जानिए अवसाद के लक्षण और इसके क्या हैं उपाय?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 19, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

डिप्रेशन (अवसाद) एक ऐसी मानसिक परेशानी है, जिसका अगर वक्त रहते पता न चले तो यह स्थिति अत्यधिक गंभीर हो सकती है। आजकल अवसाद (Depression) की बीमारी बढ़ते जा रही गई। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के रिपोर्ट के अनुसार भारत में डिप्रेस्सेड लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है। भारत की कुल जनसंख्या में 6.5 प्रतिशत लोग डिप्रेशन के शिकार हैं। डब्लूएचओ की रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि साल 2020 तक ये संख्या बढ़कर 20 प्रतिशत तक हो सकती है। ऐसे में अवसाद के लक्षण और उपाय समझना बेहद जरूरी है। 

बदलते लाइफस्टाइल के साथ-साथ वर्क कल्चर में भी बदलाव आया है लेकिन, भारत में बदलते दौर के नाम पर बदलाव महज खाने-पीने और रहन-सहन को लेकर है। भारत में आज भी बड़ी बीमारियों की चर्चा खूब होती है लेकिन, जैसे ही डिप्रेशन का नाम आता है लोग इस पर खुलकर बात करना नहीं चाहते हैं। बिडंबना ये है कि भारत में डिप्रेशन का मतलब पागलपन भी समझा जाता है। वहीं दूसरे देशों में डिप्रेशन पर लोग खुलकर बात करते हैं।

डिप्रेशन का सामना महिला और पुरुष दोनों को करना पड़ता है। इसकी वजह अलग—अलग हो सकती हैं। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन के एक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है कि ज्यादा देर तक काम करने (लॉन्ग वर्किंग ऑवर) की वजह से भी महिलाओं में डिप्रेशन की समस्या शुरू हो जाती है। कई बार मरीज को पता ही नहीं चल पाता कि वह डिप्रेशन का शिकार है। यहां हम डिप्रेशन के लक्षण और उपाय बता रहे हैं, जिनसे पता लगाया जा सकता है कि आप ​डिप्रेशन के शिकार हैं या नहीं।  

और पढ़ें: बार-बार दुखी होना आखिर किस हद तक सही है, जानें इसके स्वास्थ्य पर प्रभाव

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

वर्कप्लेस स्ट्रेस-workplace stress

अवसाद के लक्षण और उपाय क्या हैं?

अवसाद के लक्षण कई तरह के हो सकते हैं। दरअसल अवसाद होने के कई प्रकार के कारण होते हैं। उन्ही के आधार पर उनका इलाज भी किया जाता है। जिस कारण से व्यक्ति को अवसाद हुआ रहता है, उसके लक्षण भी उसी से जुड़े हुए होते हैं। डॉक्टर सबसे पहले व्यक्ति के लक्षण जानकर उसके अवसाद का निदान करता है। इसके बाद ही वह इसके उपचार का तरीका बताता है। आम तौर पर अवसाद के इलाज के लिए कुछ ओवर द काउंटर दवाएं और कुछ थेरेपी भी कराई जाती है। आइए जानते हैं, सबसे पहले अवसाद के लक्षण क्या हैं? इसके पश्चात् जानेंगे अवसाद से छुटकारा पाने के उपाय क्या हैं?

और पढ़ें : डिप्रेशन ही नहीं ये भी बन सकते हैं आत्महत्या के कारण, ऐसे बचाएं किसी को आत्महत्या करने से

अवसाद के लक्षण क्या हैं?

अवसाद के लक्षण 1. थकान (कमजोरी) महसूस करना –  संतुलित आहार लेने के बाद भी हमेशा कमजोरी महसूस करना। दिमाग और शरीर का सुस्त रहना। किसी से बात नहीं करना और लोगों से मिलना जुलना पसंद नहीं करना। 

अवसाद के लक्षण 2. अनिंद्रा – नींद नहीं आना। यह अवसाद के शिकार हुए व्यक्ति में सबसे ज्यादा नजर आने वाली परेशानी है। नींद न आने की स्थिति कई शारीरिक परेशानी भी शुरू हो सकती है और डिप्रेशन की समस्या बढ़ सकती है। 

अवसाद के लक्षण 3. भूख नहीं लगना- डिप्रेशन की वजह से भूख नहीं लगती है या फिर ज्यादा भूख भी लग सकती है। अवसाद के लक्षण में काफी आसानी से समझा जा सकता है। 

अवसाद के लक्षण 4. अच्छा महसूस नहीं करना – ऐसे वक्त में व्यक्ति चिड़चिड़ाहट, घबराहट या फिर किसी न किसी बात को लेकर अक्सर चिंता में रह सकता है। दरअसल इस तरह की चिंता डिप्रेशन के लक्षणों में से एक है।  

और पढ़ें: पार्किंसंस रोग के लिए फायदेमंद है डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS)

अवसाद के लक्षण 5. कॉन्सन्ट्रेट नहीं कर पाना– ऑफिस, घर या किसी अन्य काम में फोकस नहीं कर पाना। डिप्रेशन के शिकार व्यक्ति किसी भी काम को करने में असमर्थ होते हैं। 

अवसाद के लक्षण 6. नकारात्मक सोच- अवसाद के लक्षण में शामिल है नकारात्मक सोच। परिस्थिति कैसी भी हो, लेकिन हर वक्त नेगेटिव सोचना और अपने आपको अकेला महसूस करना इसका प्रमुख लक्षण है।

और पढ़ें : पार्टनर को डिप्रेशन से निकालने के लिए जरूरी है पहले अवसाद के लक्षणों को समझना

डिप्रेशन के कारण

कई बार ऐसा देखा गया है कि व्यक्ति ज्यादा नशा करने लगता है। जो डिप्रेशन का कारण बनता है। फैमिली हिस्ट्री : यदि आपके परिवार में किसी को अवसाद हुआ हो या कोई अन्य मनोदशा विकार हुआ हो तो इससे आपमें भी अवसाद होने की संभावना बढ़ जाती है, क्योंकि ये आपको अपने पूर्वजों से मिलता है। बचपन की किसी घटना की वजह से शरीर में बैठे डर और तनावपूर्ण स्थिति के कारण भी आपको अवसाद हो सकता है।

अगर ऐसे लक्षण आप में या आपके किसी करीबी में हैं, तो उनसे बात करें और उनकी परेशानी समझने की कोशिश करें। अगर अवसाद के लक्षण नजर आ रहे हैं, तो इस नजरअंदाज न करें। डिप्रेशन को नजरअंदाज करना घातक हो सकता है, क्योंकि कभी-कभी लोग इतने डिप्रेस्ड हो जाते हैं कि वे आत्महत्या भी कर लेते हैं।

और पढ़ें: हर्बल बाथ के फायदे: बॉडी रिलैक्स से लेकर मेंटल स्ट्रेस तक

धूम्रपान छोड़ने से अवसाद/depression after quit smoking

 डिप्रेशन (Depression) दूर करने के उपाय क्या हैं?

अवसाद एक जटिल समस्या मानी जाती है। इसमें व्यक्ति अपना जीवन एक अंधकार में व्यतीत करता रहता है। अवसाद को दूर करने के लिए निम्नलिखित उपाय हैं। जैसे-

  •  खुलकर बात करें – अपनी किसी भी परेशानी के बारे में खुलकर अपने करीबियों या दोस्तों से बात करें। कोई भी बात अपने मन में छुपाकर न रखें। अगर आप किसी से खुलकर बात नहीं करेंगे तो आपकी परेशानी कम होने की बजाये और बढ़ सकती है। 
  •  योग करें- हम सभी जानते हैं, योग हर चीज का इलाज करने का एक सफल तरीका है। नियमित रूप से योग करने की कोशिश करें। शुरुआत 10 मिनट से भी किया जा सकता है। अगर आप पहली बार योगा करने की सोच रहें हैं, तो योगा एक्सपर्ट से सलाह ले और फिर योगा नियमित रूप से करें। 
  •  पूरी नींद लें- रोजाना 7 से 8 घंटे की पूरी नींद लें। अच्छी नींद (साउंड स्लीप) आपको कोई भी मानसिक या शारीरिक परेशानी को दूर करने के लिए सबसे बेहतर तरीका है। अगर आपको नींद आने में परेशानी होती है, तो परेशानी को दूर करें और नियमित रूप से सोने का समय तय करें और उसी वक्त पर रोजाना सोने की आदत डालें। 
  •  व्यस्त रहें- अपने आपको व्यस्त रखें। कुछ ऐसे काम भी जरूर करें जो आपको पसंद हो। दरअसल अवसाद या डिप्रेशन जैसे बीमारी तब शुरू होती है जब आप बिना वजह किसी बारे में ज्यादा सोचते हैं। इसलिए अपने आपको व्यस्त रखें और खुश रहें। किसी की बातों पर ध्यान न दें जिसका आप पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता हो।
  • गोल सेट करें : डिप्रेशन में होने पर हो सकता है कि आपको सब काम अधूरे से लगने लगें। इससे आपको अपने बारे में सबसे बुरा महसूस हो सकता है। खुद को पीछे खींचने के लिए अपने लिए कोई गोल सेट करें।
    किसी छोटे काम से शुरुआत करें जैसे खाना बनाना या बागवानी में मन लगाना। जब आप अपना ध्यान बंटाना शुरू करेंगे तो धीरे धीरे आपको अच्छा महसूस होने लगेगा। आप अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में कोई चुनौतीपूर्ण गोल भी शामिल कर सकते हैं।
  • मेडिटेशन : सांस पर ध्यान केंद्रित करने से मन साफ होता है और दिमाग को शांति एवं स्थिरता मिलती है। इस क्रिया को मेडिटेशन कहते हैं। रोज मेडिटेशन करने से स्ट्रेस, एंग्जायटी और डिप्रेशन के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

और पढ़ें: वर्किंग मदर्स की समस्याएं होंगी कम अपनाएं ये टिप्स

  •  पौष्टिक आहार लें- अवसद के लक्षण में भी यह बताया गया की डिप्रेशन की वजह से लोगों को भूख नहीं लगती है। हालांकि इस दौरान खाने-पीने का विशेष ध्यान रखें। खाने में हरी सब्जियों के साथ फलों को भी शामिल करें। 
  •  डॉक्टर से सलाह लें- खुद को फि​ट रखने के लिए सबसे जरूरी है आप अपनी समस्या अपने आप में हो रहे बदलाव के बारे में मनोचिकित्सक को बताएं।
  • अच्छी सोच रखें- हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार कई बार व्यक्ति नकारात्मक सोच की वजह से भी डिप्रेशन का शिकार हो जाता है। इसलिए स्टूडेंट, वर्किंग मेन, वर्किंग वीमेन, हाउस वाइफ या कोई भी व्यक्ति क्यों न हो हर परिस्थिति में अपनी सोच सही रखें और मन में नेगेटिव विचार न आने दें। वैसे लोगों से भी दूर रहें जो अत्यधिक नकारात्मक सोच रखते हों
  • एक्सरसाइज : एक्सरसाइज से कुछ समय के लिए शरीर में अच्छा फील करने वाले एंडोर्फिन नामक केमिकल रिलीज होता है। डिप्रेशन से ग्रस्त व्यक्ति को इससे अच्छे लाभ मिलते हैं। रोज एक्सरसाइज करने से दिमाग तरोताजा और पॉजिटिव बनता है। कुछ कदम पैदल चलने से भी लाभ हो सकता है।
  • सप्लीमेंट्स : कुछ सप्लीमेंट्स डिप्रेशन को कम करने में मदद कर सकते हैं। फिश ऑयल, फोलिक एसिड जैसे सपलीमेंट इसमें शामिल हैं। हालांकि, किसी भी सप्लीमेंट का सेवन डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें। अगर पहले से ही कोई दवा ले रहे हैं तो सोच-समझकर सप्लीमेंट्स लें।
  • दवा- डिप्रेशन की परेशानी को कम करने के लिए दवा भी प्रिस्क्राइब की जा सकती है

वीडियो में देखें, क्यों करना चाहिए सूर्य नमस्कार? एक योगासन से कैसे मिलता है 12 योगासन का फायदा?

 जिस तरह किसी भी बीमारी से निजात पाई जा सकती है ठीक वैसे ही अवसाद से भी निकला जा सकता है। इसके लिए आपको खुद की मदद करनी होगी और दोस्तों और रिश्तेदारों का सहारा लेना होगा। दी​पिका पादुकोण जैसी सेलिब्रिटीज भी डिप्रेशन से लड़कर बाहर निकली हैं। अगर आप डिप्रेशन या डिप्रेशन के लक्षण और उपाय से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

ब्रिटल डायबिटीज (Brittle Diabetes) क्या होता है, जानिए क्या रखनी चाहिए सावधानी ?

ब्रिटल डायबिटीज की समस्या होने पर ब्लड में ग्लूकोज के लेवल में स्विंग यानी बदलाव आने शुरू हो जाते हैं। ब्रिटल डायबिटीज की समस्या रेयर होती है, लेकिन इससे सावधानी जरूरी है। Brittle diabetes से कैसे बचें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स मई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

मोटापे से जुड़े तथ्य, जिनके बारे में शायद ही पता हो!

मोटापा एक वैश्विक समस्या बन गई है और यह किसी एक खास एज ग्रुप तक सीमित नहीं है, बल्कि बच्चों से लेकर व्यस्कों तक हर कोई इसकी चपेट में आता जा रहा है। इस आर्टिकल में जानें मोटापे से जुड़े तथ्य।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
फन फैक्ट्स, स्वस्थ जीवन अप्रैल 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

डिप्रेशन से बचने के उपाय, आसानी से लड़ सकेंगे इस परेशानी से

डिप्रेशन से बचने के उपाय क्या है, डिप्रेशन से बचने के उपाय in Hindi, अवसाद में कैसे करें किसी की मदद, Depression se bachane ke upay

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अप्रैल 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या ब्राउन शुगर से ज्यादा हेल्दी है स्टीविया? जानें स्टीविया के फायदे और नुकसान

स्टीविया के फायदे क्या है और इसके नुकसान क्या हैं? वजन घटाने के लिए शुगर, ब्राउन शुगर कितना हेल्दी है। स्टीविया के फायदे in Hindi, Benefits of stevia vs brown sugar

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अप्रैल 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

fasting tips for diabetes patient-डायबिटीज के मरीजों के लिए उपवास

फास्टिंग के दौरान डायबिटीज के मरीज रखें इन बातों का रखें ध्यान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ अगस्त 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
डायबिटिक न्यूरोपैथी

जानें क्या है डायबिटिक न्यूरोपैथी, आखिर क्यों होती है यह बीमारी?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 9, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
डिप्रेशन का आयुर्वेदिक इलाज - ayurvedic treatment for depression

डिप्रेशन का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? आयुर्वेद के अनुसार क्या करें और क्या न करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 8, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
हाई ट्राइग्लिसराइड्स- High Triglycerides

High Triglycerides : हाई ट्राइग्लिसराइड्स क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ जून 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें