प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे हैं तो घबराएं नहीं, अपनाएं इन घरेलू नुस्खों को

Medically reviewed by | By

Update Date अप्रैल 1, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

कई महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे (Pregnancy Acne), पिंपल्स का अनुभव होता है। यह पहली और दूसरी तिमाही के दौरान होना सबसे आम है। गर्भावस्था में एंड्रोजन नामक हॉर्मोन में वृद्धि त्वचा में ग्लांड्स (ग्रंथियों) को बढ़ने और सीबम को अधिक मात्रा में उत्पन्न करने का कारण बन सकती है जो एक प्रकार का एक ऑयली तथा वैक्सी सब्सटेंस होता है। यह तेल छिद्रों को रोकता है जिससे त्वचा को जरूरी पोषण नहीं मिलता। परिणामस्वरूप चेहरा और स्किन में बैक्टीरिया, सूजन आदि हो सकता है। गर्भावस्था और प्रसव के बाद मुंहासे आमतौर पर अस्थायी होते हैं। प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे जो परेशानी का कारण बनते हैं वे जब बॉडी हॉर्मोन सामान्य होते हैं खुद-ब-खुद ठीक भी हो जाते हैं।

प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे के कारण क्या हैं?

गर्भावस्था के दौरान होने वाली समस्याओं में से एक मुंहासे भी हैं। इनके कई कारण होते हैं, जैसे-

1. एंड्रोजन स्तर में वृद्धि

2. आहार में बदलाव

3. जेनेटिक पैटर्न

4. दवा

5. तनाव

ये भी पढ़ें- प्रेग्नेंसी के दौरान तनाव का असर हो सकता है बच्चे पर, ऐसे करें कम

प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे होने पर कैसे छुटकारा पाएं?

गर्भावस्था के दौरान मुंहासे होना एक नैचुरल और सामान्य स्थिति है जो आमतौर पर शिशु के जन्म के बाद ठीक हो जाती है। इससे बचने के लिए सबसे सुरक्षित है इस दौरान अपनी त्वचा का ख्याल रखें। ऐसे कई घरेलू नुस्खे भी हैं जिन्हें अपनाकर प्रेग्नेंसी में त्वचा की समस्याओं को दूर किया जा सकता है। आगे जानते हैं उन घरेलू उपचारों को जो प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे की समस्या में राहत दिला सकते हैं। 

प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे होने पर अपनाएं ये प्राकृतिक घरेलू उपचार  

1. प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे दूर करने के लिए एसेंशियल ऑयल्स के साथ मिश्रण बनाएं

लैवेंडर, क्लेरी सेज, जोजोबा और टी ट्री एसेंशियल ऑयल में तनाव और हॉर्मोन लेवल को संतुलित करने की क्षमता होती है। ये त्वचा पर कोमल भी होते हैं और रेगुलर क्लींजर के विपरीत यह त्वचा को ड्राय नहीं करते। यह सर्दियों के महीनों में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। इसका उपयोग करके प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले मुंहासों से राहत पाई जा सकती है।

ये भी पढ़ें- जानिए कैसे स्किन के लिए टी ट्री ऑइल है बेहद फायदेमंद?

2. प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे का इलाज है बेकिंग सोडा

बैकिंग सोडा आपके स्किन में मौजूद अतिरिक्त तेल को अवशोषित करता है और स्किन को ठीक करने में मदद करता है। प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे से प्रभावित जगह पर तुरंत फायदे के लिए बेकिंग सोडा और पानी को एक-एक चम्मच मिलाएं और अपने त्वचा पर लगाएं। थोड़ी देर सूखने देने के बाद इसे धो लें।

3. स्किन को हाइड्रेट रखें

गर्भावस्था के दौरान अधिक पसीना आने के कारण मुंहासे होने के चांसेस होते हैं। पानी का खूब सेवन करें। यह न केवल आपकी त्वचा को हाइड्रेट करेगा, बल्कि यह पूरे शरीर को हाइड्रेटेड रखने में मदद करता है। यदि आप गर्भावस्था में व्यायाम करती हैं तो यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। क्योंकि इस दौरान आप गर्म जलवायु के संपर्क में आते हैं जिससे अधिक पसीना आता है।

ये भी पढ़ें- गर्भावस्था के दौरान स्ट्रेच मार्क्स: इन घरेलू उपचार से मिलेगा आराम

4. प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे का इलाज प्रोबायोटिक्स का सेवन  

टॉपिकल प्रोबायोटिक्स क्रीम, सीरम और स्प्रे के रूप में आते हैं। यह हेल्दी स्किन के लिए जरूरी माइक्रोबायोम को बनाए रखने के लिए डिजाइन किए गए हैं। प्रोबायोटिक्स बुरे बैक्टीरिया को कम करते हुए अच्छे जीवाणुओं की संख्या बढ़ाने में मदद करते हैं। इस प्रकार यह आपके त्वचा के छिद्रों को साफ करने में मदद करता है। यदि प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे हो जाएं तो आप या तो प्रोबायोटिक्स के एक कैप्सूल को नारियल के तेल इस्तेमाल कर सकती हैं या सीधे अपने चेहरे पर प्राकृतिक रूप से फर्मेन्टेड योगर्ट (दही) का उपयोग कर सकती हैं।

ये भी पढ़ें- नारियल तेल में छुपा के खूबसूरती के खजाने

5. नारियल का तेल

नारियल के तेल में ऐसे गुण होते हैं जो बैक्टीरिया और फंगल संक्रमण को रोकते हैं। नारियल तेल त्वचा द्वारा आसानी से अवशोषित किया जाता है। आप अपने मॉश्चराइजर के बदले रात में सोते समय नारियल तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। कोकोनट ऑयल प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे पर असर करता है। यह स्किन के लिए बेहद लाभदायक होता है।

6. नींबू का रस

नींबू के रस में विटामिन सी और एंटीसेप्टिक गुण भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। नींबू का रस चेहरे के मुंहासे से प्रभावित क्षेत्रों पर लगाया जा सकता है। आप इसे इस्तेमाल से पहले पानी के साथ मिलाकर पतला कर सकते हैं। नींबू रस गर्भावस्था के दौरान होने वाले पिंपल्स से राहत देगा।

7. एलोवेरा जेल

एलोवेरा में कई औषधीय गुण होते हैं और इसका इस्तेमाल कॉस्मेटिक उत्पादों में भी किया जाता है। एलोवेरा जेल खुजली वाली त्वचा के लिए एक कूलैंट के रूप में कार्य करता है जो मुंहासे से आराम देता भी है और त्वचा को नमी देकर हाइड्रेशन प्रदान करता है।

8. हल्दी

हल्दी घर पर प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे के उपचार के लिए सबसे सरल, सबसे पुराना और भरोसेमंद नुस्खा है। एक चुटकी हल्दी में गुलाब जल डालें और अपने पिंपल्स पर लगाएं। थोड़ी देर सूखने के बाद चेहरा धो लें।

गर्भावस्था के शुरुआती महीनों में मुंहासे होना आम है। शुरूआती प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे आमतौर पर एंड्रोजन के स्तर (मेल सेक्स हॉर्मोन) में वृद्धि के कारण होते हैं। यह तेल बनाने वाली ग्रंथियों का कारण बनता है। यह तैलीय सीबम त्वचा के छिद्रों को अवरुद्ध कर सकता है और संक्रमण, सूजन, और निशान आदि को जन्म दे सकता है। जिसके कारण प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे आदि की समस्या होती है। अगर ये मुंहासे चेहरे पर बहुत अधिक फैलने लगे या जलन महसूस हो तो डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

9. एप्पल साइडर विनेगर

एक चम्मच रॉ और अनफिल्टर्ड एप्पल साइडर विनेगर लें और उसमें तीन चम्मच पानी (distilled water) मिलाएं। यह टोनर का काम करेगा। (जब आप पानी में से खनिज और रसायन निकाल देते हैं, तब आप डिस्टिल्ड वॉटर बनाते हैं।) इसमें नैचुरल एंजाइम्स और अल्फा हाइड्रॉक्सी एसिड पाए जाते हैं। रूई को इस मिक्चर में डुबोए और स्किन पर अप्लाई करें। ये चहरे के ऑइल को सोखने का काम करेगा। एप्पल साइडर विनेगर का डिसटिल्ड वॉटर में अच्छी तरह मिलना जरूरी है। इसके लिए नॉर्मल पानी का यूज न करें। अगर इसे लगाने से ड्राइनेस ज्यादा होती है तो इस उपाय को न अपनाएं। अनडायल्यूट विनेगर को चेहरे पर न लगाएं यह स्किन के जलने का कारण बन सकता है।

हम उम्मीद करते हैं कि प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे क्यों होते हैं और इनका उपचार कैसे किया जा सकता है विषय पर आधारित यह आर्टिकल आपके लिए उपयोगी साबित होगा। प्रेग्नेंसी के दौरान और भी स्किन प्रॉब्लम्स होती हैं जिनमें स्किन टैग, झाइयां, स्ट्रेच मार्क और खुजली शामिल है। इन स्किन प्रॉब्लम्स की वजह से घबराने की जरूरत नहीं है। ये गर्भावस्था के बाद अपने आप ठीक हो जाती हैं। अगर आप प्रेग्नेंसी के दौरान मुंहासे से परेशान हैं तो ऊपर बताएं गए घरेलू उपचार अपना सकती हैं। किसी प्रकार की शंका होने पर डॉक्टर से संपर्क करें। हैलो स्वास्थ्य किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता।

और पढ़ें:

गर्भावस्था में होने वाली खुजली में इन घरेलू उपचारों से मिल सकता है आराम

प्रेग्नेंसी के दौरान डायरिया होने पर आजमाएं ये घरेलू नुस्खे

क्या कोज्वाॅइंट ट्विन्स की मौत एक साथ हो जाती है?

डिलिवरी के बाद 10 में से 9 महिलाओं को क्यों होता है पेरिनियल टियर?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    ‘इलेक्टिव सी-सेक्शन’ से अपनी मनपसंद डेट पर करवा सकते हैं बच्चे का जन्म!

    क्या आसान है इलेक्टिव सी-सेक्शन (Elective C-section) से शिशु का जन्म? इलेक्टिव सिजेरियन डिलिवरी ले नुकसान क्या हैं?आप जानते हैं इससे होने वाले मां और शिशु को नुकसान? c-section birth plan in hindi

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Nidhi Sinha

    गर्भावस्था से ही बच्चे का दिमाग होगा तेज, जानिए कैसे?

    गर्भावस्था में बच्चे का दिमाग कैसे तेज करें? 7 टिप्स अपनाकर प्रेग्नेंसी में बच्चे का दिमाग करें तेज। जानिए क्यों कुछ बच्चे का दिमाग होता है तेज!

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha

    प्रेग्नेंसी में हर्बल टी से शिशु को हो सकता है नुकसान

    प्रेग्नेंसी में हर्बल टी के सेवन से नुकसान हो सकता है? कौन-कौन सी हर्बल टी का सेवन गर्भावस्था के दौरान नहीं करना चाहिए? प्रेग्नेंसी में हर्बल टी जो सेफ हैं जैसे मिंट टी, अदरक की चाय, रास्पबेरी की पत्ती वाली चाय.....

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha

    प्रेग्नेंसी में पानी का सेवन गर्भवती महिला और शिशु के लिए कैसे लाभकारी है?

    जानिए प्रेग्नेंसी में पानी का सेवन कितना करना चाहिए? गर्भावस्था में पानी का सेवन मां और शिशु के लिए लाभकारी है, कैसे? Dehydration during pregnancy in Hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha
    प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें