कॉफी का पहला कप करता है दिमाग में 5 बदलाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

दिन की शुरुआत में यदि आप एक कप कॉफी ले रहे हैं तो इससे बेहतर कुछ हो ही नहीं सकता है। हालांकि, कॉफी पीना सभी को अच्छा नहीं लगता है। लेकिन, कॉफी के फायदे अनेकों हैं। इनके बारे में आपको जानकारी नहीं है। अब सुबह एक कप कॉफी पीना सेहत के लिए क्यों अच्छा होता है? यह एक बड़ा सवाल है। इसके पीछे एक बड़ा रीजन है। न्यूरोसाइंस के मुताबिक, कॉफी आपके मस्तिष्क को प्रभावित करती है। आज हम इस आर्टिकल में इसके कुछ पहलुओं के बारे में बताने जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें : अगर आप पीते हैं ज्यादा कॉफी तो हो सकती हैं खतरनाक बीमारियां

एंटिसिपेशन

सुबह जब आप एक कप कॉफी के बारे में सोच रहे होते हैं तब आपका एंडोक्राइन सिस्टम डोपामाइन का उत्पादन और इसे रिलीज करना शुरू कर देता है। ल्यूम्नस इंड्रक्शन ऑफ साइकोलॉजी के मुताबिक, इसे ‘एंटिसिपेटरी प्लेजर हार्मोन‘ के नाम से जाना जाता है। इस दौरान जब आपका दिमाग यह सोचता है कि आप जल्द ही एक कप कॉफी पिएंगे तो आपके माइंड को एक अच्छा अहसास होता है।

प्रिप्रेशन

चूंकि आप कॉफी को खुशी से जोड़कर देखते हैं। इससे जो आपको अहसास होता है वह अपने आप में एक सीखने की प्रतिक्रिया होती है। सोशल साइंस जर्नल के मुताबिक, ‘पर्यावरणीय संकेत” जैसे कि खुद की कॉफी पीना या अपने पसंदीदा कॉफी शॉप को अपने दिमाग में बैठा लेने से आपके माइंड में डोपामाइन और ज्यादा बनने लगता है।

यह भी पढ़ें: क्या ग्रीन टी (Green Tea) घटा सकती है मोटापा?

अरोमा

अरोमा को आप एक मीठी खुशबू या सुग्ंध के रूप में जानते हैं। यह अचानक से दिमाग में आपके पिछले अच्छे अनुभव को याद दिलाता है क्योंकि अरोमा एक ताकतवर ब्रेन ट्रिगर्स होते हैं, जो आपके दिमाग को तेज कर देते हैं। अमेरिकन कैमिकल सोसाइटी के मुताबिक, ‘निश्चित रूप से यह कॉफी का सच है’, जिसमें उल्लेख किया गया है कि “कॉफी की खुशबू एक दर्जन से ज्याद जीन को अदृश्य रूप से एक्सप्रेस करके प्रोटीन के भावों में बदल देती है। दूसरे शब्दों में, “उठो और कॉफी की खुशबू को सूंघो” एक मेटाफोर (रूपक) से ज्यादा है। कॉफी के फायदों में यह एक बड़ा बेनेफिट है।

यह भी पढ़ें: क्या ग्रीन-टी या कॉफी थायरॉइड पेशेंट्स के लिए फायदेमंद हो सकती है?

कॉफी पीना

आपकी बॉडी कैफेन को बहुत ही जल्दी सोख लेती है इसलिए, यह आपके दिमाग तक कुछ ही पलों में पहुंच जाती है। एक बार वहां पर यह आपके न्यूरॉन्स के उस पार्ट से अटैच हो जाती है, जो एडेनोसिन को अट्रैक्ट करते हैं। एडेनोसिन हार्मोन आपको सुलाने का काम करता है। चूंकि एडेनोसिन आपके न्यूरॉन्स के साथ जुड़ नहीं सकते हैं, इसकी वजह से आप सतर्क, जागे हुए और ज्यादा एक्टिव होते हैं। इसके बाद आपका एंडोक्राइन सिस्टम एडेनोसिन की गैर मौजूदगी में ग्लूटामेट को रिलीज करके प्रतिक्रिया देता है। यह एक न्यूरोट्रांसमीटर होता है, जो आपकी याद रखने और सीखने की क्षमता को बढ़ाता है।

यह भी पढ़ें: Green Tea : ग्रीन टी क्या है ?

कॉफी पीने के बाद

कॉफी पीने के बाद आपका दिमाग पीक परफॉर्मेंस के स्तर पर पहुंच जाता है। यह वह स्थिति है जब आप जागे हुए होते हैं। यह वह बिंदु होता है, जब आपका दिमाग एडेनोसिन से भरा होता है और आप नींद से दूर होते हैं। कॉफी पीने से पहले और कॉफी पीने के बाद आप जहां होते हैं यह उन दोनों स्थितियों के बीच का फासला होता है। यह सिर्फ एक कप के असर से होता है, जिससे आप इतने ताकतवर और एक्टिव होते हैं। दिन की शुरुआत में पहला कप कॉफी पीने के बाद जब आप दूसरा कप पीते हैं तो यह उतना असरदार नहीं होता, जितना की पहला कप था।

इसे जानने के बाद अब यह आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप अपना कॉफी का पहला कप कब पीते हैं। क्या आप इसे ऑफिस के दौरान दिमाग को तेज तर्रार करने के लिए लेते हैं या फिर सुबह एक्सरसाइज करने से पहले अपने आपको एक्टिव करने के लिए लेते हैं।

कॉफी (coffee) के फायदे

कॉफी (coffee) में विटामिन-बी2 (VitaminB2), विटामिन-बी5(Vitamin B5), फोलेट (Folate), मैंगनीज (Manganese), मैग्निशियम (Magnesium), पोटेशियम (Potassium) व फॉस्फोरस (Phosphorus) जैसे कई पोषक तत्व (nutrients) मौजूद होते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants) की मात्रा भी काफी होती है। ये सभी चीजें दिमाग, शरीर व स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित होती हैं। हालांकि इसका सीमित सेवन ही करना चाहिए। आइए जानते हैं इससे होने वाले फायदों के बारे में।

  •  अल्जाइमर (Alzheimer) में उपयोगी : अल्जाइमर (Alzheimer) से पीड़ित लोग बातें भूलने लगते हैं, उनकी सोचने की क्षमता भी काफी हद तक खत्म हो जाती है। डॉक्टरों के अनुसार अल्जाइमर (Alzheimer) वाला शख्स अगर नियमित रूप से इसका सेवन करे तो, काफी हद तक उसकी समस्या दूर हो सकती है।
  •   एनर्जी (ऊर्जा) व स्टेमिना (Energy and Stamina) बढ़ाता है : इसमें कैफीन (Caffeine) की मात्रा ज्यादा होती है। ऐसे में इसके सेवन से शरीर में तंत्रिका तंत्र (Nervous system) उत्तेजित होता है और शरीर में वसा (fat) कोशिकाओं को घटाता है। इससे शरीर का स्टेमिना (Stamina) बढ़ता है और थकान कम होती है। इसके अलावा शरीर में ऊर्जा का भी संचार करती है। कॉफी (coffee) पीने पर उसमें मौजूद कैफीन को खून अवशोषित कर लेता है और आपके मस्तिष्क में पहुंचकर न्यूरोट्रांसमीटर एडेनोसाइन (Neurotransmitter adenosine) को रोकता है, जिससे शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ता है।
  • लीवर (liver) होता है मजबूत : शरीर को स्वस्थ रखने के लिए लीवर का सही रहना बहुत जरूरी है। दिन में 2-3 बार कॉफी पीने से कमजोर लीवर स्वस्थ व मजबूत बनता है।

यह भी पढ़ें : हैरान करने वाले हेल्थ से जुड़े Fun Facts`

  • चर्बी/फैट (वसा) जलाने में कारगर : इसमें मौजूद कैफीन आपके शरीर में मौजूद वसा (Fat) को जलाता है। कैफीन आपकी चयापचय (metabolism) दर को 4-11 प्रतिशत तक बढ़ा सकता है। ऐसे में इसका नियमित सेवन मोटापा कम करने में कारगर साबित होता है।
  • अवसाद/तनाव या डिप्रेशन (Depression) दूर करने में करता है मदद : कैफीन रक्त प्रवाह (Blood flow) में डोपामाइन (Dopamine) के स्तर को बढ़ाता है। डोपामाइन स्मृति (Memory) और संज्ञान के लिए जिम्मेदार माना जाता है। इसके अलावा यह खुशी को भी बढ़ाता है। एक रिसर्च के अनुसार, जो लोग कॉफी का नियमित सेवन करते हैं, उनमें अवसाद की संभावना 20 प्रतिशत तक कम हो जाती है।
  • डायबिटीज (Diabetes) में लाभदायक : डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए भी फायदेमंद होती है। खासकर इसका फायदा डायबिटीज टाइप-2 के मरीजों को ज्यादा होता है। ये एसएचबीजी के प्लाज्मा स्तर को बढ़ाती है और इससे मधुमेह रुक जाता है।
  •  हृदय/दिल (Heart) के रोग में : कई शोधों व डॉक्टरों की मानें तो कॉफी हृदय रोगी के लिए भी काफी फायदेमंद है। डॉक्टरों के अनुसार इसमें मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic acid) एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) की तरह काम करता है और इससे ब्लड सर्कूलेशन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। हालांकि हृदय रोगियों को ज्यादा कॉफी नहीं पीनी चाहिए।
  • कैंसर (Cancer) में उपयोगी : कॉफी में फेनोलिक (Phenolic) की मात्रा होती है, जो यौगिक ट्यूमर (Compound tumor) को पनपने से रोकता है। इसके साथ ही यह कैंसर को कंट्रोल करते हुए उसे बढ़ने से रोकने में भी कारगर होता है।
  • रक्तचाप/ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) : ब्लड प्रेशर शरीर में कई बीमारियों को जन्म दे सकता है। डॉक्टरों का कहना है कि इसका सेवन रक्तचाप को काफी हद तक कंट्रोल करता है। कुछ रिसर्च में आया है कि कॉफी के बीजों में एस्प्रिन (Aspirin) नाम का तत्व होता है और यह रक्त नलिकाओं पर सकारात्मक प्रभाव डालते हुए ब्लड में प्लेटलेट्स (Platelets) का लेवल भी सुधारता है। इससे रक्त संचार ठीक से होता है और ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है।
  • सिरदर्द (Headache) ठीक करता है : इसके सेवन से सिरदर्द की समस्या भी ठीक हो जाती है। दरअसल कॉफी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट तत्व मानसिक तनाव व दर्द को खत्म कर देतें हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कॉफी (coffee) अगर है पहली पसंद : जानें इसके फायदे और नुकसान

अति नुकसानदायक होती है। कॉफी के साथ भी ऐसा ही है। सीमित मात्रा में लेने से जो कॉफी फायदे पहुंचाती है। उसी का अधिक सेवन कई तरह के नुकसान पहुंचाता है।

के द्वारा लिखा गया Hema Dhoulakhandi
स्वास्थ्य बुलेटिन, इंटरनेशनल खबरें अक्टूबर 1, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

जानिए ग्रीन कॉफी (Green Coffee) के फायदे

जानिए ग्रीन कॉफी के फायदे in hindi. ग्रीन कॉफी का सेवन कब करना चाहिए? Green Coffee का किन-किन बीमारियों में नहीं करना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Bhardwaj
के द्वारा लिखा गया Mubasshera Usmani
आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन जुलाई 10, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

माइग्रेन के लिए घरेलू उपचार क्या है?

जानिए माइग्रेन के लिए घरेलू उपचार क्या है in hindi. माइग्रेन के लिए घरेलू उपचार के साथ-साथ और किन-किन बातों का रखें ध्यान?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जुलाई 9, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Caffeine overdose- कैफीन का ओवरडोज

Caffeine Overdose: कैफीन का ओवरडोज क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कैफीन के असर

जानें बॉडी पर कैफीन के असर के बारे में, कब है फायदेमंद है और कितना है नुकसान दायक

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ मई 6, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
parkinson's disease-पार्किंसन रोग

World Parkinson Day: पार्किंसन रोग से लड़ने में मदद कर सकता है योग और एक्यूपंक्चर

के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ अप्रैल 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
ऑटोइम्यून डिजीज-Autoimmune disease

अगर आप पीते हैं ज्यादा कॉफी तो हो सकती हैं खतरनाक बीमारियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 4, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें