नींद की कमी का करें इलाज, इससे हो सकती हैं कई बड़ी बीमारियां

के द्वारा लिखा गया

अपडेट डेट सितम्बर 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

प्रत्येक व्यक्ति के बेहतर स्वास्थ्य के लिए अच्छी नींद बेहद जरूरी होती है, लेकिन नींद की कमी कभी-कभी गंभीर परिस्थितियों का कारण बन सकती है। क्योंकि रात की अच्छी नींद हमारे अच्छी हेल्थ के लिए आवश्यक है। नींद की गुणवत्ता इम्यून सिस्टम के साथ-साथ हाॅर्मोन घ्रेलिन और लेप्टिन (hormones Ghrelin and Leptin) को नियंत्रित करने में मदद करती है जो भूख को संतुलित करने में मदद करती है। एक वयस्क को औसत रूप से कम से कम 7-9 घंटे सोना चाहिए। नींद टूटने या नींद विकार का निदान नहीं किया गया, तो इससे आपको सोने की कमी हो सकती है जो आपके दैनिक जीवन और हेल्थ के लिए उचित नहीं है।

 शरीर के लिए कितनी आवश्यक है नींद

 हमारे शरीर में ब्लड प्रेशर पर्याप्त नींद के माध्यम से स्वयं को विनियमित करता है। यह हृदय स्वास्थ्य (heart health), मांसपेशियों की मरम्मत (muscle repair), संज्ञानात्मक समेकन (cognitive consolidation) को बढ़ावा देने में आवश्यक है और नींद की कमी से होने वाले नींद विकारों (sleep disorders) की शुरुआत को सीमित करता है। हमारी वर्तमान जीवनशैली के कारण, हमें रात में सोने में परेशानी हो सकती है। जब तक समस्या बढ़ती नहीं है तब तक हम संकेतों को अनदेखा करते हैं। नींद संबंधी विकार परिस्थितियों का एक समूह है जो नियमित रूप से अच्छी तरह से सोने के लिए आपकी योग्यता को प्रभावित करते हैं।

अनिद्रा सबसे आम नींद विकार के रूप में जानी जाती है। स्वास्थ्य के लिए अच्छी नींद आवश्यक है यह आपके हाॅर्मोन के स्तर, मूड और वजन को प्रभावित कर सकता है। खर्राटे, स्लीप एप्निया, अनिद्रा, नींद न आना और बेचैन पैर सिंड्रोम सहित नींद की समस्याएं आज के समय में बहुत आम हैं। हालांकि, नींद के विकारों के अन्य कई रूप हैं जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए। तो नींद की कमी से जुडे़ इन विकारों के बारें में आइए जानते हैं।

और पढ़ें- एंटी-स्लीपिंग पिल्स : सर्दी-जुकाम की दवा ने आपकी नींद तो नहीं उड़ा दी?

नींद की बीमारी (SLEEP APNEA)- यह एक गंभीर नींद विकार है जिसमें सांस अक्सर रुक जाती है और फिर से शुरू होती है, इससे ब्लड में ऑक्सीजन का स्तर गिर जाता है। इसलिए यह मस्तिष्क और शरीर के बाकी हिस्सों में ऑक्सीजन की आपूर्ति में बाधा उत्पन्न कर सकता है। हमारा शरीर इस घटना को महसूस करता है और इस कारण नींद की कमी होती है। स्लीप एप्निया के सामान्य लक्षण भी हैं जैसे खर्राटे (snoring), हवा के लिए घरघराहट (wheezing for air) और शुष्क मुंह के साथ जागना (wakingup with a dry mouth)।

 नींद की कमी से रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम (RESTLESS LEGS SYNDROME)- रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम एक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर है। जहां व्यक्ति को अपने पैरों को लगातार हिलाने की इच्छा होती है। जब आप सोने के लिए बिस्तर पर जाते हैं उस दौरान भी आपको पैर को लगातार हिलाने की इच्छा होती है। इस स्थिति वाले लोग सोने जाने के बाद पैरों में असुविधा या मरोड़ (दर्द या जलन) का अनुभव करते हैं। जैसा कि यह आमतौर पर नींद में खलल डालता है, इसे एक तरह का स्लीप डिसऑर्डर माना जाता है।

 नींद की कमी से नींद की तकलीफ (SLEEP PARALYSIS)- स्लीप पैरालिसिस एक ऐसा विकार है, जिसमें व्यक्ति जागने और सो जाने पर बोलने या मूव करने में असमर्थ होता है। व्यक्ति को इस मामले में मतिभ्रम (hallucinate) भी हो सकता है। मरीजों को एक निश्चित दबाव और तत्काल भय का अनुभव होता है, क्योंकि उनके पास सचेत होने की भावना होती है लेकिन वे स्थानांतरित (Move) करने में असमर्थ होते हैं।

 नींद की कमी से सिरकाडियन रिदम डिसऑर्डर (CIRCADIAN RHYTHM DISORDER)यह एक प्रकार का विकार है जो आमतौर पर तब होता है जब किसी व्यक्ति की आंतरिक जैविक घड़ी बाहरी समय के संकेतों के साथ नहीं होती है। इसमें नींद का पैटर्न आमतौर पर दो या अधिक घंटों से बाधित होता है। खासकर जब कोई व्यक्ति रात में सोने के लिए जाता है या बाद में सुबह सोता है। यह आमतौर पर उन लोगों के बीच बताया जाता है जो नाइट शिफ्ट में काम करते हैं और अनियमित नींद लेते हैं।

 नींद की कमी से अनिद्रा (INSOMNIA)- अनिद्रा एक बहुत ही सामान्य प्रकार का स्लीप डिसऑर्डर है।जिसमें लोगों को जागने और सोए रहने में परेशानी होती है। वे दिन के समय सोते हैं, और उनमें चिड़चिड़ापन काफी अधिक होता है।

औंघाई (NARCOLEPSY) नार्कोलेप्सी वाले लोग सबसे कम समय पर सो सकते हैं। नार्कोलेप्सी को हिंदी में औंघाई कहते हैं। इसमें व्यक्ति कही भी किसी भी हालात में सो सकता है। फिर वहां कितना भी तेज गाना, शोर हो रहा हो इससे पीड़ित लोगों को इसका प्रभाव नहीं होता है। इनको सोने के लिए बहुत ही कम समय की जरूरत पड़ती है। वे अपने काम में भी बेहद स्लो होते हैं। नार्कोलेप्सी वाले लोग दिन के समय अत्यधिक और रुक-रुक कर आने-जाने का अनुभव करते हैं। ये अचानक नींद के हमले दिन के किसी भी समय किसी भी प्रकार की गतिविधि के दौरान हो सकते हैं। नार्कोलेप्सी के साथ कुछ रोगियों को हंसी या अन्य भावनाओं के साथ अचानक मांसपेशियों में कमजोरी का अनुभव होता है।

और पढ़ेंः Quiz : बच्चों की नींद के लिए क्या है जरूरी?

नींद की कमी के लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं..

नींद की कमी के दौरान आपके अंदर इस प्रकार के लक्षण विकसित हो सकते हैं।

और पढ़ें- नवजात शिशु की नींद के पैटर्न को अपने शेड्यूल के हिसाब से बदलें

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

नींद की कमी को पूरा करने का निवारण

नींद की कमी को रोकने के कुछ ऐसे तरीके हैं जिनकी मदद से आप अपनी नींद को कोटा पूरा कर सकते हैं। कुछ शोध करके नीचे निम्न बातें दी गई है, उनका पालन करने का प्रयास करें जिससे नींद की कमी की समस्या से निपटा जा सके। आपको बता दें कि 18 से 64 वर्ष के अधिकांश वयस्कों के लिए 7 से 9 घंटे की लेना जररूरी होता है। इसके लिए निवारण इस प्रकार हैं।

  • रोज रात एक ही समय पर बिस्तर पर जाना चाहिए।
  • रोज सुबह एक ही समय पर जागना चाहिए।
  • दिन के समय अपने बॉडी को नैप न लेने दें।
  • दोपहर के समय कैफीन से बचना चाहिए।
  • सोने से दो घंटे पहले भारी भोजन करने से बचा चाहिए।
  • वीकेंड और छुट्टियों के दौरान अपने सोने के समय को अधिक बढ़ाने से बचना चाहिए।
  • बिस्तर पर आराम करने की गतिविधियों से पहले एक घंटा बिताना, जैसे पढ़ना, ध्यान करना या स्नान करना।
  • बिस्तर से ठीक पहले इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग करने से बचना चाहिए।
  • बिस्तर पर जाने से पहले से गर्म स्नान या शॉवर लें इससे आपको अच्छी नींद आएगी।
  • नियमित रूप से व्यायाम करना, लेकिन शाम के समय सोने से बचना।
  • यदि आपको रात में नींद न आने की समस्या है और आप दिन भर की थकान से जूझ रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से बात करें। वे अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थितियों का परीक्षण करते हैं जो आपकी नींद के समय के अनुसार हो सकती हैं।

और पढ़ेंः इंसोम्निया में मददगार साबित हो सकती हैं नींद की गोली!

नींद की कमी के जोखिम

नींद की कमी के जोखिम कई प्रकार के हो सकते हैं, जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है कि नींद की कमी से कई प्रकार के नींद विकार आपको होने कि संभावना होती हैं, लेकिन इसके अलावा आपको और भी तरह कि समस्या उत्पन्न हो सकती हैं। जो इस प्रकार हैं-

  • सोने की कमी से आपको मेमोरी लॉस की समस्या हो सकती है।
  • सोने की कमी के कारण आप किसी विषय पर एकाग्रचित होकर सोचने में असफल हो सकते हैं।
  • नींद की कमी आपको एक प्रकार को मूडी व्यक्ति बना सकती है, जैसे कभी आप इमोशनल हो जाएं तो कभी खुश।
  • नींद की कमी से आपकी दुर्घटना होने की संभावना अधिक होती है।
  • रात में न सोने से आपका प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोरी हो सकती है।
  • सोने की कमी से आपको हाई ब्लड प्रेशर कि शिकायत हो सकती है।
  • नींद की कमी से आपको मधुमेह हो सकता है।
  • नींद की कमी से आपका वजन बढ़ सकता है।
  • नींद की कमी से हृदय की बीमारी हो सकती है।
  • नींद कि कमी से आपकी सेक्स में रुचि और शक्ति कम हो सकती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

एक्सपर्ट से डॉ. रीमा चौधरी

नींद की कमी का करें इलाज, इससे हो सकती हैं कई बड़ी बीमारियां

नींद की कमी क्यों होती है? Sleep apnea in hindi यदि आप नींद की कमी की समस्या से परेशान हैं तो आपको इसका निवारण इस प्रकार करें, या डॉक्टर की सलाह जरुर लें।

के द्वारा लिखा गया डॉ. रीमा चौधरी
नींद की कमी/ nind na ane ka ilaj

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कमल ककड़ी के इन फायदों के बारे में जानकर चौंक जाएंगे आप, जल्दी से डायट में करें शामिल

कमल ककड़ी के फायदे क्या हैं, lotus root benefits in hindi, कमल ककड़ी को कैसे खाएं, lotus root ko kaise khaein, kamal kakdi ko kaise istemal karein, लोटस रूट का कैसे इस्तेमाल करें।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Surender Aggarwal
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन फ़रवरी 18, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Insomnia: अनिद्रा क्या है?

जानिए अनिद्रा क्या है in hindi, अनिद्रा के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Insomnia को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

स्लीप हाइजीन को भी समझें, हाइपर एक्टिव बच्चों के लिए है जरूरी

स्लीप हाइजीन क्या है, स्लीप हाइजीन के लिए जरुरी टिप्स, Sleep hygiene in kids, कैसे करें बच्चों की नींद को ठीक से मैनेज, बच्चों के लिए जरुरी टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग दिसम्बर 5, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें

G6PD Deficiency : जी6पीडी डिफिसिएंसी या ग्लूकोस-6-फॉस्फेट डीहाड्रोजिनेस क्या है?

जी6पीडी डिफिसिएंसी (G6PD Deficiency) क्या है? इसके होने का कारण क्या है? इसका क्या इलाज है? जी6पीडी डिफिसिएंसी होने पर क्या करना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z नवम्बर 21, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

पेडिक्लोरील

Pedicloryl : पेडिक्लोरील क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ जून 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
स्लीप हिप्नोसिस

क्या सच में स्लीप हिप्नोसिस से आती है गहरी नींद?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ अप्रैल 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
मिट्टी के बर्तन में खाना

इस तरह घर में ही बनाएं मिट्टी के बर्तन में खाना, मिलेगा बेहतर स्वाद के साथ सेहत भी

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मार्च 31, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
सोशल मीडिया और टीनएज

सोशल मीडिया और टीनएजर्स का उससे अधिक जुड़ाव मेंटल हेल्थ के लिए खतरनाक

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ मार्च 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें