फॉलों करें ये नॉर्मल डिलिवरी टिप्स, डिलिवरी होगी आसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

गर्भधारण के बाद हर महिला के मन में यही सवाल आता है कि उसकी डिलिवरी नॉर्मल होगी या सिजेरियन। लेकिन औरतें ज्यादातर नार्मल डिलिवरी चाहती हैं ऐसे में नॉर्मल डिलिवरी टिप्स को फॉलों करके आप अपनी डिलिवरी आसान कर सकती हैं। आमतौर पर गर्भवती महिलाएं नॉर्मल डिलिवरी ही चाहती हैं लेकिन, महिला या गर्भ में पल रहे शिशु को अगर कोई शारीरिक परेशानी होती है तो डॉक्टर सिजेरियन डिलिवरी की सलाह देते हैं। हमारे द्वारा बताए हुए नॉर्मल डिलिवरी टिप्स को आजमाएं ये फायदेमंद साबित हो सकता है।

और पढ़ेंः प्रेग्नेंसी में थकान क्यों होती है, कैसे करें इसे दूर?

हालांकि, पिछले कुछ सालों में ऐसी प्रेग्नेंट महिलाओं की संख्या में वृद्धि हुई है जो प्रसव पीड़ा से बचने के लिए सिजेरियन डिलिवरी को चुनती हैं। साल 2015-16 के नेशनल हेल्थ फैमिली सर्वे के अनुसार पिछले पांच सालों में देश के शहरी इलाकों में 28.3% महिलाओं ने सी-सेक्शन के जरिए डिलिवरी कराने को प्राथमिकता दी। वहीं गांव-देहात के इलाकों में 12.9% महिलाओं ने सी-सेक्शन से डिलिवरी कराई। जबकि, सिजेरियन डिलिवरी का यही आंकड़ा साल 2005-06 में (शहर और गांव) मात्र 8.5 % ही था।

गर्भवती महिला को नॉर्मल डिलिवरी में काफी दर्द होता है लेकिन, सेहत के लिहाज से इसे सिजेरियन डिलिवरी से बेहतर माना जाता है। “हैलो स्वास्थ्य” के इस बारे में जानकारी लेने के लिए डॉ. रूबी सेहरा (गायनोकोलॉजिस्ट) से बात की।

नॉर्मल डिलिवरी टिप्स जो जानना जरूरी है

और पढ़ेंः प्रेग्नेंसी में इन 7 तरीकों को अपनाएं, मिलेगी स्ट्रेस से राहत

1.नॉर्मल डिलिवरी टिप्स में प्रेग्नेंसी के बारे में जानना है जरूरी (Know about pregnancy in hindi)

सही जानकारी से नार्मल डिलिवरी का डर कुछ हद तक दूर हो जाता है। इसलिए, प्रसव के बारे में ज्यादा से ज्यादा सही जानकारी पाने की कोशिश करें। इससे गर्भवती महिला को प्रसव की प्रक्रिया को अच्छी तरह से समझने में मदद मिलती है। शोध से पता चलता है कि जो गर्भवती महिलाएं प्रसव पूर्व प्रेग्नेंसी क्लासेज में भाग लेती हैं उनमें सी-सेक्शन की तुलना में नार्मल डिलिवरी की संभावना 50 प्रतिशत अधिक होती है। दरअसल, इससे नार्मल डिलिवरी संबंधित जितनी भी शंकाएं मन में होती हैं, वे खत्म हो जाती हैं। इसके अलावा सामान्य प्रसव के लिए मानसिक तौर पर मजबूती आती है। ज्यादातर महिलाएं अफवाहों पर विश्वास करती हैं और उन्हें लगता है कि नॉर्मल डिलिवरी में ज्यादा परेशानी होती है। नॉर्मल डिलिवरी टिप्स के बारे में पहले से जानकारी होना जरूरी है। 

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : सिजेरियन डिलिवरी के बाद ऐसे करें टांकों की देखभाल

2.नॉर्मल डिलिवरी टिप्स में शामिल है सही डॉक्टर का चुनाव (Selection of doctor)

डिलिवरी के लिए ऐसे डॉक्टर का चुनाव करें, जो नॉर्मल डिलिवरी को प्राथमिकता देते हों और उनके पास नॉर्मल डिलिवरी कराने का अच्छा अनुभव हो। गर्भवती महिला को डिलिवरी के लिए ऐसे डॉक्टर का चुनाव करना चाहिए, जो प्रेग्नेंट महिला को सामान्य प्रसव और उसकी शारीरिक स्थिति के बारे में सही जानकारी देता रहे। अगर आप सच में नॉर्मल डिलिवरी चाहती हैं तो ऐसा डॉ चुनें जिसको नॉर्मल डिलिवरी कराने का अनुभव हो।

और पढ़ें : डिलिवरी के बाद सूजन के कारण और इलाज

3.नॉर्मल डिलिवरी टिप्स है सही डायट (Right diet for pregnant woman in hindi)

प्रेग्नेंसी में सबसे ज्यादा जरूरी है संतुलित और हेल्दी डायट। उचित आहार न केवल गर्भवती के शरीर के लिए बल्कि गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के लिए भी महत्वपूर्ण है। हेल्दी डायट से ही प्रेग्नेंट महिला का शरीर नार्मल डिलिवरी के लिए तैयार हो पाता है। साथ ही लेबर पेन का सामना आसानी से कर सकता है। इसके लिए बहुत सारी हरी सब्जियां खाएं क्योंकि इनमें आयरन और फोलेट एसिड पाया जाता है, जो प्रसव में होने वाली एनीमिया की समस्या को रोकने में महत्वपूर्ण होता है

4.नॉर्मल डिलिवरी टिप्स का हिस्सा है व्यायाम करना (Exercise for pregnant woman in hindi)

प्रेग्नेंसी के दौरान नियमित रूप से व्यायाम करने से नॉर्मल डिलिवरी की संभावना काफी बढ़ जाती है। एक्सरसाइज से न केवल स्टेमिना बढ़ती है, बल्कि इससे लेबर पेन को सहन करने में भी मदद मिलती है। इस स्थिति में केगल एक्सरसाइज (kegel exercise) काफी सहायक हो सकती है। इससे पेल्विक मसल्स और थाइज मजबूत होती हैं। डॉक्टर की सलाह से व्यायाम करें। नॉर्मल डिलिवरी के लिए डॉक्टर हमेशा अधिक चलने-फिरने की सलाह देते हैं और साथ ही सही एक्सरसाइज भी नार्मल डिलिवरी के लिए जरूरी है।

और पढ़ेंः प्रसव-पूर्व योग से दूर भगाएं प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली समस्याओं को

5.नॉर्मल डिलिवरी टिप्स में तनाव से दूरी बनाएं (Manage Stress in hindi)

स्ट्रेस गर्भावस्था में कॉम्प्लिकेशन को बढ़ा सकता है। इसका बुरा प्रभाव महिला और गर्भ में पल रहे शिशु की सेहत पर पड़ सकता है। प्रेग्नेंसी के समय में तनाव से जितना दूर रहेंगी उतना अच्छा होगा। इसके लिए कोई अच्छा संगीत सुन सकती हैं, टीवी पर अच्छे प्रोग्राम देख सकती हैं या फिर कोई अच्छी किताब पढ़ सकती हैं। किसी भी तरह का तनाव आपकी प्रेग्नेंसी के लिए अच्छा नहीं है इसलिए तनाव से जितना हो सके उतनी दूरी बनाएं। अपने आसपास हो रही नकारात्मक बातों पर ज्यादा ध्यान न दें।

6.नॉर्मल डिलिवरी टिप्स में वजन पर दे ध्यान (Check your weight in pregnancy)

गर्भावस्था में वेट बढ़ना सामान्य बात है लेकिन, प्रेग्नेंट महिला का वजन अधिक भी नहीं बढ़ना चाहिए। वेट ज्यादा होने से प्रसव के समय समस्या हो सकती है। अगर गर्भवती महिला का बॉडी फैट ज्यादा होता है, तो शिशु को बाहर आने में कठिनाई होती है। ऐसा सभी ने देखा है कि प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं का वजन बढ़ता है लेकिन अगर आप नॉर्मल डिलिवरी चाहती हैं तो अपने वजन पर ध्यान दें।

और पढ़ें : प्रेग्नेंसी में स्किन प्रॉब्लम: गर्भवती महिलाएं जान लें इनके बारे में

7.शरीर के निचले हिस्से की करें मसाज

अधिक वजन होने के कारण गर्भवती महिला के चलने-फिरने व डिलिवरी के दौरान शरीर के निचले हिस्से पर काफी प्रेशर पड़ता है। अगर इस हिस्से की मसल्स और हड्डियां कमजोर रहेंगी तो गिरने या डिलिवरी के दौरान पर्याप्त ताकत लगाने में समस्या हो सकती है। इसलिए, शरीर के निचले हिस्से जैसे कि, पैर, घुटने, जांघ आदि की हल्के हाथ से नियमित मसाज करें।

प्रेग्नेंसी के दौरान पेरेनियल मसाज नॉर्मल डिलिवरी की संभावना को बढ़ाती है। पेरेनियल मसाज को डॉक्टर भी जरूरी मानते हैं। पेरेनियल मसाज की हेल्प से बच्चे को वजाइना से बाहर निकलने में आसानी होती है। ऐसा नहीं है कि जो महिलाएं पेरेनियल मसाज नहीं कराती हैं उनका सामान्य प्रसव नहीं होता है। जो महिलाएं मसाज की मदद लेती है,उनकी सामान्य डिलिवरी अधिक आसान हो जाती है। आप इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं। एक हफ्ते में दो से तीन बार तक मसाज की सहायता ली जा सकती है।

8.नॉर्मल डिलिवरी टिप्स में सबसे जरूरी पूरी नींद (Take proper sleep in hindi)

अच्छी नींद लेना गर्भवती महिला और शिशु के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। बिना टूटे, पर्याप्त और अच्छी नींद लेने से डिलिवरी में होने वाली कई तरह की समस्याओं को दूर किया जा सकता है। नींद पूरी होना बहुत से समस्याओं का समाधान है ऐसे में अगर आप चाहते हैं कि आपकी डिलिवरी नॉर्मल हो तो आप अपनी नींद पर पूरा ध्यान दें।

ज्यादातर, महिलाएं नॉर्मल डिलिवरी में होने वाले दर्द से घबराती हैं और सिजेरियन डिलिवरी विकल्प चुन लेती हैं।महिलाएं खुद को सामान्य प्रसव के लिए फिजिकली और मेंटली तैयार कर सकें। इसके लिए डॉक्टर द्वारा बताए गए नॉर्मल डिलिवरी टिप्स को अपनाएं क्योंकि आज भी नॉर्मल डिलिवरी प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए बेस्ट ऑप्शन है। ऊपर दिए गए नॉर्मल डिलिवरी टिप्स ना केवल आपकी डिलिवरी नॉर्मल कराने में मदद करेगा बल्कि यह आपको और आपके बच्चे को स्वस्थ रखने में मदद करेगा।

9.स्वास्थ्य का रखें ख्याल 

स्वस्थ मां की गर्भ में ही स्वस्थ बच्चे का विकास होता है। ऐसे में मां को अपनी सेहत का ख्याल रखना चाहिए। शारीरिक और मानसिक तौर पर भी खुद को तैयार रखना चाहिए। जिसके लिए अच्छा खाएं और अच्छा सोचें। इस दौरान, शारीरिक और मानसिक तौर पर भी कई बदलाव आते हैं। जिसके कारण कई बार कुछ खाने-पीने का मन नहीं करता। लेकिन, इस बात का ख्याल रखें कि आपको अपने भोजन में नियमित रूप से पौष्टिक आहार लेने होंगे।

10.  नॉर्मल डिलिवरी के लिए उपाय : पानी की उचित मात्रा 

मां की गर्भ के अंदर बच्चा एक थैली में रहता है। जिसके अंदर वो घूमता रहता है। इस थैली को एमनियोटिक थैली कहते हैं। इससे ही बच्चे को सारी ऊर्जा मिलती है। जिसे स्वस्थ बनाए रखने के लिए जरूरी है कि मां हर दिन भरपूर मात्रा में पानी पिएं। पानी की मात्रा बराबर होने से शरीर के कीटाणु यूरिन (मूत्र) के जरिए बाहर निकल जाते हैं।

11. नकारात्मकता से बनाएं रखें दूरी

प्रेग्नेंसी के दौरान मन में एक नहीं बल्कि बहुत सी बातें चलती रहती हैं। ऐसे में नकारात्मक बातों का मन में आना भी लाजिमी है। अगर महिला प्रेग्नेंसी के दौरान निगेटिव सोचेगी तो उसका गलत असर बच्चे पर भी पड़ सकता है। वैसे एक प्रेग्नेंट महिला के मन में प्रेग्नेंसी के दौरान बच्चे के स्वास्थ्य और खुद के स्वास्थ्य को लेकर कई प्रकार प्रश्न आते हैं। महिलाओं के मन में ये भी विचार आता है कि कहीं बच्चे को कुछ हो न जाए या फिर डिलिवरी के दौरान कहीं किसी प्रकार की हेल्थ संबंधि समस्या का सामना न करना पड़ जाए।

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अगर आपको नॉर्मल प्रेग्नेंसी के बारे में अधिक जानकारी चाहिए तो बेहतर होगा कि आप इस बारे में डॉक्टर से जानकारी प्राप्त करें। साथ ही बिना डॉक्टर से सलाह किए कोई भी स्टेप न लें। आप स्वास्थ्य संबंधि अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं।

powered by Typeform

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या प्रेग्नेंसी में रोना गर्भ में पल रहे शिशु के लिए हो सकता है खतरनाक?

क्या प्रेग्नेंसी में रोना गर्भ में पल रहे शिशु के मानसिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है? प्रेगनेंसी में रोना डिप्रेशन का संकेत तो नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

गर्भावस्था में कार्पल टनल सिंड्रोम की समस्या से कैसे बचें?

गर्भावस्था में कार्पल टनल सिंड्रोम के बचने के लिए क्या हैं उपाय? जानिए क्या है गर्भावस्था में कार्पल टनल सिंड्रोम in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी मार्च 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Quiz : पीरियड्स के दौरान कैसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए?

पीरियड्स के दौरान होने वाली परेशानी से कैसे बचें? जानने के लिए खेलें क्विज

के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
क्विज फ़रवरी 13, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

कॉर्ड ब्लड टेस्ट क्या है?

कॉर्ड ब्लड टेस्ट in hindi. कॉर्ड ब्लड वो ब्लड होता है जो डिलिवरी के बाद अम्बिलिकल कॉर्ड से निकलता है। कॉर्ड ब्लड को इकठ्ठा करने के बाद क्यों किया जाता है कॉर्ड ब्लड टेस्ट?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी जनवरी 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

विभिन्न प्रसव प्रक्रिया का स्तनपान और रिश्ते पर प्रभाव - How do Different Birthing Practices Impact Breastfeeding and Bonding

विभिन्न प्रसव प्रक्रिया का स्तनपान और रिश्ते पर प्रभाव कैसा होता है

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
लोअर सेगमेंट सिजेरियन सेक्शन (LSCS)

लोअर सेगमेंट सिजेरियन सेक्शन (LSCS) के बाद नॉर्मल डिलिवरी के लिए ध्यान रखें इन बातों का

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
पॉलिहाइड्रेमनियोस

पॉलिहाइड्रेमनियोस (गर्भ में एमनियोटिक फ्लूइड ज्यादा होना) के क्या हो सकते हैं खतरनाक परिणाम?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
इलेक्टिव सी-सेक्शन-Elective C-section

‘इलेक्टिव सी-सेक्शन’ से अपनी मनपसंद डेट पर करवा सकते हैं बच्चे का जन्म!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें