सुंदर त्वचा और गोरेपन के लिए अपना सकते हैं ये स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

अधिकांश महिलाओं में मेलेनिन (नेचुरल पिग्मेंट) के एक जगह इक्क्ठे हो जाने से काले धब्बे या हायपरपिग्मेंटेशन (Hyper-pigmentation) की समस्या रहती है। घरेलू उपाय या स्किन ट्रीटमेंट कराने पर भी साफ और चमकदार स्किन की चाहत उनकी अधूरी ही रहती है। ऐसे में स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट काफी कारगर साबित होते हैं। स्किन वाइटनिंग ट्रीटमेंट से न सिर्फ हायपरपिग्मेंटेशन की समस्या खत्म होती है बल्कि, स्किन इवन टोन भी होती है। आज मार्केट में कई तरह के स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट (skin lightening treatment) मौजूद हैं जानते हैं इनके बारे में –

स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट

त्वचा के कालेपन को दूर करने के लिए नीचे बताए गए स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट में से कोई भी अपने हिसाब से चुन सकते हैं

स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट – माइक्रोडर्माब्रेशन (Microdermabrasion)

माइक्रोडर्माब्रेशन स्किन लाइटनिंग की एक कॉस्मेटिक प्रक्रिया है। इसमें त्वचा की ऊपरी डैमेज्ड परत को एक मशीन के जरिए एक्सफोलिएट किया जाता है। इस स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट (skin lightening treatment) से स्किन को एक-दो टोन तक गोरा किया जा सकता है। इससे असमान त्वचा, महीन रेखाओं और ऐज स्पॉट्स को सुधारने में मदद मिलती है। माइक्रोडर्माब्रेशन कराने से पहले त्वचा विशेषज्ञ (skin expert) से परामर्श करें।

और पढ़ें- मुंहासों के लिए कैसे बनाएं दालचीनी और शहद का मास्क?

डर्माब्रेशन (Dermabrasion)

डर्माब्रेशन में कॉस्मोलॉजिस्ट एक विशेष उपकरण से त्वचा की ऊपरी खराब परत को निकाल देता है। यह पूरे चेहरे पर नहीं बल्कि किसी विशिष्ट जगह पर ही किया जाता है। यह प्रक्रिया एपिडर्मिस के ऊपरी परत को निकालने में मदद करती है। इस स्किन लाइटनिंग प्रक्रिया में हल्का-सा रक्तस्राव (bleeding) भी हो सकता है। स्किन वाइटनिंग के इस ट्रीटमेंट से त्वचा के काले और जिद्दी दागों को दूर किया जाता है। 

और पढ़ें- फुलर या बड़े होंठ कैसे पाएं?

स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट – लेजर स्किन रिसर्फेसिंग (Laser skin re-surfacing)

इस स्किन ब्राइटनिंग ट्रीटमेंट से रेडिएंट त्वचा मिलती है। अगर आपकी त्वचा में मुंहासे के निशान, फाइन लाइन्स और पिंपल्स के निशान हैं तो ऐसे में आप इस उपचार को आजमा सकती हैं। इसमें लेजर बीम से क्षतिग्रस्त त्वचा कोशिकाओं को खत्म किया जाता है जिससे की त्वचा रिन्यू होने की प्रक्रिया तेज हो जाती है। इससे स्किन-एजिंग धीमी होती है। 

और पढ़ें- तेजी से नाखून कैसे बढ़ाएं? जानें नाखून बढ़ाने के टिप्स

केमिकल पील (Chemical peel)

चेहरे, गर्दन और हाथों की स्किन को सुंदर बनाने के लिए इस तकनीक का उपयोग किया जाता है। इसमें केमिकल सॉल्यूशन को त्वचा पर लगाकर त्वचा की खराब परत को हटा दिया जाता है। फिर उसकी जगह नई स्किन बनने लगती है जो सॉफ्ट और कम झुर्रियों वाली होती है। कॉस्मेटोलॉजिस्ट त्वचा की स्थिति के अनुसार ही सुपरफेशियल, मीडियम और डीप केमिकल पील्स करते हैं। कुछ महिलाएं सोचती हैं कि केमिकल पील स्किन लाइटनिंग (skin lightening) और ब्राइटनिंग के लिए ही करवाई जाती है लेकिन, ऐसा नहीं है। सैलिसिलिक एसिड पील्स (salicylic acid peels) का इस्तेमाल एक्ने को ठीक करने के लिए किया जाता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें- जरूर जानें काले बालों को हाईलाइट करने के अलग-अलग तरीके

स्किन वाइटनिंग ट्रीटमेंट के साइड इफेक्ट्स (Skin whitening treatment side effects)

स्किन वाइटनिंग ट्रीटमेंट के इस्तेमाल से सांवले रंग, दाग-धब्बों, झाईयां और झुर्रियों से निजात तो मिलती है लेकिन, इसके कुछ दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। जैसे-

  • स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट से त्वचा में रेडनेस और सूजन हो सकती है। 
  • आपकी त्वचा धूप के प्रति अतिसंवेदनशील हो सकती है। 
  • कुछ स्किन लाइटनिंग उपचारों से ड्राय स्किन की समस्या हो सकती है। 
  • स्किन-इंफेक्शन होने का खतरा भी बढ़ जाता है। 
  • डीप केमिकल पीलिंग ट्रीटमेंट (chemical peeling treatment) से हायपरपिगमेंटेशन की समस्या भी जन्म ले सकती है। 
  • स्किन टेक्सचर (skin texture) में भी परिवर्तन आ सकता है। 
  • त्वचा में जलन और खुजली भी हो सकती है। 

और पढ़ें : ब्यूटी एक्सपर्ट का दिया हुआ ये मंत्रा अपना कर दें एजिंग को मात

स्किन लाइटनिंग के घरेलू उपाय

स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट से त्वचा को काफी नुकसान भी पहुंच सकते हैं। इसलिए, केमिकल ट्रीटमेंट की बजाय त्वचा को गोरा करने के घरेलू उपाय अपनाएं। हालांकि, इनका असर इतनी जल्दी नहीं दिखाई देता है लेकिन, होम रेमेडीज के साइडइफेक्ट्स कम होते हैं। साथ ही योगा और अच्छी डायट अपनाकर भी चमकदार और हेल्दी त्वचा पाई जा सकती है। 

स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट के घरेलू उपाय:  नींबू (Lemon)

विटामिन सी नींबू के प्रमुख घटकों में से एक है और यह एंटी-पिगमेंटरी प्रभाव के लिए जाना जाता है। यह आपके चेहरे और गर्दन पर किसी भी धब्बे या ब्लेमिशेस को खत्म करने में मदद कर सकता है। इसके लिए नींबू के रस को कॉटन बॉल से प्रभावित हिस्से पर 15 मिनट के लिए लगाएं फिर चेहरे को साफ पानी सी धुल लें।

स्किन लाइटनिंग के घरेलू उपाय: शहद (Honey)

शहद में अल्फा-हाइड्रॉक्सी एसिड और अन्य बायोएक्टिव (bio active) यौगिक होते हैं जो त्वचा पर पिगमेंटेशन (pigmentation) के प्रभाव को कम करने में मदद करते हैं, जिससे काले धब्बे कम हो जाते हैं। इसके लिए शहद और नींबू को मिलाकर साफ फेस पर लगाएं और 20 मिनट बाद चेहरे को धुल लें।

और पढ़ें : स्किन लाइटनिंग क्रीम क्या कोमा के लिए जिम्मेदार हो सकती है?

स्किन लाइटनिंग के घरेलू उपाय: एलोवेरा (Aloe vera)

एलोवेरा में एलोइन (एक बायोएक्टिव कंपाउंड) होता है जिससे मेलेनिन सिंथेसिस (melanin synthesis) का प्रभाव कम होता है। यह आपकी त्वचा की टोन को हल्का करने में मदद कर सकता है और साथ ही फेस को प्राकृतिक चमक प्रदान कर सकता है। इसके लिए ताजे एलोवेरा जेल को फेस पर लगाएं।

स्किन लाइटनिंग के घरेलू उपाय: योगर्ट (Yogurt ke fayde)

फेस से पिगमेंटेशन को दूर करने के लिए स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट के रूप में योगर्ट का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए योगर्ट को डायरेक्ट फेस पर लगाया जा सकता है।

स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट घरेलू उपाय: हल्दी (Haldi ke fayde)

हल्दी में करक्यूमिन नाम का एक तत्व पाया जाता है। इससे चेहरे के ब्लेमिश और स्पॉट को दूर किया जा सकता है। साथ ही यह आपकी त्वचा को एक नेचुरल ग्लो भी प्रदान करता है।

और पढ़ें : हल्दी का उपयोग वजन कम करने में कर सकता है मदद

स्किन लाइटनिंग के घरेलू उपाय: पपीता (Papita ke fayde)

पपीते का उपयोग स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट के रूप में किया जाता है। त्वचा में कोलेजन के उत्पादन को बढ़ाने के लिए भी यह प्रभावी होता है। इसके इस्तेमाल से चेहरे के निशान और धब्बे कम होते हैं।

स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट के घरेलू उपाय: आलू (Aloo ke fayde)

आलू पोटेशियम, सल्फर और क्लोराइड जैसे फाइटोकेमिकल्स में समृद्ध होता है। यह फेस के हल्के दाग और मुहांसे को कम करने में मदद कर सकता है। नियमित रूप से त्वचा पर इसका उपयोग स्किन टोन को बढ़ावा मिलता सुधारता है। ऑयली स्किन वालों के लिए स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट करने के लिए यह कारगर उपाय है।

और पढ़ें: Skin Chafing: स्किन शैफिंग क्या है?

स्किन लाइटनिंग के घरेलू उपाय: खीरा (Khira ke fayde)

खीरे में मौजूद यौगिक मेलेनिन को कम करने में मददगार साबित होते है। इसके लिए कुकुम्बर फेस पैक (cucumber face pack) का प्रयोग भी किया जा सकता है।

ऊपर बताए गए स्किन लाइटनिंग ट्रीटमेंट आपको कैसे लगे? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। साथ ही अगर आपका इस विषय से संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव है तो वो भी हमारे साथ शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

शीशम के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Shisham (Indian Rosewood)

जानिए शीशम की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, शीशम का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, Shisham के साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

गर्म पानी के साथ शहद और नींबू लेने से बढ़ती है इम्युनिटी, जानें इसके फायदे

शहद नींबू के साथ गर्म पानी पीने से कौन-से फायदे होते हैं, जानें। कब शहद नींबू के साथ गर्म पानी पीना चाहिए? Honey Lemon Water Mixture in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मई 21, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

शरीर की झुर्रियोंदार त्वचा का कैसे करें इलाज?

झुर्रियोंदार त्वचा का इलाज इन हिंदी, ट्रीटमेंट, झुर्रीदार त्वचा को कैसे ठीक करें, फिलर, crepey skin, jhurridar tvacha ilaaj in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

चेहरे से जुड़ी अनेक परेशानियों का इलाज हायल्यूरॉनिक एसिड डर्मल फिलर, जानें कैसे करता है काम

हायल्यूरॉनिक एसिड डर्मल फिलर क्या है, डर्मल फिलर का इस्तेमाल क्यों किया जाता है, डर्मल फिलर्स की कीमत क्या है, Dermal Filler in Hind.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
स्किन केयर, ब्यूटी/ ग्रूमिंग, स्वस्थ जीवन अप्रैल 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

विटिलिगो के घरेलू उपाय

क्या सफेद दाग का इलाज संभव है, जानें विटिलिगो के घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 12, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
पिगमेंटेशन (झाइयां) के घरेलू उपाय

अगर चाहिए पिगमेंटेशन (झाइयां) से मुक्त त्वचा, तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 5, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
स्किनलाइट क्रीम

Skinlite Cream : स्किनलाइट क्रीम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जुलाई 22, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
फालसा - Phalsa

फालसा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Phalsa (Grewia Asiatica)

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
प्रकाशित हुआ जून 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें