home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Dysmenorrhea: डिस्मेनोरिया क्या है?

जानिए मूल बातें|लक्षण जानिए|कारण जानिए|जानिए जोखिमों को|निदान और उपचार|जीवनशैली में बदलाव और कुछ घरेलू उपचार
Dysmenorrhea: डिस्मेनोरिया क्या है?

जानिए मूल बातें

डिस्मेनोरिया (Dysmenorrhea) किसे कहते है?

डिस्मेनोरिया जिसे मासिक धर्म में आनेवाली ऐंठन के रूप में जाना जाता है, इसका दर्द पेट के निचले हिस्से (जिसे बेली कहा जाता है) होता है। अधिकतर महिलाओं को उनके पीरियड्स से पहले और उसके दौरान ये दर्द होता है। इस दर्द से बैचेनी हो सकती है और आपकी रोज की एक्टिविटीज पर काफी असर हो सकता है।

यह भी पढ़ें : पीरियड्स में डायट का रखें खास ख्याल, दर्द होगा कम

डिस्मेनोरिया (Dysmenorrhea) की परेशानी कितनी आम है?

डिस्मेनोरिया महिलाओं को उनके पीरियड्स के दौरान काफी प्रभावित करता है। उम्र में बड़ी महिलाओं में इस दर्द का प्रमाण कम होता है। लेकिन बच्चा होने के बाद यह पूरी तरह से रुक सकता है। कई चीजों को निंयत्रित करके इसकी जोखिम को कम कर सकते है। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से मिलें।

यह भी पढ़ें : पीरियड्स पेन को कहना है बाय तो खाएं ये फूड

लक्षण जानिए

डिस्मेनोरिया (Dysmenorrhea) के क्या लक्षण हैं?

डिस्मेनोरिया के सामान्य लक्षणों में ये शामिल हैं:

कुछ लक्षण और संकेत उपर नहीं दिए गए हैं। अगर आप अपने शरीर के किसी लक्षण से चिंतित हैं तो तुरंत डॉक्टर से मिलें और बात करें।

यह भी पढ़ें : पीरियड्स मिस होने के पहले ही दिख जाते हैं प्रेग्नेंसी के शुरुआती लक्षण

मुझे अपने डॉक्टर को कब देखना चाहिए?

अगर आपकी उम्र 25 वर्ष से ज्यादा हैं और आपको हर महीने इस दर्द से गुजरना पड़ता है या आपको कोई संकेत या लक्षण दिखाई देता है, यह किसी बीमारी के गंभीर लक्षण हो सकते हैं। कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें। हमेशा डॉक्टर के साथ चर्चा करने के के बाद इस परेशानी के लिए कोई सुझाव तय करें।

यह भी पढ़ें : Tonsillitis: टॉन्सिलाइटिस क्या है ? जाने इसके कारण लक्षण और उपाय

कारण जानिए

डिस्मेनोरिया (Dysmenorrhea) किस वजह से होता है?

ये परेशानी यूटेरस के मसल्स में खिचाव आने के कारण होती है। जब मसल्स की सिकुड़न ज्यादा मजबूत होती है, तो ये ऑक्सीजन का प्रवाह यूटेरस टिश्यू में कम कर देता है जो दर्द का कारण बनता है। आगे कुछ स्थितियां दी हैं, जिसके कारण ये दर्द पैदा होता है:

  • एंडोमेट्रियोसिस: आमतौर पर आपके फैलोपियन ट्यूब, ओवरीज और पेल्विक पर यूट्रेस को जोड़ने वाले टिश्यू उसी के बाहर इम्प्लांट हो जाते है।
  • यूटेराइन फाइब्रॉएड
  • अडेनोमायोसेस: आपके गर्भाशय को जोड़ने वाले टिश्यू उसकी दीवार के रूप में विकसित होते हैं जिससे दर्द होता है।
  • पेल्विक इंफ्लेमेशन डिसीज (PID): सेक्स के दौरान महिलाओं के रिप्रोडक्टिव ऑर्गन में बैक्टीरिया जाने से भी दर्द पैदा होता है।
  • सरवाइकल स्टेनोसिस: अगर सर्विक्स की शुरुआत छोटी हो जाती है। इससे माहवारी के प्रवाह पर असर हो जाता है, जिस कारण दर्द होता है और यूट्रेस पर भी दबाव आता है।

यह भी पढ़ें : Seborrheic dermatitis : सेबोरीक डर्मेटाइटिस क्या है? जाने इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए जोखिमों को

किन चीजों के कारण डिस्मेनोरिया (Dysmenorrhea) का जोखिम बढ़ता है?

  • अगर आपकी उम्र 30 साल से कम है
  • अगर आपको पीरियड्स 11 साल या उससे कम उम्र से शुरू हुए है
  • अगर पीरियड्स के दौरान आपको ज्यादा या असामान्य ब्लीडिंग हो रही है।
  • अगर आपने अभी तक बच्चे को जन्म नहीं दिया।
  • अगर आपकी फैमिली हिस्ट्री है।
  • अगर आपको स्मोकिंग की आदत है।

यह भी पढ़ें : पीरियड्स में देरी होने के बहुत से हैं कारण, जानें

निदान और उपचार

नीचे दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सा परामर्श का विकल्प नहीं है, इसलिए हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह लें।

डिस्मेरोनिया (Dysmenorrhea) का निदान कैसे करें?

डिस्मेनोरिया का निदान करने से पहले डॉक्टर आपको आपकी मेडिकल हिस्ट्री के बारे में पूछेंगे और पेल्विक टेस्ट से पता लगाएंगे की पेट के रिप्रोडक्टिव ऑर्गन और उसमे कोई इंफेक्शन तोह नहीं है।

यदि आपके मासिक धर्म में कसाव किसी मुख्य आधारभूत कारणों से हो रहा है, तो डॉक्टर इन नीचे दिए गए टेस्ट्स का सुझाव दे सकते हैं:

यह भी पढ़ें: अनियमित पीरियड्स को नियमित करने के 7 घरेलू नुस्खे

डिस्मेनोरिया का उपचार कैसे करें?

दवाइयां: आपके पीरियड्स शुरू होने से पहले कुछ दर्द निवारक दवाइयों की आवश्यकता हो सकती है उसके बाद उसके लक्षण कम होने तक एक से दो दिन दवाइयों का सेवन जारी रखें।

हार्मोनल बर्थ कंट्रोल: हार्मोन को कई वर्गों में बांटा गया है जैसे कि ओव्यूलेशन को रोकने के लिए ओरल पिल्स, इंजेक्शन, स्किन पैच, स्किन के नीचे एक इम्प्लांट या आपकी वजायना में डाली जाने वाली रिंग या इंट्रायुटेराइन डिवाइस (आई.यू.डी)।

सर्जरी: यदि आपकी यह परेशानी किसी अन्य हेल्थ कंडीशन के कारण हो रहा है, तो डॉक्टर डिस्मेनोरिया को हल करने के लिए सर्जरी का सुझाव दे सकते हैं।

यह भी पढ़ें : पीरियड्स के दौरान किस तरह से हाइजीन का ध्यान रखना चाहिए?

जीवनशैली में बदलाव और कुछ घरेलू उपचार

क्या कुछ घरेलू उपचार या जीवन शैली के बदलाव से डिस्मेनोरिया ठीक हो सकती है?

नीचे दिए गए कुछ घरेलू नुस्खे और बदलाव आपके इसे ठीक करने में मददगार साबित होंगे:

  • फिजीकल एक्टिविटीज से माहवारी का दर्द कम होने में मदद मिलती है यह साबित हो चुका है।
  • डिस्मेनोरिया के दर्द को कम करने के लिए गरम पानी से नहाएं और नहाते समय पानी दर्द वाली जगह पर लगाएं या एक हीटिंग पैड का इस्तेमाल करें।
  • विटामिन-ई, ओमेगा-3, विटामिन-बी 1, बी 6 जैसे आवश्यक सप्लीमेंट्स का सेवन जरूर करें।
  • तम्बाकु और शराब का सेवन न करें। खुद को तनावमुक्त रखें और तनावग्रस्त रहने से बचें।
  • आप अपने आहार में दूध से बने उत्पादों की भरपूर मात्रा शामिल करें। इसके अलावा कैल्शियम से भरपूर खाद्य पदार्थों जैसे – तिल, सोयाबीन, रागी और पोषण युक्त पदार्थ जैसे- जूस, साबूत अनाज आदि का सेवन करें।
  • आयरन गार्डेन क्रेस बीज (हलिम), काली किशमिश, पत्तेदार हरी सब्जियां, और मुर्गे के लीवर में मिलता है। मैं यह सलाह हमेशा देती हूं कि खाने में आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थ जरूर लें। आयरन के बेहतर अवशोषण के लिए विटामिन सी से भरपूर पदार्थ जैसे- नींबू और संतरे का रस जरूर लें। आयरन युक्त भोजन के साथ कैल्शियम और फाइबर युक्त भोजन लेने से बचें, क्योंकि ये आयरन के अवशोषण को कम कर देता है।
  • आपको अपने आहार में कम से कम 3 से 5 भाग फल और 2 से 4 कप सब्जियों को शामिल करना चाहिए। फल और सब्जियों का सेवन रोज करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें :

पहली बार पीरियड्स होने पर ऐसे रखें अपनी बच्ची का ख्याल

हाइपरटेंशन से बचाव के लिए जरूरी है लाइफस्टाइल में ये बदलाव

यूटराइन प्रोलैप्स का इलाज क्या है?

जानिए क्या हैं महिला और पुरुषों में इनफर्टिलिटी के लक्षण?

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Menstrual cramps. http://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/menstrual-cramps/basics/lifestyle-home-remedies/con-20025447 Accessed on December 12, 2019

Menstrual cramps (Dysmenorrhea). http://www.webmd.com/women/menstrual-cramps?page=3 Accessed on December 12, 2019

Painful menstrual period. https://medlineplus.gov/ency/article/003150.htm?session=qDLjRwjjhHoPu8KqBJKmQwGGNX Accessed on December 12, 2019

Dysmenorrhea https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/4148-dysmenorrhea Accessed on December 12, 2019

Dysmenorrhea: Painful Periods https://www.acog.org/Patients/FAQs/Dysmenorrhea-Painful-Periods?IsMobileSet=false Accessed on December 12, 2019

Dysmenorrhea https://www.hopkinsmedicine.org/health/conditions-and-diseases/dysmenorrhea Accessed on December 12, 2019

 

लेखक की तस्वीर
Shilpa Khopade द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/01/2020 को
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड