कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

By

कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस को बहुत जरूरी माना जा रहा है। ऐसे में जब देश में लगातार कोरोना वायरस (कोविड-19) के पीड़ितों की संख्या बढ़ती जा रही है, बचाव ही एकमात्र विकल्प बचा है। महामारी तेजी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल रही है। प्रधानमंत्री ने 24 मार्च को एक बार फिर पूरे देश को संबोधित करते हुए इसके खतरे और गंभीरता को लेकर चर्चा की। मोदी ने कहा कि कुछ लोग अब भी घरों से बेवजह बाहर निकल रहे हैं और मामले की गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें कोरोना की चेन तोड़नी है तो 21 दिनों तक घर पर रहकर संयम दिखाना होगा, वरना कोरोना तबाही मचा सकता है। लगातार प्रधानमंत्री लोगों से घर में रहने की अपील कर रहे हैं। साथ ही प्रधानमंत्री ये भी कह रहे हैं कि लोगों को घबराने की नहीं बल्कि अपने घरों में सुरक्षित रहने की जरूरत है। यानी कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

कोरोना वायरस महामारी भले ही चीन से फैली हो, लेकिन इस वक्त इटली में सबसे ज्यादा मरने वालों की संख्या दर्ज की गई है। भारत में इस तरह के हालात न हो, इसके लिए भारत सरकार हर संभंव प्रयास कर रही है। सरकार के द्वारा समय-समय पर लोगों को एडवाइज दी जा रही है और संक्रमण से बचाव के संभव तरीकों के बारे में भी जानकारी दी जा रही है। सरकार के अनुसार कोरोना वायरस को खत्म करने और फैलने से रोकने के लिए सोशल डिस्टेंस काफी मददगार होगा। अगर आप भी कोरोना वायरस ( कोविड-19) से जुड़ी हुई सावधानियों और उससे जुड़े महत्वपूर्ण शब्दों के बारे में जानते हैं क्विज में हिस्सा लें। अगर आप जागरूक हैं तो आप अन्य लोगों को भी जागरूक कर सकते हैं। क्विज खेलें और अपना नॉलेज भी बढ़ाएं।

और पढ़ें :

कोरोना वायरस से बचाव संबंधित सवाल और उनपर डॉक्टर्स के जवाब

सबसे खतरनाक वायरस ने ली थी 5 करोड़ लोगों की जान, जानें 21वीं सदी के 5 जानलेवा वायरस

Coronavirus 2020: इन सेलिब्रिटी को कोरोना वायरस की पुष्टि, रोनाल्डो ने खुद को किया अलग तो बिग बी ने सुनाई कविता

क्या प्रेग्नेंसी में कोरोना वायरस से बढ़ जाता है जोखिम?

Share now :

रिव्यू की तारीख मार्च 25, 2020 | आखिरी बार संशोधित किया गया मार्च 26, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे