसी में होने वाले एनीमिया का इलाज

प्रेग्नेंसी में STD से बचाव बेहद जरूरी है, इसके लिए प्रेग्नेंट होने के बाद एसटीडी के टेस्ट करवाएं जाने चाहिए और संबंध बनाते समय सावधानी रखी जानी जरूरी है। अगर आपको प्रेग्नेंसी के दौरान इंफेक्शन के किसी भी तरह के लक्षण नजर आते हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

गर्भावस्था में मलेरिया होने पर कैसे रखें अपना ध्यान? जानें इसके लक्षण

प्रेग्नेंसी में मलेरिया से मां और बच्चे दोनों की जान को खतरा होता है। जानें इस स्थिति में गर्भवती महिलाएं कैसे रखें अपना ध्यान...

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Mona Narang
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

क्या है सेक्शुअल ट्रांसमिटेड डिजीज, कैसे करें एसटीडी से बचाव?

सुरक्षित यौन संबंध बनाकर एसटीडी से बचाव कर सकते हैं. इस आर्टिकल में एक्सपर्ट से जानिए एसटीडी से बचाव के तरीके, रोग के लक्षण और कारणों के बारे में जानकारी। STD के प्रकार भी हैं। उनके बारे में भी जानिए।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh

Ethinyl Estradiol: एथिनिल एस्ट्राडियोल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए एथिनिल एस्ट्राडियोल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, एथिनिल एस्ट्राडियोल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Ethinyl Estradiol डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anoop Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Prochlorperazine: प्रोक्लोरपेराजाइन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

प्रोक्लोरपेराजाइन का इस्तेमाल मिचली और उल्टी रोकने के लिए किया जाता है. खासतौर पर सर्जरी या कैंसर के इलाज के दौरान उल्टी रोकने में इसका इस्तेमाल होता है.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anoop Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 11, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें