home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कैरोलिना रीपर पेपर है दुनिया की सबसे तीखी मिर्च, खाने से होता है कुछ ये हाल

कैरोलिना रीपर पेपर है दुनिया की सबसे तीखी मिर्च, खाने से होता है कुछ ये हाल

सोशल मीडिया पर कुछ न कुछ वायरल होता ही रहता है। इसी के साथ कई तरह के चैलेंज भी चलते रहे। कुछ दिनों पहले #OneChipChallenge, चला, जिसमें कई खिलाड़ी और सेलिब्रिटीज ने भाग लिया। इसमें आपको एक टॉरटिल्ला चिप पर पाउडर लगा कर खाना होता है। लेकिन, इन पाउडर में कैरोलिना रीपर पेपर लगी हुई होती है। यह सुनने में अच्छा लग रहा है कि केवल एक टॉरटिल्ला चिप ही तो खानी है लेकिन, यह कैरोलिना रीपर पेपर खाना कोई आसान काम नहीं है। यह संसार की सबसे तीखी मिर्च है। इस मिर्च को साउथ कैरोलिना के एक व्यक्ति ने खोजा था और यह मिर्च भुत जोलोकिया से भी अधिक तीखी है। इसका स्कोविल हीट यूनिट (मसाले को मापने के लिए मीट्रिक का उपयोग किया जाता है) 1.6 मिलियन है। जबकि, भुत जोलोकिआ का स्कोविल हीट यूनिट एक मिलियन और हैलापीनो का पांच हजार है।

कैरोलिना रीपर पेपर खाने पर लोगों के रिएक्शन

यूट्यूब पर ऐसी कई वीडियो हैं, जिनमें कैरोलिना रीपर पेपर को खाने के बाद लोगों के रिएक्शन देखने को मिले, जैसे इसे खाने के बाद मुंह बनाना, पसीना आना, खांसी, रोना या भागना आदि। एक वीडियो में दो लड़कियां चिल्लाती हुई दिखीं, जिसमें उन्हें उनकी जीभ महसूस नहीं हो रही थी। इनमें से एक लड़की को तो अस्थमा अटैक के कारण ऑक्सिजन लगानी पड़ी। हालांकि, यह प्रतिक्रियाएं भयभीत कर देने वाली हैं। लेकिन, कुछ मामलों में इसके परिणाम बहुत अधिक गंभीर थे। टर्की में दो महिलाओं को वजन कम करने के लिए कायेन रीपर पेपर पिल्स लेने से हार्ट अटैक आ गया। डॉक्टरों के अनुसार, इससे सिर दर्द हो सकता है, जो दिमाग के लिए खतरनाक है। जानिए कैरोलिना रीपर पैपर का हमारे शरीर पर इसका प्रभाव कैसा होता है।

और पढ़ें : आखिर क्यों कुछ लोगों को गॉसिप करने में मजा आता है?

कैरोलिना रीपर पेपर का प्रभाव क्या है?

जब आप इस मिर्च को मुंह में डालते हैं और चबाते हैं, तो इसकी गर्मी और तीखापन आपके होंठों, मुंह और जीभ पर होना शुरू हो जाता है। इससे खून का प्रवाह बढ़ता है, जिससे जलन होती है और होंठ सूज जाते हैं। इससे आपका मुंह और नाक पानी से भर जाते हैं और बहना शुरू कर देते हैं। इसका अर्थ यह है आप दर्द से रोना शुरू कर देते हैं। जब आप इसे निगलते हैं, तो गला जलना शुरू हो जाता है, जिससे खांसी हो सकती है।

  • पहले 2 सेकंड

जब आप पहली बार कैरोलिना रीपर पेपर का एक टुकड़ा अपने मुंह में डालते हैं, तो यह मीठा और स्वादिष्ट स्वाद देती है लेकिन, धीरे-धीरे इसका प्रभाव शुरू होता है। लेकिन, जब आपके दांत इसके पल्प के अंदर जाते हैं, तो आपके मुंह में मिर्च के कैप्साइसिन का बहुत बड़ा हिस्सा आता है, जो स्वयं के संरक्षण के लिए मिर्च का उपयोग करता है।

  • 7 सेकेंड

अगले कुछ सेकेंड आपको तीखे का अहसास होना शुरू होगा। जैसे ही कैप्साइसिन मुंह में फैलना शुरू होता है, वैसे ही शरीर मिर्च के तीखेपन और गर्मी को महसूस करेगा। अब आपके मुंह की गर्मी रिसेप्टर तक पहुंचती है और एक जलन पैदा करती है। इससे आपको दर्द का अहसास होता है।

  • 15 सेकेंड

जब आप कैरोलिना रीपर पेपर्स को निगलते हैं, वैसे ही चबाई हुई मिर्च आपके गले तक पहुंचती और उसके बाद पेट तक जाती है। इन सभी अंगों में TRPV1 दर्द रिसेप्टर्स होते हैं। इसके बाद ही, आपको जल्दी ही बहुत अधिक तीखे स्वाद का अहसास होता है। इस समय पेट में ऐसी गर्मी महसूस होती है, जैसे आपके पेट में गर्म चाय हो।

  • 35 सेकेंड

अब आप अपने गले में कसाव महसूस करेंगे। आपके माथे, गालों और गले पर पसीना आना शुरू होगा। यह वो पसीना है, जो किसी चीज के पचने के बाद आता है। इस समय इतना दर्द होता है कि आपकी ऊर्जा बहुत अधिक कम हो जाती है।

  • 1 मिनट

इस समय आपका दर्द असहनीय हो सकता है और आप कुछ पीना चाहेंगे जैसे दूध, दही या ऐसा ही कुछ। पानी पीना आपकी परेशानी को बढ़ा सकता है।

  • 2 मिनट

इस समय आपका दर्द अपनी चरम चीमा पर होगा और अगले चार से पांच मिनटों तक रहेगा।

  • साढ़े तीन मिनट

इस समय आपको हार्टबर्न हो सकता है। वास्तव में, यह सिर्फ कैप्साइसिन का जलना है।

  • 10 मिनट

अगर अभी भी आपको बहुत अधिक दर्द है, तो आपको ऐसा लगेगा जैसे आपने अभी कोई बहुत अधिक मिर्च वाला पिज्जा खाया हो। आपके पसीने और बलगम ग्रंथियों उत्तेजित होती हैं।

  • 20 मिनट

अब कैरोलिना रीपर पेपर का तीखापन कम हो जाता है लेकिन, इस मिर्च के टुकड़े अभी भी आपके पेट में है। इसलिए, आपको लगभग दो घंटों तक पेट में ऐंठन महसूस होगी।

और पढ़ें : आखिर क्यों कुछ लोग बात-बात पर कसम खाते हैं?

कैरोलिना रीपर पेपर के फायदे

कैरोलिना रीपर पेपर को अधिक मात्रा में खाना खतरनाक हो सकता है लेकिन, कम मात्रा में इसका सेवन करने से कोई हानि नहीं होती। कैरोलिना रीपर पेपर खाने से खून का प्रवाह सुधरता है। यही नहीं, चूहों पर किए शोध के अनुसार, यह कैप्साइसिन कैंसर और ट्यूमर से बचने में भी लाभदायक है। यह मिर्च वजन कम करने में भी प्रभावी है क्योंकि, इसे खाने से अतिरिक्त कैलोरी बर्न होती है।

कैप्साइसिन पैच और क्रीम भी इसे खाने के बाद होने वाले दर्द से छुटकारा दिलाती हैं। कुल मिलाकर, विशेषज्ञ इस बात से सहमत हैं कि यदि आप कम मात्रा में इस मिर्च या किसी अन्य मसाले को खाते हैं, तो आपको कोई हानि नहीं होगी। लेकिन, अगर आपने इसे अधिक मात्रा में खा लिया है, तो फुल फैट डेयरी प्रोडक्ट्स लें। कैप्साइसिन वसा में घुलनशील है। इसलिए, दही या दूध केमिकल को अवशोषित कर लेते हैं और आपको कुछ राहत प्रदान कर सकते है।

सालों से लोग मिर्च के दीवाने रहे हैं। साथ ही लोगों का मिर्च से प्यार कम होता भी नहीं दिख रहा है। साल 2017-2018 में दुनिया भर में हरी मिर्च का उत्पादन 10 मिलियन बढ़ गया। यह एक साल में 27 मिलियन से 37 मिलियन तक पहुंच गया। अगर देशों के लिहाज से बात की जाए, तो दुनिया के कुछ ऐसे देश हैं, जहां प्रति व्यक्ति इतनी मिर्च खाई जाती है कि आप जानकर हैरान हो जाएंगे। तुर्की में एक शख्स औसतन एक दिन में 86.5 ग्राम मिर्च खाता है और यह दुनिया में सबसे ज्यादा है। इसके बाद दुनिया में सबसे ज्यादा मिर्च मैक्सिको में खाई जाती है। यहां एक शख्स लगभग दिन भर में लगभग 50.95 ग्राम मिर्च खाता है।

जानें न्यूट्रीशन फैक्ट्स और सावधानी से करें इस्तेमाल

यह मिर्च काफी तीखा होता है। वहीं यह न्यूट्रीशन से भरपूर होता है, करीब एक कप व 15 ग्राम इस मिर्च में 6 फीसदी कैलोरी, 88 फीसदी पानी, 0.3 ग्राम प्रोटीन , 1.3 ग्राम कार्ब, 0.8 ग्राम शुगर और 0.2 ग्राम फाइबर होता है। इसके अलावा 0.1 ग्राम फैट भी होता है। अपने अलग फ्लेवर और सबसे तीखा होने की वजह से यह दुनियाभर में मशहूर है। इसमें काफी मात्रा में विटामिन, मिनरल्स के साथ इसकी कई अन्य खासियत है। इसके सकारात्मक तो नकारात्मक पहलू भी है, उदाहरण के तौर पर नियमित सेवन करें तो वजन कम होता है, दर्द से निदान मिलता है। दूसरी ओर बर्निंग सेनसेशन का एहसास होने के साथ पाचन शक्ति में दिक्कत होती है। सभी जानकारी होने के बाद ही इसका सेवन करना उचित होता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

This Is What Eating the Hottest Pepper on Earth Will Do to Your Body – https://www.vice.com/en_in/article/d35kvw/this-is-what-eating-the-hottest-pepper-on-earth-will-do-to-your-body – accessed on 07/01/2020

Is It Dangerous to Eat Really Hot Peppers? – https://www.health.com/food/dangers-eating-hot-peppers – accessed on 07/01/2020

Thunderclap headache caused by the world’s hottest chili pepper – https://www.medicalnewstoday.com/articles/321445.php#1 – accessed on 07/01/2020

Chili Peppers 101: Nutrition Facts and Health Effects – https://www.healthline.com/nutrition/foods/chili-peppers – accessed on 07/01/2020

Health effects of sodium and potassium in humans/ https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24345983/ / Accessed on 18 sep 2020

Biochemistry and molecular biology of carotenoid biosynthesis in chili peppers (Capsicum spp.) https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/24065101/ / Accessed on 18 sep 2020

Red pepper and functional dyspepsia/ https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/11907302/ /Accessed on 18 sep 2020

 

लेखक की तस्वीर
Dr. Hemakshi J के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Shivani Verma द्वारा लिखित
अपडेटेड 17/09/2019
x