तगर स्ट्रेस दूर करने के साथ ही यादृदाश्त को बढ़ाता है, जानें इसके फायदे

Medically reviewed by | By

Update Date मई 20, 2020
Share now

तगर (Valerian) एक प्रकार की हर्ब है जो यूरोप और एशिया के कुछ हिस्सों मे पाई जाती है। तगर की जड़ से दवा बनती है। आमतौर पर इसका इस्तेमाल स्लीप डिसऑर्डर, साइकोलॉजिकल स्ट्रेस को ठीक करने में इस्तेमाल किया जाता है। इसके अर्क का इस्तेमाल खाने में भी किया जाता है। तगर बहुत सी बीमारियों को दूर करती है।

यह भी पढ़ें: वेट लॉस डायट प्लान में शामिल करें ये 5 इंडियन रेसिपीज, पांच दिन में घटेगा वजन

तगर क्या है?

तगर या वेलेरियन एक जड़ी बूटी है, जो कि यूरोप और एशिया के कुछ हिस्सों में उगाई जाती है। इसकी जड़ से दवाइयां बनाई जाती हैं। इसका बोटेनिकल नाम वैलेरियन ऑफिसिनैलिस (Valeriana officinalis) है, जो कि  हनीसकल (Honeysuckle) फैमिली से आता है।

वेलेरियन से निकले लिक्विड को फूड और ड्रिंक्स में फ्लेवर डालने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसको आमतौर पर स्लीप डिसऑर्डर, चिंता या अन्य इकोलॉजिकल स्ट्रेस को कम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़ें: मेडिकल न्यूट्रिशन थेरिपी क्या होती है? जानिए इसके बारे में

तगर कैसे काम करता है?

तगर या वेलेरियन मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम पर एक दर्द निवारक की तरह काम करता है। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से बात करें।

तगर का सेवन किसके लिए कितना सुरक्षित है?

बच्चों के लिए

बिना डॉक्टरी सलाह के बच्चे को वेलेरियन न दें। तीन वर्ष से छोटे बच्चों को वेलेरियन नहीं लेना चाहिए क्योंकि इस उम्र के बच्चों के लिए ये कितना खतरनाक हो सकता है अभी इस बात पर पर्याप्त स्टडी नहीं की गई है ।

गर्भावस्था और स्तनपान में तगर का सेवन

अभी इस बात की कोई विश्वसनीय जानकारी मौजूद नहीं है कि, यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करवा रही हैं, तो वेलेरियन आपके लिए कितना सुरक्षित है। किसी भी खतरे से बेहतर है कि आप इसका परहेज करें ।

सर्जरी के समय तगर

सर्जरी होने के दो हफ्ते पहले से वेलेरियन लेना बंद करें।

यह भी पढ़ेंः सब्जा (तुलसी) के बीज से कम करें वजन और इससे जुड़े 8 अमेजिंग बेनिफिट्स

स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमद है तगर

मासिक धर्म में अनियमितता को ठीक करे

अगर किसी महिला को पीरियड समय पर न हो रहा हो, मासिक धर्म के दिनों में अधिक रक्तस्राव होता हो तो इस परेशानी से बचने के लिए भी तगर का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए 3 से 5 ग्राम तगर का चूर्ण लें और इसमें 100 मिली पानी लें। अब पानी को एक बर्तन में गर्म होने के लिए रख दें। इस पानी को कुछ देर उबालकर काढ़ा तैयार कर लें। इसके बाद इस काढ़े का सेवन रात को सोने से पहले करें।

गठिया में लाभकारी

अगर किसी व्यक्ति को गठिया रोग, लकवा, गले का रोग या संधिवात की समस्या हो तो इसे दूर करने के लिए रोजाना तगर को यशद की राख के साथ मिलाकर खाने से ठीक हो सकता है।

जोड़ों के दर्द में राहत

अगर आपके सीने और जोड़ों में दर्द रहता है तो इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए तगर की हरी जड़ लें और उसे खूब महीन पीस लें। पीसने के बाद इसे लस्सी में मिलाकर पी लें। जोड़ों के दर्द में तथा सीने के दर्द में आराम मिलेगा।

भूलने की बीमारी

भूलने की बीमारी होने पर भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता हैं। भूलने के रोग से ग्रस्त होने पर रोजाना एक गिलास पानी में तगर का चूर्ण घोलकर पी लें। स्मरण शक्ति तेज हो जाएगी तथा भूलने की बीमारी से धीरे-धीरे छुटकारा मिल जाएगा।

यह भी पढ़ेंः पुरुषों के लिए वेट लॉस डायट टिप्स, जानें एक्सपर्ट्स की सलाह

मानसिक अशांति को ठीक करे

यदि कोई व्यक्ति अधिक तनाव में रहता है जिसके कारण हमेशा उसका मन अशांत रहता है और शरीर में बेचैनी महसूस होती है तो इसके लिए थोड़ा सा शहद और थोड़ा सा तगर का चूर्ण लें। इन दोनों को एक साथ मिलाकर सुबह और शाम खाने से बेचैनी और घबराहट खत्म हो जाती है और मानसिक अशांति से भी निजात मिलती है।

हाथ-पैर की ऐंठन

हाथ पैरों की ऐंठन को दूर करने के लिए रोजाना कम से कम 150 ग्राम तगर का सेवन करना चाहिए।

मेनोपॉज लक्षण में राहत

रिचर्स के अनुसार 8 हफ्ते तक 675-1060 ग्राम वेलेरियन रूट लेने से मेनोपॉज वाली महिलाओं को दर्द में राहत मिलती है।

स्ट्रेस

रिचर्स के अनुसार मेंटल स्ट्रेस टेस्ट के पहले 7 दिन तक 600 मिलीग्राम वेलेरियन (तगर) लेने से ब्लड प्रेशर, हार्ट रेट कम हो सकता है।

आप समझ ही गए होंगे कि इन सभी रोगों के लिए तगर उपयोगी है। इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल नींद न आना जैसी समस्याओं को दूर करने में किया जाता है। अगर सही मात्रा में इसका सेवन किया जाए तो इससे दूसरी कोई दिक्कत होने की संभावना न के बराबर होती है। फिर भी डॉक्टर की मदद लेकर अपने लिए सही मात्रा र्निधारित की जा सकती है। इन सभी उपयोग के अलावा तगर के अन्य फायदे भी हैं।

तगर की कितनी खुराक लेनी चाहिए?

नींद न आने की समस्या के लिए (अनिद्रा)

चाय: 1 कप उबलते पानी में 1 चम्मच (2 से 3 ग्राम) सूखे रूट या जड़ डालें, 5 से 10 मिनट तक रहने दें।

टिंचर (1:5) : मानक खुराक एक से डेढ़ चम्मच (4 से 6 मिलीलीटर) है।

फ्लूइड एक्सट्रेक्ट (1:1): मानक खुराक आधा से एक चम्मच (1 से 2 मिलीलीटर) है।

सूखे पाउडर एक्सट्रैक्ट (4:1) : मानक खुराक 250 से 600 मिलीग्राम है।

400-900 मिलीग्राम वेलेरियन एक्सट्रेक्ट या अर्क का उपयोग सोने से 2 घंटे पहले 28 दिनों तक किया जाता है।

वेलेरियन एक्सट्रेक्ट/अर्क 120 मिलीग्राम, नींबू बाम 80 मिलीग्राम एक्सट्रेक्ट के साथ, 30 दिनों तक रोजाना 3 बार उपयोग किया जाता है।

एक कॉम्बिनेशन उत्पाद : जिसमें वैलेरियन अर्क 187 मिलीग्राम और हॉप्स अर्क 41.9 मिलीग्राम प्रति टैबलेट है, 2 टैबलेट 28 दिनों के लिए सोते समय मानक रूप से लिया जाता है ।

सोने से 30 मिनट से 2 घंटे पहले वेलेरियन लें। नींद में सुधार होने पर 2 से 6 सप्ताह तक वैलेरियन लेते रहें।

चिंता के लिए : मानक खुराक 120 से 200 मिलीग्राम, प्रति दिन 3 से 4 बार है।

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग-अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। कृपया अपनी सही खुराक के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई मेडिकल जानकारी नहीं दे रहा है। तगर के फायदे से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

इस आर्टिकल में हमने आपको तगर के फायदे से संबंधित जरूरी बातों को बताने की कोशिश की है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको तगर से जुड़े किसी अन्य सवाल का जवाब जानना है, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे। अपना ध्यान रखिए और स्वस्थ रहिए।

और पढ़ें:- 

विश्व हीमोफीलिया दिवस: हीमोफीलिया को कंट्रोल करने के लिए डायट में करें ये बदलाव

सिंपल से दिखने वाले ओट्स के फायदे जानकर रह जाएंगे हैरान, आज ही डायट में कर लेंगे शामिल

वीकैंड पर करो जमकर पार्टी और सोमवार से ऐसे घटाओ वजन

वजन घटाने के लिए यूज कर रहे हैं सेब का सिरका? तो एक बार उसके नुकसान भी जान लें

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

रिलेशन में होने के बावजूद 50 फीसदी महिलाओं के पास हैं बैक-अप पार्टनर्स!

महिलाओं का बैकअप पार्टनर का मतलब क्या है, महिलाओं का बैकअप पार्टनर के गुण, क्यों रखती है महिलाएं बैकअप, महिलाओं के लिए बैकअप प्लान क्या है,जानें

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Lucky Singh

Stress fracture : स्ट्रेस फ्रैक्चर क्या है?

जानिए स्ट्रेस फ्रैक्चर की जानकारी in hindi,निदान और उपचार, स्ट्रेस फ्रैक्चर के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, Stress fracture का खतरा, जानिए जरूरी बातें |

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Nidhi Sinha

चिंता और तनाव को करना है दूर तो कुछ अच्छा खाएं

चिंता और तनाव में खाना अच्छा है, लेकिन कुछ अच्छा खाइए। जिससे आपकी चिंता और तनाव कम हे सके। आइए हम बताते हैं कि आप ऐसी स्थिति में क्या खाएं?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha

Contraction Stress Test : कॉन्ट्रेक्शन स्ट्रेस टेस्ट क्या है?

जानिए कॉन्ट्रेक्शन स्ट्रेस टेस्ट की जानकारी मूल बातें, टेस्ट कराने से पहले जानने योग्य बातें, Contraction Stress Test क्या होता है, कॉन्ट्रेक्शन स्ट्रेस टेस्ट के रिजल्ट और परिणामों को समझें

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Kanchan Singh

Recommended for you

तनाव के कारण

आखिर क्या-क्या हो सकते हैं तनाव के कारण, जानें!

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on मई 20, 2020
collarbone fracture- कॉलरबोन टूटना

कॉलरबोन का टूटना क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Kanchan Singh
Published on मई 5, 2020
तनाव दूर करने के पौधे

क्या सच में तनाव दूर करने के पौधे से दूर होता है तनाव?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on मार्च 5, 2020
shin splints शिन स्प्लिंट्स

Shin splints: शिन स्प्लिंट्स क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh
Published on फ़रवरी 29, 2020