आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी (Immunotherapy for colorectal cancer) के बारे में जानें

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी (Immunotherapy for colorectal cancer) के बारे में जानें

    कोलन और रेक्टल कैंसर वे कैंसर हैं जो डायजेस्टिव सिस्टम के लोअर पार्ट जैसे कि लार्ज इंस्टेटाइन और रेक्टम में होते हैं। आमतौर पर बुजुर्ग ज्यादा इस कैंसर से प्रभावित होते हैं, लेकिन ये किसी भी उम्र में हो सकते हैं। ये आमतौर पर नॉनकैंसरस कोशिकाओं से शुरू होता है जो कोलन के अंदर फॉर्म होती हैं जिन्हें पॉलिप्स कहा जाता है। अगर कोलन कैंसर डेवलप होता है तो कई ट्रीटमेंट्स ऑप्शन उपलब्ध हैं जो इसको कंट्रोल करने में मदद करते हैं। जिसमें एक है इम्यूनोथेरिपी। कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी (Immunotherapy for colorectal cancer) कैसे दी जाती है इसके बारे में इस आर्टिकल में जानकारी दी जा रही है।

    कोलोरेक्टल कैंसर का इलाज (Colorectal cancer treatment)

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी (Immunotherapy for colorectal cancer) के अलावा सर्जरी, रेडिएशन थेरिपी और अन्य ड्रग टीट्रमेंट जैसे कि कीमोथेरिपी, टार्गेड थेरिपी आदि ऑप्शन हैं। कैंसर केयर में कई डॉक्टर्स एक साथ काम करके पेशेंट के लिए ओवरऑल ट्रीटमेंट प्लान तैयार करते हैं। जिसमें कई प्रकार के ट्रीटमेंट्स को कंबाइन किया जाता है। इसे मल्टीडिसप्लिनरी टीम (Multidisciplinary team) कहा जाता है। कोलोरेक्टल कैंसर जिसमें आमतौर पर सर्जन, मेडिकल ऑन्कोलॉजिस्ट, रेडिएशन ऑन्कोलॉजिस्ट और गेस्ट्रोइंट्रेरोलॉजिस्ट शामिल होते हैं।

    गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट गेस्ट्रोइंस्टेटिनल ट्रैक्ट के फंक्शन और डिसऑर्डर के इलाज में एक्सपर्ट होता है। कैंसर केयर टीमों में कई अन्य हेल्थ केयर प्रोफेशनल शामिल हैं, जैसे चिकित्सक सहायक, नर्स चिकित्सक, ऑन्कोलॉजी नर्स, सामाजिक कार्यकर्ता, फार्मासिस्ट, परामर्शदाता, आहार विशेषज्ञ, और अन्य।

    और पढ़ें: स्टेजेज के अनुसार कोलन कैंसर का उपचार कैसे हो सकता है, पाएं इस बारे में जानकारी!

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए ट्रीटमेंट ऑप्शन कैसे निर्धारित किए जाते हैं?

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी (Immunotherapy for colorectal cancer) हो या अन्य ट्रीटमेंट ऑप्शन और रिकमंडेशन कई फैक्टर्स पर निर्भर करते हैं, जिनमें कैंसर का प्रकार और स्टेज, संभावित दुष्प्रभाव और रोगी की प्राथमिकताएं और ओवरऑल हेल्थ शामिल हैं। मरीज और उसके परिवारजनों को सभी उपचार विकल्पों के बारे में जानने के लिए समय निकालना और उन चीजों के बारे में प्रश्न पूछना सुनिश्चित करना चाहिए जो अस्पष्ट हैं। प्रत्येक ट्रीटमेंट के गोल्स के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें और उपचार प्राप्त करते समय आप क्या उम्मीद कर सकते हैं इसके बारे में भी पूछना चाहिए। इस प्रकार की बातचीत को “शेयर्ड डिसीजन मेकिंग” कहा जाता है।

    साझा निर्णय लेना तब होता है जब आप और आपके डॉक्टर मिलकर ऐसे उपचारों का चयन करते हैं जो आपकी देखभाल के लक्ष्यों के अनुकूल हों। कोलोरेक्टल कैंसर के लिए साझा निर्णय लेना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि उपचार के विभिन्न विकल्प हैं।

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी या किसी भी अन्य ट्रीटमेंट ऑप्शन पर विचार करने से पहले निम्न स्थितियों पर विचार करना चाहिए।

    इन बातों पर डॉक्टर और मरीज अच्छे से विचार करके ट्रीटमेंट ऑप्शन निर्धारित कर सकते हैं। चलिए अब एक ट्रीटमेंट ऑप्शन कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी के बारे में जान लेते हैं।

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी (Immunotherapy for colorectal cancer)

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी (immunotherapy for lung cancer)

    इम्यूनोथेरिपी में बॉडी के नैचुरल डिफेंस का उपयोग कैंसर से लड़ने के लिए किया जाता है। ताकि इम्यून सिस्टम की क्षमता में सुधार करके कैंसर कोशिकाओं पर हमला किया जा सके। कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी कीमोथेरिपी के साथ या किसी दूसरे कैंसर ट्रीटमेंट ऑप्शन के साथ दी जा सकती है। इम्यूनोथेरिपी में बॉडी के बनाए गए या लेब्रोरेटरी में निर्मित सब्सटेंस का उपयोग इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने के लिए किया जाता है। कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी के कई प्रकार हैं, लेकिन इम्यून चेकपॉइंट इंहिबिटर्स सबसे प्रमुख है।

    और पढ़ें: महिलाओं में कोलन कैंसर: कैसे की जाए इस कैंसर की पहचान, जानिए

    पेम्ब्रोलिजुमाब (Pembrolizumab)

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी में पेम्ब्रोलिज़ुमाब ट्यूमर कोशिकाओं पर एक रिसेप्टर पीडी -1 को टार्गेट करता है, जो ट्यूमर कोशिकाओं को इम्यून सिस्टम से छिपने से रोकता है। पेम्ब्रोलिजुमाब का उपयोग अनियंत्रित या मेटास्टेटिक कोलोरेक्टल कैंसर (Unresectable or metastatic colorectal cancers) के इलाज के लिए किया जाता है जिसमें एक मॉलिक्युलर फीचर होता है जिसे माइक्रोसेटेलाइट इंस्टेबिलिटी (microsatellite instability) या मिचमैच रिपेयर डेफिसिएंशी (Mismatch repair deficiency) कहा जाता है। अनरसेक्टेबल का मतलब है कि सर्जरी कोई विकल्प नहीं है।

    निवोलुमाब (Nivolumab)

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी में निवोलुमाब (Nivolumab) का उपयोग उन लोगों के इलाज के लिए किया जाता है जो 12 वर्ष या उससे अधिक उम्र के हैं और जिन्हें MSI-H या dMMR मेटास्टैटिक कोलोरेक्टल कैंसर है, जो कि फ्लूरोपाइरीमिडीन (Fluoropyrimidine), ऑक्सिप्लिप्टिन और इरिनोटेकन (Oxaliplatin, and irinotecan) के साथ कीमोथेरेपी के उपचार के बाद बढ़ या फैल गया है।

    डोस्टालाइमेब (Dostarlimab)

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी में इस ड्रग का उपयोग वापस आने वाले कैंसर या मेटास्टेटिक कोलेरेक्टल कैंसर के इलाज के लिए किया जाता है। यह एक पीडी-1 इम्यून चेकपॉइंट इंहिबिटर है।

    और पढ़ें: Colorectal Cancer: कोलोरेक्टल कैंसर क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

    निवोलुम्ब और इपिलिमुमाब (Nivolumab and ipilimumab)

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी में इस चेकपॉइंट इनहिबिटर के इस संयोजन को उन रोगियों के इलाज के लिए अनुमोदित किया गया है जो 12 वर्ष या उससे अधिक उम्र के हैं और जिन्हें MSI-H या dMMR मेटास्टैटिक कोलोरेक्टल कैंसर है जो कि फ्लोरोपाइरीमिडीन, ऑक्सिप्लिप्टिन और इरिनोटेकन (Fluoropyrimidine, oxaliplatin, and irinotecan) के साथ कीमोथेरेपी के उपचार के बाद बढ़ा या फैल गया है।

    इम्यूनोथेरिपी के साइड इफेक्ट्स (Immunotherapy side effects)

    कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी (Immunotherapy for colorectal cancer) दी जा रही हो या अन्य कैंसर के इलाज के लिए बता दें कि विभिन्न प्रकार की इम्यूनोथेरेपी अलग-अलग दुष्प्रभाव पैदा कर सकती है। इम्यूनोथेरेपी के सबसे आम दुष्प्रभावों में थकान, दाने, दस्त, मतली, बुखार, मांसपेशियों में दर्द, हड्डियों में दर्द, जोड़ों में दर्द, पेट में दर्द, खुजली, उल्टी, खांसी, भूख में कमी और सांस की तकलीफ शामिल हो सकते हैं। इम्यूनोथेरेपी आपके शरीर के विभिन्न अंगों में सूजन के जोखिम को बढ़ा सकती है। आपके लिए अनुशंसित इम्यूनोथेरेपी के संभावित दुष्प्रभावों और किन लक्षणों पर ध्यान देना चाहिए इसके बारे में डॉक्टर से बात करें।

    कुछ दवाएं कुछ लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती है। इसलिए डॉक्टर को इनके बारे में जरूर बताएं।

    कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे को कम करने के लिए जीवनशैली में बदलाव

    आप अपने दैनिक जीवन में बदलाव करके कोलन कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए कदम उठा सकते हैं। इसके लिए कदम उठाएं:

    विभिन्न प्रकार के फल, सब्जियां और साबुत अनाज खाएं

    फलों, सब्जियों और साबुत अनाज में विटामिन, खनिज, फाइबर और एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो कैंसर की रोकथाम में भूमिका निभा सकते हैं। विभिन्न प्रकार के फल और सब्जियां चुनें ताकि आपको विटामिन और पोषक तत्वों की पर्याप्त मात्रा मिल सके।

    शराब कम मात्रा में पिएं

    यदि आप शराब पीना चुनते हैं, तो आप जो शराब पीते हैं उसकी मात्रा को महिलाओं के लिए एक दिन में एक और पुरुषों के लिए दो पेय तक सीमित करें।

    धूम्रपान बंद करें

    स्मोकिंग छोड़ने के तरीकों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें जो आपके काम आ सकते हैं।

    और पढ़ें: स्टेज 4 कोलोरेक्टल कैंसर : जानिए कैंसर की इस एडवांस्ड स्टेज के बारे में!

    सप्ताह के अधिकांश दिन व्यायाम करें

    अधिकांश दिनों में कम से कम 30 मिनट का व्यायाम करने का प्रयास करें। यदि आप निष्क्रिय हैं, तो धीरे-धीरे शुरू करें और इसे 30 मिनट तक बढ़ाएं। साथ ही, कोई भी व्यायाम कार्यक्रम शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें।

    स्वस्थ वजन बनाए रखें

    दैनिक व्यायाम के साथ स्वस्थ आहार को मिलाकर अपना वजन मेंटेन करें। यदि आपको अपना वजन कम करने की आवश्यकता है, तो अपने डॉक्टर से अपने गोल को प्राप्त करने के स्वस्थ तरीकों के बारे में पूछें। व्यायाम के समय और इंटेंसिटी को बढ़ाकर और आपके द्वारा खाए जाने वाली कैलोरी की संख्या को कम करके धीरे-धीरे वजन कम करने का लक्ष्य रखें।

    और पढ़ें: स्टेज 2 कोलोरेक्टल कैंसर : कितनी घातक हो सकती है कैंसर की यह स्टेज?

    उम्मीद करते हैं कि आपको कोलोरेक्टल कैंसर के लिए इम्यूनोथेरिपी (Immunotherapy for colorectal cancer) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Colon cancer/https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/colon-cancer/symptoms-causes/syc-20353669/ Accessed on 23/06/2022

    Colorectal (Colon) Cancer/https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/14501-colorectal-colon-cancer/Accessed on 23/06/2022

    Colon Cancer Treatment/https://www.hopkinsmedicine.org/health/conditions-and-diseases/colon-cancer/colon-cancer-treatment/Accessed on 23/06/2022

    Advances in immunotherapy for colorectal cancer/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7268115/Accessed on 23/06/2022

    FDA Approves First-Line Immunotherapy for Patients with MSI-H/dMMR Metastatic Colorectal Cancer/
    https://www.fda.gov/news-events/press-announcements/fda-approves-first-line-immunotherapy-patients-msi-hdmmr-metastatic-colorectal-cancer/Accessed on 23/06/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: