प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराना कितना सुरक्षित है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 19, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

क्या आप प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराना चाहती हैं? गर्भावस्था एक ऐसी स्थिति होती है, जब महिलाओं को हजारों बंदिशों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में प्रेग्नेंसी में बाल कलर करना कहीं आपके बच्चे के लिए नुकसानदायक तो नहीं? ऐसे ही कई सवाल हर गर्भवती महिला के दिमाग में चलते हैं। प्रेग्नेंसी में महिलाओं को एक खास दिनचर्या का पालन करने की सलाह दी जाती है। भोजन से लेकर चलने फिरने और कपड़े पहनने तक के संबंध में गायनेकोलॉजिस्ट विशेष सलाह देते हैं। प्रेग्नेंसी में बाल कलर करने से पहले आपको इसके तमाम वैज्ञानिक पक्षों के बारे में जानकारी जुटानी चाहिए। आज हम इस आर्टिकल में आपको प्रेग्नेंसी में बाल कलर करने के संबंध में एक व्यापक जानकारी देने जा रहे हैं।

और पढ़ें : हेल्दी फूड्स की मदद से प्रेग्नेंसी के बाद बालों का झड़ना कैसे कम करें?

प्रेग्नेंसी में बाल कलर करना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी में बाल कलर करना सुरक्षित है या नहीं, इस संबंध में अनेकों अध्ययन किए जा चुके हैं। किसी भी प्रकार की हेयर डाई या शैंपू में कैमिकल्स मिले होते हैं। इन कैमिकल्स की बदौलत आपके बालों का कायकल्प होता है। हालांकि, कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि हेयर डाई या हेयर कलर में मिले कैमिकल्स ज्यादा विषैले नहीं होते हैं, जो प्रेग्नेंसी के दौरान आपको या भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकें। चूंकि, इन अध्ययनों की संख्या सीमित है इसलिए पूर्णतः आंख मूंदकर इन पर विश्वास कर लेना सुरक्षित नहीं होगा। प्रेग्नेंसी में बाल कलर करने से कैमिकल्स का कुछ हिस्सा त्वचा अपने अंदर सोख लेती है। कैमिकल्स का यह हिस्सा प्लेसेंटा के जरिए भ्रूण तक पहुंच सकता है।

हालांकि, कुछ अध्ययनों में इसे नुकसानदायक नहीं माना गया है। ब्रेस्टफीडिंग के दौरान भी समान स्थिति पैदा होती है। ब्रेस्टफीडिंग के दौरान बाल कलर करने के संबंध में कोई आधिकारिक आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं। त्वचा के साथ-साथ ब्लडस्ट्रीम में भी कैमिकल्स का कुछ हिस्सा सोख लिया जाता है। इससे इन कैमिकल्स की मां के दूध में प्रवेश करने की संभावना बढ़ जाती है, जो शिशु के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

और पढ़ें : Fun Facts: कर्ली बालों वाली लड़कियों को हर किसी से मिलता है इस तरह का ज्ञान

प्रेग्नेंसी में बाल कलर के लिए कुछ ऑप्शन

प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराने को लेकर यदि आपको शंका है तो आप कुछ सुरक्षित विकल्पों को अपना सकती हैं। उदाहरण के लिए आप प्रेग्नेंसी में बाल कलर में हाईलाइट्स करा सकती हैं। प्रेग्नेंसी में बाल कलर में हाईलाइट्स कराने पर डाई को बालों की जड़ों तक नहीं लगाया जाता है, जिससे हेयर कलर आपके स्कैल्प तक नहीं पहुंचते हैं।ख नहीं पाती है, जिससे यह ब्लडस्ट्रीम तक नहीं पहुंचते हैं। इसके अलावा आप प्रेग्नेंसी में बाल कलर में नैचुरल डाई जैसे हिना को चुन सक

इसके चलते स्किन हेयर कलर में मौजूद कैमिकल्स को सोखते हैं। यदि आप फिर भी प्रेग्नेंसी में बाल कलर को लेकर चिंतित हैं तो आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। हालांकि, कुछ डॉक्टर प्रेग्नेंसी में बाल कलर के लिए पहले या तीसरे ट्राइमेस्टर का इंतजार करने की सलाह देते हैं। वहीं, कुछ प्रेग्नेंसी में बाल कलर करने के बजाय डिलिवरी के बाद ऐसा करने की सलाह देते हैं।

और पढ़ें : ये क्विज बताएंगे बालों का कितना ख्याल है आपको?

प्रेग्नेंसी में बाल कलर के लिए सलाह

यदि आप प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराना चाहती हैं तो नीचे दिए गए बिंदुओं पर विचार कर सकती हैं।

दूसरे ट्राइमेस्टर तक इंतजार करें

प्रेग्नेंसी में बाल कलर को लेकर कुछ जानकार दूसरे ट्राइमेस्ट तक का इंतजार करने की सलाह देते हैं। इसमें कोई दोहराय नहीं है कि आप प्रेग्नेंसी के चौथे हफ्ते में हेयर कलर सकती हैं। इस अवधि में आपकी बॉडी में हाॅर्मोन प्रबल होते हैं और आपके बाल सामान्य के मुकाबले तेजी से बढ़ते हैं। इस दौरान बालों का टैक्सचर भी बदल जाता है।

प्रेग्नेंसी के शुरुआती 12 हफ्ते शिशु के विकास के लिए काफी अहम होते हैं। इस दौरान भ्रूण का आकार, मांसपेशियों का विकास और वोकल कॉर्ड का निर्माण होता है। साथ ही नेल बेड्स और बालों के रोम का निर्माण शुरू हो जाता है।

और पढ़ें : बच्चों में टिनिया के लक्षण गाल या बाल कहीं भी दिख सकते हैं

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

प्रेग्नेंसी में बाल कलर करने का सुरक्षित तरीका

डॉक्टर से प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराने के लिए आपने सोच लिया है तो आपको हेयर कलर तकनीक का चुनाव करते वक्त समझदारी दिखानी होगी। रूट-टच अप (Root-touch-ups) और रूट-टु-टिप (root-to-tip) चेंज बालों को कलर करने की एक सिंगल प्रक्रिया है। इसका मतलब यह हुआ कि इन दोनों ही प्रक्रियाओं में हेयर डाई स्कैल्प पर लगाई जाती है, जहां पर त्वचा के रोम छिद्र होते हैं। इन्हीं रोम छिद्रों के जरिए कैमिकल्स आपकी बॉडी में जाता है। प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराने के लिए आपको ऐसी तकनीक का चुनाव करना है, जिनमें हेयर डाई को बालों के साफ्ट पर लगाया जाता है (हाईलाइट्स, लोलाइट्स, फ्रोस्टिंग और स्ट्रीक)। उदाहरण के लिए बालों को स्कैल्प से उठाकर उनके ऊपर कलर लगाना थोड़ा असामान्य है, लेकिन यह तरीका सुरक्षित माना जाता है।

और पढ़ें : जरूर जानें काले बालों को हाईलाइट करने के अलग-अलग तरीके

प्रेग्नेंसी में बाल कलर में जेंटल कलर जरूरी

प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराते वक्त आपको रंगों का खासतौर पर ध्यान रखना है। सुरक्षा की दृष्टि से आप अपने हेयर स्टाइलिश से जेंटल विकल्प जैसे अमोनिया फ्री बेस वाले रंगों के बारे में पूछ सकती हैं। यदि आप (DIY) पसंद करती हैं तो आप सेमिपर्नेंमाट कलर पर विचार कर सकती हैं। इसमें ब्लीच नहीं होता है। यह परमानेंट डाई से ज्यादा बेहतर साबित होते हैं। सेमिपर्मानेंट कलर एक महीने या इससे अधिक अवधि के बाद अपने आप ही चले जाते हैं।

वेजेटेबल और हिना डाई में विषाक्ता का स्तर काफी कम होता है, जिन्हें आप घर पर इस्तेमाल कर सकती हैं। हालांकि प्रेग्नेंसी में बाल कलर करने से पहले किसी भी डाई के लेबल को जरूर पढ़ें। नैचुरल कलर का दावा करने वाली कई हेयर डाई में अपनी प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले ज्यादा कैमिकल्स होते हैं।

वेंटिलेशन और कवर्ड का रखें ध्यान

प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराते वक्त आपको कुछ खास एहतियात का ध्यान रखना होगा। जानकार भी इन पर अपनी सहमति देते हैं। यदि आप प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराने के लिए किसी सैलून में हैं तो ऐसी सीट पर बैठें, जो अच्छे से वेंटिलेटेड हो। यदि आप घर पर हैं तो खिड़कियां खोल दें ताकि आप जहरीली खुशबू में सांस लेने के बजाय ताजी हवा में सांस लें।

प्रेग्नेंसी में बाल कलर करते वक्त यदि आप खुद ही हेयर कलर लगा रही हैं तो हाथों में दस्ताने पहनें। इससे हेयर कलर और आपकी स्किन में एक फासला बना रहेगा। प्रेग्नेंसी में बाल कलर करने के लिए आप अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह ले सकती हैं।

और पढ़ें : घर पर ही हेयर कलर करना होगा आसान, फॉलो करें ये टिप्स 

प्रेग्नेंसी में बाल कलर से पहले करें हेयर टेस्ट

प्रेग्नेंसी के दौरान हर महिला की बॉडी में हार्मोन अलग तरह से प्रतिक्रिया देते हैं। हार्मोन के इसी बदलाव से आपके बाल अलग ढंग से प्रतिक्रिया दे सकते हैं। इसकी जांच करने के लिए आप कुछ बालों पर हेयर कलर लगाकर इसकी जांच कर सकती हैं। यदि आपको अपेक्षित नतीजा नहीं मिलता है तो आप किसी बड़े साइड इफेक्ट्स से बच सकती हैं। प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराते वक्त आपको एकाएक पूरे सिर पर हेयर कलर नहीं करना है। सबसे अहम बात कि आपको प्रेग्नेंसी में बाल कलर करते वक्त किसी भी हेयर डाई को लंबे वक्त तक लगाए नहीं रखना है। आपको यह सुनिश्चित करना है कि प्रेग्नेंसी में बाल कलर करने के बाद आप अंत में बालों को अच्छे से धो लें, जिससे बालों से कलर पूरी तरह से निकल जाए।

प्रेग्नेंसी में बाल कलर के दौरान किस तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए?

अगर आप प्रेग्नेंसी में हेयर कलर करवाना चाहती हैं, तो आपको कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना चाहिए। जिसमें शामिल हैंः

  • खुद से कलर करने से बचें। किसी सदस्य यया पार्लर में जाकर ही बालों को कलर करवाएं। खुद से कलर करना आपकी गर्भावस्था में जटिलताओं का कारण बन सकता है।
  • तेज गंध बाले हेयर कलर का इस्तेमाल न करें। इससे सांसों की समस्या हो सकती है। जो गर्भ में पल रहे शिशु को भी प्रभावित कर सकती है।
  • आंखों या स्किन के संपर्क में आने से बचे रहें।
  • गर्भावस्था के दौरान आपको हमेशा प्राकृतिक हेयर कलर के विकल्प को चुनना चाहिए।
  • कलर करवाने से पहले इसकी जांच करें कि उसमे मिले किसी पदार्थ से आपको एलर्जी की समस्या न हो।

अंत में हम यही कहेंगे यदि आप डॉक्टर या एक्सपर्ट की देखरेख में प्रेग्नेंसी में बाल कलर कराती हैं तो यह सुरक्षित होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Ovral L: ओवरल एल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ओवरल एल की जानकारी in hindi वहीं इस दवा के साइड इफेक्ट के साथ चेतावनी, डोज, किन बीमारी और दवाओं के साथ कर सकता है रिएक्शन, स्टोरेज कैसे करें के लिए पढें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

क्यों प्लेसेंटा और प्लेसेंटा जीन्स को समझना है जरूरी?

प्लेसेंटा जीन्स का क्या पड़ता है बेबी बॉय या बेबी गर्ल पर असर? जन्म लेने वाले बेबी गर्ल या बेबी बॉय में कौन होता है ज्यादा स्ट्रॉन्ग?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी जून 1, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

प्रेगनेंसी में कॉफी पीना फायदेमंद या नुकसानदेह?

प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करना चाहिए या नहीं, जाने कॉफी की सही मात्रा कितनी होती है। Intake of coffee during pregnancy in Hindi.

के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन मई 19, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें

प्रेग्नेंसी में मूली का सेवन क्या सुरक्षित है? जानें इसके फायदे और नुकसान

प्रेग्नेंसी में मूली का सेवन करना कितना सेफ है, प्रेग्नेंसी में मूली का सेवन करने के फायदे इन हिंदी, eat radish in pregnancy and radish benefit in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Recommended for you

गर्भावस्था में अमरूद खाना

गर्भावस्था में अमरूद खाना सही है या नहीं, इसके फायदे और नुकसान को जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल

प्रेग्नेंसी के दौरान कितना होना चाहिए नॉर्मल ब्लड शुगर लेवल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
6 मंथ प्रेग्नन्सी डाइट चार्ट क्या है

6 मंथ प्रेग्नेंसी डाइट चार्ट : इस दौरान क्या खाएं और क्या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ जुलाई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Pregnancy in Period- सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि

पीरियड सेक्स- क्या सेक्स के लिए सुरक्षित अवधि है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ जून 29, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें