तनाव का प्रभाव शरीर पर पड़ते ही दिखने लगते हैं ये लक्षण

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

तनाव किसी इंसान के जीवन की वह भावना है जो जब ओवरलोड होती हैं तो इंसान समस्याओं से निपटने के लिए संघर्ष करता है। यह समस्याएं वित्त, काम, रिश्ते और अन्य स्थितियों से जुड़ी हो सकती हैं। स्ट्रेस एक प्रेरक हो सकता है। तनाव हमें बता सकता है कि खतरे का जवाब कब और कैसे दिया जाए?, लेकिन बहुत अधिक स्ट्रेस की स्थिति में यह किसी व्यक्ति के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को कमजोर कर सकता है। चलिए इस लेख के माध्यम से हम जाने कि स्ट्रेस या तनाव का प्रभाव शरीर पर कैसे पड़ता है।

स्ट्रेस से जुड़े कुछ तथ्य:

  • तनाव का प्रभाव शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों स्तर पर हो सकता है।
  • अल्पकालिक स्ट्रेस सहायक हो सकता है, लेकिन दीर्घकालिक स्ट्रेस विभिन्न स्वास्थ्य स्थितियों का कारण बन सकता है।
  • हम कुछ सेल्फ-मैनेजमेंट टिप्स सीखकर स्ट्रेस से लड़ने की तैयारी कर सकते हैं।
  • दुनिया की 80% आबादी ने दैनिक आधार पर तनाव का अनुभव किया है।
  • 15 से 25 साल की उम्र के कई लोगों ने तनाव के मैनेजमेंट सीखा है और अगर वे उस उम्र में स्ट्रेस मैनेजमेंट नहीं सीख पाते हैं, तो बाद में उनके लिए तनाव को मैनेज करना मुश्किल हो जाता है।
  • अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन (APA) द्वारा किए गए वार्षिक स्ट्रेस सर्वेक्षण के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका (U.S.) में औसत स्ट्रेस का स्तर 2015 में 1 से 10 के पैमाने पर 4.9 से 5.1 तक बढ़ गया। इस बढ़े स्तर का मुख्य कारण बेरोजगारी और पैसा है।

और पढ़ें: डिप्रेशन (Depression) होने पर दिखाई ​देते हैं ये 7 लक्षण

स्ट्रेस या तनाव क्या है?

प्रत्येक व्यक्ति एक अलग तरीके से स्ट्रेस का जवाब देता है, लेकिन बहुत अधिक स्ट्रेस स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। स्ट्रेस खतरे के खिलाफ शरीर की प्राकृतिक रक्षा है। यह शरीर में हाॅर्मोन प्रवाहित करता है ताकि सिस्टम को खतरे से बाहर निकलने या सामना करने के लिए तैयार किया जा सके। इसे फाइट तंत्र के रूप में जाना जाता है। जब हमें चुनौती का सामना करना पड़ता है, तो स्ट्रेस हमारी प्रतिक्रिया का हिस्सा होता है। किसी भी समस्या या चुनौती से हमें बचाने के लिए या उससे दूर जाने के लिए शरीर संसाधनों को सक्रिय करता है।

शरीर बड़ी मात्रा में रसायन कोर्टिसोल, एड्रीनलीन और नॉर एड्रीनलीन का उत्पादन करता है। ये हृदय गति को बढ़ाते हैं, मांसपेशियों का फड़फड़फना, पसीना और सतर्कता को बढ़ाते हैं। ये सभी कारक खतरनाक या चुनौतीपूर्ण स्थिति में प्रतिक्रिया करने की क्षमता में सुधार करते हैं। पर्यावरण के कारक जो इस प्रतिक्रिया को ट्रिगर करते हैं उन्हें स्ट्रेस कहा जाता है। जैसे शोर, आक्रामक व्यवहार, तेजी से कार का जाना, फिल्मों में डरावने क्षण शामिल हैं। हम जितना अधिक स्ट्रेस का अनुभव करते हैं, उतना अधिक स्ट्रेस होता है।

और पढ़ें: कैसे स्ट्रेस लेना बन सकता है इनफर्टिलिटी की वजह?

शरीर में परिवर्तन और लक्षण

स्ट्रेस पाचन और प्रतिरक्षा प्रणाली जैसे सामान्य शारीरिक कार्यों को धीमा कर देता है ताकी तेजी से श्वास, रक्त प्रवाह, सतर्कता और मांसपेशियों को केंद्रित किया जा सके।

स्ट्रेस के दौरान शरीर निम्नलिखित तरीकों से बदलता है:

और पढ़ें: पार्टनर को डिप्रेशन से निकालने के लिए जरूरी है पहले अवसाद के लक्षणों को समझना

शरीर पर तनाव का प्रभाव

एक्यूट स्ट्रेस से क्रोनिक स्ट्रेस की तुलना में शरीर को कम नुकसान पहुंचाता है। इसके अल्पकालिक प्रभावों में तनाव, सिरदर्द और पेट-दर्द शामिल हो सकता है। हालांकि, लंबी अवधि में तीव्र तनाव बार-बार होने पर हानिकारक हो सकता है। स्ट्रेस का प्रभाव शरीर पर इस प्रकार पड़ सकता है-

तनाव का प्रभाव प्रतिरक्षा प्रणाली पर

अगर शरीर लंबे समय से स्ट्रेस में है, तो इसके परिणाम खतरनाक हो सकते हैं। जो लोग लगातार तनाव में रहते हैं वे सामान्य सर्दी और फ्लू से अधिक प्रभावित होते हैं। स्ट्रेस हाॅर्मोन इम्यून सिस्टम को कमजोर करते हैं और जल्दी प्रतिक्रिया देने की क्षमता को भी कम करते हैं। तनाव का प्रभाव यह होता है कि छोटी बीमारियों को भी ठीक होने के लिए शरीर को ज्यादा समय और एनर्जी लगती है।

और पढ़ेंः क्या गुस्से में आकर कुछ गलत करना एंगर एंजायटी है?

प्रजनन प्रणाली पर तनाव का प्रभाव

जब पुरुष स्ट्रेस में होते हैं तो टेस्टोस्टेरोन उच्च स्तर पर उत्पादित होता है, लेकिन यह अधिक समय तक नहीं रहता है। जिसका मतलब है कि सेक्स की इच्छा खो देते हैं। ऐसा इसलिए भी हो सकता है क्योंकि एक तनावग्रस्त शरीर हमेशा थका रहता है और ऊर्जा की कमी होती है। अधिक गंभीर परिस्थितियों में, इरेक्टाइल दोष का भी खतरा रहता है। वहीं बात की जाए महिलाओं की तो स्ट्रेस की वजह से पीरियड के दौरान सामान्य से ज्यादा दर्द और अनियमितता की शिकायत रहती है।

पाचन तंत्र भी नहीं बचता है तनाव के प्रभाव से

स्ट्रेस से आपके डाइजेस्टिव सिस्टम यानि कि पाचन तंत्र पर भी बुरा असर पड़ता है। लंबे समय तक तनाव की वजह से पेट दर्द, मतली, कब्ज, दस्त, उल्टी आदि की शिकायत हो सकती है।

कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर तनाव का प्रभाव

स्ट्रेस के दौरान जब आपकी हृदय गति बढ़ जाती है तो कोशिकाओं को सक्रिय बनाए रखने के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए शरीर के माध्यम से ज्यादा ब्लड पंप किया जाता है। मांसपेशियों को अधिक ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है, जिससे उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) होता है और स्ट्रोक होने का खतरा बढ़ जाता है।

तनाव का प्रभाव श्वसन प्रणाली पर

स्ट्रेस हार्मोन आपके श्वसन तंत्र को भी प्रभावित करते हैं। ऐसे में लोग तेजी से सांस लेते हैं और ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शरीर के माध्यम से अधिक ऑक्सीजन रक्त को ले जाने की आवश्यकता होती है। यदि आपको पहले से ही श्वास की दिक्कत हैं, तो लक्षण और भी बिगड़ सकते हैं।

और पढ़ें: बच्चों का पढ़ाई में मन न लगना और उनकी मेंटल हेल्थ में है कनेक्शन

केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (सेंट्रल नर्वस सिस्टम)

शरीर के लिए केंद्रीय तंत्रिका तंत्र काफी अहम है। तनाव की स्थिति में आपका शरीर जिस तरह से काम करता है या रिस्पॉन्स करता है उसके लिए यही सेंट्रल नर्वस सिस्टम जिम्मेदार है। क्रोनिक स्ट्रेस के चलते ऑर्गन की कार्य क्षमता कभी-कभी बाधित हो जाती है और यह पूरे शरीर के लिए घातक हो सकता है।

मानसिक स्वास्थ्य पर तनाव का प्रभाव

स्ट्रेस अगर लंबे समय तक बना रहे तो व्यक्ति में कई तरह की मानसिक बीमारियां जन्म ले लेती हैं। लंबे समय तक तनाव का निरंतर जारी रहना लोगों में आत्महत्या, एंजायटी, चिंता विकार और क्रोनिक डिप्रेशन को बढ़ावा दे सकता है। साथ ही स्ट्रेस होने पर कुछ मानिसक विकारों की स्थिति भी बदतर हो जाती है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि हम एक कठिन परिस्थिति में कैसे प्रतिक्रिया करते हैं, इसका प्रभाव हम पर और हमारे स्वास्थ्य पर कैसा पड़ता है।

स्ट्रेस अलग-अलग तरीकों से व्यक्तियों को प्रभावित करता है। कुछ अनुभव जिन्हें आमतौर पर सकारात्मक माना जाता है, स्ट्रेस पैदा कर सकते हैं, जैसे कि बच्चा होना, यात्रा पर जाना, किसी अच्छे घर में जाना और फेमस होना। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अक्सर एक बड़े बदलाव में नई जिम्मेदारियों और अनुकूलन की आवश्यक होती है।

चुनौतियों के प्रति लगातार नकारात्मक प्रतिक्रिया का स्वास्थ्य और खुशियों पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है। हालांकि, स्ट्रेस के प्रति आपकी प्रतिक्रिया कैसी है, इसके बारे में जागरूक होने से आप नकारात्मक भावनाओं और तनाव का प्रभाव कम कर सकते हैं और इसे अधिक प्रभावी ढंग से रोक सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे कर सकते मैनेज

वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे मैनेज कर सकते हैं? चलना ध्यान करने के पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? Walking Meditation in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Mousumi Dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जून 1, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

आखिर क्या-क्या हो सकते हैं तनाव के कारण, जानें!

तनाव के कारण कई बीमारी हो सकतीहै, इससे उबर पाने के लिए खुद पर कंट्रोल होना जरूरी है, इसलिए अच्छे खानपान के साथ तनाव मुक्त जिंदगी के लिए अपनाएं यह टिप्स।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मई 20, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

निगेटिव थॉट्स से कैसे बच सकते हैं?

निगेटिव थॉट्स आते हैं! इससे आप रहते हैं परेशान? इन नकारात्मक विचारों को आप खुद ही दरकिनार करके एक पॉजिटिव जिंदगी जी सकते हैं, जानें कैसे?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

मन को शांत करने के उपाय : ध्यान या जाप से दूर करें तनाव

इस भागदौड़ भरी जिंदगी में मन को शांत करने के उपाय जानने बहुत जरूरी हो गए हैं। किसी के भी पास आज खुद के लिए समय बहुत कम होता है। जिससे वो तनाव का शिकार हो सकते हैं। उनके मन में हमेशा ये दुविधा रहती है कि क्या करें या क्या न करें।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Librium 10 : लिब्रियम 10

Librium 10: लिब्रियम 10 क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on जून 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
सिजोडोन

Sizodon: सिजोडोन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 14, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
Anxiety : चिंता

Anxiety : चिंता क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Stress : स्ट्रेस

Stress : स्ट्रेस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें